POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मेरी कहानियां

Blogger: shikha kaushik
बलात्कार के बाद तीन साल की बच्ची का सिर धड़ से अलग कर कातिल जंगल में फेंककर फरार हो गए. दुष्कर्म का शिकार युवती व उसके परिवार को विरोध करने पर ट्रक से कुचलवा दिया दबंग विधायक ने. चारों ओर हाहाकार मच गया. भीड़ चिल्ला चिल्ला कर कहने लगी -"हाय ये कैसा रामराज आया है जिसमें बेटि... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   8:32am 2 Aug 2019
Blogger: shikha kaushik
स्वाभिमान - लघुकथा एक स्व-वित्तपोषित महाविद्यालय  में समाजशास्त्र विषय की प्रवक्ता  डॉ राखी प्रतिदिन समय पर महाविद्यालय  पहुंच जाती थी पर आज समय से बस न मिल पाने के कारण उसे देर हो गई. स्कूल पहुंचते ही प्रिंसीपल सर के सामने पड़ते ही उसने देर से आने के लिए क्षमा ... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   1:14pm 19 Jan 2019
Blogger: shikha kaushik
उचित निर्णय -कहानी'' ....आज पूरे पांच वर्ष हो गए अन्नपूर्णा से न मिले लेकिन ह्रदय आज जितना व्याकुल  हो रहा  है उतना पिछले पांच वर्षों में कभी  नहीं हुआ  | अन्नपूर्णा तो और लोग कहते थे ...मेरे लिए तो केवल 'अन्नू 'थी वह -------मेरी प्रियेसी , मेरी दोस्त ----मेरा सर्वस्व | आज  भी याद... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   8:24am 9 Dec 2018
Blogger: shikha kaushik
सड़क पर नंगी लाश पड़ी थी. चारों ओर इकट्ठा लोग अनुमान लगा रहे थे - "लगता है बलात्कार करने के बाद मारकर  फेंक दिया है यहां.. आठ नौ साल की रही होगी.. पर मुद्दा ये है कि ये हिन्दू थी या मुस्लिम?"तभी भीड़ को चीरती हुई एक औरत ने लाश के पास पहुंचकर उसे अपने दुपट्टे से ढ़कते हुये कहा - ... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   10:10am 14 Apr 2018
Blogger: shikha kaushik
कॉलेज के स्टाफ रूम में  पुरुष सहकर्मियों के साथ यूँ तो रोज़ किसी न किसी मुद्दे पर विचार विनिमय होता रहता था पर आज निवेदिता को दो पुरुष सहकर्मियों कीउसके प्रति की गयी टिप्पणी और उससे भी बढ़कर प्रयोग की गयी भाषा बहुत अभद्र लगी थी . हुआ ये था कि दिसंबर माह में पड़ रही सर्दी के... Read more
clicks 204 View   Vote 0 Like   11:09am 17 Dec 2017
Blogger: shikha kaushik
शर्मिंदा-लघुकथा...''अरे चेयरमैन साब ! आपको क्या जरूरत थी आने की ......चपरासी को भेज देते ...मैं आपकी पसंद का सामान घर ही पहुंचवा देता .'' जनरल स्टोर पर पधारे विशिष्ठ अतिथि को देख स्टोर मालिक सोनू गदगद हो उठा . चेयरमैन साब मुस्कुराते हुए बोले 'अरे नहीं नहीं ....आज सोचा कस्बे में घूम ... Read more
clicks 145 View   Vote 0 Like   1:46pm 29 May 2017
Blogger: shikha kaushik
''...बहू अगर चाहती है तो बेशक तुम अलग घर ले लो ..लेकिन याद रखना एक दिन तुम्हें मेरे पास वापस आना ही होगा .''माँ ने गंभीर स्वर में अपना निर्णय सुना दिया . सच कहूँ तो मेरी माँ से दूर जाकर रहने की रत्ती भर भी इच्छा नहीं थी लेकिन अनुभा के जिद करने के कारण  मैंने यही निर्णय लिया कि ''अ... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   5:10pm 14 Apr 2017
Blogger: shikha kaushik
ये हत्या एक नेता की नहीं थी ; ये हत्या थी सौहार्द व् उदारतावाद के मूर्तिमान व्यक्तित्व की , जो परम्परागत सफ़ेद धोती पहने ;नंगे सीने ....घुस जाता था उस जुनूनी भीड़ में जो कभी हिन्दू-मुस्लिम के नाम पर तो कभी ब्राह्मण-शूद्र के नाम पर मरने-कटने को तैयार हो जाती थी .उसने कभी भगवा पट... Read more
clicks 183 View   Vote 0 Like   9:54am 9 Apr 2017
Blogger: shikha kaushik
जब से युवा मोनिका की दोस्ती इसी वर्ष ऑफिस में आये उसकी की ही आयु के लक्ष्य के साथ ज्यादा बढी़ थी, तब से उसके बारह वर्ष बड़े बॉस का व्यवहार उसके साथ उतना मधुर नहीं रह गया था. पहले मोनिका को अपने ऑफिस में बुलाकर काम की आड़ में घंटों हॅसी - मजाक करने वाले बॉस को आजकल मोनिका के इ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   4:35pm 31 Mar 2017
Blogger: shikha kaushik
कौन सोच सकता था कि जो चौदह वर्षीय किशोर बाला भाभी की दो वर्षीय बिटिया को गोद में उठाये  लाड़ करता घूमता है वही उसके साथ दुष्कर्म कर डालेगा .ठीक-ठाक घर का शालीन सा प्रतीत होता किशोर .उसके माता-पिता ने भी इस घटना का पता चलते ही अपना सिर पीट डाला था . आज तो उसका घिनौना  चेहर... Read more
clicks 277 View   Vote 0 Like   4:12pm 29 Oct 2015
Blogger: shikha kaushik
पंचायत अपना फैसला सुना चुकी थी .नीला के बापू -अम्मा , छोटे भाई-बहन बिरादरी के आगे घुटने टेककर पंचायत का निर्णय मानने को विवश हो चुके थे .निर्णय की जानकारी होते ही नीला ने उस बंद -दमघोंटू कोठरी की दीवार पर अपना सिर दे मारा था और फिर तड़प उठी थी उसके असहनीय दर्द से .चार दिन पहल... Read more
clicks 330 View   Vote 0 Like   4:37pm 10 Jun 2015
Blogger: shikha kaushik
बगल में बस की सीट पर बैठी खूबसूरत युवती द्वारा मोबाइल पर की जा रही बातचीत से मैं इस नतीजे पर पहुँच चूका था कि ये ज़िस्म फ़रोशी का धंधा करती है .एक रात के पैसे वो ऐसे तय कर रही थी जैसे हम सेकेंड हैण्ड स्कूटर के लिए भाव लगा रहे हो .टाइट जींस व् डीप नेक की झीनी कुर्ती में उसके ज... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   12:22pm 2 Jun 2015
Blogger: shikha kaushik
मशहूर उद्योगपति की पत्नी और दो किशोर पुत्रों की माँ हेम जब भी एकांत में बैठती तब उसकी आँखों के सामने विवाह के पूर्व की  घटना का एक-एक दृश्य घूमने लगता .कॉलेज में उस दिन वो सरस से आखिरी बार मिली थी .उसने सरस से कहा था कि -''चलो भाग चलते हैं वरना मेरे पिता जी मेरा विवाह कहीं औ... Read more
clicks 243 View   Vote 0 Like   4:24pm 2 May 2015
Blogger: shikha kaushik
  गौतम उदारतावादी स्वर में बोला -''लिव-इन कोई गलत व्यवस्था नहीं...आखिर कब तक वही पुराने..घिसे-पिटे सिस्टम पर समाज चलता रहेगा ..विवाह ....इससे भी क्या होता है ? गले में पट्टा डाल दिया बीवी के नाम का और मियां जी घूम रहे है इधर-उधर मुंह मारते हुए .''सुरेश असहमति में सिर हिलाता हुआ ... Read more
clicks 201 View   Vote 0 Like   5:29pm 24 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
 रविता सीमा से मिलने उसके घर पहुंची तो सीमा की ख़ुशी का ठिकाना न रहा . एक दुसरे का हाल-चाल पूछते पूछते रविता बोली - ''पता है सीमा मैं जिस रिक्शा से आई हूँ उसका चालक बहुत ही रोमांटिक है .एक से एक रोमांटिक सॉन्ग गाता है . आई एम इम्प्रेस्ड !''इस पर दोनों ठहाका लगाकर हंस पड़ी . सीमा... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   4:52pm 20 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
 भावना को सब्ज़ी मंडी से लौटते  हुए अचानक अपनी सहेली अनु मिल गयी .इधर-उधर की बातों के बाद दोनों की बातों के केंद्र में दोनों के बच्चे आ गए .भावना मुंह बनाते हुए बोली - क्या बताऊँ ! मेरा बेटा आठ साल का है और फेसबुक पर दिन-रात पता नहीं अपनी गर्ल-फ्रेंड  से क्या चैट करता रहत... Read more
clicks 217 View   Vote 0 Like   4:08pm 18 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
 ''माँ मैं कौन सी पोशाक पहनूं ?''चिया ने चहकते हुए माँ से पूछा तो माँ ने उदासीन भाव से कहा -''कुछ भी जो शालीन हो वो पहन लो . चिया ने आर्टिफिशल ज्वेलरी दिखाते हुए माँ से पूछा -''माँ ये माला का सैट कैसा लगेगा मुझ पर ? माँ ने उड़ती-उड़ती नज़र चिया की ज्वेलरी पर डाली और सुस्त से स्वर म... Read more
clicks 225 View   Vote 0 Like   4:55pm 16 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
सिया ने माँ से पूछा -''मैं कालेज की फ्रेंड्स के साथ बाहर कैम्प में चली जाऊं माँ दो दिन के लिए ?''माँ बोली -''पिता जी से पूछो ? '' सिया रसोईघर से कमरे में आई और पिता जी से पूछा कैम्प में जाने के लिए तो वे भड़क कर बोले -''अरे  सिया की माँ ! तुम्हारी अक्ल पर पत्थर पड़ गए हैं जो बकवास बा... Read more
clicks 212 View   Vote 0 Like   5:48pm 15 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
''और फूल बिखर गया ''उस कँटीले जंगल में वो अल्हड़ सी कली निर्भीक होकर मंद-मंद आती समीर के साथ झूल लेती और जब हंसती तो उसके चटकने की मधुर ध्वनि से हर काँटा ललचाई नज़रों से उसे देखने लगता .वो खुद को पत्तों में छिपा लेना चाहती पर कहाँ छिप पाती !! फिर वो कली खिलकर फूल बन गयी .काँटों ने ... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   4:39pm 10 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
 रमन आज अपने जीवन के साठ वें दशक में प्रवेश कर रहा था . उसकी जीवन संगिनी विभा को स्वर्गवासी हुए पांच वर्ष हो चुके थे .रमन आज तक नहीं समझ पाया कि एक नारी की प्राथमिकताएं जीवन के हर नए मोड़ पर कैसे बदलती जाती हैं . जब उसका और विभा का प्रेम-प्रसंग शुरू हुआ था तब विभा से मिलने जब ... Read more
clicks 205 View   Vote 0 Like   3:06pm 8 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
हम इंसान हो गए -लघु कथाखुशबू कालेज जा रही थी . बीच रास्ते में उसकी सेंडिल की हील निकल गयी . पीछे से आती एक बाइक रुकी .खुशबू ने मुड़कर देखा तो ये साहिल था .साहिल बाइक से उतरा और उसकी सेंडिल हाथ में लेता हुआ बोला -चलो इसे ठीक करा देता हूँ पास में ही एक मोची बैठता है .खुशबू थोड़ा... Read more
clicks 227 View   Vote 0 Like   6:39pm 7 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
अहंकार और प्यार -लघु-कथाबैंक अधिकारी रजत ने ज्वेलरी की दुकान से डायमंड रिंग खरीदी और इस भाव से भरकर उस पर एक नज़र डाली कि-''कोई भी पति अपनी पत्नी के लिए वेडिंग ऐनिवर्सरी का इससे ज्यादा महगा गिफ्ट नहीं ले सकता !''रजत घर पहुँचा तो उसने पाया उसकी वाइफ पायल ने आज सब कुछ अपने हाथ... Read more
clicks 253 View   Vote 0 Like   3:41pm 5 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
''भाव ही सबसे सुन्दर ''-लघु कथालड़के ने कहा 'तुम्हारी आँखें बहुत सुन्दर हैं !''लड़की मुस्कुराई और बोली -''आँखें नहीं ...इनमें तुम्हारे प्रति झलकता प्यार का भाव सुन्दर है !''लड़का बोला -''तुम्हारे होंठ गुलाब की पंखुड़ियों के समान सुन्दर हैं !''लड़की हँसी ,उसके गालो पर लाली छा गयी ... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   3:56pm 3 Apr 2015
Blogger: shikha kaushik
सबसे सुन्दर लड़का -लघु कथा वो खूबसूरत लड़की जब सड़क पर चलती थी तब अपने में ही खोई रहती . उसको खबर न होती कि कोई लड़का उसका पीछा कर रहा है . एक दिन एक संकरी गली में उस पीछा करने वाले लड़के ने आगे आकर उसका रास्ता रोक लिया .वो घबराई .उसकी नीली झील सी आँखों में आंसू भर आये .उसने हाथ जोड़... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   6:19am 30 Mar 2015
Blogger: shikha kaushik
 ख़राब लड़की -storyइक्कीस वर्षीय सांवली -सलोनी रेखा को उसी लड़के ने कानपुर बुलाकर क़त्ल कर दिया जिसने उससे शादी का वादा किया था . लड़के के प्रेम-जाल में फँसी रेखा न केवल क़त्ल की गयी बल्कि अपने शहर में बदनाम भी हो गयी कि वो एक ख़राब लड़की थी .कातिल लड़के के प्रति लोगों की बड... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   5:26pm 28 Mar 2015
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192471)