POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: पुष्पेय

Blogger: pushpeyom
पुष्पेय: चिल्लर:            चिल्लर                                 'पुष्पेय '  ओमप्रकाश गोंदुड़े                                  ...... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   5:18pm 15 Jul 2013 #
Blogger: pushpeyom
           चिल्लर                             'पुष्पेय' ओमप्रकाश गोंदुड़े                                         (pic:google.com)             वह भीख मांगता था। उम्र के सत्तहरवें सावन में एक टांग के सहारे एक यहीं काम पूरी महारत के साथ क... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   5:10pm 15 Jul 2013 #
Blogger: pushpeyom
 सिपाही का दर्दबोर्डर पर एक शहीद का सिर  था गडा,आंखों में आंसु  और चेहरा पीला था पडा.रोते रोते किस्मत रहा था कोस,साथ में,   मॉ-बाप को भी दे रहा था दोष.हमने कहा,     “शहीद-ए-आजम, रातोंरात हो गए मशहुर,     अब मिलेगी जन्नत और जन्नत की हुर.”गुस्से में जवाब आया, ... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   2:58am 29 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
पुष्पेय: खास चेला:                                        खास चेला               'पुष्पेय 'ओमप्रकाश गोंदुड़े वह एक नई सोच लेकर आया थ...... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   2:49am 29 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
                                     खास चेला             'पुष्पेय'ओमप्रकाश गोंदुड़ेवह एक नई सोच लेकर आया था पार्टी में....... एकदम धार के विपरीत।पार्टी के बुजूर्ग नेता खुद को महाबली कर्ण समझते थे......फरक बस इतना था कि कर्ण कवच-कुंडल लेकर आया था और ये ल... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   2:46am 29 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
           बेटीमेरी भी एक बिटीयां होती,          ख्वाब बुनती परियों सा lपंख लगाकर उडाती हमें,            सैर कराती परिदों सा lपरदे चहकते,दीवारें बोलती,             घर सजता महल सा lतुलसी हंसती,अल्पनाएं बसती,        आ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   2:38am 20 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
                    लोकतंत्र की अर्जीसरकारी कार्यालय के पास एक शख्स पडा था ,आन्ख थी फुटी और कानों पर ताला जडा था.खून से सना था मुंह,                                 और कटी हुई थी जिव्हा .सीले हुए नाक से ,        &nb... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   4:30pm 15 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
ब्लॉग प्रसारण : ब्लॉग प्रसारण :अंक 25... Read more
clicks 177 View   Vote 0 Like   2:21pm 13 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
                                                 हाँ ! मैंने देखी है यशोदामाई  मरुस्थल में तूने                             की सिंचाई, कपोलों से जो                     तूने वृक्ष बना... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   2:58am 10 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
पुष्पेय: शुध्द ना होगा वातावरण, तो होगा मानवता का मरण ॥:           वातावरण राम रहीम की औलाद हो तुम ,                आ जाओ प्रकृति की शरण । शुध्द ना होगा वातावरण ,                तो ह...... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   2:37am 5 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
          वातावरणराम रहीम की औलाद हो तुम,               आ जाओ प्रकृति की शरण ।शुध्द ना होगा वातावरण,               तो होगा मानवता का मरण ॥बना लो चाहे अट्टालिकाएं,           या चाहे कर लो लक्ष्मी का वरण। प्यार बांटों,प... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   2:33am 5 Jun 2013 #
Blogger: pushpeyom
            कैंडल मार्चकैंडल मार्च में एक कैंडल परेशान सा लग रहा था,आंखों में आंसू और शिर से पसीना बह रहा था.जैसे ही हमने थामना चाहा.....वह दूर सरक गया.और पुन: थामने की कोशिश पर वह बिदक गया.हमने कहा,              "क्यों भैय्या, क्यों गुस्सा हो ?इतने लोग तो तुम्हें थ... Read more
clicks 152 View   Vote 0 Like   2:22pm 27 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
                      सोलहवांसाल                                                 "पुष्पेय"ओमप्रकाश गोंदुड़े                              31.03.13एक दिन हम घुम रहें थे इंडिया गेट,वहां एक बुजुर्ग नेता से हो गई भेंट. सफेद कुर्ता,सिर पे ... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   2:20am 23 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
                                             क़फन बाप का  श्मशान में एक मुर्दा था पडा,                  जिसने, Bombay Dying  का क़फन था ओढा.जलाने के लिए लाए,                     मैसूर से चंदन की लकडी,कुछ थी सीधी और कुछ कुछ थी ... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   6:11pm 20 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
                                          कथा: 'चंद सवाल'                                                             'पुष्पेय'ओमप्रकाश गोंदुडे                                                              &... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   2:44pm 17 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
                                            नई राहवह रिटायर हो चुका था......चार साल पहले.बड़ी-सी कोठी थी उसकी........ जिसमें एक शानदार  बगिया आबाद थी. मगर इस आलिशान जगह में यदि उसका कोई साथ निभा रहा था तो वह थी उसकी तनहाई...... खामोश तनहाई. बीवी को गुजरे तो तीस साल ह... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   11:47am 16 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
मुंबई की सड़कों पर थी भीड़ भारी,उसी में दौडभाग कर रहे थे जरदारी .एक ओर, मुशरफ़ जख्मों पर छिड़क रहे थे नमक-पानी ,तो दूसरी ओर बम लगा रहे थे गिलानी .हमने कहा,"आश्चर्य है,अब तो पूरी टीम आ गयी ""भारत-पाक एकता की बधाई हो बधाई."उन्होंने  गुस्से में कहा,"भाड़ में जाये ऐसी एकता,  स... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   3:07am 11 May 2013 #
clicks 150 View   Vote 0 Like   6:37pm 6 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
         सरबजीत कासम्मान एक जनाज़ा धुमधाम से सज रहा था,मुर्दा "सरबजीत",               चंदन के लेप से नहा रहा था.                        शाही बारात जैसे  जच रही थी अर्थी,क्या नेता-क्या जनता कर रहे थे गर्दी.एक ओर,   &... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   3:05pm 5 May 2013 #
Blogger: pushpeyom
'बुध्द'का तू सत्व हैं,'रुद्र'का तू तत्व हैं,'जीवन'तू महत्व हैं,मत भटक,मत भटक.'शिवाजी'का तू अंश हैं,'प्रताप'का तू वंश हैं,'नाग'का तू दंश हैंकर प्रकट,कर प्रकट.महक जा, तू गुलाब हैं,मुश्किलों का तू जवाब हैं,बढ चल, तू सैलाब हैं,मत अटक,मत अटक.भगत का तू रक्त हैं,गांधी का तू चरित्र हैं,तू&nb... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   5:46am 13 Apr 2013 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post