POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: कालचक्र

Blogger: sanjay swadesh
31 मार्च 2007 की स्थिति के मुताबिक देश में पांच लाख पंजीकृत उद्यमों को बंद किया गया। सबसे ज्यादा 82966 इकाइयां तमिलनाडु में बंद हुईं। इसके बाद 80616 इकाइयां उत्तर प्रदेश में, 47581 इकाइयां कर्नाटक में, 41856 इकाइयां महाराष्ट्र में, 36502 इकाइयां मध्य प्रदेश में और 34945 इकाइयां गुजरात में बं... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   6:07pm 8 Jun 2013 #
Blogger: sanjay swadesh
By संजय स्वदेश 01/06/2013 16:25:00 छत्तीसगढ़ की दरभा घाटी में हुआ भीषण हत्याकांड सिर्फ वहीं होकर खत्म हो गया हो, ऐसा नहीं हो पाया। भारत के लोकतांत्रिक इतिहास में अपने तरह से इस सबसे जघन्य और अमानवीय हत्याकांड के बाद जिस तरह से मीडिया, सोशल मीडिया और राजनीतिक दलों द्वारा व्यवहार कि... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   2:47pm 3 Jun 2013 #
Blogger: sanjay swadesh
--------------------ॅ----------------- भारत के बड़े बाजार में धंधा कर चोखा मुनाफा बटोरने वाली कंपनियों की दो जमात है। एक वह जो अपने उत्पाद में थोड़ी बहुत गुणवत्ता देकर भारतीय व्यापारियों के ग्राहकों को लुभा रहे हैं, दूसरे वे हैं जो घटिया उत्पाद या धोखा देकर भारतीय व्यापारी, कपंनियां या ग्राहक... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   2:45pm 3 Jun 2013 #
Blogger: sanjay swadesh
संदर्भ : जरूरी दवाओं को सरकारी मूल्य से ज्यादा पर बिक्री ---- कई कंपनियों ने अनेक जरूरी दवाओं के लिए गत कुछ वर्षों में ग्राहकों से लगभग 2,362 करोड़ रुपए अधिक वसूले। इसमें से करीब 95 फीसदी रकम से संबंधित मामले कोर्ट में विचाराधीन हैं। कई कंपनियों ने तो जुर्माने के रूप में एक पै... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   2:44pm 3 Jun 2013 #
Blogger: sanjay swadesh
संदर्भ : सिविल सेवा परीक्षा से पाली को हटानातर्क देने वाले कह सकते हैं कि आज पालि बोलता कौन है? यही सवाल संस्कृत और उर्दू को लेकर भी उठाया जा सकता है। संस्कृत बोलने वाले एक प्रतिशत लोग भी देश में नहीं है। जिस भाषा से रोजगार उपलबध होती है, वह उतना ही समृद्ध होती है। रोजगार ... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   6:21am 21 Mar 2013 #
Blogger: sanjay swadesh
संजय स्वदेश मणिपुर में उग्रवादियों से मिल रही लगातार धमकियों के विरोध में मंगलवार, 3 जनवरी को वहां के अखबारों में संपादकीय प्रकाशित नहीं हुए। आॅल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट्स यूनियन के एक प्रवक्ता ने बताया कि विभिन्न गुटों के उग्रवादी अखबारों पर आरोप लगाते हैं कि वे उ... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   6:55pm 3 Jan 2012 #
Blogger: sanjay swadesh
संजय स्वदेशब्लैक एंड ह्वाइट के जमाने में एक फिल्म आई थी बूट पालिस। इस फिल्म में सौतेली मां की क्रूर निर्दयता की कहानी दिल को झकझोरती है। कैसे मासूम बच्चे न चाहते हुए भी भीख मांगने के लिए मजबूर हैं। हालांकि वे इस पेशे को छोड़ना चाहते हैं, लेकिन उन्हें कहीं से इसके लिए प्... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   7:09am 31 Dec 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
एक नेता के हैं कई नाम- बनावटी नामों के खुलासा करने में सुरक्षा एजेंसियों को मिली सफलता- कई नेताओं पर लाखों का ईनाम नई दिल्ली।नक्सलियों के बड़े नेता तमाम छद्म नामों के सहारे सशस्त्र संघर्ष चला रहे हैं, हालांकि सुरक्षा एजेंसियों और पुलिस को काफी हद तक उनके इन बनावटी नामो... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   6:30pm 25 Sep 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
तीन वर्ष में क्लिनिकल ट्रायल में 1,593 की मौतनई दिल्ली।बहुराष्ट्रीय दवा कंपनियों के लिए भारत क्लिनिकल ट्रायल का प्रमुख अड्डा बन गया है। पिछले तीन वर्षों के दौरान देश में दवाओं के परीक्षण के कारण 1,593 लोगों की मौत हुई है जबकि केवल 22 मामलोें में ही कंपनियों ने मुआवजा दिया, वह... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   6:30pm 25 Sep 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
12 करोड़ की संख्या में बाल मजदूरी में लगा भारत का भविष्य कल वयस्क होगा तो क्यों को अमीर भारत के बाराबरी का होगा? भीषण गरीबी देख कर बड़ी होने वाली यह इस आबादी के मन में निश्चय ही समाज की मुख्यधारा के प्रति कटुता होगी।संजय स्वदेश एक केंद्रीय दल ने 20 सितंबर को राजस्थान के जैसल... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   6:52pm 24 Sep 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
संजय स्वदेश अन्ना के आंदोलन के समय मणिपुर में एक दशक से ज्यादा समय से अनशनरत इरोम की याद आ रही है। सबसे पहले तो हमें मणिपुर की हकीकत समझनी चाहिए। इस प्रांत की भारी उपेक्षा के बाद वहां के निवासियों में अलगाव की जो ग्रंथी अब बैठ चुकी है, उसे न सेना हटाकर खत्म किया जा सकता ह... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   7:20pm 29 Aug 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
संजय स्वदेश सरकार के चतुर मंत्री पहले से ही किसी न किसी तरह से लोकपाल को कमजोर करने जुगत में थे। प्रधानमंत्री और जजों के इसके दायरे में नहीं आने के बाद भी यदि यह ईमानदारी से लागू हो तो कई बड़ी मछलियां पकड़ी जाएंगी। पर महत्वपूर्ण बात यह है कि क्या लोकपाल की व्यवस्था से द... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   4:13pm 5 Aug 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
2014 तक करीब 90 हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्र के सर्वेक्षण की योजनानई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी, खम्भात की खाड़ी और अंडमान क्षेत्र से लगे सागरमें मौजूद अमूल्य खनिज संपदाओं, प्राकृतिक गैस, परतों की बनावट एवं धातुतत्वों की मौजूदगी आदि का पता लगाने के लिए सरकार ने अपतटीय एवं समु्रद... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   7:13pm 31 Jul 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
दिल्ली : इंदप्रस्थ से ढिल्लिका तक का सफर/ दिल्ली को देश की राजधानी बनाए जाने के सौ बरस पूरे होने पर विशेष नई दिल्ली। अगर पुराने जमाने के नगर देवता की परिकल्पना सच है तो दिल्ली का नगर देवता जरूर कोई अलबेला कलाकार रहा होगा। तभी तो सात बार उजड़ने और बसने के बाद भी इस शहर में ग... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   7:10pm 31 Jul 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
नई दिल्ली, एजेंसी : कामकाज करने योग्य देश की आधी से अधिक आबादी स्वरोजगार में लगी है। इसी तरह श्रम बाजार में एक ही तरह के काम के लिए महिला कर्मचारियों को अपने पुरुष सहकर्मियों के मुकाबले कम वेतन मिलता है। यह खुलासा एक सरकारी सर्वे में हुआ है। राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण क... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   8:16am 25 Jun 2011 #
clicks 181 View   Vote 0 Like   9:24am 24 Apr 2011 #
clicks 175 View   Vote 0 Like   9:19am 24 Apr 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
संजय स्वदेशदिल्ली विश्वविद्यालय में हमारे प्राध्यापक प्रो. नित्यानंद तिवारी ने एक बार मध्यकाल में नारी की दशा एक प्रसंग सुनाया था। वर्षों बाद एक भाई बहन के ससुराल जाता है। ससुराल में पीड़ित बहन की व्यथा जब वह अपने घर माता-पिता को सुनाता है। कहता है कि सुसराल वालों की ... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   7:03am 2 Apr 2011 #
Blogger: sanjay swadesh
राजकेश्वर सिंह, नई दिल्ली सरकार सपना तो देख रही है नॉलेज इकोनॉमी में भारत को विश्व का केंद्र बनाने का, लेकिन वह खुद बालू के ढेर पर खड़ी है। हकीकत यह है कि उच्च शिक्षा के जिन आंकड़ों की बुनियाद पर अब तक वह आगे के सपने देख रही थी, उसे पता चला कि वही सही ही नहीं हैं। बदतर स्थित... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   3:39pm 31 Mar 2011 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post