Hamarivani.com

बचाखुचा

एक नंबर की कबाड़ी है तुम्हारी बेटी! मां को पापा का ये ताना गाहे-बगाहे सुनना पड़ जाता, खासकर, जब पापा तय करते कि आज बच्चों का स्कूल बैग चेक करना है। चूंकि पापा का औचक निरीक्षण यानी सडन इन्सपैक्शन पर खासा यकीन था इसलिए जब भी उनका मूड खराब होता, मेरे फ्यूचर प्रोफेशन की नींव र...
बचाखुचा...
Tag :
  January 3, 2017, 12:14 pm

क्यों नहीं कह सकती कि ख़ुदकुशी भी एक विकल्प है मेरे पास.इसमें भी लगती है मेहनत, चाहिए इसमें भी बड़ा जिगर, बड़ा हुनर,कि लोग ये न कहें कि जानकर इतना ही ज़हर पिया कि बच जाए.पेनकिलर या एनेस्थिशिया नहीं, बस, कोशिश करनी होगी एक सहनीय मौत की.जगह भी माफ़िक चुननी होगी,वहां जहां धूल ...
बचाखुचा...
Tag :
  December 28, 2016, 10:38 pm
मैं असुरक्षित महसूस करती हूं, जब मोटापे पर चर्चा होती है। भरी गर्मी में सफर के दौरान भी मैं वही कपड़े चुनती हूं जो औरों की आंखों को आरामदायक लगें। अगर मेरा रंग खिलता हुआ और शरीर इकहरा है तो मुझे सुरक्षा की जरूरत है और दबा हुआ है तो फेयरनेस क्रीम की। मैं अकेली नहीं हूं, जो ...
बचाखुचा...
Tag :
  March 18, 2013, 10:09 am
हर बार पहली दफे होता है जब तुझे सोचती हूं,अपने अनंत शून्य को भरने का यही तरीका मुफीद पड़ा मुझे।बेढब सी कल्पना में तुम बराबर साथ उड़ते हो कल्पनाओं के पंख लगाकरखुरदुरी ज़मीन से शुरु कर लांघ जाते हैं हम सातों समुंदर दूरियों केछूते हैं चौदहवों आसमान सपनों के।क्या ही स्वा...
बचाखुचा...
Tag :
  February 16, 2013, 11:12 pm
ये कहानी है एक राक्षसी के रूपसी और फिर राक्षसी बनने की.‘पंचवटी’में शूर्पनखा की ‘नाक का किस्सा’और उसके बाद की रामायण सबको पता है,बिरले ही वाकिफ होंगे प्रेम की उसकी तीखी चाहना और रिजेक्शन से उपजी पीड़ा से.उत्तर-आधुनिक कथाओं में भी इसका कोई ज़िक्र नहींन ही तथाकथित स्त्र...
बचाखुचा...
Tag :
  February 15, 2013, 11:20 pm
बड़ी दूर थे हम जब पहली बार तुम्हारी आंखों ने मुझे छुआ।कोई जलजला नहीं आया था।हमारे बदन के ताप से न ग्लेशियर पिघले, न फूल झूमे,बस, मेरे भीतर का मोम गलकर कहीं बालों में अटक गया होगा।मुलाकातियों की नजरें टोहभरी और मुस्कानें गहरा गई थीं।बार-बार बालों को झटकारती, गालों-होंठो...
बचाखुचा...
Tag :
  February 15, 2013, 1:16 pm
आंसू कभी नहीं सूखते.वो भेदते हैं त्वचा का झीना आवरण और समा जाते हैं शरीर के भीतर,दौड़ते हैं खून के साथ नसों-औ-शिराओं में.दिलो-दिमाग से गुज़रकर जज़्ब हो जाते हैं आत्मा मेंशायद इसलिए आत्मा कभी नहीं मरती....
बचाखुचा...
Tag :
  February 1, 2013, 10:12 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3693) कुल पोस्ट (169661)