POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: समुद्र-संगम the mingling of oceans

Blogger: dilip shakya
   AKHYAN AUR NAI KAVITA : a book on poetry criticizm-आख्यान की संरचना____दिलीप शाक्यआख्यान साहित्य का अर्थ हम ऐसे साहित्य से ग्रहण करते हैं जिसमें वाचक, कथा और श्रोता, की उपस्थिति का प्रायः विचार किया जाता है। मसलन प्रबंधात्मक कविता, कहानी, उपन्यास, यात्रावृतांत, आत्मकथा इत्यादि। इन सभी साहित्य रूप... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   6:42am 2 Jun 2013 #criticizm
Blogger: dilip shakya
.The Cinema of Poetry ____Pier Paolo Pasolini[This text was read in Italian by Pier Paolo Pasolini in June 1965 at the first New Cinema Festival at Pesaro. The present version is from the French translation by Marianne de Vettimo and Jacques Bontemps which appeared in Cahiers du Cinéma No. 171, October 1965.]–I think that henceforth it is no longer possible to begin a discourse on cinema as language without taking into account at least the terminology of semiotics. Indeed the problem, if one wishes to set it forth briefly, appears in the following way: whereas literary languages found their poetic inventions on the institutional basis of an instrumental language, quite common to all who s... Read more
clicks 220 View   Vote 0 Like   7:16am 21 Apr 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
क़दमों का नौहाघर.. [ख़ालिद जावेद की एक कहानी का शीर्षक]–मौत की किताब [उपन्यास]________ख़ालिद जावेद(आरंभिक अंश..)पहला पन्नाऐसी रातें कम आती हैं। पन्द्रह-बीस साल में षायद एक बार! आज की रात भी ऐसी ही है। जब चाँद से ज़मीन की दूरी कम हो जाती है और उसकी चमक भी बढ़ जाती है। मैं घबरा कर, य... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   1:05pm 16 Apr 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
कलकत्ते का जो ज़िक्र किया तूने हमनशींइक तीर सा सीने में मारा कि हाय-हाय–कलकत्ता: ख़ौफ़, दहशत, अंधेरे और उत्तेजना का शहर। फ़ज़ा की बुलन्दियों से नीचे देखो तो दूर-दूर तक हरियाली दिखायी देती है, कहंी गहरी सियाही, कहीं पीलाहट लिए हुए। लेकिन ये सारा रंग-प्रदर्शन अभिव्यक्ति ... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   7:08am 29 Mar 2013 #Literature
Blogger: dilip shakya
.कोलकाता: ए पोर्टेट इन ब्लैक एंड ब्लड_______________शमीम हऩफीकलकत्ता: ख़ौफ़, दहशत, अंधेरे और उत्तेजना का शहर। फ़ज़ा की बुलन्दियों से नीचे देखो तो दूर-दूर तक हरियाली दिखायी देती है, कहंी गहरी सियाही, कहीं पीलाहट लिए हुए। लेकिन ये सारा रंग-प्रदर्शन अभिव्यक्ति के लिए बेचैन एक अनदे... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   6:29am 29 Mar 2013 #Literature
Blogger: dilip shakya
Badalkar fakeeron ka hum bhes ghalib…-DIARY OF A YOUNG JOURNALIST TURNED INTO RICKSHAW-WALA________________________________GAURAV JAIN Why I became a Rickshaw-wallaI have realised that, The perspective generally doesn’t change from what you see, hear or read.It changes dramatically – sometimes in a snap – when your skin feels, sweat and bleed.I have sat in a rickshaw a zillion times, but every time in the rear seat. This seat is very cozy. It has got a shade; good amount of leg space and in most cases a good cushion as well. When the sun is over your head in all its fury, nothing beats a rickshaw ride.But what it means to be a rickshaw walla? How does it feel to pull a rickshaw righ... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   7:44pm 28 Mar 2013 #popular culture
Blogger: dilip shakya
Comics are a gateway drug to literacy…...इंद्रजाल कॉमिक्स में जाहिर तौर पर ली फॉक के किरदार ही छाए रहे, मगर बीच का एक दौर ऐसा था जब इसने कुछ नए और बड़े ही दिलचस्प कैरेक्टर्स से भारतीय पाठकों से रू-ब-रू कराया। मैं उन्हीं किरदारों पर कुछ चर्चा करना चाहूंगा। कॉमिक्स की बढ़ती लोकप्रियता के चलते 1980 म... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   8:08am 22 Mar 2013 #popular culture
Blogger: dilip shakya
वह रहस्यमय व्यक्ति अब तक न पायी गयी मेरी अभिव्यक्ति है…मुक्तिबोध् की कविता पर कुछ नोट्स.1आज़ादी के बाद की हिंदी कविता के सबसे महत्वपूर्ण और सबसे जुदा अंदाज़ के कवि गजानन माध्व मुक्तिबोध का जन्म 13 नवंबर 1917 को चंबल संभाग के श्योपुर ज़िले में एक मराठी परिवार में हुआ। पिता... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   4:26pm 18 Mar 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
______________The scene changes to an empty room__IEvery era has to reinvent the project of “spirituality” for itself. (Spirituality = plans, terminologies, ideas of deportment aimed at the resolution of painful structural contradictions inherent in the human situation, at the completion of human consciousness, at transcendence.)In the modern era, one of the most active metaphors for the spiritual project is “art.” The activities of the painter, the musician, the poet, the dancer et al, once they were grouped together under that generic name (a relatively recent move), have proved to be a peculiarly adaptable site on which to stage the formal dramas besetting consciousness, each indi... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   6:57am 18 Mar 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
‘‘हमने जो तर्ज़े-फुगां की थी क़फस में ईज़ाद/फैज़ गुलशन में वही तर्ज़े-बयां ठहरी है’’_मुझसे पहली सी मुहब्बत मेरे महबूब न मांग…   [ click the link to listen this Nazm  MP3    ______________sung by noorjahan].गर्मियों की एक ढलती हुई दोपहर है। हल्की पीली धूप में गेंहू की पकी हुयी फसल का रंग सोने सा दमक रहा है। कुंए पर घू... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   5:58am 18 Mar 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
 शहर फिर शहर है यां जी तो बहल जाता है…__मेरे एक टीचर थे जिनकी पत्नी का देहांत हो चुका था। वे जब भी नया सूट सिलवाते थे तो पहनने के पहले ही जो भो कोई घर में आता उसे हैंगर में टंगे-टंगे ही दिखाकर पहले नये सूट की प्रशंसा सुनते। फिर पहनते तो बताते कि इसका चुनाव करने से पहले कितनी ... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   10:43am 17 Mar 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
आईनाखाने में कोई लिए जाता है मुझे…                                           __शहरयार की शायरी का शहर और हम यह उन दिनों की बात है जब मैं झीलों के शहर भोपाल में साइकोलॉजी  आनर्स की पढ़ायी कर रहा था। वहॉं कुछ हमख़याल दोस्तों के साथ एक छोटी सा ‘ग्रुप’ बन गया था। हम सब तक़रीबन एक जैसे बैकग्रा... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   2:40am 17 Mar 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
  At the stroke of the midnight hour…__14-15 August, 1947Long years ago, we made a tryst with destiny, and now the time comes when we shall redeemour pledge, not wholly or in full measure, but very substantially. At the stroke of the midnight hour, when the world sleeps, India will awake to life and freedom…A moment comes, which comes but rarely in history, when we step out from the old to the new, when an age ends, and when the soul of a nation, long suppressed, finds utterance. It is fitting that at this solemn moment we take the pledge of dedication to the service of India and her people and to the still larger cause of humanity. At the dawn of history India started on her unending ... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   5:24am 26 Jan 2013 #Art-work
Blogger: dilip shakya
susan_sontag-_on_photography/” rel=”attachment wp-att-78″>ON PHOTOGRAPHY/ SUSAN SONTAG=”Picture 222n” width=”351″ height=”479″ class=”alignnone Filed under: Uncategorized... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   12:04pm 25 Jan 2013 #Uncategorized
Blogger: dilip shakya
मैं अकेला ही चला था जानिब-ए -मंज़िल मग़र…__हरिशंकर परसाई को स्मरण करते हुए ..[इस आलेख  में हिंदी के कवियों लेखकों और आलोचकों की साहित्यिक प्रतिबद्धता और ईमानदारी पर कटाक्ष करते हुए व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई को याद किया गया है। ..].आचार्य शुक्ल ने साहित्य में ‘विरुद्धों क... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   3:56am 11 Dec 2012 #Art-work
Blogger: dilip shakya
ग़ालिब-ए-ख़स्ता के बगैर कौन से काम बंद हैंरोईये ज़ार-ज़ार क्या कीजिये हाय -हाय क्यों ?... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   8:35am 10 Nov 2012 #Uncategorized
Blogger: dilip shakya
Welcome to WordPress.com. This is your first post. Edit or delete it and start blogging!... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   5:01pm 4 Dec 2009 #Uncategorized
clicks 199 View   Vote 0 Like   12:00am 1 Jan 1970 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post