POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: गुज़ारिश

Blogger: सरिता भाटिया
माएँ हमेशा अपनी मर्जी चलाती हैंअपने बच्चों को दुखों से बचाती हैंरातों रात जागती हैं ..पानी कहीं चला नही जायेसोचते सोचते जल्दी उठ जाती हैंदुर्गा जैसे अष्ट भुजाओं से काम निपटाती हैंएक हाथ से पानी भरती है ,सब्जी बनाती हैंआटा गूँथती हैंबच्चों को जगाती हैंतभी तो माँ ... माँ ... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   10:46am 12 May 2019 #माँ
Blogger: सरिता भाटिया
मुक्तक रावण पुतले गली गली में ,कब तक यूंही लगाओगेहर काम ,काज ,व्यवहार में रावण कैसे इन्हें मिटाओगेभस्म करो अंतसका रावण , विजयादशमी होगी तबद्वेष,बुराई ,दंभ का रावण जब तुम रोज जलाओगे।।19 अक्टूबर, 2018 ... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   7:14am 19 Oct 2018 #उत्सव
Blogger: सरिता भाटिया
सबसे सुंदर देश हमारा,विश्व को यह बतलाना है।हाथ मिलाकर बढ़ो साथियों,भारत स्वच्छ बनाना है।सोच बदलने देश बदलने एक मसीहा आया हैछोड़ गंदगी शुचिता धारो,यह हमको समझाया हैमातृभूमि को जन्नत करने,यह अभियान चलाना हैहाथ मिलाकर ...खुद समझो सबको समझाओ महत्ता कूड़ा दान कीप्रबंधन से ख... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   10:59am 10 Jul 2018 #कागज
Blogger: सरिता भाटिया
झरती किरणों से सुधा, शरद पूर्णिमा रात।शरदोत्सव ले आ गया,ऊर्जा की सौगात।।ऊर्जा की सौगात, शरद चाँद स्वच्छ लायेरखो रात में खीर , दिव्य औषध बन जायेसरिता मिटते रोग,शक्ति ,धन, सेहत मिलती।धवल चाँद,आकाश,सुधा किरणों से झरती ।।... Read more
clicks 71 View   Vote 0 Like   5:02pm 5 Oct 2017 #उत्सव
Blogger: सरिता भाटिया
आया उत्सव विजय का,विजयादशमी नाम।आज दशानन मार कर ,बोलो जय श्री राम।।बोलो जय श्री राम , हार कर चली बुराई महिषासुर को मार,आज जीती अच्छाई काम,क्रोध,मद, लोभ,अहम को अगर जलाया।सरिता उस दिन मान,विजय उत्सव है आया।।असली रावण मार कर ,मनुज स्वयं को जीत वचन निभाओ प्राण दे, लाओ रघ... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   1:50pm 30 Sep 2017 #कुण्डलिया
Blogger: सरिता भाटिया
चम चम अष्टम रूप है, कर लो माँ का ध्यान।उज्ज्वल मंगलदायिनी ,देती माँ वरदानदेती माँ वरदान ,महागौरी रूप धवलशिवा,शाम्भवी नाम,गौर वर्ण पूरण नवल माँ के हाथ त्रिशूल,बजे है डमरू डम डम सरिता छाया ओज,चेहरा चमके चम चम ।।... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   12:04am 28 Sep 2017 #अष्टमी
Blogger: सरिता भाटिया
काली माँ है सातवाँ, दुर्गा जी का रूप।शुभंकरी फलदायिनी ,इसका रूप अनूपइसका रूप अनूप, विकट कालरात्रि माईधनुष ,चक्र,गदा,बाण,केश फैलाकर आईकृष्णा ,काली और , नाम त्रिनेत्री करालीगर्दव हुई सवार ,पधारी निर्भय काली।।... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   12:00am 28 Sep 2017 #कालरात्रि
Blogger: सरिता भाटिया
ध्याते षष्ठम रूप को ,देती है माँ शक्ति।कल्याणी कात्यायनी,कर लो माँ की भक्ति।।कर लो माँ की भक्ति,मनोवांछित है मिलता एक हाथ तलवार,कमल दूजे में खिलतामिट जाते संताप ,शरण माँ की जो आतेमाँ का स्वर्ण समान, रूप जो सरिता ध्याते।।... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   11:56pm 27 Sep 2017 #कात्यायनी
Blogger: सरिता भाटिया
कहें स्कन्दमाता जिसे,पंचम रूप/दिवस अनूप कर लो इसकी अर्चना, दिव्य अलौकिक रूपदिव्य अलौकिक रूप, सदा माँ है सुखदायीगोद लिए माँ स्कन्द ,चतुर्भुजवह फलदायीमिले मोक्ष का द्वार ,मनुज मनवांछित पाता सरिता गौरी रूप,भक्त कहें स्कन्दमाता।।... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   11:52pm 27 Sep 2017 #कुण्डलिया
Blogger: सरिता भाटिया
साधक करते साधना ,होते सफल प्रयास।कूष्मांडा देवी करे, पूर्ण मनुज हर आस।।पूर्ण मनुज हर आस, करे अष्टभुजा मैया होकर सिंह सवार, पार करती माँ नैया सरिता माँ के भक्त,नहीं विपदा से डरते रोग ,कष्ट से मुक्त,साधना साधक करते ||... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   9:37am 25 Sep 2017 #कुण्डलिया
Blogger: सरिता भाटिया
मैया तेरा तीसरा ,उज्ज्वल है अवतार।अर्ध चंद्र माथे सजा, घंटे का आकार।घंटे का आकार,  चंद्रघंटा कहलायेअस्त्र शस्त्र दस हाथ,पुष्प उज्ज्वल अति भायेमाँ से पा लो शांति,करो मत तेरा मेरा सरिता करे अर्पण,  दिया जो मैया तेरा।।... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   1:02am 25 Sep 2017 #कुण्डलिया
Blogger: सरिता भाटिया
मैया जी का दूसरा, ब्रह्मचारिणी रूप।यह है तप की चारिणी,माँ का रूप अनूप।।माँ का रूप अनूप ,बनी शिव की वो हालालिये कमंडल वाम, हाथ दायें में मालातप संयम लो सीख, पार हो सरिता नैयापूर्ण करे नवरात्रि , मुरादें दुर्गा मैया।।... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   6:25am 24 Sep 2017 #कुण्डलिया
Blogger: सरिता भाटिया
अम्बे माँ का प्रथम दिन ,लाया शुभ आगाज।रूप शैलपुत्री धरा, कर मैया पर नाज।।कर मैया पर नाज, वृषभ वाहन बन आयादायें हस्त त्रिशूल,कमल बायें अपनायाउज्ज्वल शांति प्रतीक,विराजो माँ जगदम्बेसरिता अविचल ज्ञान, सदा लाये माँ अम्बे ।।... Read more
clicks 75 View   Vote 0 Like   6:49pm 23 Sep 2017 #छंद
Blogger: सरिता भाटिया
कर लो माँ की अर्चना, अश्विन का है मास।आये फिर नवरात्र हैं,शुरू हुए उपवास।।शुरू हुए उपवास, द्वार मैया के जाओकरे मुरादें पूर्ण, झोलियाँ भर के लाओलो चरणों की धूल, ध्यान मैया का धर लोरखकर शुभ उपवास, अर्चना सरिता कर लो ।।                   . . . 22सितंबर,2017... Read more
clicks 61 View   Vote 0 Like   6:44pm 23 Sep 2017 #उत्सव
Blogger: सरिता भाटिया
राखी कह या श्रावणी, पावन यह त्योहार।कच्चे धागों से बँधा ,भाई बहन का प्यार।।थाली लेकर शगुन की,बहन सजाये भोर।रोली से टीका किया, बाँधी रेशम डोर।।रेशम की ये डोरियाँ , कच्चे धागे चार।सच्चा रिश्ता प्रीत का, निश्छल पावन प्यार।।धागे कच्चे हैं मगर, लेकिन पक्की प्रीत।बहना से भा... Read more
clicks 69 View   Vote 0 Like   11:48am 7 Aug 2017 #छंद
Blogger: सरिता भाटिया
गुरु पूर्णिमा 9 जुलाई, 2017शुक्ल पक्ष आषाढ़ का,गुरु पूजा दिन खास।लाई है गुरु पूर्णिमा,श्रद्धा और विश्वास।।देकर गुरु को दक्षिणा,सदा निभाओ प्रीत।जीवन के गुर जान कर, बनना सच्चे मीत।।नमन करो हर रोज ही,जो गुरु मानो आप।गुरु की महिमा जान लो ,गुरु दूजे माँ,बाप।।जन्म दिया माँ बाप न... Read more
clicks 68 View   Vote 0 Like   10:02am 9 Jul 2017 #गुरु पूर्णिमा
Blogger: सरिता भाटिया
किया बुढ़ापे के लिये, सुत लाठी तैयार।बहू उसे लेकर गई, बूढ़े ताकें द्वार।।बहू किसी की है सुता, भूले क्यों संसार।गेह पराये आ गई ,करो उसे स्वीकार।।किया बुढ़ापे के लिये, बेटा सदा निवेश।पर धन बेटी साथ दे , बेटा गया विदेश।।बहू अगर माँ मान ले ,बोझ लगे ना सास।घुलमिल ही परिवार में ,र... Read more
clicks 67 View   Vote 0 Like   11:47am 2 Jul 2017 #दोहे
Blogger: सरिता भाटिया
उठना जल्दी जागना ,रहना अगर निरोग।करते रहना रोज ही ,योग योग तुम योग।।भारत ने जो दे दिया ,सकल विश्व को योग।अब पीछे चलने लगे, दुनिया भर के लोग।।सुबह शाम करते अगर, नित्य लग्न से योग।रहते हैं तब स्वस्थ हम , दूर भागते रोग।।अपनाओ अब योग को, सब जन देश विदेश।होगा नव निर्माण औ,सुधरे... Read more
clicks 100 View   Vote 0 Like   4:56am 21 Jun 2017 #
Blogger: सरिता भाटिया
डोली तो उठी थीदोनों की हीचार कंधों पर सवारफूलों से लदीलाल जोड़े में सजीसोलह श्रृंगार कियेफर्क बस इतना सा था ...एक अपनी दुनिया मे आ रही थीएक अपनी दुनिया से जा रही थीएक विदा हो रही थीएक अलविदा हो रही थी ... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   5:06pm 7 Jun 2017 #डोली
Blogger: सरिता भाटिया
सरिता मेरा नाम है ,बढ़ती हूँ निष्काम।मोदी की जय बोल दो , बोलो जय श्री राम।।जो गी रा सा रा रालाया है होली मिलन, खुशियाँ आज विशेषअभिनन्दन है भाजपा, शुभकामना अशेष।।जो गी रा सा रा राख़ुशी हुई है दोगुनी, होली के दिन ख़ास।अच्छे दिन लो आ गए, बढ़ा आज विश्वास।।जो गी रा सा रा राचूर चूर स... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   1:57am 12 Mar 2017 #
Blogger: सरिता भाटिया
याद है मुझे वो लम्हा जब वो बढ़ चला था जिंदगी की पगडंडियों पर पाने को अपना अंतिम लक्ष्य मैं देख रही थी सुनहरे सपनेउसके साथ जीने के मकसद तो एक ही था जीवन से मृत्यु का मिलन लेकिनवो बहुत आगे निकल गयामुझसे बिछुड़कर यही था मिलन                           &nb... Read more
clicks 87 View   Vote 0 Like   1:02pm 10 Dec 2016 #जीत
Blogger: सरिता भाटिया
जन्मदिवस शुभकामना, देता है परिवार।चाचा, दादा ,माँ ,भुआ ,सभी लुटायें प्यार।।आई है शुभ अष्टमी ,और जन्मदिन आज ।रहे सदा ही आपका,हर पल शुभ आगाज|| सुनो हमारे लाड़ले ,सुनना देकर ध्यान।जो करता सबका भला,उसको मिलता मान||बनो सदा अभिषेक तुम,बनो सदा सम्मान।रहो सदा परिवार की,शान, बान, अ... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   10:24am 9 Oct 2016 #जन्मदिन
Blogger: सरिता भाटिया
यह वक्त.. ये दिन ... ये रात.... गुजर तो रहे हैं लेकिन गुजारे नहीं जाते ........ तुम्हारे बिन...मैं यहाँ तू वहाँ, फासले दरमियाँआती जाती पवन ,कह रही दास्ताँ |गुजरती ही नहीं, तेरे बिन जिंदगी इस जहाँ से परे ,बस गए तुम कहाँ |ढूँढती है नजर, हरसू बेचैन सीकुछ कहूँ चुप रहूँ, खो गया हमनवाँ |सुल... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   9:13am 3 Sep 2016 #गजल
Blogger: सरिता भाटिया
कहती बहना वीर से , ह्रदय रखो ना खोट जल्दी लगवाओ तिलक, और दिखाओ नोट |और दिखाओ नोट, फ़ोन है लेना भैया व्हाट्सएप्प उसमें चले ,पार लगे तभी नैया चैट करें सब दोस्त , देखती उनको रहती भैया सुनो गुहार ,प्यार से बहना कहती |कच्चा धागा प्रेम का ,लाया पक्की प्रीत टीका करती है बहन ,... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   8:28am 24 Aug 2016 #कुण्डलिया
Blogger: सरिता भाटिया
छुट्टी ले भाई गया ,राखी का त्यौहार भाई बहना हैं मिले, निश्चल पावन प्यार |कैसे भला निभा सके, राखी का त्यौहार छूट गई है नौकरी ,महँगाई की मार |राखी का त्यौहार है, सजे हुए बाजार बहना धागा बाँधती ,भाई करे दुलार ||रंग बिरंगी राखियाँ ,कहती सदा पुकार कच्चे धागों में बंधा ,निश... Read more
clicks 106 View   Vote 0 Like   7:35am 17 Aug 2016 #दोहे
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post