Hamarivani.com

विप्लव ! Vishvnath Dobhal

नोट - ये लेख सिर्फ एक समस्या को समझने का प्रयास मात्र है, सिर्फ समस्या का विश्लेषण है , इसे समझने के लिए आपका विवेक जरुरी है ! ---------------------------------------------------------पिछले दिनों  Facebook !!पोल खोल!! " बोल .. की लब आज़ाद है तेरे "ग्रुप में नक्सलवाद पर काफी कुछ डिस्कस हुआ, कई दोस्तों ने इसके बारे में नेट ...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  March 4, 2013, 5:16 pm
नास्तिक वो बला है जो चिल्लाता है की मैं नास्तिक हूँ . क्योंकि वो सच्चे अर्थो में नास्तिक है।  वो कर्म करता है , और फल की इच्छा में कर्म करता है,  क्योंकि वो जानता है की उसके  " श्रम " में वो ताकत है जो उसे परिणाम देगी , वो इतिहास से प्रेरणा लेता है , वो विज्ञान पर विश्वास कर...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  March 1, 2013, 7:49 am
फेसबुक पर हमारे एक मित्र "प्रचंड नाग जी" ने अपने कुछ सवालात रखे,  विषय था की ""मार्क्सवाद के अनुसार भारत में जाती व्यवस्था से उत्पन्न शोषण के लिए क्या समाधान हो सकता है"मैंने उनके सवालों का अपने अनुसार जवाब देने की कोशिश करी और ये सम्पूर्ण बहस एक लेख के रूप में ...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  February 26, 2013, 2:55 pm
नेता - ये आतंकवादी है ,,,,,,,ये सब आतंकवादी होते है भीड़ - अच्छा ,,,लेकिन  ...??.नेता - लेकिन वेकिन कुछ नहीं ....ये आतंकवादी ही है ,,ये सब आतंकवादी है भीड़ - हां ,,,,लगता तो है ...शायद नेताजी सही कह रहे है नेता - इन्होने स्कूल की ईमारत तोड़ दी , इन्होने रेलगाड़ी में बम फोड़ दिया .देखो ये लोग आतकवादी ह...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  February 26, 2013, 12:47 pm
शायद कई भाइयो को बुरा लगे ,,,,,लेकिन मैंने आज तक पूरी जिन्दगी में यही तजुर्बा  किया है की " इस मुल्क में पढ़े लिखे जाहिल लोगो की तादात शायद अफ्रीका महादीप की कुल आबादी से भी ज्यादा है।मेरे उन्ही पढ़े लिखे जाहिल भाइयो को समर्पित एक कविता .....कविता क्या बस ये समझ लीजिये की  "ब...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  February 12, 2013, 6:32 pm
{शुद्धिकरण }बाजार से वापस लौटते हुए घर में मेरे ताऊ जी धडधडाते हुए गुस्से में आये  ...और जोर जोर से चिल्लाने लगे .." सत्यानाश हो जाए उस नाश पिटे का....बेशरम कही के ,ना जाने कब सुधरेंगे,,,,मैं बोला   "अरे ताऊ जी क्या हो गया,,किसी ने कुछ बोला हो तो बताओ,,अभी मैं जाता हूँ ...."अरे कु...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  February 4, 2013, 2:14 pm
दिल को झकझोंर देने वाली लघु  कहानियों के बेताज बादशाह ...सआदत हसन मंटो को समर्पित मेरी लघु कहानियाँ  (कहानियो में घटनाएं और चरित्रों के नाम काल्पनिक है,,,,किसी से इनका मेल खाना मात्र एक इत्तेफाक होगा - लेखक जिम्मेदार नहीं है  ){ एक }काला कुत्ता  - दादी को एक ज्योतिषी ने बताया...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  January 29, 2013, 2:15 pm
ये बात आज से 12 साल पहले की है जब दिल्ली में मेट्रो रेल का लगभग अपने प्रथम चरण का काम पूरा हो चूका था और पहली मेट्रो चलनी शुरू हो चुकी थी। उन्ही दिनों हमारे पुराने मालिक साब प्रिंस चार्ल्स भारत की यात्रा पर आये हुए थे , ,,और दिल्ली सरकार उन्हें मेट्रो रेल दिखाने के लिए ले गयी...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  January 23, 2013, 1:53 pm
मेरा जन्म एक हिन्दू ब्राह्मण परिवार में हुआ था . परिवार वालो से पता चला की हमारा गोत्र "गर्ग"  है . यानि की हम गर्ग ऋषि के वंशज या संतान  है.बचपन से ही घर में वो सारे कर्मकांड देखता आया हूँ जो की एक ब्राह्मण परिवार में होते है, घर में पूजा के वक्त हमारे दादा -  दादी पूजा ख़त...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  January 22, 2013, 11:32 am
6 दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद के गिरने के बाद सितम्बर 1994 में शेखर कपूर की बहुप्रितिक्षित फिल्म "बैंडिट क्वीन" रिलीज हुई थी।ये वो समय था जब हिन्दू (अंध) देशभक्ति अपने पूरे उफान पर थी।और हर शहर कस्बो के मोहल्लो के निठल्ले नकारा चौराहो चौपालों पर सारा दिन आती जाती लडकियों और...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  January 7, 2013, 10:01 pm
हम सभी ने बचपन में प्रारंभिक विज्ञान पढ़ा है, जिसने भी कोई प्रारंभिक शिक्षा ली है वो इंसान  संसार जीव जन्तुओ का विकास और सामान्य भौतिकी के नियम से शायद ही अनभिज्ञ  होगा। अगर इंसानी सभ्यता के प्रादुर्भाव से लेकर अब तक के विज्ञान को देखे तो ऐसा लगता है की मानव ने अत्यधिक...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 21, 2012, 3:15 pm
फेसबुक पर हमारे एक मित्र दिनेश जी ने कम्युनिस्म के बारे में अपने कुछ विचार रखे .......मेरे अल्पज्ञान के चलते जितना भी हो सका मैंने उन्हें जवाब देने की कोशिश करी है,,,,,,,इसी पूरी पोस्ट को मैं यहाँ एक लेख के रूप में रख रहा हूँ .दिनेश जी ने अपने विचार कुछ इस तरह रखे - कमुनिस्ट विचा...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 17, 2012, 3:45 pm
बचपन की बाते और यादे कभी कभी हिलोरे मारती है तो मन में अजीब अजीब से ख्याल आते है ,,कभी जहन  में गुस्सा और कभी चेहरे पर मुस्कराहट फ़ैल जाती है, कभी कभी उन्ही वाक्यात को याद करके अपने को सुधरने की कोशिश करता हूँ,,तो कभी अपनी बेटी को देखकर सोचता हूँ की शायद मैं भी कभी इसी की उम्...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 13, 2012, 2:36 pm
अरविन्द केजरीवाल  - "क्रांतिकारी" या जनता के गद्दार  पूंजीवादी शोषण के खिलाफ जब जब जनता ने एक साथ मिल कर आंदोलनो कि शुरुआत करी है ,  तब तब शाशक वर्ग ने उसे तोड़ने  के नये नये तरीके ईजाद  किये है   ,,ओर काफी हद  तक सफल भी रहा है।ये तरीके कई तरह के हो सकते है , पर अधिकतर ऐसे आन्...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 7, 2012, 3:22 pm
मैं तुम्हारे इन सारे फेसबुक और सोसल साइट्स के नफरत से भरे संदेशो को सहेज लूँगा।मैं तुम्हारे इन नफरतो से भरे  राम, अल्लाह ,हिन्दू मुस्लिम ,धरम और जात की बहस वाले सफ्हो को लोहे के पन्नो में गोद दूंगा।।।और फेंक दूंगा उन्हें किसी दरिया की गहराई में ..... या गाढ़ दूंगा हर घर की ...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 6, 2012, 12:11 pm
कामरेड..........पिछले साठ साल से इ सरकार हमको धोखा देत है ........मार्क्सवाद के अनुसार जब तक उत्पादन के साध्नो पर मुठ्ठी भर लोगो का कब्जा रहेगा तब तक शोषण मुक्त समाज कि कल्पना करना बेमानी है  ...लेकीन पून्जीवादी  विद्वान ओर मीडिया इसे सही ठेहरता है ,,,,उनके अनुसार पुंजीपती ही विक...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 5, 2012, 12:51 pm
मुझे अपनी समझ सेदुनिया को समझने मेंअपने हिसाब सेअपने रास्ते पर चलने में अपने लिए अपने खयाल बुनने में अपने विचारों को अपनी ज़ुबान में कहने में अपनी मस्ती में बहने अपनी धुन में रहने में नहीं कोई दुविधा है....मुझे सवाल पूछने जवाब मांगने तर्क करने उंगली उठाने सोचने समझन...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  December 3, 2012, 10:02 am
बीजेपी समर्थको की दोगली मानसिकता और अपरिपक्वता की पोल खोल - *************************************ज्यादा दिन नहीं हुए,,,बस आज से 7-8 महीने पहले की ही बात है,,आप किसी भी सोसल साईट पर अगर कुछ भी अन्ना-केजरीवाल और उनके आन्दोलन के बारे में सवाल उठाते थे तो आपको शायद तमाम गालिया सुनाने को मिलती थी।।..का...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  November 29, 2012, 7:14 pm
किसी की भी मौत के बाद उसके बारे में बुरा बोलना गलत होता है,,,,,लेकिन  आप जब किसी की विवेचना करते है तो उसकी तुलना दूसरो के गलत कामो से करके आप उसके गलत कामो को नहीं छुपा सकते ...आप वीरप्पन, प्रभाकरन ,दाउद , और ना जाने कितने लोगो की जिंदगी पढ़ कर देख लीजिये ,,,वो सब के सब प्रत्यक्श य...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  November 29, 2012, 6:59 pm
भारत एक फैशनेबल मुल्क है,,,जह कई तरह के फैशन आते जाते रहते है..........आजकल फैशन है देशभक्ति का और समाज को बदलने का. जाहिर है जब फैशन है तो इसको मार्केटिंग करने वाले रोल मॉडल भी जरूर होंगे..............तो ये रोल मॉडल है एक चोकलेटी हीरो आमिर खान, एक NGO भिखमंगा अरविन्द केजरीवाल, एक NGO दलाल कि...
विप्लव ! Vishvnath Dobhal...
Tag :
  November 27, 2012, 5:35 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163611)