Hamarivani.com

Sanskritbhashi संस्कृतभाषी

       योग की यात्रा उपनिषदों से शुरु होकर बौद्ध, जैन, तन्त्रागम, संहिता होते हुए गीता में पूर्ण होती है। इससे सिद्ध है कि योग के अनेक पथ परन्तु एक लक्ष्य है। उसे ही आत्मा और परमात्मा का मिलन अथवा समाधि कहा गया है। पातञ्जलयोग दर्शन में पतंजलि ने अपने से पूर्ववर्ती औपनिषद...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :योग
  June 18, 2017, 9:11 am
संस्कृतभाषी ब्लाग पर आपका स्वागत है। इस ब्लाग में संस्कृत से जुड़े विभिन्न विषयों पर लेख उपलब्ध हैं। लेखों को पढने तथा सुझाव देने के लिए आप सादर आमंत्रित है।     उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान, लखनऊ द्वारा  वर्ष 2017 के पुरस्कारों का विज्ञापन जारी कर दिया गया है। पुरस्का...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  June 16, 2017, 6:20 pm
    काव्यशास्त्र एक प्राचीन शास्त्र है।, जिसे काव्यालंकार, अलंकारशास्त्र, साहित्यशास्त्र और क्रियाकल्प के नाम से अभिहित किया जाता है। वैदिक ऋचाओं में काव्यशास्त्र के उत्स दिखाई पड़ते हैं। काव्यशास्त्र का क्रमबद्ध सुसंगठित और सर्वांगपूर्ण समारंभ भरत मुनि के नाट्य...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :भरत
  June 15, 2017, 11:15 pm
       भारत में जब-जब कश्मीर की चर्चा होगी, परममाहेश्वर शैवाचार्य अभिनवगुप्त याद आते रहेंगे। इनके पिता का नाम नरसिंहगुप्त तथा माता का नाम विमलकला था। उत्तर प्रदेश के प्रसिद्ध नगर कन्नौज के राजा यशोवर्मन् (730-740 ई.) के राज्य में इस कश्मीरी ब्राह्मण के जन्म से 200 वर्ष पूर्व ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :संस्कृत लेखक
  June 15, 2017, 1:34 pm
स्मरणीय तथ्य संख्याओं का वचन निर्धारण 1  1.    एक शब्द नित्य एकवचनान्त होते हैं। परन्तु जब इसका संख्या के अतिरिक्त अन्य अर्थ में प्रयोग होता है, तब इसका द्विवचन तथा बहुवचन रूप भी होता है,क्योंकि एक शब्द के कई अर्थ होते हैं।      एकोऽन्यार्थे प्रधाने च प्रथमे केवले तथा। ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :संख्या
  June 8, 2017, 11:18 am
प्रथमा विभक्तेः पद्यानि सन्तोषः परमो लाभः सत्सङ्गः परमा गतिः । विचारः परमं ज्ञानं शमो हि परमं सुखम् ।। योग वाशिष्ठ मुखं पद्मदलाकारं वाणी चन्दनशीतला । हृदयं क्रोधसंयुक्तं त्रिविधं धूर्तलक्षणम् ।। धनिनोपि निरुन्‍मादा युवानोपि न चंचलाः। प्रभवोप्यप्रमत्‍तास...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :सुभाषित
  June 5, 2017, 8:55 am
वास्तविक दुनिया के इतर आभासी दुनिया का क्षेत्र अत्यन्त व्यापक हो चला है। वास्तविक जीवन में जहाँ हमारे मित्रों की संख्या जहाँ 100 के आसपास होती है, वही आभासी दुनियां में यह संख्या हजारों तक पहुँच जाती है। समान विचारधारा के लोग अन्तर्जाल या अन्य संसाधनों के माध्यम से आप...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :सोशल मीडिया
  May 31, 2017, 3:40 pm
         विक्रमाजीतसिंह-सनातनधर्म-महाविद्यालयः, कानपुरम् संस्कृतविभागः प्राविधिक संस्कृत-शैक्षिकोपकरण-निर्माण-कार्यशाला 18-20 मई 2017                                           दैनन्दिनी दिनांकः- 18-5-2017 8.00-9.30                   प्रातराशः पञ्जीकरणञ्च 9.30-11.30                         उद्घाटनसत्रम...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  May 18, 2017, 4:28 pm
मैं अपने इस लेख में संस्कृत के उस पक्ष की चर्चा करने जा रहा हूँ, जिसकी चर्चा समाज में  प्रायः वर्जित माना जाता है। वह है कामकला। अनादिकाल से स्त्रीपुरुष परस्पर आसक्त रहे हैं। अतएव दर्शन, साहित्य,पुराण आदि की तरह ही संस्कृत में कामकला से सम्बन्धित ढ़ेर सारी पुस्तकें ल...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  March 10, 2017, 12:36 pm
            संस्कृत का स्वरूप और भेद अक्सर लोग आकर कहते हैं- मैं संस्कृत पढ़ना चाहता हूं। मैं पूछता हूं - आप संस्कृत क्यों पढ़ना चाहते हैं? उनका उत्तर होता है ताकि मैं हिंदू धर्म ग्रंथों को पढ़ सकूँ। लोग कहते हैं मुझे प्राचीन ज्ञान विज्ञान को जानने की उत्सुकता है- जैसे गीता,...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :संस्कृत
  March 4, 2017, 8:40 pm
हिंदुओं के अनेक प्रकार के तीर्थ है। ब्रह्म पुराण के अनुसार तीर्थों चार प्रकार के होते हैं 1- ईश्वर द्वारा उत्पन्न 2- असुर से सम्बन्धित 3- ऋषियों से सम्बन्धित 4- राजाओं (मनुष्यों) द्वारा निर्मित। गया के तीर्थों का संबंध मृत मानवों अर्थात् पितरों के साथ है। गया एक ऐसा तीर्थ ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :तीर्थ
  March 2, 2017, 8:21 pm
स्वामी श्रीपराङ्कुशाचार्य जी महाराज        (1921-2036) श्रीस्वामी जी का अवतार स्थल महमत्पुर गॉंव हैं जो विक्रम नौवतपुर के समीप अवस्थित है। 10 मार्च 1865 तदनुसार फाल्गुन शुक्ल त्रयोदशी शुक्रवार संवत् 1921 कुंभ के सूर्य में मघा नक्षत्र में नौवतपुर के समीप अवस्थित महमत्पुर गॉंव के...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  February 25, 2017, 8:38 pm
               शब्दार्थयोः समो गुम्फः पाञ्चाली रीतिरिष्यते  ।                 शिलाभट्टारिकावाचि बाणोक्तिषु च सा यदि  ॥ धनपाल महाकवि बाणभट्ट ने हर्षचरित के प्रथम दो उच्छ्वास और कादंबरी की भूमिका श्लोक संख्या 10 से 20 तक में  अपनी आत्मकथा और वंश परिचय सविस्तार दिया है। संस्कृत ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  February 24, 2017, 4:41 pm
असम्पादित मैंने अपने पूर्व आलेख में स्पष्ट कर दिया है कि मगध क्षेत्र का अतीत अत्यंत ही गौरव पूर्ण रहा है। मध्यकाल में यहाँ संस्कृत का उत्थान अधिक नहीं हो सका, परंतु उन्नीसवीं सदी आते-आते इस क्षेत्र में पुनः संस्कृत विद्या की स्थापना होने लगी। कारण यह कि 19 वीं तथा 20 वीं ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  February 18, 2017, 11:00 pm
 संस्कृत पुस्तकालय में पुस्तकों के साथ रहते हुए मेरा 19 वर्ष बीत चुका है। आज से कुछ वर्ष पूर्व आधुनिक संस्कृत साहित्य के वर्गीकरण के समय मेरी दृष्टि वार्णिक छन्दों में विपुल मात्रा में विरचित संस्कृत गीत की ओर आकृष्ट हुआ। गान शैली पर आश्रित इन पुस्तकों का एक अलग वर्गा...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :गीतकार
  February 4, 2017, 5:07 pm
अंग देश से पश्चिम के भूभाग का प्राचीन नाम मगध जनपद था। यहाँ चन्द्रवंश के राजा राज्य करते थे।महाभारत के भीष्म पर्व में 240 जनपदों का नामोल्लेख किया गया है,जिसमे मगध भी एक है। विष्णुपुराण, श्रीमद्भागवत् आदि प्राचीन ग्रन्थों में इसका उल्लेख मिलता है। वाल्मीकि रामायण में...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  January 31, 2017, 1:31 pm
असम्पादित मगध में पाटलीपुत्र और नालंदा ये दोनों विद्या के केंद्र थे। पाटलिपुत्र पुराना केंद्र था। इसकी ख्याति का अनुमान इससे लगाया जा सकता है कि पटना की परीक्षा में उत्तीर्ण करने पर ही संस्कृत विद्या के आचार्यों को आचार्य की पदवी प्राप्त होती थी। भट्ट सोमेश्वर एवं...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  January 31, 2017, 1:31 pm
स्वामी पराङ्कुशाचार्य सरौती,गया,बिहार स्थानाधीश द्वारा मगही बोली में अर्चा गुणगान रचित है। मगही बिहार राज्य के मगध क्षेत्र में बोली जाने वाली एक बोली है। पराङ्कुशाचार्य दक्षिण भारत में उद्भूत रामानुजीय वैष्णव परम्परा के सन्त थे। अर्चा गुणगान में विष्णु के स्वरुप...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  January 30, 2017, 12:55 pm
...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  January 29, 2017, 10:58 am
लिखना मेरा स्वभाव रहा है। बचपन से ही हर बात पर लेखनी चलाने का शौक। श्री स्वामी पराङ्कुशाचार्य आदर्श संस्कृत महाविद्यालय में 26-27 फरवरी 2017 को महाविद्यालय के रजत जयन्ती समारोह के अवसर पर मगध क्षेत्र में स्वामी पराङ्कुशाचार्य जी के अवदान को लेकर शोध संगोष्ठी के आयोजन क...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :हुलासगंज
  January 28, 2017, 3:33 pm
                                                                         लक्ष्मीनाथ समारम्भं नाथयामुनमध्यमाम्।                                                                          अस्मदाचार्यपर्यन्तां वन्दे गुरुपरम्पराम्।। बिहारप्रान्तस्य दक्षिणदिग्भागे संस्कृतभाषायाः प्रचारकस्य श्रीस्वामिरङ्गरामानुजाचार्...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  January 27, 2017, 2:38 pm
गुरुदेव नहीं रहे। सुबह उठते ही फेसबुक पर पढ़ने को मिला। विश्वास ही नहीं हो रहा था। मित्र सुब्रह्मण्यम् को फोन किया। दुखद समाचार की पुष्टि हो गयी। फेसबुक पर जब-जब शोक समाचार पढ़ रहा हूं, असहज हो उठता हूं । गुरुदेव के जाने से पूरा सेशलमीडिया रो रहा है। जब भी कोई लिखते हैं ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :
  January 7, 2017, 12:18 pm
   मैं सोचता हूं भारत की धरा पर प्रकृति में आज किसी प्रकार का बदलाव नहीं आया है। ठीक कल जैसा ही आज भी है। कुछ लोगों का कहना है कि आज नया साल आ गया है। हाँ सरकारी व्यवहार में दिखने वाला तथा धार्मिक कारणों से यह नववर्ष है। व्यवहार में इसी लिए आया क्योंकि हम गुलाम हो गये थे। अ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :year
  January 1, 2017, 6:59 pm
पुस्तक संदर्शिका Android App में उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान, लखनऊ के पुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तकों तथा पाण्डुलिपियों की सूची दी गई है। यह App संस्कृत जिज्ञासुओं तथा शोधार्थियों के लिए अत्यन्त ही उपयोगी है। मैंने विगत 10 वर्षों तक अनवरत श्रम कर पुस्तकों तथा पांडुलिपियों...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :Pustak Sangdarshika
  December 30, 2016, 2:53 pm
पुस्तक संदर्शिका Android App में उत्तर प्रदेश संस्कृत संस्थान, लखनऊ के पुस्तकालय में उपलब्ध पुस्तकों तथा पाण्डुलिपियों की सूची दी गई है। यह App संस्कृत जिज्ञासुओं तथा शोधार्थियों के लिए अत्यन्त ही उपयोगी है। मैंने विगत 10 वर्षों तक अनवरत श्रम कर पुस्तकों तथा पांडुलिपियों ...
Sanskritbhashi संस्कृतभाषी...
Tag :पुस्तकालय
  December 30, 2016, 2:53 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165865)