POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: sach mano to

Blogger: manoranjan thakur
गर्ल फ्रेंड की बात बेमानी हो गई। जमाना, मौसम अब वुमॅन फ्रेंड का है। शर्त यही कि उसकी हुस्न गुडग़ुड़ाने की इजाजत दे। उम्र की सीमा अब दरकिनार, मायने से दूर है। इश्क, रोमांस व प्यार के फ्लेवर बदल गए हैं। तिरियावाद का शौक हो, लाउंज भी नहीं जाना चाहते, कोई बात नहीं। होम डिलेवर... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   6:18am 27 Sep 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
बंद आंखें भी बोले इससे ठंडा और कुछ भी नहीं पत्नी, पत्नी सिर्फ पत्नी। महज 92 फीसदी हमारी, 8 प्रतिशत पराई। कब्ज, एसिडिटी, गैस, बदहजमी दूर भगाए, रखे हमेशा ठंडा-ठंडा कूल-कूल। एक अदद फुल क्रीम, काजू, पिस्ता, बादाम व बटर से युक्त पत्नी जो दे सरदर्द, तनाव, अनिंद्रा, थकान से राहत। कुदर... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   10:01am 15 Sep 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
तस्लीमा भी उभार में है। वह पुरुषों की केंद्र में नाजायज खड़ी है। उसके पास शब्दों की बाजीगरी है। ताकतवर दिमागी सोच, समझ है। मारन, मोहन, स्तभंन, वशीकरण के मंत्र, सूत्र उसे बखूबी मालूम हैं। पता है, उसके पास शरम-व-हया का लज्जा नहीं है। वह उसी खुली किताब के पन्ने के मानिंद सामन... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   7:54am 6 Sep 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
एक किलो ग्राम मोदी साहेब, एक किलो कांडा, पांच कटे हुए कोयले, आधा चम्मच हेलीकॉप्टर के छोटे-छोटे टुकड़े, आधा चम्मच धोखाधड़ी के पेस्ट, एक चम्मच सेक्सी मिर्ची, बारीक कटे हुए दो चम्मच राजनेताई मसाले, कसाबी नमक स्वादानुसार। अब एक भारतीय पैन में सबसे महंगी, झकास, खांटी तेल में इ... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   9:12am 2 Sep 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
तुम फिजा हो, मोना हो, बंटी की बबली हो, शीला हो या मुन्नी या फिर कांडा की गीतिका ही सही। मगर तुम माता नहीं हो, किसी की वधू भी नहीं। केवल सुंदर रुपसी हो। आज सभी सुंदरियां इसी अद्र्धसत्य, आदर्श को आत्मसात कर चल पड़ी हैं। नतीजतन, नारी प्रगति कहां जाकर थमेगी, रुकेगी, ठहरेगी कहना, ... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   8:01am 23 Aug 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
जमाना लॉगइन का है। इसके बिना आप कुछ भी नहीं। कुछ करना है, तो बसलॉगइन कीजिए। बाजारवाद, स्त्रीवाद या फिर सेक्सवाद सब लॉगइन से ही संभव। इन लॉगइन का पासवर्ड कमसिन, हसीन, नादान, सुर्ख यौवनाओं के पास है। मुझे कॉल करो… मैं यहां हूं… मेरा पासवर्ड है… रात में बातें करो, दिन में इन ... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   8:19am 29 Jul 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
उसकी देह कहीं मोती, कहीं लाल मणि, कहीं श्वेत संगमरमर, कहीं नीलम से पुष्ट हुई। उसके स्पर्श में कितनीकोमलता है, दर्शन में कितनी मधुरता, स्वयं प्रकृति उसके रूप की प्रशंसा करती है। देव तक उसे देखकर मुग्ध हो जाते हैं। कामदेव तो स्वर्ग छोड़ उसी के नेत्रों से अपनी शर तीक्ष्ण क... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   8:50am 23 Jul 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
नग्नवाद व सेक्स आज खूब बिक रहे हैं। लिहाजा इसे परोसने की तमाम हदें पार होती दिख रही हैं। लोगों को भाने व ललचाने की चिकनाहट में मर्यादा, वंदिश व उम्र भी कोई मायने नहीं रख रहे। बस जिद यही, यह आंखों को ललचाए, सुकून, शांति दे और शरीर में सनसनी, गर्मी का एहसास। नसों में दौड़ती ल... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   9:49am 6 Jan 2012 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
मैं आहत का क्रन्दन स्वर हूंनेता मुझे वैभव दिखलातागरीब, बेरोजगार कसक, तड़पन बतलातालोकतंत्र से कुछ संबंध नहीं हैमुझे बेबस, असहाय युग-युग से भाता।मैं विलास का केंद्र नहींजो बेच दूं अपनी पत्नी भंवरी को हीना मैं एक्सपोजर, ना मैं वल्गैरिटीमैं तो बस विद्या का डर्टी पिक्चर ... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   9:24am 18 Dec 2011 #जनरल डब्बा
Blogger: manoranjan thakur
बेटी यानी समाज को बदल डालने का जज्बा रखने वाली, एक खूबसूरत नायाब तोहफा, एक आइकन, एक क्षण में पराई हो जाती है। बचपन में पिता की गोद में, कंधे पर खेलती, इठलाती, हंसी-ठिठौली करने वाली बेटी अचानक स्यानी हो जाती है और बांध दी जाती है उस लंगर में जहां से उसकी पहचान, परंपरा, संस्कृत... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   9:10am 11 Dec 2011 #जनरल डब्बा
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post