Hamarivani.com

मैं और मेरी दुनिया

कभी पढी है- नदी की लिपि?सुनी है उसकी भाषा?सुना है उसके कलकल-छलछल की बदलती जाती आवाज़?उदास, शांत होती धाराओं को देखा कभी? समझा कभी- उसके भाव,उसके संकेत,उसकी ममता,उसकी करुणा.... नहीं कभी नहीं जाना तो... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  April 5, 2018, 8:34 pm
भ्रम का बने रहना जरुरी है भ्रम कि चाँद सुन्दर है भ्रम कि सूरज उगता है भ्रम कि उम्र बीतने पर दर्द कमता जाता है भ्रम कि दुःख बांटने से बंटता-छंटता जाता है भ्रम कि ईश्वर है भ्रम कि कर्ताधर्ता भी वही... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  January 21, 2018, 9:03 pm
माई बीमार थी... अब-तब की बात थी... बड़कावाले अस्पताल में भर्ती कराया गया पांच हज़ार खर्चा हुआ... बहुत दौड़-भाग हुआ... दिन-रात का सेवा हुआ... भाग था कि बच गयी... बची साँसे मिल गईं नहीं तो भारी आफत था... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  January 21, 2018, 9:02 pm
घने कुहासों में जब कुछ नहीं सूझता जब पेड़ मौन साये से बन जाते है दिन सहमा-सिकुडा बेरौशन सा जब 'जीवन' जी लेने की जद्दोजहद में लगा होता है बर्फ होती साँसों को बचाए रखने की कोशिशें करता है जब सफ़ेद... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  January 21, 2018, 8:49 pm
शाहरुख खान से मेरा प्रेम लव ऐट फर्स्ट साइट तो बिलकुल नहीं था...डी डी एल जे देख लिया था कई और मूवी भी आई... फिर आया मौसम 'कुछ कुछ होता है' का... तब पटना में रहा करते थे..एक चुलबुली सी दोस्त थी सुमन... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  November 2, 2017, 1:42 pm
कोई-कोई इंसान अंदर से खाली होता है या खुद में किसी चीज की कमी महसूस करता है...तो उसे उजागर होने देने से बचने के लिए एक झूठ ओढ़े रहता है ...यह आवरण ही उसके दंभी होने का आभास देता है...हालांकि वह वास्तव... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  October 22, 2017, 12:16 pm
ट्रुथ एंड डेयर लगभग सबने खेला होगा... तब बचपन था और बचपना भी... जीवन में मुद्दे ही कम थे... जो थे उनमे झूठ बोलने की गुंजाइश भी कम थी ...इसलिए ट्रुथ सुनना बेमज़ा सी बात थी... तो चुन लिया जाता था... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  October 9, 2017, 3:52 pm
नाम है संजय गांधी जैविक उद्यान.... सच में ये एक वृहत बागीचा ही है...या फिर एक छोटा सा जंगल.... पटना की साँसे इसी से चलती हैं....ये न हो तो इस प्राचीन नगर का दम घुट जाएगा...पक्का.. अंदर एक चिड़ियाघर... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :पटना
  October 6, 2017, 4:45 pm
बहुत रोई थी उस दिन घर आकर, जब जूलॉजी (इंटर) के क्लास में बेंच पर किसी ने लिख दिया था लव यु स्वयम्बरा....सहपाठियों (लड़कियों ने ही) ने दिखाया...फिर कलम से स्याही गिराकर उसे पोत दिया ताकि मेरी बदनामी(?)... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  September 3, 2017, 11:36 pm
दूर से देखो चाँद कितना सुन्दर.... पास जाओ तो पर्वतों, क्रेटरों, चट्टानों से भरा एकदम निर्जीव, एकदम निस्पंद कि सारे अहसासों, कल्पनाओं का 'दी एन्ड' हो जाए इसलिए कुछ दूरी जरुरी ताकि भ्रम बना... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  August 30, 2017, 11:05 pm
बहुत गहरी है आँखे एकदम तीक्ष्ण, बेधती सी जैसे सारे राज एकबारगी ही जान लेंगी मन का कोना-कोना छान लेंगी बचना चाहती हूँ अक्सर कस कर लपेट लेती हूँ खुद को आँखें मूँद लेती हूँ कानों को ढांप लेती हूँ होंठों... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  August 22, 2017, 11:26 pm
जिंदगी सबसे बड़ी चीज़ है....बाकि सब इसके बाद... तो कोई यूँ ही नहीं आत्महत्या कर लेता... ये बस आख़री दांव होता है ....सारे दुःखों से निजात पाने का....उस इंसान को पलायनवादी, स्वार्थी मानकर भर्त्सना की जा... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  August 18, 2017, 1:50 pm
जिंदगी मेरी यारा न हो उदास ऐसे भी रंग भरेंगे तुझ में भी पल भर का इन्तजार है बस देख न बूंदें बरस चुकी हैं धरा भी तृप्त हो चुकी है खुशबु घुल रही हवाओं में इंद्रधनुषी रंगत छा चुकी है --स्वयंबरा [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  July 25, 2017, 9:43 pm
बड़ा बोरिंग होता है प्लेन से यात्रा करना...एकदमे असामाजिक टाइप... न चाय गरम, गरम चाय की मधुर आवाज़... न मूंगफली बेचनेवालों की पुकार...चढ़ने-उतरने की धक्कम-धक्का भी नहीं...और तो और दुनिया भर की... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 26, 2017, 4:01 pm
क्रिकेट इतना नहीं पसंद कि बेचैन रहूँ देखने के लिए...पर इसके बारे में जानना रुचिकर लगा कि कोलोनाईजेशन के दौर में यह जेंटलमैन गेम आखिर इंग्लैण्ड से भारत कैसे आया...कैसे इसका विकास हुआ.. इंग्लैंड, जहां... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 26, 2017, 3:58 pm

बढ़ चले हैं रुकेंगे नहीं कभी साथ दो, न दो --स्वयंबरा [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 26, 2017, 3:37 pm
दिल्ली के लगभग हर मोहल्ले घर में कबूतरों का बसेरा है ....आज बालकनी में खड़ी थी.. कबूतरों के झुण्ड पास वाले कई छतों पर बैठे थे.. कुछ इधर-इधर मंडरा रहे थे ...कुछ दाने चुग रहे थे...कुछ आपस में खेल रहे... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 26, 2017, 3:20 pm
वो दिन गर्मियों के थे। लू चलने लगी थी। मीठे-मीठे आम मिलने लगे थे । स्कूल की छुटियाँ हो गईं थीं। अब मेरे पास पूरा एक महीना था, धूम मचाने के लिए। खेलने के लिए। शैतानी करने के लिए। ऐसे तो हर शाम... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 16, 2017, 11:32 am
कुछ दिनों पहले हमारे घर देवी माता आयीं थी.... उनके साथ, सहायिका माता भी थीं...जिसका परिचय वो गर्व से करा रही थीं कि बेटा हम दाई लेकर घूमते है..इसलिए भरोसा करो...साईं बाबा ने मुझे तुम्हारे लिए भेजा... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 12, 2017, 8:02 pm
बहुत रौब झाड़ता है मुझपर दिमाग की सुनने ही नहीं देता मन को चिनवा देती हूँ दीवारों में उसकी बक-बक घुट जाए वहीँ पे ----स्वयंबरा [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 12, 2017, 7:57 pm
घर के एक हिस्से को नए सिरे से बनवाने का काम चल रहा..कबाड़ हटाए जा रहे थे कि ये मिल गये..जाँता के दो पाट....अच्छा लगा ...हालांकि पुराने जमाने में लगभग हर गृहस्थ के पास ये होते थे... पर भोजपुर क्षेत्र... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 12, 2017, 7:55 pm
ये तो क्षण मात्र की ही कैद थी... तुम कहाँ बंधनो में आनेवाले.. तो अब जाओ.... मुझे भी तुम नहीं चाहिए .... मुंह टेढ़े चाँद😑 (एक झूठ❤☺) --स्वयंबरा [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 11, 2017, 9:56 pm
कहाँ सोचा था कि हमारे बीच का 'अबोला,' इतने शब्द, इतनी ध्वनिया छोड़ जायेगा कि बदहवास-सी दौडती फिरुंगी उन्हें आँचल में समेट लेने को ---स्वयंबरा [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 11, 2017, 12:20 pm
उन्होंने कहा कि मृत्यु का शोक एक साल तक मनाया जाता है...कोई मांगलिक कार्य नहीं... पर हमारा दुःख तो जीवन भर का ठहरा.. फिर ? तय किया कि इसे उत्सव की तरह मनाएंगे....दुःख का उत्सव ...शोक का उत्सव... तो... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 10, 2017, 3:34 pm
यहाँ-वहाँ बिखरे हर्फों को जोड़ दूं... तो एक मुकम्मल वाक्य बन ही जाएगा फिर तो तुम पकडे जाओगे ... पर नहीं करती कोशिश कि जो कह न सको उसे समझ ही क्यों लूं.... जो बता न सको उसे मान ही क्यूँ लूं जाओ,... [[ This is a content summary only. Visit my website for full links, other content, and more! ]]...
मैं और मेरी दुनिया...
Tag :
  June 8, 2017, 3:18 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3774) कुल पोस्ट (177020)