POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: हायकु गुलशन..*HAIKU GULSHAN *

Blogger: Sunita Agrawal
उदंती में प्रकाशित कुछ नए हैकुज़ उदंती पत्रिका के लिंक के साथहार्दिक आभार आदरणीय +Rameshwar Kamboj  भैया जी का जिन्होंने उदंती में हाइकू प्रकाशित करवाया | आप दो सदा ही मेरे लिए प्रेरणा श्रोत रहें है  |आपके आशीर्वाद और मार्गदर्शन की सदा आकांक्षी रहती हूँ |http://www.udanti.com/2014/04/blog-post_1291.html... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   10:05am 16 May 2014
Blogger: Sunita Agrawal
कविता के सात रंग .-- आकाशवाणी भवन में मेरा प्रस्तुतीकरणसाथ  ही वह पढ़े गए कुछ नए हैकुज़ ..हार्दिक आभार आदरणीय +Dr.jagdish vyom सर जी का जिन्होंने मुझे आकाशवाणी में हाइकू पाठ  का मौका दिया | आपसदा ही मेरे लिए प्रेरणा श्रोत रहें है  आपके आशीर्वाद और मार्गदर्शन की सदा आकांक्षी र... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   9:56am 16 May 2014
Blogger: Sunita Agrawal
ओर न छोर मात तेरी ममता जीवन डोर माँ नहीं साथ बाते जीवनभर थामती हाथ माँ का आँचल लहराता सागर प्रेम तरंग बंधती नही परिभाषाओ मे माँविराट सृष्टि तोड़ पत्थर गढ़ती है भविष्य माँ कलाकार माँ जल जैसी जिस पात्र में घुसे ढलती वैसी वज्र सी दृढ़ कभी फू... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   10:22am 11 May 2014
Blogger: Sunita Agrawal
१)खेत बागाननहर पनघटयादो में बसे२)खो गयी कहींरुनझुन घंटियाँरहट  सूने३) पगडंडियांसड़को से जा मिलीमिटी  दूरियां४)नारी चेतनानवक्रांति ले आईटूटी बेड़ियां५)पसारे पांवजहरीली हवायेसिमटे गांव६)टूटी डगरबनी चौड़ी सड़कविकास दर७)प्रगति हुयीअल्हड पगडण्डीसोती ही रही८)बुढ़ा ... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   11:46am 4 May 2014
Blogger: Sunita Agrawal
दर्द देते है दुआओं में लपेट अपने ही है फूल रोपे थे बंजर दिल तेरा कैक्टस उगे देखा जो तुम्हेलगे गुनगुनानेगुजरे लम्हेहम हैं वहीँऔर तुम भी वहीवक्त बदलातुम सागर नमैं होती जो सरिता मिलन होता पूछा जो तूने कभी प्यार किया हैतडपा  जियाजख्मी है जिया तुम ही म... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   8:16pm 15 Apr 2014
Blogger: Sunita Agrawal
१)वर्षा नैनो मेंबसंत पतझड़बसे मन में२)झड़े पल्लव पतझड़ नहीं ये रोया वसंत ३)पुराने पात पतझड़ आते ही छोड़ते साथ ४)हरित पात अचानक  जो झड़े तरु  उदास ५)आया वसंत बेअसर खड़ा है बुड्डा पीपल६)प्रिय वसंतपतझड़ सँवारेतेरा ये रूप७)मन के ऋतू वसंत पतझड़बदलेगा तू... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   4:47pm 9 Apr 2014
Blogger: Sunita Agrawal
रंग उल्लासढप मृदंग थापझूमे  पलाशजीवन एकईश्वर ने भरे हैरंग अनेकभीगा है तनरंग डालो  साजनश्यामल मनगुजरे लम्हेरंग जाते है मनअकेला देख श्यामल कायाप्रीत रंग रंग देफाग रसियारंगरेजवारंग मोरी चुनडपिया  के रंगपलाश टोलीभर फागुन खेलीयादो कि होली               ... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   4:05pm 14 Mar 2014
Blogger: Sunita Agrawal
बरसो बादहँसी  थी नागफनी खिले जो फूलखिली मंजरीनिखेरगा सौंदर्यप्रसूति बादझड़े पल्लव पतझर नहीं ये रोया वसंतखोला जो द्वारफ़ैल गया प्रकाशहिय सदननींद से जागीअलसायी कलियाँरश्मि ने चूमाकच्ची अमियाशाखो पर झूलतेख्वाब रसीले... Read more
clicks 214 View   Vote 0 Like   2:59pm 15 Feb 2014
Blogger: Sunita Agrawal
परदेशिया मेघा लाये संदेशा भीगा भीगा  सा मन न मानेतके  राह अधीरआयेंगे  मीतईट कि नहीं दीवारे हो प्रीत कीघर है वही आएंगे  कंतकूकती कोयलियाछाया वसंत ख्यालो में तुम दिल में भी तुम हो ज़िंदा अभी भी खटखटाते तेरे मन का द्वार बेबस हाथनैन बावरेचुपचाप ... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   3:41pm 13 Feb 2014
Blogger: Sunita Agrawal
खुली किताब देता वही खुशबू सूखा गुलाब खोली किताब महका फिर आज सूखा गुलाबजले जोनाकी मुरझाया गुलाबखुशबू बाकी... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   2:49pm 7 Feb 2014
Blogger: Sunita Agrawal
बुद्धिदायिनी श्वेतवस्त्रावृता  माँ हंसावाहिनीकर दो उज्जवलअंतर्मन  हमारा वीणावादिनीछेड़ तू सरगमज्ञानदायिनी आम्र मंजरीदूँ पुष्पांजलि मातेभर अंजुरीजग मायावीहम बच्चे  अबोधज्ञानदायिनी है शरण  तिहारे दे बुद्धि विवेक माँ                 ... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   3:00pm 3 Feb 2014
Blogger: Sunita Agrawal
झीनी  चादरदे  गयी  गर्माहटगगन  तलेसर्द हवाएंकरती  अट्टहासकांपती धराछँटें बादलअम्बर ने बिखेरेख़ुशी के रंगरेशमी धुंधफूलों ने पहनी हैश्वेतवल्लरीझलक दिखागुम हुआ सूरजघना कोहरापूस कि रातफूटपाथ पे मिलीमौत को मात... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   1:37pm 9 Jan 2014
Blogger: Sunita Agrawal
विगत वर्षदर्पण बना रखोदेखना अक्स कैनवास  हैआगंतुक बरसईश पेंटरनवल वर्ष पतझड़ पश्चात् वसंत पर्व... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   2:02pm 31 Dec 2013
Blogger: Sunita Agrawal
फिर मिलेंगे देता गया दिलासा गुजरा साल बटोही साल छोड़ गया पोटली यादो से भरीओस की बुँदे खिड़की से फिसली चमका रवि dew drops sliding from glass windows sun shineबदले रंगमनुष्य वक्त ऋतूरंग है स्थिरशीतल छांवधुप का महादानगर्वित तरुश्रम के बीजखिलाएंगे सुमनमाली की आस ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   12:53pm 27 Dec 2013
Blogger: Sunita Agrawal
उषा सुंदरीघूँघट से देखतीशर्माते गिरिसोया सूरजकुहासे की रजाईठण्ड है भाईबुड्ढी हड्डीयांआ गयी सहलानेजाड़े की धुप मंजिले वही कुहासों ने निगले डगर सभीबर्फ ही बर्फ भीतर या बाहरहै हिमयुगहो रही सांझठिठुर रहे रिश्तेखोजते तापधुप की तापपिघला नही पाईरिश्तो की हिमसर... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   2:27pm 11 Dec 2013
Blogger: Sunita Agrawal
हाइकू दिवस का हार्दिक शुभकानाए  हायकु विधाशब्दों की पूर्णाहुतिभाव समिधावर्ण सुमनउड़ी भाव सुरभिहाइकू वनवर्ण पंखुरीखिले हाइकु पुष्पभाव सुरभि... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   12:53pm 5 Dec 2013
Blogger: Sunita Agrawal
बिछी बिसात जीवन शतरंज मोहरे हम हार या जीत जीवन एक दांव बिछी बिसातबाजी से नहीहोती शह या मातवक्त के हाथमानव जात चालो का भ्रमजाल बिछी बिसातकाला या गोराजीते कोई भी राजापिटता प्यादाराजा या रंककरते है  विश्राममाटी  के अंक... Read more
clicks 212 View   Vote 0 Like   2:44pm 3 Dec 2013
Blogger: Sunita Agrawal
कुछ लोग अपने निहित स्वार्थ में इतने डूब जाते हैं कि दूसरों को धकेल कर या नीचे गिराकर खुद आगे बढ़ने की कोशिश करते हैं।दूसरे लोग उनके लिए केवल सीढ़ियाँ होते हैं ऊपर चढ़ने की । उपरोक्त विषय पर आधारित सेदोका एवं तांका जो त्रिवेणी  में प्रकाशित हुये |तांका१)मीठा बोलती को... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   10:49am 22 Nov 2013
Blogger: Sunita Agrawal
नन्हे ये पंछीसपनो में उड़तेऊँचे से ऊँचेनन्ही हसती बाबुल बचपन जिन्दा करती  पाकर धूपसुकोमल पल्लव निखर गये नन्हा गुलाबबगिया में अकेलारहे उदासलादे सपनेबचपन खोजतेनाजुक कंधेहॅसते फूलमुर्झा न जाये कहींकड़ी है धूपप्रतिस्पर्धाएँहारता बचपनमाँ -बाप जीतेजूही ... Read more
clicks 229 View   Vote 0 Like   1:19pm 14 Nov 2013
Blogger: Sunita Agrawal
तुम  जो आयेजल उठे दीपकमावस रातजलाया  मैंनेएक प्रीत का दीपसम्हालो तुमअंततः हाराएक नन्हे दीप सेतम  बेचाराबनाये दियेजग रोशन करेतम में जीयेकच्चे दीपकपका रहा कुम्हारदेंगे प्रकाशदेहरी पर सजा प्रेम दीपक पुकारे तुम्हेदेहरी परएक दीप जलाऊसाँझ प्रहरनन्हा दीपक ... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   1:51pm 1 Nov 2013
Blogger: Sunita Agrawal
अद्भुत दृश्यचन्दा जो देखे चाँददोनों जले रे दो दो है चाँद .... !!!भर्मायी  सकुचाईपिया निहारूं चाँद मचलाछूने चला सरिताचांदनी संगभर आगोशसरिता निहारतीप्रिय का रूपचंदा ठहर अंखियों में बसा लूँपिया की छवि  ना चाहूँ पिया और कुछ श्रृंगारतुम हो साथ लौटा दो मुझे... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   7:27pm 21 Oct 2013
Blogger: Sunita Agrawal
रास पूर्णिमा खेल रहे डांडिया सिन्धु चंद्रमा ब्रह्म मुहूर्तबिछते पारिजातसूरज पथखिली कपासधरा ने लहराएधवल केश ढोल की  थापझूमे  शिउली कासशारदोत्सव रात अकेली खिल कलियाँ  टूटी हरसिंगार बुझी शिउली हँसती  कुमुदनी निर्मम सखी कास सुमनलुटी हुयी ... Read more
clicks 274 View   Vote 0 Like   11:23am 18 Oct 2013
Blogger: Sunita Agrawal
लोग सयाने जलाएंगे रावण पर नकली खुश है लोग जल गया रावणक्या सचमुच ..?जला रावण जिन्दा है रक्तबीज मनाता जश्नरावणवध रामराज्य स्थापित कभी तो होगा ... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   12:05pm 15 Oct 2013
Blogger: Sunita Agrawal
जय माँ अम्बेभव  बाधा तारिणी नमो नमस्ते सौम्य सरल दमके मुख मैया पीती गरल  मोक्ष दायिनी खल दल मर्दिनी भक्त वत्सला लाल  चुनड़गले में मुंडमाल माँ का श्रृंगारशारदोत्सव सिउली ,कास  करेमातृ वंदनपूजा  के फूल मंदिरों में भी भक्तदेते कुचल जग जनन... Read more
clicks 300 View   Vote 0 Like   2:06pm 5 Oct 2013
Blogger: Sunita Agrawal
‍ढूंढती नानीखो गयी जाने कहाँ ..एक कहानी लदे है दिनराजा रानी के संगनानी दादी केतितलियों सी बचपन की यादें हाथ न आती आज भी खेले बचपन की यादें गली मोहल्लेगुड़िया रानी जली मोमबतियां बची कहानी बरखा रानी कागज़ की है नैया भिगोना नहीं यादो की कश्तीहिय सि... Read more
clicks 396 View   Vote 0 Like   2:02pm 29 Sep 2013
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3911) कुल पोस्ट (191501)