POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: स्पर्श ...

Blogger: विभूति कुमार
                 ******************************************                               सज़ा तो देख ली                                                                    ज़ुर्म भी दिखाओ                                         ----- विभूति कुमार                                             *****************************************************                                                      ... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   3:52am 28 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                                                    *****************************************************************               मैं तो किसी जन्म का रिश्ता मानकर निभाता चला गया                                  वो तो इस जन्म का भी रिश्ता मानने को तैयार नहीं                                       --------- विभूति कुमा... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   3:17am 22 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                                                 *****************************************                                                            तुम मुझे नहीं पहचानते                                                            कोई बात नहीं                                                            तुम्हारे घर तक जाने के ... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   1:30am 20 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                   .                                                   न पूछो मुझसे क्या कुछ नहीं किया उस पत्थर- दिल के लिये                                                    इतना किसी पत्थर के लिये किया होता तो मन्दिर बन जाता                                                                                   .... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   1:16am 20 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
..... ....... ......मैं गरीब भी सँभालता एक ख़ास वसन को जो बहुत भाता मन को हम मिले थे संग चले थे कुछ देर कुछ दूर जिसे पहनकर किसी दिवस किसी बरस आज साथ नहीं हो इस बरस अब साथ नहीं होगी किसी बरस मैं पहनता हूँ उस दिवस हर बरस उसी वस्त्र को और महसूसता हूँ तुम्हारी ऊष्मा तुम्हारी गन्ध तुम्हारा ... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   12:59am 20 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
.... ........सबको प्रेम क्यों नहीं मिलता भरपूरप्रचुरक्या ईश्वर ने अत्यल्प रचा क्या नहीं था कोई विकल्प बचा क्या कृपण थे ईश्वर दयावानजो अपने लोक के लिए रखा संचित यह अमृत और हमें दिया एक अमृत-वाक्य -----“ प्रेम एक पारलौकिक सुख है ”हम मानव ढूँढते हैं एक सुख परलोक का इहलोक में ग़ल... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   8:38am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                   .......                                                                   ...........                                                                   प्रथम स्पर्श प्रियवर का                                                                    है उपहार कोई ईश्वर का                ... Read more
clicks 199 View   Vote 0 Like   8:19am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                   ....                                                                   .......                                                                  सोचता हूँ कभी–कभी                                                                  मूँदकर आँखें अपनी                                  ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   7:56am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                                                                                                                                                                     ………                                                                       ………                                                                       यक़ीनन        ... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   7:43am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
ज़िन्दगी मेंतुम से दूर रहते-रहतेदूर रहने की आदत-सी पड़ गईअब तो ख़्वाबों में भी दूर-दूर ही रहतातेरे पास आने से घबराताशायद मेरे सपनेघिरे हुए हैंउन अदृश्य रेखाओं सेहमने जो खींची थीं कभीजिन्हें पार करने का साहस नहीं कर पाताशायद मैं कमज़ोर हूँया ये रेखाएँ मुझसे मज़बूतपर तुम इ... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   7:31am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                                                           क्यों विस्मित हो ऐसे                                                      जानकर                                                      कि सचमुच कोई जी सकता है                                                      एक ज़िंदगी में कई... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   7:14am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
एक शब्द सटीक की तलाश मेंअनुभूति के विन्यास मेंभटकता सा रहताख़ामोशी से कहताकहाँ छुपे होकहाँ सोये होकिस पृष्ठ पर  कहाँ खोये हो तुझे ढूँढने की ज़िद में न जाने मैंने क्या-क्या न पढ़ डाला नये शब्दों को गढ़ डाला .. ..हे प्रियवर !तू ही कुछ करभटक रहा शब्दों के वन मेंखोया रहता मैं उल... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   4:06am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
सौन्दर्य का अंतिम पड़ाव लेकरकिसी पहाड़ी नदी का चंचल, उन्मत्त-सा बहाव लेकरवो आ बैठेक़रीब मेरेजीवन में एक ठहराव लेकरसौन्दर्य का अंतिम............अंग उनका .... उफ़सोम तले सौम्य-साढंग उनका .... उफ़दृश्य कोई रम्य-सासंग उनका .... उफ़शत अपराध क्षम्य-सावो आ बैठे अप्रतिम-सा कोई झुकाव लेकरसौन्द... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   3:55am 10 Dec 2012
Blogger: विभूति कुमार
                                                                दोस्ती                                                                 दोस्ती में चेहरा नहीं देखा जाता                                                                माना मगर                                                               प्रेम                            ... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   9:05am 19 Nov 2012
Blogger: विभूति कुमार
                  आँखों का तरस मिटा दूँ                                        ऐसी क़िस्मत लेकर मैं आया नहीं                                        देखा कई बार लकीरों को क़रीब से                                         पर                                        कानों की बेचैनी                  मुझसे देखी नहीं गई       ... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   11:07am 26 Aug 2012
clicks 180 View   Vote 0 Like   12:00am 1 Jan 1970
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192471)