POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मन की आवाज ♫♫♫

Blogger: deepika
तेरी रहगुजर से गुजारा,तो ये ख्याल आया। कभी छोड़कर गयी  थी,मै यहाँ पर अपना साया।कभी कतरा कतरा आँसू,कभी टुकड़ा टुकड़ा आहें।कभी मेरे दिल के अंदर इक घना साया।मेरा अपना घर रहा हो,के शहर का कोई रास्तातेरी याद को हमेशा हर वक्त साथ पाया तेरे घर की खिड़कियों ने तेरे घर की सीढ़... Read more
clicks 214 View   Vote 0 Like   2:36pm 30 Apr 2013 #
Blogger: deepika
आती जाती महोब्त है,चलो यूँ ही सही।जब तलक है,खूबसूरत है,चलो यूँ ही सही।किसको मिला है दुनियाँ में सब कुछ ,जो कुछ है अपना चलो यूँ ही सही।वो किसी और का है, मैने माना ,कुछ कदम तो साथ हैचलो यूँ ही सही।... Read more
clicks 210 View   Vote 0 Like   8:49am 15 Apr 2013 #
Blogger: deepika
ज़िंदगी क्या है ?लोग कहते है कि ये एक नगमा है, जिसे सजाते जाना है ये एक ख्वाब है, जिसे बस देखते जाना है ये एक गजल है, जिसे गाते जाना है ये एक गीत है, जिसे गुनगुनाते जाना है ये एक इम्तिहान है, जिसे देते जाना है मैं कहती हूँ ज़िंदगी तो ज़िंदगी है ज़िंदगी मैं जीना सीख लो तो ख... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   11:56am 11 Apr 2013 #
Blogger: deepika
कोशिश की कभी तुम्हें भुलाने कीख्वाबो में भी ना आने कीमगर मेरी हर कोशिश नाकामियाब रहीहमने जितनी दूरियाँ बनाईतुम उतने ही करीब आते गयेआपके और हमारे बीच हमकभी रिश्ते लाये तो कभी मजबूरीयांऔर कभी ये दूनियाँपर हमें कहाँ मालूम थाकि दूरियाँ तो वो धागा हैजिसने प्यार को मजबू... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   11:38am 11 Apr 2013 #
Blogger: deepika
आपसी सहमती से ........... ये क्या सही है ये भारतीय राजनेता भारत को क्या बनाना चाहते है ! क्या ये नहीं जानते की जिस भूमि पर ये रहते है उसकी एक सभ्यता , एक संस्कृति है  उस के साथ ये ऎसा  कैसे  कर सकते है ! जब मेने ये पेपर में पढ़ा मुझे बड़ी हैरानी हुई और साथ ही बहुत हसीं भी आई आज 16 की उम... Read more
clicks 336 View   Vote 0 Like   7:50am 14 Mar 2013 #
Blogger: deepika
                                          भगवान ने सभी मनुष्यों को एक जैसा बनाया है ये तो हम ही है जिसने सब को अलग अलग बाँट दिया है ......मनुष्य किसी भी देश का हो हँसता भी एक जैसे है और रोता भी ....... भगवान ने प्रत्येक मनुष्य को समान बनाया है यह तो इस से ही सिद्ध हो जाता है ...... इस के लिये किसी अन्य मा... Read more
Blogger: deepika
मेरी अधूरी कहानी लो दास्ता बन गई तूने छुआ आज ऎसे मै क्या से क्या बन गई सहमे हुए सपने मेरे , हॊले हॊले अंगडाईयां ले रहे है ठहरे हुए लहमे मेरे , नई नई गहराइयाँ ले रहे है जिंदगी ने पहनी है मुस्कान करने लगी इतना करम क्यू न जाने करवट लेने लगे है अरमान फिर भी है आंख नम क्यू न जा... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   10:16am 7 Mar 2013 #
clicks 130 View   Vote 0 Like   9:12am 6 Mar 2013 #
clicks 163 View   Vote 0 Like   9:12am 6 Mar 2013 #
Blogger: deepika
माँ मुझको भी पंख दे दे मै भी उड़ना चाहती हूँ पंख लगा नील गगन में चाँद को छुना चाहती हूँ ☼बेटी मेरी, ना कर हठ ऊंचाईयो को छुने की जन्म से पहले ही ,बांध दी सीमातेरे आगे बढ़ने की तू वो चिड़िया हे जो पिंजड़े में ही रह जाएगी पिता, भाई,पति की सीमा में ही बंध जाएगी ☼सीमा में उडकर ह... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   10:20am 28 Feb 2013 #
Blogger: deepika
जादू भरे अलफ़ाज की ज़रूरत नहीं गमो की यहाँ कोई दरकार नहीं ज़रूरत है उस सिलसिले की जहाँ तेरे नगमो पे सवाल नहीं ... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   10:44am 26 Feb 2013 #
Blogger: deepika
ये संसद भवन नहीं युद्ध का मैदान हैजिसमे कई दलों का हाहाकार हैं घुस मार , चप्पल मार ,यही तो इनके हथियार हैं कई दलों के युद्धो सा ये , विश्वयुद्ध सामान है संभलो जनता अब तो तुम भी लुटेरा संसद, लुटेरे दल ये करते सबका विनाश है... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   11:03am 22 Feb 2013 #
Blogger: deepika
कभी खिलखिलाती...  तो कभीसहमी सी... मिलती है ये ज़िंदगी..!वक्त चला  जाता है.....मगर कभी थक कर.. रुक जाती है ये ज़िंदगी...!कभी खुशी मे ...कभी दुख  में... जीती है ये ज़िंदगी..!दिल में उठते जज़्बातों मे , उन हसीन एहसासों मे ...झूम उठती है ... ये ज़िंदगी !जब उकेरी किसी काग़ज़ पर..अपने चेहरे की सा... Read more
clicks 184 View   Vote 0 Like   11:45am 21 Feb 2013 #
Blogger: deepika
            ज़िन्दगी की हर किताब को बड़ी शिदत से संवारा था हर पेज को नाजो से पला था एक दिन एक लुटेरा आया ज़िन्दगी की उस किताब का लुट लिया अब हर पन्ना बेमाना लगता है माना कि  यह किताब मेरी है पर हर पन्ने पर उस लुटेरे की कहानी है ... Read more
clicks 181 View   Vote 0 Like   12:40pm 18 Feb 2013 #
Blogger: deepika
Dear          आज मुझे तेरी बहुत याद आ रहि है ,जब भी मन कुछ उदास होता है ............ चलो छोड़ो वही पुरानी बाते   आज फिर हिटलर  ने मुह फुला रखा है ............. और में फिर से उसी बारे में सोच रही हु  क्या एक लड़की होना सुबसे बुरा है , दुनिया में जो कुछ भी हो रहा है उस सुब की जिम्मेदार क्या सिर्फ में ही ... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   7:11am 10 Feb 2013 #
Blogger: deepika
तन्हाई में ये वक्त भी गुजर जाएगा हँसते हँसते ये जख्म भी भर जाएगा रोया नहीं है ये दिल किसी के रुलाने पर भी हँसते है हम हर जख्म पाने पर भी ... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   6:35am 10 Feb 2013 #
Blogger: deepika
कितनी जल्दी ये मुलाकात गुजर जाती है प्यास बुजती नहीं बरसात गुजर जाती है अपनी यादो से कह दो की , यहाँ न आया करे नींद आती नहीं और रात गुजर जाती है उम्र की रहो मे रास्ते बदल जाते है वक्त के साथ इंसान भी बदल जाते है सोचते है की तुम्हे याद न करे लेकिन आंखे बंद करते ही इरादे बदल... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   11:29am 8 Feb 2013 #
Blogger: deepika
           आज समाज मे भ्रष्‍टाचार  इतना अधिक फैल गया है, कि किसी पर भरोसा किया जाए और किस पर नहीं इसका विचार करना हि अपने आप मे एक बहुत बड़ी समस्या है । जिस पर भरोसा करते है वही अगले पल भ्रष्‍टाचारके दलदल मे पड़ा मिलता है । सत्य कि पहचान करना बहुत कठिन हो गया है । आज सब तरफ भ्र... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   9:49am 18 Dec 2012 #
Blogger: deepika
देखो उस पेड़ को लग रहा साकारअभी बोलेगा, लेगा आकारक्या तुम भी हो राहगीरक्या तुम को चाहिए छावरह न सकोगे तुम भी मुझ बिन फिर क्यो करते हो ये अत्याचारकाट डाला जालिमो नेजानकर अनजानदेता नहीं फलतो क्या नहीं उसे जीने का अधिकारतुम भी तो न काट  डालोगे,ले कर छावपथिक फिर बोल उठाकर... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   9:17am 18 Dec 2012 #
Blogger: deepika
ऐ मेरी ज़िंदगी तुझे ढूँढूं कहाँना तो मिल के गये ना ही छोड़ा निशाँऐ मेरी ज़िंदगी तुझे ढूँढूं कहाँना वो लय आज रही ना वो महमिल रहापास मंज़िल पे आके लुटा कारवाँ हो लुटा कारवांऐ मेरी ज़िंदगी तुझे ढूँढूं कहाँये सितारे नहीं ग़म के आँसू हैं येरो रहा है मेरे हाल पर आसमां हाल पर ... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   8:29am 16 Dec 2012 #
Blogger: deepika
ज़िंदगी के ये पल कुछ याद आते है कुछ हसीन कुछ बेमाने से लगते हैचाहती हु कुछ भूल जाऊ लेकिन ,फिर फिर याद आते है ये पल ।छोड़ दु उन यादों को जो ,तनहाई मे तड़पाती है याद करू उनको जो ,तनहाई मे भी हँसाती है।लेकिन ये याद बड़ी अजीब हैअजनबी बनकर आती हैऔर तनहाई मे कभी हँसाती और  कभी रु... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   8:19am 16 Dec 2012 #
Blogger: deepika
अँधियारा मेरे अंतर का प्रभु दूर करो । तन हो उजाला मन हो उजाला ,प्रभु जीवन उजाला करो ॥खोटी मतिओ खोटी गतिओ,प्रभु नीति खोटी हरे हरे ।तन में मन में और जीवन में ,प्रभु चेतना नवरस भरो भरो । ... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   12:55pm 6 Nov 2012 #
Blogger: deepika
अनन्तरूपः  जिनके अनन्त रूप हैं वह |अच्युतः    जिनका कभी क्षय नहीं होता, कभी अधोगति नहीं होती वह |अरिसूदनः  प्रयत्न के बिना ही शत्रु का नाश करने वाले |कृष्णः 'कृष्' सत्तावाचक है | 'ण' आनन्दवाचक है | इन दोनों के एकत्व का सूचक परब्रह्म भी कृष्ण      कहलाता है |केशवः क   माने... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   12:45pm 6 Nov 2012 #
clicks 161 View   Vote 0 Like   9:06am 5 Nov 2012 #
Blogger: deepika
ढूंढती  है ये निगाहेअनजानी रहो कोबेजान खण्डरो  मेंढूंढती  है ये अपना वजूदजो कभी खो गया थाजो आज मिलना मुश्किल हैफिर भी जुटे है उसे ढूंढने  मेंउसे पाने की चाह मेंशायद ज़िंदगी का वजूद कही मिल जाएजिससे ज़िंदगी का रुख ही बदल जाए  ... Read more
clicks 199 View   Vote 0 Like   8:57am 5 Nov 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post