POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: रौशन सवेरा

Blogger: Anita Sharma
कई साल पहले सिएटल (अमेरिका) में विकलांगो के लिये विशेष औलंपिक खेल आयोजित किये गए। औलंपिक की 100 मीटर दौङ के मुकाबले में 9 प्रतियोगी शामिल हुए। सभी शारीरिक और मानसिक रूप से असहाय थे। दौङ की घोषणा हुई। घावको ने जगह संभाली और रैफरी के बंदूक के इशारे पर ही धावक लक्ष्य की ओर दौङ... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   7:52am 26 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
     गुजरात का डाडींया आज लगभग पूरे भारत में जोर शोर से मनाया जाता है। शनिवार की शाम डांडिये की मनोहारी प्रस्तुती हमारी संस्था में भी हुई। पूरे जोश एवं उल्लास के साथ बच्चियों ने गरबा नृत्य किया जो बहुत ही स्पेशल था क्योंकि ये गरबा दृष्टीबाधित बच्चियों द्वारा प्रस्तुत... Read more
clicks 238 View   Vote 0 Like   5:00pm 21 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
मेरी बस इतनी सी तमन्ना है किमुझे छूना है आकाश कोन चाँद तक जाना है,न सूरज को पाना है।दुनिया से ऊँचे उठ कर मुझे, साबित करना है अपने आप को।।मेरी बस इतनी सी तमन्ना है कि मुझे छुना है आकाश को।।कोई साथ दे या न दे,कोई साथ चले या न चले।अपने ही हाँथों से मुझे, बनाना है अपनी राह को।।म... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   12:55pm 19 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
शक्ति की उपासना का पर्व शारदेय नवरात्र प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल से मनाया जा रहा है। ऐसा कहा जाता है कि सर्वप्रथम श्रीरामचंद्रजी ने इस शारदीय नवरात्रि पूजा का प्रारंभ समुद्र तट पर किया था और उसके बाद दसव... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   7:44am 16 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
             एक महान विचारक, विद्वान, विज्ञानविद और उच्च कोटी के मनुष्य,भारत के 11वें राषट्रपति डॉ. ए. पी. जे. अब्दुल कलाम, एक ख्याती प्राप्त वैज्ञानिक इंजीनियर जिन्होने भारत को उन्नत देशों के समूह में सबसे आगे लाने के लिये प्रक्षेपण यानो तथा मिसाइल प्रऔद्योगिकी के क्षेत्र... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   6:20am 13 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
 ऐसा कौन व्यक्ती होगा जो हल्दी से परिचित न होगा। यह इतनी लोक प्रियवस्तु है कि मनुष्य प्रतिदिन इसका उपयोग करता है। हल्दी मसाला ही नही धार्मिक, आर्थिक और स्वास्थ की दृष्टी से भी अपना प्रथम स्थान रखती है। विभिन्न भाषाओं में हल्दी को अलग-अलग नामों से जाना जाता है। जैसे- सं... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   1:08pm 11 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
अपने पूर्वजों के प्रति स्नेह, विनम्रता, आदर व श्रद्धा भाव से किया जाने वाला कर्म ही श्राद्ध है। यह पितृ ऋण से मुक्ति पाने का सरल उपाय भी है। इसे पितृयज्ञ भी कहा गया है। हर साल भाद्रपद पूर्णिमा से अश्विन मास की अमावस्या तक श्राद्ध पर्व का आयेजन चलता है।ब्रह्मपुराण के अन... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   5:13am 8 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
बेटी तो बेटी होती है,चाहे वो कानून के रखवालों की हो या आम जनता की या स्वयं कानून की रक्षाकर्मी,किसी को भी दहेज रूपी वायरस अपना निशाना बना सकता है। ये विषाणु अमीर गरीब, साक्षर-निरिक्षर, क्या नेता, क्या अभिनेता किसी को भी नही देखता, इसके लिये तो सिर्फ बेटी नाम ही काफी है।  ब... Read more
clicks 233 View   Vote 0 Like   5:57pm 4 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
वर्षों पूर्व एक ही दिवस परन्तु वर्षकाल का अंतर, दो सितारे भारत की पुण्य भूमि पर अवतरित हुए । दोनो ही विभूतियों ने लोगों में भाई-चारा, शान्ती, सत्य़ एवं अहिंसा का संदेश स्वयं के शालीन एवं सौम्य कर्तव्यों के माध्यम से जन मानस में जागृति का आह्वान किया। एक अहिंसा का पुजारी ... Read more
clicks 220 View   Vote 0 Like   10:13am 1 Oct 2012 #
Blogger: Anita Sharma
   शरद ऋतु की भीनी भीनी ठंडके मौसम में मित्रों, सुबह – सुबह अदरक की चाय मिल जाए तो पूरा दिन ताजगी भरा हो जाता है। चाय के साथ – साथ भोजन को जायकेदार बनाने वाले अदरक की दिलचस्प बात ये है कि वो खूबसूरती को भी बढाता है। अदरक को फल, सब्जी या दवा भी मान सकते हैं। वास्तव में अदरक भू... Read more
clicks 257 View   Vote 0 Like   1:04pm 27 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
उत्सव जीवन दर्शन है। कहते हैं, सात वार नौ त्यौहार वाला देश है भारत। भारतवर्ष में विभिन्न संस्कृतियों का समागम है। सर्व विदित है कि प्रथम पूज्य मंगल मूर्ती श्री गणेंश उत्सव से ही सभी त्यौहारों का श्री गणेश होता है। जिस तरह सात रंगो के इंद्रधनुष से आकाश की खूबसूरती में ... Read more
clicks 282 View   Vote 0 Like   4:21pm 23 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
  रिद्धी सिद्धी के देवता, काटो सर्व कलेश।सर्व प्रथम सुमिरन करें, गौरी पुत्र गणेश।।गणेश जी बुद्धि के देवता  हैं। हमें जीवन में लक्ष्य की प्राप्ति गणेश जी कीअनुकंपा (बुद्धि) से ही मिल सकती है। गणेश जी,पूजा-पाठ के दायरे से बाहर निकलकर हमारेजीवन से इतना जुड गए हैं कि किसी भ... Read more
clicks 282 View   Vote 0 Like   1:12am 19 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
    आज जहाँ देखो वहाँ युवा वर्ग बड़े रौष में नजर आता हैं जरा-जरा सी बात पर इरीटेट(irritate)हो जाना उसकी आदत बनती जा रही है। समाचार पन्नों में आये दिन पढऩे को मिलता है कि किसी 14-15साल के बच्चे ने अपने सहयोगी की हत्या कर दी या कहीं किसी ने अध्यापक को मार दिया। कहीं किसी युवा ने लडक़ी प... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   4:38am 16 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
    हिन्दी संवैधानिक रूप से भारत की राजभाषा है। संसार में जितनी भी भाषा बोली जाती है उनकी अपनी विषेशता होती है एवं अपना साहित्य होता है। संसार में जितनी भी भाषा बोली जाती है उनके ज्ञान से मानवीय विचारों का आदान प्रदान सरलता से होता है, किन्तु अपनी भाषा में अपनापन है। इस... Read more
clicks 175 View   Vote 0 Like   5:27am 14 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
 मानव एक सामाजिक प्राणी है। वह अपने हर कार्य के लिये प्रत्यक्षतः या अप्रत्यक्षतः किसी न किसी का सहयोग चाहता है। उसे अपने हर कार्य में दूसरों के सहयोग की आवश्यकता होती है। ईश्वर ने भी हम सब को ऐसे सिसटम में बांधा है कि बिना सहयोग के हम सरवाइव नही कर सकते। प्रकृति के सहयो... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   9:18am 9 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
 भारत भूमि पर अनेक विभूतियों ने अपने ज्ञान से हम सभी का मार्ग दर्शन किया है। उन्ही में से एक महान विभूति शिक्षाविद्, दार्शनिक, महानवक्ता एवं आस्थावान हिन्दु विचारक डॉ. सर्वपल्लवी राधाकृष्णन जी ने शिक्षा के क्षेत्र में अमूल्य योगदान दिया है। उनकी मान्यता थी कि यदि सही... Read more
clicks 176 View   Vote 0 Like   4:53pm 4 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
आज की भागम भाग जिंदगी में, दफ्तर से घर– घर से दफ्तर के चक्कर में हम कहीं खो गये हैं। हम सभी अपनी – अपनी जिमेदारियों में व्यस्त हैं। सबकी पसंद नापसंद का ख्याल रखते हुए अक्सर खुद को भूल जाते हैं।सब कुछ फिट रखने के चक्कर में  खुद को सबसे ज्यादा अनफिट रखते हैं। रूटीन लाइफ जीत... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   6:09am 4 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
कुछ पाकर खो देने का डर कुछ न पा सकने का भय, जिन्दगी की गाङी पटरी से उतर न जाए इन्ही छोटी-छोटी चिन्तओं के डर से घिरी रहती है जिन्दगी लेकिन जिस वक्त हम ठान लेते हैं कुछ नया करने का तभी जन्म लेता है साहस। साहस तभी आता है जब आपके पास एक मकसद हो, एक जूनून हो। कह सकते हैं कि साहस एक ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   5:35am 1 Sep 2012 #
Blogger: Anita Sharma
                        यह कैसी आधुनिकता          हमें वो वक्त याद आता है जब संयुक्त परिवार हुआ करते थे, हर कोई एक दूसरे के सुख-दुख का साथी था। आज जाने अनजाने में या मजबूरी में खुशियों केवो पल हम सबसे दूर हो गयेहैं। आज पैसा सर्वोपरिहो गया, रिश्ते गौंण हो चुके है, मोह-माया का अर्थ  ... Read more
clicks 190 View   Vote 0 Like   5:42pm 29 Aug 2012 #
Blogger: Anita Sharma
                                       हँसने केफायदेआज की भाग दौङ भरी जिंदगी, ऊपर से काम का प्रेशर हममे में से कई लोगों को तो याद भी न होगा कि पिछली बार कब खिलखिला कर हँसे थे। जबकी हँसना हम सभी के लिये अति महत्वपूर्ण है किन्तु हम उसे नजर अंदाज कर देते हैं। मित्रों हँसने से हमारी जि... Read more
clicks 236 View   Vote 0 Like   6:24pm 28 Aug 2012 #
Blogger: Anita Sharma
        मन के हारे हार है, मन के जीते जीत है      मनुष्य के जीवन में पल-पल परिस्थितीयाँ बदलती रहती है। जीवन में सफलता-असफलता, हानि-लाभ, जय-पराजय के अवसर मौसम के समान है, कभी कुछ स्थिर नहीं रहता। रात है तो दिन भी है।‘इंद्रधनुष के बनने के लिये बारिश और धूप दोनों की जरूरत होती है... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   6:07pm 28 Aug 2012 #
Blogger: Anita Sharma
            स्वामी विवेकानंद जी ने कहा है कि--विश्वमें अधिकांश लोग इसलिए असफल हो जाते हैं, क्योंकि उनमें समय पर साहस का संचार नही हो पाता और वे भयभीत हो उठते हैं।स्वामीजी की कही सभी बातें हमें उनके जीवन काल की घटनाओं में सजीव दिखाई देती हैं। उपरोक्तलिखे वाक्य कोशिकागो की ... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   5:51pm 28 Aug 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post