Hamarivani.com

इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक

क्या इस देश की सहिष्णुता को असहिष्णुता में बदलने  की कोई सोच समझी  साजिश तो नहीं ??भारत का मीडिया भारत की सहिष्णुता , स्वतन्त्रता का भरपूर आनंद ले रहा लगता है।  यदि भारतीय मीडिया की बात करे तो उसको देख कर लगता है इस देश के हालात  नर्क  से भी बदतर है।  कई बार यह लग...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :सहिष्णुता
  November 24, 2015, 1:06 pm
श्रीनगर मे फिर से अपवित्र कृत्य  शुक्रवार के दिन श्रीनगर मे अपवित्र कृत्य का द्रश्य फिर से देखने को मिला. दिल को दर्द हुआ . यह घिनौना कृत्य पाकिस्तान परस्त हिन्दुस्तानियो द्वारा किया गया, निंदनीय हैं . रह रहे हिन्दुस्तान मे, खा रहे हिन्दुस्तान का और राग अलाप रहे पाक...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  April 18, 2015, 2:17 pm
परिणय बंधन के पच्चीस वर्ष पुरे हो रहे है आज मेरी तृप्ती के संग।  समय कैसे गुजरा  मालूम ही नहीं चल पाया।  अभी भी यह लग रहा है की कल परसो की ही तो बात थी, मगर समयचक्र है की बता रहा है हमने पच्चीस वर्ष  वैवाहिक जीवन के पुरे कर लिए अपने अपने माता पिता के आशीर्वाद से।   अपन...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 10, 2014, 9:15 am
आज फिर जन्म दिन की घड़ी आई  शुभचिंतको ने दी बधाई आज सवेरे सवेरे  बजी टेलीफोन की घंटी मगर सुनाई न दी माँ की प्यार भरी आवाज आज नहीं पूछा माँ ने क्या है आज ?हर बार पूछती थी माँ आज के ही दिन आज नहीं कहा माँ  ने खा लेना मिठाई आज नहीं मिला माँ के मुख से आशीर्वचन आज नहीं पूछा माँ ...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  August 25, 2014, 11:08 am
"............."माँ"............."माँ- दुःख में सुख का एहसास है,माँ - हरपल मेरे आस पास है ।माँ- घर की आत्मा है,माँ- साक्षात् परमात्मा है ।माँ- आरती है,माँ- गीता है ।माँ- ठण्ड में गुनगुनी धूप है,माँ- उस रब का ही एक रूप है ।माँ- तपती धूप में साया है,माँ- आदि शक्ति महामाया है ।माँ- जीवन में प्रकाश है,मा...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  April 16, 2014, 7:56 pm
 तूने यह क्या किया हमें अकेला क्यों छोड़ दियामाँ तूने सब कष्ट झेले हमें उफ़ तक करने न दिया फिर आज हमें क्यों रोते  बिलखते छोड़ दिया घर सूना सूना है माँ बिन तेरे बबलू कह कर अब कौन पुकारे...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  April 14, 2014, 9:25 am
आप अब  चौराहे परदिल्ली की  जनता अब सोच रही होगी कि इतना प्यार देकर भी "आप"के चुनावी वादो को पूरा करने का स्वर्णिम मौका "आप"छोड़ना क्यों चाह रही हैं। दरअसल दिल्ली के दिलवालो  ने उम्मीद से ज्यादा  प्यार देकर "आप"को संकट में खड़ा कर दिया।अन्ना के पाक आंदोलन की &nbs...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 14, 2013, 8:44 pm
मेरी तृप्ति के लिए हमारे परिणय दिवस के शुभअवसर  पर .......इक लम्हा जो मेरी जिन्दगी में आया बचपन से हम संग संग थे किसने सोचा था हमसफ़र होंगे जिंदगी के कुछ पल गुजरे अकेले जीवन के उन लम्हों में भी तुम ही तो थी खयालो में मेरे लिए ही तो उसने बनाया  तुम्हेइक लम्हा जो ...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 10, 2013, 5:17 pm
कर नाटक - कर्नाटक  का जलवा भ्रस्टाचार  की खबर अब रोजमर्रा की आवश्यकता हो गई लगती है. भ्रस्टाचार भी तो  तब होता है जब सत्ता सुख मिलता है। केंद्र में यू पी ए  सत्ता सुख भोग रही है तो कर्नाटक में भाजपा ने पहले सुख भोगा  और अब वनवास की और चल पडे . कांग्रेस जनता को सर आँख...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  May 10, 2013, 8:42 am
पहले दामिनी फिर गुडिया ........ आज संसद का बजट सत्र फिर से शुरू होने वाला है हंगामे की स्टोरी अब टी वी पर खूब चलेगी . वक्तव्यों की बहार आएगी। हर बार  की तरह फिर दोषारोपण होगा. पहले दामिनी फिर गुडिया पर हैवानियत का हमला हुआ। दामिनी ने देश को एक मुद्दे पर चेतन किया .इस ब...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  April 22, 2013, 10:40 am
...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  April 10, 2013, 11:05 pm
युगाब्द 5115 सम्वत 2070चैत्र शुक्ल प्रतिपदा !!! सुस्वागतम नववर्ष !!!करे नववर्ष का अभिनन्दनकरे नववर्ष की नई  शुरुआतउगते सूरज से नया होगा उजियारा कोंपल नई  खिलेगी आशा की नई किरण चमकेगी करे नववर्ष का अभिनन्दनकरे नववर्ष की नई  शुरुआत नई  उमंग,तरंग से भरे जीवन अपना नई  ऊर्जा से भर...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  April 10, 2013, 11:00 pm
राजनीति का राज खलनायक का  साथ देकर अब सब राजनीति के नायक बनना चाह  रहे है कई नेता . राजनीति का राज आज तक तक कोई समझा है  भला ? नीति  को तो दूर तलक कोई लेना देना है ही नहीं राजनीति में . राजनीति के राज में मूल जनता ही है मगर जनता को तो भनक ही नहीं  लग पाती  की उसके लिए ही सब कुछ ह...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  March 25, 2013, 10:33 am
कैसे खेलुमैं होली किसके संग  खेलु  होली ?कौनसे रंगों से खेलु मैं होली ? फिर होली का त्यौहार सामने नज़र आने लगा है . मन है कि  मान ही नहीं रहा है . जरा भी इच्छा नहीं है किसी को बदरंग करने की और होगा भी कैसे आम इन्सान भला कैसे किसी को बदरंग कर सकता है वो तो खुद बदरंग होने को बना ...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  March 20, 2013, 9:44 am
चिंतन शिविर से गृहमंत्री का चिंतन बाहर आया -- प्रफुल्ल मेहता कांग्रेस के चिंतन शिविर में देश के गृह मंत्री का चिंतन बाहर  आया भारत के गृहमंत्री का चिंतन बाहर आ ही गया . हिन्दू आतंकवाद की चिंता कर रहे थे जयपुर में। सही भी है तुष्टिकरण की बुनियाद पर टिकी पार्टी के होने क...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  January 22, 2013, 9:34 am
पाक की नापाक हरकत- कब तक सहन करनी होगी ?प्रफुल्ल मेहताखबरजब पढ़ी तो रूह कांप उठी। न घर की चिंता न खुद की चिंता, सिर्फ देश की 24 घंटे रक्षा सिर्फ यही एक जज्बा हैं हमारे जवानो का। हमारे जवानो की न्रशंसहत्या कर उनका मस्तक ले गए . मस्तक सिर्फ उनका नहीं हर हिंदुस्तानी काप्रतीक था...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  January 9, 2013, 1:04 pm
मिडिया इण्डिया का हैमिडिया भारत का बने व्यर्थ विवाद  आखिर क्या चाहती है मीडिया ?क्यों स्वयं अपनी विश्वनीयता खोने में लगी है मीडिया ? भ्रमके सहारे टी आर पी (TRP) बढ़ाने में लगे मीडिया पर कौन यकीन करता है ? दिनभर एक ही झूट को बार बार दिखला कर सच में बदलने का कुत्सित प्रय...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  January 8, 2013, 9:44 am
बिटिया  देश को जगाकर सो गई माँ की लाडली हमेशा के लिए खो गई युवाओं  ने भी ली है अब अंगड़ाई तय कर बैठे है की लड़ेंगे हक़ की लड़ाई मौत तेरी यह व्यर्थ अब न  जायेगी हुक्मरानों से जनता अब हिसाब मांगेगी सुधर जाओ समझ जाओ सत्ता के ठेकेदारों देख के यह हालात  देश अब उठ खड़ा है युवा देश का...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 29, 2012, 12:06 pm
दूसरा एंगल - युवा शक्ति जाग उठी है - नेताओ समझ लो जान लो बलात्कार की राजधानी माफ़ करना देश की राजधानी दिल्ली में युवा शक्ति  ने स्वचेतन हो जिस तरह से अमानवीय शर्मनाक घटना के विरोध में सुबह से एकत्रित होना शुरू किया तो उनके संग हर उम्र का जुड़ना शुरू हो गया।दुखद शर्मनाक घ...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 22, 2012, 7:41 pm
 तृप्ती  के संग परिणय बंधन दिवस के शुभावसर पर समर्पित हसीन सपने संजोये जो हमने खुदा ने तुम्हे हकीकत बना भेजा जी रहे थे हम पतझर में जैसे तैसेतुम्हे फूलों  का गुलिस्ता बना भेजा हवा के झोंके भी कहाँ  थे, लगा  कि  अब दम निकलेगा उसने तो तुम्हे मधुर बहार बना भेजा जीने की ललक भी ...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 10, 2012, 8:29 am
उल्लू तुम वाकई उल्लू ही हो मैं मुगालते में था  कि रात तुम्हे फुटपाथ पर सोते आदमी दिखते  होंगे मुझे लगता था की रात को भूखे पेट  बिलखते बच्चे नज़र आते होंगे मैं सोचता था कि रात तुझे करवट बदलती माँ नज़र आती होगी मुझे लगता था कि रात बारिश को तकते किसान नज़र आते होंगे मुझ...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  November 13, 2012, 11:17 am
हमें इंतजार तो था आपका, राह  देख रहे थे हम राह से गुजरे कई लोग उनमे आपको  ढूंढ़ रहे थे हमशाम जो  ढलने लगी पंछी भी घरोंदे की और उड़ने लगे हम तो राह  में ही अटके और दुसरे अब हमें घूरने लगेदिन में ही  इतने तन्हा थे हम की रात से डर  लगने लगाबिस्तर की सिलवटो का ख्याल अब दिल में आने ल...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  November 2, 2012, 11:46 am
जंतर मंतर से चला आन्दोलन हुआ छु मंतर              अगस्त - क्रांति का या भ्रान्ति का ?किधर है हम और कहा जा रहे है ? मंजिल तय नहीं बढे जा रहे है भीड़ के नेता का तो है ठिकाना आज इस भीड़ को छोड़कल नई इक्कठा करने का है अच्छा खासा तजुर्बा भीड़ का हिस्सा न बन नासमझ बबलूतू पीछे रह जायेग...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  August 7, 2012, 10:13 am
इस माह कई घटनाये घट ही गई या यूँ कहे की कुछ ऐसा किया की यह घटनी  ही थी. प्रणव दा का महामहिम बनना तय था बन गए. बधाई! शरद पवार जी ने अपना काम करवा ही लिया होना भी था कुछ कदम तुम बढ़ो कुछ हम बढे देश आगे बढे न बढे. अन्ना फिर शुरू कर गए अपनी मुहीम. होना क्या होगा खुद टीम को पता नहीं. आसा...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  July 31, 2012, 9:42 am
सही तो कहा हैं किसी ने  मेरे लिए मुझे हर चीज बे मांगे  मिली है ,  तलब वालो से बेहतर रहा हूँ मैं हर पल हर क्षण मेरी हर सांस है संग तुम्हारेजिंदगी का सफर जिए जा रहा हूँ  संग  तुम्हारे शब्दों में नहीं बांध सकता प्यार तुम्हाराखुदा है मेहरबां कि जिंदगी में साथ है तुम्हारा तुम्ह...
इक बात मेरे दिल की आपके दिल तक...
Tag :
  December 10, 2011, 11:12 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3685) कुल पोस्ट (167832)