POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: ANTARDWAND...

Blogger: Himanshu Agarwal
बचपन के दिनों की बात करूँ तोयाद करो जबछोटी सी नोक-झोंक होने परठोडी के नीचे अंगूठा छुआकरबोल देते थे कुट्टीतोड़ लेते थे दोस्ती इस तरह....भूलकर अगले ही पल सब कुछमुंह में अंगूठा डालकर कहते थे अब्बाबन जाते थे दोस्त दोबारागिले  शिकवों को छोड़करयदि मैं मुंह में अंगूठा अच्छी त... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   4:02pm 29 Dec 2015 #
Blogger: Himanshu Agarwal
                                             लफ्ज़ अब मिलते नहीं                                            नज़्म अब बनती नहीं।                                           रंग चढ़ गया है इन पर भी शायद।                  &nbs... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   7:18am 21 Oct 2015 #
Blogger: Himanshu Agarwal
चाँद आधा है और मैं भी,अब लिखता हूँ तेरी तलाश में,सुबह से लेकर शामजमीं से लेकर आसमान।                                 अब हर दिन के बाद                     जब रात आती है,                     तो मानो ठहर सी जाती है                     खा... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   3:10am 22 Mar 2015 #
Blogger: Himanshu Agarwal
कल रात  मैं घंटो बैठा रहाखुले आसमां  के नीचेतुझे ढूंढने के लिए,इन तारों के बीचपर नहीं मिली तुम मुझे वहां।                         तुम्हारी आवाज़ का रिकॉर्ड याद है                जो बनाया था हमने एक रोज़                उसे सुना तो थोड़ी तसल्ली हुई&nbs... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   3:04am 13 Mar 2015 #
Blogger: Himanshu Agarwal
चाय में शक्कर एक चम्मच लूँ या दो,तुम अब उसके लिए मुझे टोकती नहीं।शाम को जरा सी भी देर हो जाने पर,तुम्हारी वो नाराज़गी गुमशुदा  सी है।।            मिलते हैं अक्सर घर  दरवाज़े बंद ही,            शाम को लौटने पर।            बड़े जतन से ढूंढ के चाबी,          ... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   1:49pm 11 Feb 2015 #
Blogger: Himanshu Agarwal
मेरी किताबों के बीच रखी हुईचिनार की सूखी पत्तियाँमुझे उन दिनों की याद दिलाती हैं;जब वो हरी थीं और मैंनेताजा-ताजा उन्हें रखा था।।          जिन दिनों वो पेड़ पर थीं, खिलखिलाती थीं      बदलती थीं रंग मौसम के साथ;      और हर एक दिन बदलती हुई      कुछ और बढ़ती, कुछ औ... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   5:11pm 8 Nov 2014 #
Blogger: Himanshu Agarwal
एक बंद पुराने कमरे में,लिखने की कुछ कोशिश में,एक कागज और एक कलम,सोच में इस क्या लिखें हम।।                 गीत लिखूँ, संगीत लिखूँ         या तेरी मेरी प्रीत लिखूँ,         हार लिखूँ और जीत लिखूँ        या गंगा का संध्या-दीप लिखूँ।।        देस लिखूँ ... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   5:41am 13 May 2014 #
Blogger: Himanshu Agarwal
याद कभी तो करते होंगेचुभती सी तन्हाई में,या कागज और स्याही में,या मौसम कि पहली बारिश में,मुझे पता है;याद कभी तो करते होंगे।।                ये पिछले जनम की तो बात नहीं,                 भूल गए वो बातें सारी,                 ऐसा मुझको विश्वास नहीं;    &n... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   5:30pm 7 Feb 2014 #
Blogger: Himanshu Agarwal
यूँ तो चांदनी अपना दामन  चुकी है,पर सवेरा होना अभी बाकि है।कुछ पायदान ऊपर चढ़ी है जिन्दगीकामयाबी का सुरूर अभी बाकी है।।              ओझिल होते हुए सपनों  की  किताब से           एक पन्ना चुरा लिया है हमने,           रंगो से भरे कल कि तस्वीर देखी है ... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   8:18am 5 Dec 2013 #
Blogger: Himanshu Agarwal
जब चार बरस का दीपू कोई,ढाबे पर बर्तन धोता हैजब सड़क किनारे मुन्ना कोईभूख के मारे रोता है:तब मैं कहता हूँ यारों किमुझको फर्क नहीं पड़ता ll             भारत माँ का लाल कोई जब         सीमा पर अपनी जान गँवाए,        पानी के बँटवारे को लेकर जब         खेत किसी... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   7:59am 17 Oct 2013 #
Blogger: Himanshu Agarwal
इंसानों की इस दुनिया में,कुछ लोग आपके बेहदकरीब होते हैं  lपर अचानक हो जाते हैंशुन्य में विलीन कहीं;बिना बताये, चुपके सेजैसे की कभी थे ही नहीं l l         धीरे - धीरे भर जाते हैं आपके घाव,         और उनकी यादें भी धुंधलाने लगती हैं l         पर वो नहीं भूलते आपको,         शामिल हैं वो आपकी ... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   9:46am 12 Mar 2013 #
Blogger: Himanshu Agarwal
तेरह दिन की गहरी धुंध,और अगली सुबह,जैसे सुबह ही नहीं हुई।चारों  ओर  तम का सायाहे ईश! नहीं कहीं तेरी छाया।।                  जीवन हार गया है आज,          विद्रोह- पूरित सम्पूर्ण समाज।          अब जीवित केवल निराशा,          और चुभन लाचारी की;          यही कहानी शेष बची अब,          हिन्दुस्तान की न... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   5:37am 31 Dec 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
जिन आँखों में जगे हों सपने,उन आँखों में नींद कहाँ?जब दीप जले हों रातों में,तब अंधियारे के तीर कहाँ?               बढ़ेंगे पग तो राह बनेगी,         उम्मीदों की धूप खिलेगी l         जब निर्भय और संकल्प से यारी,         तब फिर मन भयभीत कहाँ?पथ में कितने साथी छूटे;पर तेरा न साहस टूटे,निर्भर क... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   12:50pm 6 Nov 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
ये जानते हुए भी किन लौट के आओगे तुम कभीवो शाम ठहर के वहीँ;तेरा इंतज़ार करती है l                  अहसास होते हुए भी ये               कि निकल गया तू बहुत दूर कहीं               तब भी मेरी नजरें क्यूँ हर पल;                तेरा दीदार करती हैं l ये जानते हुए भी किफर्क तुझमें और मुझमे ऐसेजैसे धरती और ... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   5:44am 19 Sep 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
कल रात तुझे सपने में देखा,चाँद जमीं पर चलते देखा lस्वर्ग लगे है कितना सुन्दर,आज यहीं धरती पर देखा ll                                         तुम हँस दो तो जीवन चलता,                      तुम गाओ तो बहती पवनें,                      कैसे अंकुर वृक्ष है बनता,                       नभ से जीवन झरते देखा llतुमको पाना ध्य... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   3:33am 16 Jul 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
देखो सूरज डूब रहा है,एक और दिन बीत रहा हैl कोई पूछे मदिरालय का पथ,कोई साकी का डेरा,कोई अलग नहीं यहाँ पर;सबका जीवन गहन अँधेराl पथिक का धीरज टूट रहा है,देखो सूरज डूब रहा हैll              वो कहते हैं नित की भाँति,             पुनः सवेरा आएगाl              पर मुझको भय है इस जग में बस,         ... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   12:40pm 11 Jun 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
यूँ तो घर की ड्योढ़ी पर,बखत बे बखत अक्सर ही,वो उसका रस्ता तकती है,ना जाने फागुन के आते ही;वो थोडा खिल सी  जाती है ll              वो चिट्ठी फिर से पढ़ती है,              लिखा था जिसमे उसने की,              मैं लौटूंगा फागुन में,              हवा से पूछती है वो,              कि उसका प... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   11:54am 14 May 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
                          वैदेही वनवास से,                          विघटित होती आस से,                          ओझिल होते सपनो से,                           दूर हुए उन अपनों से,                           किंकर्तव्यविमूढ़ होते हैं;                            जब आप घर से दूर होते हैंll                                  ... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   11:06am 14 May 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
kya ajeeb mushkil hai , ek naye blogger ke liye , sabse pehle ye tai karna ke aakhir blog ka naam kya diya jaaye, phir ye tai karna ke usmein kya likhein aur kiske liye likhein,  khud ke liye  ya phir ye sochkar usmein topics add karein ke usey koi padhe aur jaane ke aakhir hum kya pasand karte hain , kya soch rakhte hain,                                         kya soch hai aakhir ek blog likhne ke peeche,  isey samajhne ki lagaataar koshish mein hoon.... kyunki main na to poetry likhna jaanti hoon na hi koi kahaanikaar hoon, is blog ke liye bhi ek bhari bharkam shabd mere dimaagh mein aaya tha ANTAR-DWAND, phir usey kuch din tak rehne bhi diya , per jab bhi apni pos... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   5:02am 24 Feb 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
Khwabon se mujhko aur na behla sakegi tu,Rehne de zindagi, tera jadu utar gya…... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   12:52pm 16 Feb 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
Im sharing this topic with you guys  coz  i found it very interesting   Six beautiful HR Questions !!!Here are some of the typical HR questions asked to find out if the candidates have "out of box" thinking capabilityQuestion 1:"What will you do if I run away with your sister?"The candidate who was selected answered " I will not get a better match for my sister than you, sir."Question 2:Interviewer (to a student girl candidate) - What if one morning you woke up & found that you were pregnant ?I will be very excited and take a day off, to celebrate with my husband. (Normally an unmarried girl will be shocked to hear this, but she managed it well. Why should I think it in the wrong way... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   3:11pm 9 Feb 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
janaab Atif Khan ki likhi ye nazm dil ko choo gayi , bahut kam shayaron aur kaviyon  ki shayari aur rachnaayein mujhe bahut andar tak bheid paati hain , aur unhin  ko padhna aur sahejna pasand karti hoon main , ismein vo saari zindagi apne wajood se jude  sawaal ki talaash mein rahe phir aakhir ek din khud ko khokar sab haasil kar liyamain ne talasha haisehra ki tapish mainsagar ki lehron mainparbat ki bulandiyon mainaasmanon ki wus'aton mainaik jawabis adhooray sawal ka...jis kina koi ibtida hai..na hi inteha..koh-e-nida se aanay wali sada ki manindaik asrar...aik bhaid...mo'amma-e-zindagi ki haqeeqatmain kyunkar jaanon? dil ki syaahi kokis tor mitaoon?rooh ke daaghkaisay chupaoon?talas... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   2:59pm 9 Feb 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
Hamesha sath rehne ki , aadat kuch nahi hoti,,Jo lamhey milgaye ji lo, riyazat kuch nahin hoti,,kayi rishto'n ko jab parkha, nateeja ek hi nikla,,zaroorat hi sabhi kuch hai,mohabbat kuch nahin hoti,,kisi ne chor kar jana ho, to phir vo chor jaata hai,,Bicharna ho to sadioon ki, rafaqat kuch nahin hoti,,Taa'lluq toot jaaye to, safeeney doob jaatey hain,,Yeh sab kehney ki baatein hain, haqiqat kuch nahi hoti.....rafaqat=friendship... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   2:48pm 9 Feb 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
Hindi ki haasya -kavitaayein hamesha mujhe prabhavit nahi karti , phoohad sa vyang sunkar ya padhkar dimagh bhanna jaata hai ,  par ye kuch alag hattkar thi ..........itihas pariksha thi us din, chinta se hriday dhadkata thathe bure shakun ghar se chalte hi, baayaan (left hand) haath fadakta thamaine sawaal jo yaad kiye, ve keval aadhe yaad huyeunmein se bhi kuch school talak, aate aate barbaad huyetum bees minute late, dwaar per chapraasi nein batlaayamain mail train ki tarah daudta kamre ke bheetar aayaparcha haathon mein pakad liya, aakhein moondi tukk jhoom gayapadhte hi chaaya andhkaar , chakkar aaya sir ghoom gayaayeh Sau number ka parcha hai, mujhko Do ki bhi aas nahichahe saari duni... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   2:37pm 9 Feb 2012 #
Blogger: Himanshu Agarwal
Ganit ki terms ka itni khoobsurati se istemaal vo bhi itni gehri baat kehne ke liye , waqai saraahniy hai , kavi ka naam nahi jaantimain aur tumvritt ki paridhi kealag alag konoN meinbaithe do bindoo hainmaine to apne hisse ka ardh-vyaaspoora kar liyaakya tum kendra permujhse milne aaoge........?vritt = Circleparidhi=circumfrenceardh-vyaas=RadiusKendra=Centre point... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   2:32pm 9 Feb 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192559)