Hamarivani.com

rahgeer

माँ तेरा मैं सौतेला बेटा,मैं नतमस्तक हो जाऊँगा,नियति तो है पाण्डवो की,मैं भीष्म सा वचन निभाऊँगा।तेरे शीष के खातिर चुप-चाप,twitter, fb पर सब सुन जाऊँगा,हाँ जब बात होगी हिफाज़त की तेरी,मैं 'कलाम' सा कुछ बनाऊंगा।विप्रो हो या सिपला, कोने-कोने,कोटे बिन, तर्रक्की फैलाऊंगा,म...
rahgeer...
Tag :
  August 14, 2016, 5:11 pm
gali me roya suno bacha ek aur asmaan se takra gai dua ek aur. ashkiq ki iltija ye dua aur, aur baaki aur, vo maula ka jawab phirist me aa gaye ek aur. qatl karke zinda gosht ko uss din, qatil ne kaha mera khuda aur, tera khuda aur. khanjar, jee pe na seh sakenge aur, unhone kaha ji bas thoda aur, thoda aur. din aaye aisa ke ro tum be-tahasha, aur kahin, kandha na mile tumhe koi aur rahgeeron ka bhi ajab hai maamla, har manzil par kehte hai kahin aur, kahin aur...
rahgeer...
Tag :
  September 22, 2013, 12:27 am
Sufi hue se firte ho lagta hai ishq kisi se krte ho tabiyat milti nahi zamaane se Phir bhi hath milate chalte ho... sufi hue se firte ho... lagta hai ishq kisi se krte ho... sawaalo se bachte rahte ho sher o ghazalon me khulte ho hoth seene se kya faayda tum mohabbat me ho, dikhte ho Sufi hue se firte ho.... Lagta hai ishq kisi se krte ho... ghar se bahar jab nikalte ho muskaan pehan kar chalte ho... duniadaari ki bhi fikr badi hai maykade me bhi tum milte ho Haan sufi hua sa firta hun... Ishq tumhi se karta hun... Na majnu, na mirza, na farhaad hun, Shohdah hun, benaam hun, be-anjaam hun.                         Tabish 'shohdah' Javed...
rahgeer...
Tag :
  May 18, 2013, 10:18 pm
कहानी कभी पूरी मत लिखना,ज़िन्दगी में ज़िन्दगी कि गुंजाईश रखना।जिससे भी मिल लो बोहत बार तुम।राय बनने के लिए एक दफा और मिलना।जब चलने लगे ज़िन्दगी ख़ुशी ख़ुशी,तुम पेशानी की शिकन याद रखना।जब भी लगे इबादत हो गई पूरी,तुम कुल  चार और भी पढ़ देना।मेरे शेर सुनाते फिरते हो,देख...
rahgeer...
Tag :
  May 5, 2013, 10:05 pm
क्यूँ न भरो तुम उड़ान,आखिर तुम एक परिंदा हो,पर काटे गए तुम्हारे,उसके लिए शर्मिंदा हूँ।कच्चे धागे पे किया वादा,मैं वही कृष्णा हूँ,जो हुआ तुम्हारे साथ,उसके लिए शर्मिंदा हूँ। बेटी, माँ, मासी,बहनाका रिश्ता कहे, मैं जिंदा हूँ,जो हुआ तुम्हारे साथ,उसके लिए शर्मिंदा हूँ । बदला...
rahgeer...
Tag :
  March 3, 2013, 3:10 pm
ताल्लुक निभाने का भी ये क्या तरीका है,वो अनजान  रहता है, हम परेशान  रहते है।के उसकी गली से गुज़र ही गए  होते उस दिन, बस मस्जिद  में अज़ान न हुई होती।इस दफाह रिवायत को कुछ यूँ बदला जाए,ख़ुशी को माँगा नहीं, छीन लिया जाए।के इलज़ाम लगाने से पहले ये इत्मिनान  कर लिया जाए, खलिश त...
rahgeer...
Tag :shohdah
  December 8, 2012, 12:17 am
आस पास है सन्नाटा,ज़हन में शोर,जाने कहाँ से दर्द ले आया,मन ये मेरा चोर।किसी से कहता भी नहीं,सह इस को सकता भी नहीं,खुद बावरा, बंजारा, बेगाना,दुनिया को कहता फिरता बेदाद।नीली नीली खुश्क रातों में,मैं सो जाता हूँ, ये जागता है,मन गर तू मेरा है, तो फिर शब् में,गैरों को क्यूँ पुकार...
rahgeer...
Tag :
  November 3, 2012, 10:36 pm
इसने रोका, उसने टोका,ज़ालिम ज़माना या कोई और बहाना,खुद की हसरत, खुद ही तौबा,मंज़िल से उल्टा दौड़े बेगाना।ये है नहीं वो मिला नहीं,जो कुछ मिल भी जाए तो फिर कोई और तिश्नगी,जो मिला है तुम्हे , क्या उसको जोड़ा?जो है नहीं उसका हिसाब लगाने की दीवानगी। बीता बुरा, आता रहा डरा,या फिर किस...
rahgeer...
Tag :
  August 19, 2012, 8:41 pm
एक लफ्ज़ चल देता घोड़े  की चाल,एक लफ्ज़ बन जाता कितनो की ढाल,शतरंज सी इस दुनिया में,बातें करने वाला राजा है।अजब बिछी है ये बिसात,ये खेल बड़ा निराला है।किस को क्या सुनना है ये जानो,फिर देखो हर शख्स तुम्हारा प्यादा है।खेल लो खेल, ये दिलचस्प बोहत है,पर इसमें इतना न रम जाना,ज़...
rahgeer...
Tag :
  July 4, 2012, 2:30 am
कतरा कतरा  जियो  अपनी  ज़िन्दगी,इसके लिए उसके लिए जियो बाकी की ज़िन्दगी।हलक की प्यास ही अपनी ज़िन्दगी।खून के घूँट पियो बाकी की ज़िन्दगी।आँखों की चमक ही अपनी ज़िन्दगी।उसको छुपाने का फरेब बाकी की ज़िन्दगी।मन की कशिश अपनी ज़िन्दगी,खला,खलिश,ख़ामोशी बाकी की ज़िन्...
rahgeer...
Tag :
  June 30, 2012, 12:30 am
कोई तो मुझे ये बतलाओ,आखिर इस मुल्क में हो क्या रहा है?वो जिसे कहते है लोकतंत्र का मंदिर,वहाँ सियासत का कैसा जागरण हो रहा है,प्रशाद में नोटों की गद्दी लहराते है,मोबाइल में मेनका का नृत्य हो रहा है,रात के बाराह बजे हुआ था मुल्क आज़ाद,अब आधी रात को लोकपाल का अजब मंथन हो रहा ...
rahgeer...
Tag :Ye ho kya raha hai
  June 14, 2012, 1:52 pm
apne ansoon ki itni bhi kya kum keemat lagai jaye, ki ankhen ho nam aur baarish mein bheeg liya jaye.kuch kitaabein aur chand chehre hi padhe hai jab. to bhala kaise har sawaal ka jawaab diya jaye.ek jawaab jab hota nahi kisi sawaal ka to phir kyun na, jiski jaisi ho zaroorat usko vaisa jawaab diya jaye.beshumaar log, dheroon armaan, mukhtalif manzilein, koi kahe sikander ban jaun to koi kahe majnu bana jaye.dekhta hai aksar logon ko is kash-ma-kash mein 'tabish', ki khudgarzi se bacha jaye ya phir khushi ko chuna jaye.                    tabish 'shohdah' javed ...
rahgeer...
Tag :shohdah
  May 18, 2012, 12:47 am
हम अक्सर ये सोच के मुस्कुरा  उठते  है,की ख्वाब अपने इतने हैं ,और ताबीर एक की भी नहीं.भला क्यूँ घूमते हो इस बात का गुमां करते, की तुमने दुनिया को समझ लिया, जब खुद को समझा ही नहीं .जब दिल से पूछो की क्या रहेगें राज़ पोशीदा ,वो कहता है मेरा लबो पर काबू है ,आँखों पर जोर नहीं.ऐसे- ऐस...
rahgeer...
Tag :
  March 11, 2012, 3:13 pm
 आरज़ू ,अरमान,कश-म-कश बेखुदी,हम खुद से इतना लड़े की रकीबों को हैरत हैं.  arzoo,armaan,kash-ma-kash, bekhudi,hum khud se itna lade ki raqeebon ko hairat hain.                                       -ताबिश 'शोहदा' जावेद ...
rahgeer...
Tag :
  March 11, 2012, 2:47 pm

हमसाया कोई नहीं पर इस बस्ती में घर बोहत हैं,आवाजों में कशिश नहीं , पर यहाँ  शोर बोहत हैं.एक मय्यत कोई जाते देखा उस दिन तो हुआ ज़ाहिर ,जज्बातों का पता नहीं,  पर यहाँ रिश्ते बोहत है .अजब माजरा है की ये जो हर वक़्त रहते हैं साथ,इनकी आखों में दोस्ती का पता नहीं ,पर रंजिश बोहत है...
rahgeer...
Tag :
  February 21, 2012, 7:04 pm
हमसाया कोई नहीं पर इस बस्ती में घर बोहत हैं,आवाजों में कशिश नहीं , पर यहाँ  शोर बोहत हैं.एक मय्यत कोई जाते देखा उस दिन तो हुआ ज़ाहिर ,जज्बातों का पता नहीं,  पर यहाँ रिश्ते बोहत है .अजब माजरा है की ये जो हर वक़्त रहते हैं साथ,इनकी आखों में दोस्ती का पता नहीं ,पर रंजिश बोहत हैं . य...
rahgeer...
Tag :
  February 21, 2012, 7:04 pm
humsaaya koi nahi par is basti me ghar bohat hain,awaazon mein kashish nahi, par yahan shor bohat hain.ek mayyat koi jaate dekha us din to hua zahir,jazbaaton ka pata nahi, par yahan rishte bohat hai.ajab majra hai ki ye jo har waqt rehte hain saath,inki akhon mein dosti ka pata nahi, par ranjish bohat hain. yaar ke ghar ke bahar khada soch raha 'tabish',dil ka to pata nahi, uske kuuche pe pathar bohat hai.mulaqaat hui us din is basti ke khuda se,rahmat par shak nahi, par uske yahan imtihaan bohat hain                                                   -Tabish 'shohdah' Javed ...
rahgeer...
Tag :
  February 21, 2012, 6:58 pm
एह शमा जली है कहीं ,भड़की कहीं एक चिंगारी है ,कुछ सरगर्मी सी है नुमाया ,एक बड़ी आग कि तैयारी है |कुछ होसले है बुलंद ,कुछ आवाज़ों में बेकरारी है,एक जूनून सा सरमाया हैकोई फैसला सुनाने कि तैयारी है | खुल गयी कुछ ऑंखें है , ख़त्म हुई सी खुमारी है ,हर कोने में छुपा कोई साया है ,एक बड...
rahgeer...
Tag :bagawat
  February 16, 2011, 3:08 pm
एक रोज़ निकला मैं सड़क पर ,नकाब से अपना चहरा ढक कर,दो कदम पर ही मिला शख्स अनजान,पूछा उसने क्या है तुम्हारी पहचान ?तुम हो पंडित, हरिजन,या फिर बनिया,तुम सुन्नी हो, वहाबी, या फिर शिया,तुम हो कुर्मी ,मोची,या फिर कुम्हार,रहते हो कहाँ ,महाराष्ट्र ,यू प़ी या बिहार ,है चमड़ी तुम्हारी गो...
rahgeer...
Tag :
  August 21, 2010, 1:06 pm
डरता हूँ कि कभी ,न ऐसा दिन आ जाए ,के खुद अपने आप ही से नफरत हो जाए |डरता हूँ कि कभी ,न ऐसा दिन आ जाए ,के खुद अपने सामने हीअपना जनाज़ा उठ जाये   | डरता हूँ कि कभी न ऐसा असमंजस आ जाए ,के खुद अपने उसूल ही,समझौते में रख जाए |डरता हूँ कि कभी ,न सामने वो पल आ जाए के खुद अपनी गिनती भी,पूरी दु...
rahgeer...
Tag :
  April 18, 2010, 4:02 pm
दास्ताने ज़िन्दगी के हम ऐसे किरदार हैं,दूसरों ने किस्से जोड़े,कहानी हमारी लिख गयी .                                  -ताबिश 'शोहदा' जावेद ...
rahgeer...
Tag :
  April 12, 2010, 7:06 pm
ज़िन्दगी कि दौड़ में,पेशेवर आगे निकल गए,हम तकदीर को रोते रहे ,वो  तदबीर सहारे निकल गएसाथियों के जमावड़े में,तन्हा ही रह गए, तरक्की पर खुश होते रहे ,असल में ,सब आगे निकल गए. सपनो कि फेहरिस्त में ,ऐसा ख्वाब बुन गए ,बरसो से सोते रहे ,आज एक ख्वाब सहारे उठ गए .                      - ताबिश...
rahgeer...
Tag :
  March 24, 2010, 8:03 pm
हैं मेरे कमज़ोर  बाजुओं को देख मेरे ख़्वाबों पे शक उनको,क्या उन्हें मेरी चमकती ऑंखें दिखाई नहीं देती | ...
rahgeer...
Tag :
  January 21, 2010, 2:23 pm
हर सिम्द जब तुम नुमाया हो. तो बताओ तुम मुझसे दूर कहाँ  हो ?कहा मुमकिन कि दूर किसी से उसका साया हो,तो बताओ तुम मुझसे दूर कहा हो?मेरे वजूद कि जब तुम ही वजह हो ,तो बताओ तुम मुझसे दूर कहा हो?पगली जब तुम ही मेरा मुक़द्दर हो तो बताओ तुम मुझसे दूर कहा हो ?हम दोनों ही को तो चाँद दिखता ...
rahgeer...
Tag :hind
  January 14, 2010, 4:00 pm
खाकी कि इज्ज़त खाक करने वाला कहाँ तू पहला है ,भेड़ कि वर्दी में भेड़िया कहाँ तू पहला हैं.तुझसे छीनना नहीं तुझको नया मेडल मिलना चाहिए .क्यूंकि पकडे जाने वालों कि फेरिस्त में नंबर तेरा पहला है .हैं अहद पक्का तुझको भेजेंगे तेरी सही जगह ,गरम  हैं खून ,बस एक बार तू और दे मुस...
rahgeer...
Tag :
  December 31, 2009, 3:04 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163704)