POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: खामोश ख्याल

Blogger: ujjawal trivedi
ये बेचैनी हमेजीने नही देगीऔर बेचैनी चली गईतो शायद हम ही ना जी पायेतेरे इश्क मे सुकून कभी मिला ही नहीबे-आरामी मे रहने की ये आदतहमने किसी शौक से नही डालीथोडी आदत बदलता भी हूंतो फिर तेरा ख्याल आ जाता हैबेचैन करने के लियेतुम्हारी वो इक नज़र ही काफी थीये बाकी के इन्तज़ाम तो ... Read more
clicks 128 View   Vote 0 Like   9:35am 21 Nov 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
उस नज़र की तलाशउस नज़र पे जाकर खत्म होगीकि जंहा से ये नज़र उठानाहमें मंजूर ना होगाना मिली वो नज़रतो नज़र दर नज़रये सिलसिले तमामउमर भर यूं ही चला करेगे।... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   9:25am 21 Nov 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
अब तो याद ही नही हैकि कैसे जीते थे हमकुछ आदते ये ही भुला देती हैकि उनके बिना लगता कैसा था।... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   9:23am 21 Nov 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
बेवजह ही सहीअपनी वो नज़र दे देकि जीने के लियेकुछ बहानेझूठे ही सहीपर जरूरी होते है।... Read more
clicks 97 View   Vote 0 Like   9:21am 21 Nov 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
पहले से पता होता तोकुछ इंतज़ाम कर भी लेतेअब तीर निकाल भी देंतो क्या ?ये गम क्या कम हैकि तेरे निशाने पेकभी हम भी थे... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   9:09am 21 Nov 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
तेरी आँखो मे ऐसे डूबे हैकि अब तक उबरे ही नहीकुछ बीमारियां उमर भर की होती हैफिक्र तो उस दिन की हैजिस दिन ये जां जायेगीये बीमारियां क्या मरने के बादसाथ नही जाती?... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   9:05am 21 Nov 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
वो तेरी खुमारी का ही था असर जोताउम्र रहावरना मयखानो से तो कई बार गुज़रा हूं मैपहली बार इतने भीतर तक उतरी हैवरना तस्वीरे तो कई और भी देखी हमनेवो तेरे चेहरे का ही नूर था जो हमे रोशन कर गयावरना चांद रातें तो कई बार देखी हमनेइतने भीतर तक उतरने की साजिश थी तुम्हारीवरना सिर्फ... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   11:43am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
वो जो मेरे हिस्से का आसमां तुमने चुरा लिया थाउसे कुछ वक्त के लिये वापस चाहता हूं मैबहुत दिनो से चांद देखने की मेरी ख्वाहिश अधूरी हैकुछ हसरते बाकी रह जाये जीने मेंतो मज़ा और ही हैये क्या कि दीदार-ए-यार के मरीज़ बन गयेकभी वादा करके जो वो ना आये तोउसका  इंतज़ार तो कुछऔर ह... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   11:24am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
बहुत रश्क होता हैहमे उनके झुमके सेकमबख्त घंटे मेंहज़ार दफेउनके गालो को छू जाता हैतुम्हारी आँखो मे बार बारडूबकर मरना चाहते हैबस यही खता  बार बारकरने को जी चाहता है... Read more
clicks 85 View   Vote 0 Like   11:08am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
जानते है लाइलाज है पर क्या करेतुम्हारे सिर पर ये इल्ज़ाम भी तो अच्छा नही लगताइसीलिये दवा के बहाने ही सहीदर्द को हम घूंट घूंट पिये जा रहे हैमुलाकात से पहले ही मालुम थाये इल्ज़ाम लगने वाला हैइसीलिये यारो ये  गुनाह हमखुद-ब-खुद कर बैठे... Read more
clicks 77 View   Vote 0 Like   11:03am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
क़ीमत का सही अंदाज़ा लगाना हो तोकभी बेमौसम होकर देखनासर्दी मे आम बहुत महँगेबिका करते हैबहार जब हर दम रहे तोबेदम हो जाती हैये मौसमों का सिलसिलाकिसी ने यूँ ही नही बनाया है... Read more
clicks 102 View   Vote 0 Like   11:01am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
वो तो बस बेइरादा निकले थे घर सेना जाने क्यों कई क़त्लों का इल्ज़ाम उनके सिर आ गयाना जाने कितनों को बेमौत मार डालाआज वो बेमौके छत पे जो आ गयेकुछ इस क़दर मैंने चाहा है उनकोमानो कोई पुराना क़र्ज़ चुकाने की कोशिश की हैहिसाब बराबर करने का इरादा नही है मेराये क़र्ज़ तो बार बा... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   10:48am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
मै ना होता मैउनका आइना ही हो जातासँवरने के बहाने सहीउन्हें मेरी याद तो आतीकुछ शामें उधार हैइस शहर कीवो चुकाने आया हूँमै तेरे शहर मेइसी बहाने आया हूँ... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   10:45am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
वो तेरा ख्याल ही है जो खूबसूरती ले आता हैवरना बाज़ारो मे लाली तो कब से बिका करती हैये कमबख़्त अल्फाज़ अक्सर बिगाड़ देते हैखूबसूरती जज़्बात कीकलम को दिल से यूं मुकाबिल ना करकलम से एहसासो को यूं बयां ना करये शौक तो आँखो के हिस्से आने दे... Read more
clicks 104 View   Vote 0 Like   10:44am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
वो तेरे चेहरे का ही नूर थाजो हमें रोशन कर गयावरना चाँद रातें तो कई बार देखी हमनेइतने भीतर तक उतरने की साज़िश थी तुम्हारीवरना सिर्फ मुलाक़ात के बहानेकोई इस क़दर नही मिलता... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   10:42am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
वो तेरे चेहरे का ही नूर थाजो हमें रोशन कर गयावरना चाँद रातें तो कई बार देखी हमनेइतने भीतर तक उतरने की साज़िश थी तुम्हारीवरना सिर्फ मुलाक़ात के बहानेकोई इस क़दर नही मिलता... Read more
clicks 81 View   Vote 0 Like   10:42am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
उस धागे मे अब भी बाकी हैतुम्हारे लबो की थोडी सी नमीमेरी शर्ट में बटन टांकते वक्त जिसेझटके से खींच दिया था तुमनेजब भी याद आती है उसपे नज़रचली जाती हैनिशानिया छोड़ने की आदत तोहमेशा से रही है तुम्हारी... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   10:40am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
उस धागे मे अब भी बाकी हैतुम्हारे लबो की थोडी सी नमीमेरी शर्ट में बटन टांकते वक्त जिसेझटके से खींच दिया था तुमनेजब भी याद आती है उसपे नज़रचली जाती हैनिशानिया छोड़ने की आदत तोहमेशा से रही है तुम्हारी... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   10:40am 16 Oct 2017 #
Blogger: ujjawal trivedi
जिस अखबार पर जलेबी रख केखिलाई थी तुमनेवो टुकड़ा अब भी तुम्हारीउंगलियो की चाशनी से भीगा पड़ा हैना रद्दी मे बेच सकते है उसेना उमर भर वो हमसे संभाला जायेगा... Read more
clicks 113 View   Vote 0 Like   10:37am 16 Oct 2017 #
clicks 148 View   Vote 0 Like   4:48am 2 Jul 2015 #
Blogger: ujjawal trivedi
जिया ने जिस गम को जियाजिस दुख ने बुझा दियाउसकी जिंन्दगी का दियासच तो ये है कि उस गम कोअकेली जिया ही नहीकई और लोगोने भी जियाजरूरत से ज्यादा औरउम्मीद से चार गुनापाने की ख्वाहिश मेंजो भी जियाउसने कुछ ऐसा हीकड़वा घूँट पियामेले के बीचजो भी खुद को अकेला समझकर जियाउनने बाद म... Read more
clicks 198 View   Vote 0 Like   2:15pm 7 Jun 2013 #
Blogger: ujjawal trivedi
मेरी बिल्डिंगके फ्लैट्सकी खाली पड़ीखिड़कियों को देखकरबार बार ये ख्यालआता है कि एक दो हरे पेड़-पौधेका गमला रखने मेंइनके बाप का क्याजाता हैमैं तो करता हूअपनी खिड़की मेंरखे पौधौ से अक्सरयही बातेंकि कर के बहाना कम जगह काबड़े शहर वालो नेतोड़ ही लिये हैहरियाली से अपने ... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   10:06am 1 Nov 2012 #
Blogger: ujjawal trivedi
आजादी के 65 साल बाददूर हुआ कन्फ्यूज़नकि  भारत सरकार का गृहमंत्रालयमहात्मा गांधी को राष्ट्र पिता नही मानतातो फिर पहला सवाल किवित्त मंत्रालय हर सालहरे लाल नोटो पर उनकी फोटो क्यों है छापतागर नहीं है महात्मा गांधी इस देश के राष्ट्रपितातो फिर कौन है इस देशका राष्ट्रपि... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   10:25am 26 Oct 2012 #
Blogger: ujjawal trivedi
लो आ गयाएक और घोटालाइस बार तो किसी न्यूज़ चैनलके संपादक ने ही अपना मुंहकाला कर डालासंपादक जी ने खेल खेलाबोले कोयले केघोटाले की खबरेहम अपने चैनल पर नहीं चलायेगेअगर आप हमारेबैंक खाते मे100 करोड़ डलवायेगेमन्त्री जी को मौकाअच्छा लगासोचाअभी तो रहा है ये दहाड.क्या करेगा ज... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   10:34am 25 Oct 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post