POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: फक्कड़ बाबा, Alrounder

Blogger: gchakravorty
Published in "Humanist Outlook", a journal of INDIAN HUMANIST UNION - Vol. 13 No. 4 - Summer 2012 . Pages 127-130Hindi Column by - Ugranath Nagrik                      - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - - -                                                              धार्मिक नाम केवलम         इसमें कोई संदेह नहीं कि भारत देश में धर्म की परिभाषा कर्म , कर्तव्य के रूप में प्रतिष्ठा प्राप्त है | मूल्य ... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   2:30pm 2 Dec 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
[ उवाच ]१ - अगर आप को कहीं ' बिल्कुल समय ' से पहुंचना हो , तो अपने साथ एक औरत कर लीजिये |२ - लड़ाई लड़ना दलित क्या जानें ? देखिएगा , उनकी लड़ाई उनसे ऊपर वाले लड़ेंगे | वही लड़ ही रहे हैं |३ - बाराती लोग यह काम अच्छा कर रहे हैं | कुछ पेशेवर नर्तक - नर्तकियों को बाराती बनाकर नाचने के लिए ल... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   7:13am 2 Dec 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
[ कविताभ्यास ]१ - सच है किज़िन्दगी के फेजेज़ होते हैंआते हैं , तो जाते भी हैं |मैं तो यह पूछ रहा था किजीवन में ऐसे कालखंडआते ही क्यों हैं ?# #२ - स्त्री का है ज़रूरस्त्री के देह का अधिकार ,तो करें न इस्तेमालस्त्री अपनी देह पर अपनेअधिकार का , अधिकारपूर्वक !कौन रोकता है ?# #... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   2:05pm 25 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* सत्य संत कोकहीं चैन नहीं हैयहाँ या वहाँ |* कुछ भी करोधर्म के नाम परसब जायज़ |* फीता काटनानेता का मात्र कामदीप जलाना |[ आग लगाना ] ... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   9:49am 25 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* आयु में कमी आड़े आ रही होगी , वरना जो लोग बाल ठाकरे की मौत पर ख़ुशी मना रहे हैं , वे जिन्ना की मौत पर तो ज़रूए रोये होते |... Read more
clicks 162 View   Vote 0 Like   12:41pm 18 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* अब आदमी की पहचानउसके कपडे जूते , मोटर गाड़ी सेहोने लगी है ,और प्यार की मात्रा नपने लगी इस बात से कि वैलेंटाइन दिवस काकार्ड कितना लम्बा था, या आपनेकितना मँहगा तोहफा दिया |क्या कहा जाय कि -दुनिया अब सचमुच" दुनिया " हो गई है , औरइसमें दुनिया से अलगअब कुछ भी नहीं है ?# # #[ यह कविता ... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   5:17am 17 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* हम भी चुपआखिर बात क्या हैतुम भी चुप |* तनाव में हूँकारण कुछ नहींअकारण ही |* मैं दुनिया केपाखण्ड देखता हूँसन्न होता हूँ |* बिना त्याग केमिलता नहीं कुछफल तो दूर |* परेशान हूँअनिवार्य चिंतनदुखद होता |... Read more
clicks 187 View   Vote 0 Like   4:53am 17 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
[ नागरिक उवाच ]* बराबरी तो अच्छी बात है , लेकिन इसके झाँसे में नहीं आना चाहिए |* सत्ता का तो हो सकता है , पर जनता का कोई विकल्प नहीं है | उसे बदला नहीं जा सकता |... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   4:42am 16 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
‎* जिस वक्त मुझे लोग थे मुर्दा समझ रहे ,उस वक़्त शवासन के पोज़ में मैं पड़ा था |[ Haiku Poems]* दुःख आएगा सहना ही पड़ेगा दुःख जायेगा |*  थोडा पढ़ते काम पर चलते अब लिखते |* एक कमी हो तो उसे बताऊँ भी क्या क्या गिनाऊँ ?* ये हिंदी वाले देश को बाँट देंगे ये हिन्दू वाले |* पसंद नहीं लाइक का अर... Read more
clicks 189 View   Vote 0 Like   4:35am 16 Nov 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* दूर की कौड़ी लाया आप के लिए यह लीजिये |* समझने की मैंने कोशिश तो की तो समझा भी  * हम आज हैं आज की लिखते हैं कल रहे तो - - |* गुलदस्ता है भेजा होगा उन्होंने जिन्होंने भेजा |* जैसा दिखतेवैसा वह हैं नहीं बहुत फर्क |... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   6:14pm 27 Aug 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
विनम्रता पूर्वक  मैं एक बात तय जानता हूँ [ चाहे इसका कोई  बुरा माने या भला , या कोई आरोप लगाये कि मैं तो भविष्यवाणी जैसा  बोल रहा हूँ, या फ़तवा दे रहा हूँ ]  कि यदि भारत में हिंदुत्व को दलितों को नहीं सौंपा  गया तो भारत में हिन्दू राज्य की स्थापना कभी भी नहीं हो पायेगी  | और यह ... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   9:13am 10 Jun 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
' प्रिय संपादक " [ 46167 /84 ] हिंदी मासिकयह शीर्षक मेरे पास १९८४ से रजिस्टर्ड है | पुराना दिनमान पढ़ते , उसमे लिखते (सीखते) मेरे मन में यह सनक सवार हो गयी कि लोकतंत्र में लोक की आवाज़ को मुखर करती हुयी संपादक के नाम पत्रों की एक पत्रिका चलायी जानी चाहिए / चल सकती है | सो मैंने यह शीर्... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   3:11pm 16 May 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
[हाइकु कविता ]इस तन में कुछ रखा नहीं है फिर भी पिले | #... Read more
clicks 212 View   Vote 0 Like   2:02pm 16 May 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
आंबेडकर कार्टून विवाद पर मैं इतना जोड़ने का लोभ संवरण नहीं कर पा रहा हूँ कि मैं तो हमेशा कहता रहा हूँ कि राज्य दलितों को दे दो | वही सवर्ण हिन्दुओं और मुसलमानों , सबका दिमाग दुरुस्त करेंगे / कर पाएंगे | दलितों के सम्प्रति विरोध का विरोध ज़रा अब वे मुसलमान और उनके हिमायती स... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   5:21pm 14 May 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
कार्टून विवाद में मैं इस बार नहीं पड़ूँगा । कुछ साल पहले भूलवश पड़ गया था । नतीजा , खास सेक्युलर मित्रों से हाथ गँवाना पड़ा ।... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   4:48am 14 May 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
[ कविता ]प्रश्न करके ही क्या पा जायँगे बच्चे जब हम उनको कुछ बताएँगे ही नहीं , उन्हें अपने अलावा और किसी का उत्तर स्वीकार नहीं |... Read more
clicks 202 View   Vote 0 Like   4:28am 14 May 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* लोकपाल लाओ , नहीं तो जाओ ।# तब , जब जाना ही है , तो लोकपाल क्यों लाओ ?... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   9:02am 9 Apr 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
ईश्वर , प्रेम और भविष्य का अस्तित्त्व नहीं है । आत्मा का भी तो अस्तित्त्व नहीं है । यदि अपनी कोई आत्मा बनायीं है , तब तो वह होगी । वरना आत्मा जैसी कोई चीज़ नहीं होती । इसी प्रकार देश ! क्या देश भी कहीं होता है ? या होना चाहिए ? बहुत से लोग मानते हैं कि धरती तो है , पर देश -प्रदेश ,... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   6:20pm 5 Apr 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* इतिहास में क्या किसी राज्य का राजा ऐसा हुआ है जिसकी सेना उसके अधीन न रही हो ?* चलो जनता को यह तो पता चल गया कि उसके देश की सेना चल - फिर सकती है । विश्वास हो गया की वह मार्च भी कर सकती है । जनरल वी के सिंह ने बिला वजह ही पी एम को चिट्ठी लिख कर देश को सकते में डाल दिया ।... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   5:44pm 5 Apr 2012 #Citizens' blog
Blogger: gchakravorty
* हमारी सेना कितनी शांतिप्रिय है यह भी तो देखिये । वह किसी दुश्म्सं देश से लड़ने में विश्वास नहीं रखती , वह अपनी सर्कार से ही लड़ - भिड़ कर अपनी ऊर्जा शांत कर लेती है ।... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   7:52am 5 Apr 2012 #Citizens' blog
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post