Hamarivani.com

एक डायरी

इस क्रिसमस की छुट्टियों में तुमने न जाने कितने ही दिन Sadलिख कर पेज पर रखा होगा। दो-तीन दिन तो मैंने देखा पर फिर तुम पर सख्‍ती कर दी कि यह वर्ड अगर फिर से मुझे कहीं दिखा तो समझ जाना। ... और वही पुरानी वाली धमकी दे डाली- कोई खिलौना नहीं मिलेगा तुम्‍हें। पता नहीं क्‍या हुआ मेरी ध...
एक डायरी...
Tag :
  January 9, 2016, 1:14 pm
प्रज्ञान तुममें जितनी भी अच्‍छी चीजें हैं सब तुम्‍हें पापा के घर से मिली हैं और जितनी भी बेकार की चीजें हैं सब मुझसे यानी मम्‍मी से...। :) हंस रही हूं ये लिखते हुए क्‍योंकि तुम्‍हारे पापा के घर वाले लोगों की ये सोच निहायत ही बेकार किस्‍म की लगती है मुझे।अब तुम्‍हारे आंख क...
एक डायरी...
Tag :
  January 7, 2016, 5:01 pm
काफी दिनों बाद आज यहां आना हुआ है। आज PTM (parents teacher meet), मैम तो तुम्‍हारी बड़ी अच्‍छी हैं...। वैसे पैरेंट्स मीटिंग का दिन कितना hectic  होता होगा न टीचर्स के लिए।मैं और तुम्‍हारे पापा गए तुम्‍हें लेकर, तीसरा या चौथा नंबर था। वहीं बेंच पर बैठ गए अपनी बारी के इंतजार में। मैम ने तुम्‍...
एक डायरी...
Tag :
  August 8, 2015, 1:45 pm
आजकल मुझसे ज्‍यादा पापा के नजदीक हो गए हो  तुम! और ऐसा होना भी स्‍वभाविक है...  क्‍योंकि रोज तो वही तैयार करते हैं तुम्‍हें स्‍कूल के लिए. मेरा काम होता है लंच पैक करना, तुम्‍हारे लिए दूध बनाना, और कुछ भी हल्‍का सा खिलाना] क्‍योंकि स्‍कूल में तो तुम अपनी मैम की बात मान रो...
एक डायरी...
Tag :
  July 19, 2014, 1:25 pm
जब से नानी के यहां से लौटे हो रोज सुबह उठने के बाद मुझे अपने पास न पाकर फिर से तुम्‍हारे रोने का सिलसिला जारी हो गया है. वैसे थोडी देर बाद सब नार्मल हो जाता है. तुम तैयार हो स्‍कूल के लिए चले जाते हो.सुबह इतनी आपाधापी होती है कि तुम्‍हारे साथ फुर्सत से बैठना काफी मुश्किल हो...
एक डायरी...
Tag :
  December 21, 2012, 3:37 pm
दशहरा सेलिब्रेशन था स्कूल में और मुझे पता नहीं था कि थीम है मैंने तुम्हें कैजुअल ड्रेस में भेज दिया। वैन में जब दूसरे बच्चों को देखा, तब तुम्हारी मौसी ने कहा कि इसे बुरा लगेगा। लेकिन मैंने तुम्हारी मेघा मैम से बात कर लिया, उन्होंने कहा मैं देख लूंगी।रात को मैंने तुमसे प...
एक डायरी...
Tag :
  October 20, 2012, 1:53 pm
तुम्हारा हाल लेने के बाद मैंने मां से फोन पर पूछा, कल की छुट्रटी की बात कर लूं बॉस से...। मां ने कहा नहीं बस शाम को जल्दी आ जाना छुट्टी की जरूरत नहीं। मैंने मां से राय लेना उचित समझा। एक तो उनका तीज का व्रत दूसरी ओर तुम।तभी फोन पर आवाज आयी मना क्यों कर रही हो... बोल दो मम्मा को छ...
एक डायरी...
Tag :love and affection
  September 18, 2012, 4:37 pm
तीन साल हो गए सोचते-सोचते की तुम्हारी हर बातों को रख लूं कहीं जमा करके। ताकि यादें धुंधली न हो...।पर मैं थोड़ी आलसी हूं। सोचने को तो बड़ी बातें सोच लेती हूं पर उसे हकीकत का रूप देने में वक्त लगा देती हूं।आज तुम और तुम्हारे बाबा के बीच जो प्यार है, उसे बयां करती हूं।मुझे ताज...
एक डायरी...
Tag :
  September 17, 2012, 1:56 pm

...
एक डायरी...
Tag :
  January 1, 1970, 5:30 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3675) कुल पोस्ट (167090)