POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: काव्य संसार

Blogger: Madan Mohan saxena
   काश हम अकेले होते (अणु भारती में पूर्ब प्रकाशित मेरा ब्यंग्य)मदन मोहन सक्सेना .  ... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   5:46am 22 Jul 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
 पेट की भूख की चाहत मिटाने की खातिरछपरा के सरकारी स्कूल में एक दो नहीं बल्कि बीस से ज्यादा बच्चों को  अपनी जिंदगीकुर्बान करनी पड़ीनिवाले हलक से नीचे उतरे नहीं कि दम लबों पर आ गयाबच्चों के अभिभावकों की पीड़ा कातर आंखों से आंसुओं की धार बनकर बही रुंधे गले में ... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   7:42am 17 Jul 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
परमाणु पुष्प में पूर्ब प्रकाशित मेरा ब्यंग्य:मेरी बिदेश यात्रा .मदन मोहन सक्सेना .... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   5:20am 16 Jul 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
 तत्सम पत्रिका में प्रकाशित मेरी कुछ क्षणिकाएँ .एक :संबिधान है न्यायालय है मानब अधिकार आयोग है लोकतांत्रिक सरकार है साथ ही आधी से अधिक जनता अशिक्षित ,निर्धन और लाचार है .दो:कृषि प्रधान देश है भारत भी नाम है भूमि है ,कृषि है, कृषक हैं अनाज के गोदाम हैं सा... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   6:20am 12 Jul 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
 जिसे चाहा उसे छीना , जो पाया है सहेजा है उम्र बीती है लेने में ,मगर फिर शून्यता क्यों हैं सभी पाने को आतुर हैं , नहीं कोई चाहता देनादेने में ख़ुशी जो है, कोई बिरला  सीखता क्यों है  कहने को तो , आँखों से नजर आता सभी को है अक्सर प्यार में ,मन से मुझे फिर दीखता क्यों है दिल भी ... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   9:50am 2 Jul 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
पाने को आतुर रहतें हैं  खोने को तैयार नहीं है जिम्मेदारी ने मुहँ मोड़ासुबिधाओं की जीत हो रही.साझा करने को ना मिलता ,अपने गम में ग़मगीन हैं स्वार्थ दिखा जिसमें भी यारों उससे केवल प्रीत हो रही .कहने का मतलब होता था ,अब ये बात पुरानी  है जैसा देखा बैसी बातें  .जग की अब ये ... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   6:21am 5 Jun 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
कभी गर्दिशों से दोस्ती कभी गम से याराना हुआचार पल की जिन्दगी का ऐसे कट जाना हुआ..इस आस में बीती उम्र कोई हमे अपना कहे .अब आज के इस दौर में ये दिल भी बेगाना हुआजिस रोज से देखा उन्हें मिलने लगी मेरी नजरआखो से मय पीने लगे मानो की मयखाना हुआइस कदर अन्जान हैं हम आज अपने हाल सेह... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   12:21pm 24 May 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
सजा  क्या खूब मिलती है ,  किसी   से   दिल  लगाने  कीतन्हाई  की  महफ़िल  में  आदत  हो  गयी   गाने  की  हर  पल  याद  रहती  है , निगाहों  में  बसी  सूरत  तमन्ना  अपनी  रहती  है  खुद  को  भूल  जाने  की  उम्मीदों   का  काजल    ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   7:45am 8 May 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
दीवारें ही दीवारें नहीं दीखते अब घर यारों बड़े शहरों के हालात कैसे आज बदले है. उलझन आज दिल में है कैसी आज मुश्किल है समय बदला, जगह बदली क्यों रिश्तें आज बदले हैं जिसे देखो बही क्यों आज मायूसी में रहता है दुश्मन दोस्त रंग अपना, समय पर आज बदले हैं जीवन के सफ़र में ज... Read more
clicks 126 View   Vote 0 Like   11:04am 8 Apr 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
अपने अनुभबों,एहसासों ,बिचारों कोयथार्थ रूप मेंअभिब्यक्त करने के लिएजब जब मैनें लेखनी का कागज से स्पर्श कियाउस समयमुझे एक बिचित्रप्रकार केसमर से आमुख होने का अबसरमिलालेखनी अपनी परम्परा ,प्रतिष्ठा , मर्यादाके लिए प्रतिबद्ध थीजबकि मैं यथार्थ चित्रण केलिए बाध्य था... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   10:56am 28 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
ले के हाथ हाथों में, दिल से दिल मिला लो आज यारों कब मिले मौका  अब  छोड़ों ना कि होली है. मौसमआज रंगों का ,छायी अब खुमारी है चलों सब एक रंग में हो कि आयी आज होली है क्या जीजा हों कि साली हो,देवर हो या भाभी हो  दिखे रंगनें में रंगानें में ,सभी मशगूल होली है ... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   9:16am 22 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
क्या सच्चा है क्या है झूठा अंतर करना नामुमकिन है.हमने खुद को पाया है बस खुदगर्जी के घेरे में ..एक जमी वख्शी थी कुदरत ने हमको यारों  लेकिनहमने सब कुछ बाँट दिया है मेरे में और तेरे मेंआज नजर आती मायूसी मानबता के चेहरे  परअपराधी को शरण मिली है आज पुलिस के डेरे मेंबीरो क... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   11:48am 20 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
आप के लिए "तुम्हारी याद "प्रस्तुति : श्री मदन मोहन सक्सेनातुम्हारी याद जब आती तो मिल जाती ख़ुशी हमकोतुमको पास पायेंगे तो मेरा हाल क्या होगातुमसे दूर रह करके तुम्हारी याद आती हैमेरे पास तुम होगें तो यादों का फिर क्या होगातुम्हारी मोहनी सूरत तो हर पल आँख में रहतीदिल में ... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   4:35am 18 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
रहमत जब खुदा की हो तो बंजर भी चमन होता..खुशिया रहती दामन में और जीवन में अमन होता.मर्जी बिन खुदा यारो तो   जर्रा हिल नहीं सकता  खुदा जो रूठ जाये तो मय्यसर न कफ़न होता...मन्नत पूरी करना है खुदा की बंदगी कर लो जियो और जीने दो खुशहाल जिंदगी कर लो मर्जी जब खुदा की हो तो... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   11:39am 12 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
महिला दिवस   अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की हार्दिक शुभकामनायें ।मदन मोहन सक्सेना .... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   8:15am 8 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
आँखों  में  जो सपने थे सपनो में जो सूरत थीनजरें जब मिली उनसे बिलकुल बैसी  मूरत थी जब भी गम मिला मुझको या अंदेशे कुछ पाए हैंबिठा के पास अपने  उन्होंने अंदेशे मिटाए हैंउनका साथ पाकर के तो दिल ने ये ही  पाया है अमाबस की अँधेरी में ज्यों चाँद निकल पाया ... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   9:03am 6 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
तुम्हारी याद जब आती तो मिल जाती ख़ुशी हमकोतुमको पास पायेंगे तो मेरा हाल क्या होगातुमसे दूर रह करके तुम्हारी याद आती हैमेरे पास तुम होगें तो यादों का फिर क्याहोगातुम्हारी मोहनी सूरत तो हर पल आँख में रहतीदिल में जो बसी सूरत उस सूरत काफिर क्या होगाअपनी हर ख़ुशी हमको अके... Read more
clicks 144 View   Vote 0 Like   5:36am 4 Mar 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
वक़्त की साजिश नहीं तो और किया बोले इसेपलकों में सजे सपने ,जब गिरकर चूर हो जायेअक्सर रोशनी में खोटे सिक्के भी चला करते न जाने कब खुदा को क्या मंजूर हो जाए भरोसा है हमें यारो की कल तस्बीर बदलेगीगलतफमी जो अपनी है बह सबकी दूर हो जाये लहू से फिर रंगा दामन न हमको देखना होगा जो ... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   6:58am 27 Feb 2013
Blogger: Madan Mohan saxena
मेरे हमनसी मेरे हमसफ़र ,तुझे खोजती है मेरी नजर तुम्हें हो ख़बर की न हो ख़बर ,मुझे सिर्फ तेरी तलाश है मेरे साथ तेरा प्यार है ,तो जिंदगी में बहार है मेरी जिंदगी तेरे दम से है ,इस बात का एहसाश है तेरे इश्क का है ये असर ,मुझे सुबह शाम की न ख़बर मेरे दिल में तू रहती सदा , तू ना दूर ... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   11:25am 15 Feb 2013
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192471)