Hamarivani.com

आँसू

जब कभी मै उसकी तलाश था ही नही फिर खुद को तराशने से क्या फायदा?वो हर पल किसी और को ढूढ़ता रहा मै बस खुद को ही और सवारता रहा हर हमसफर मंजिल नही होता इश्क में जान ही नही पाया, बस मासूम बना रहा जब ये सच समझा तब बहुत देर हो गयीउसकी तलाश में मै एक हमराह बना रहा अप्रैल १२, २...
आँसू...
Tag :
  May 12, 2019, 12:49 am
ये बताओ न प्रिये, क्या मांगूगा उस वक्तजब ज़िन्दगी से मै आखिरी बार मिलूगां?तुम्हें चाहने की ख्वाईस, या तुम्हारी चाहत?चाहत को मै अपने शब्दों में कैसे समेटूगा?या तस्वीर सी उभरेगी चाहत के फलक पर?पर उस तस्वीर में सारे रंग कैसे भर पाऊगा?उसी से हर सांस में चाहने की चाहत मांगी ह...
आँसू...
Tag :
  May 10, 2019, 12:38 am
आँसू: दिल को कईयों में तक्सीम करने का मौसम आया: चाहत को जब से किश्तों में निभाने का चलन आया  यकीनन मोहब्बत से तौबा करने का मौसम आया  जमाना घुटन महसूस करने लगा किसी एक के साथ में  ......
आँसू...
Tag :
  April 28, 2019, 4:03 pm
चाहत को जब से किश्तों में निभाने का चलन आया यकीनन मोहब्बत से तौबा करने का मौसम आया जमाना घुटन महसूस करने लगा किसी एक के साथ में गजब की दुनिया ये, बरसात में प्यासे मरने का मौसम आया हम तो किसी एक की चाहत में फना होना ही समझ आया पर उसने चाहत को कई चेहरे में बाटने का म...
आँसू...
Tag :
  April 28, 2019, 3:52 pm
कुछ लोगों सवरना किसी एक के लिए होता है जिन्दगी का सबब किसी का मुस्कुराना होता है लोग कहते है इसे ही इबादत, इसे ही तिजारत मेरा सर भी ऐसे ही इबादतों में झुका होता है उसके ख्यालों या उसके ‘ख्वाबों’ में गुम होता है वक्त का हर मंझर में एक ही अक्स बना होता है वो जो लग...
आँसू...
Tag :
  September 27, 2018, 1:06 am
दौलत मांगू, शोहरत मांगू, या सारी कायनात मांग लूंज्यादे क्या मांगू, सोचता हूँ कि उसकी रज़ा मांग लूंमेरे ख्वाबों की ताबीर बन कर आये मेरी जिन्दगी मेंइसीलिए सोचता हूँ बस असर अपनी दुआ में मांग लूंसजाऊ, सवारू, अपना लूं, छुपा लूं अपने ही आगोश मेंअपनी सांसों भर तेरी तकदीर में अप...
आँसू...
Tag :
  September 20, 2018, 6:58 pm
मेरे आंसूँ को अपने आँखों का सैलाब बना लेते होऐ आजनवी मेरी खुशियों मे एक ज़िन्दगी जी लेते होतुमसे कोई रिश्ता जोडने की गुस्ताखी न्ही कर सकतागैर बन कर ही तुम मेरी सारी दुनिया सजा लेते होएक मासूम ने एक मजलूम को खुदा बना पूजा हैअपनी हर ख़ुशी उसने किसी पे यूँ ही कुर्बां कर दीखु...
आँसू...
Tag :
  May 14, 2018, 2:57 pm
जाने के बाद कुछ आँखो में नमी छोड जाऊँगामैं अपने किरदार में कुछ एहसास जोड जाऊँगाचाहे कोई याद करे ना करे अपनी उम्र तक मुझकोय़ादों का मखमली मासूम सिलसिला छोड जाऊँगारंज होगा उन्हे भी जो छोड गए अपने ख्वाबो के लिएजीते जी अपनी आवारगी का वो एहसास छोड जाऊँगामुझे भी वो याद रखे अ...
आँसू...
Tag :
  May 14, 2018, 2:48 pm
तुम्हारा हुसन एक गज़ल एक ख्वाब है मेरे हायात कातुमसे मिला तो मुझे लगा, जैसे मैं ज़िंदा हूँ तुम्हारे लिएअलोकतुम्हारी हर ह्रफे वफा पर कायम है ये साये जहां मेराये कैसे कहुं कि एक तेरी बेरुखी से दारक्ता है ये सायाअलोकपैमाने मे भी ज़िन्दगी के कई रंग छलकते, कभी गज़ल कभी मिस...
आँसू...
Tag :
  May 14, 2018, 2:40 pm
जब भी कभी दिल ने कहा की कुछ लिखू तेरे लिए फिर दिल ने कहा कि लिखता ही रहूँ बस तेरे लिए जज्बातों को सुलझता हूँ तो लब्ज़ उलझ जाते है लब्जों को सुलझाता हूँ तो ख्वाब बिखर जाते है फिर भी दिल करता है कि बस लिखता ही रहूँ तेरे लिए वो इक अफसाना है, जो जिन्दा रहा हमेशा ख्वाबों ...
आँसू...
Tag :
  September 20, 2017, 12:30 am
कही कोई तो तडापता तो होगा हीआखिर ये दिल यूँ ही क्यूँ उदास हो जाता है?किसी को तो, य़ा किसी से, मिलने की चाहत सुलगी होगी ?क्यूँ कोई यूँ ही मायूस हो जाता है एकाएक?ये गणित ज़रा मुश्किल तो है, वरना समझ गया होतावैसे भी ये  प्रमेय मुझसे कब हल हुये है, जो आज होंगेबस मेरा दिल कहता कही &nbs...
आँसू...
Tag :
  August 7, 2017, 12:08 pm
इस जामाने में, मेरे लिये कौन आया है मेरे पास ?ज़रूरततों के लिबास में हर कोई आया मेरे पासलोग कहते है कि चाहतों की भीड है मेरे पास,(ये दिल ही ज़ानता है कि बस....)आरजू के चेहरे में जुस्तजू के साथ आया मेरे पासगुनाह होगा अगर कहूँ कि खाली हाथ आया मेरे पासकुछ लाता नहीं तो लब्ज कहा से हो...
आँसू...
Tag :
  July 18, 2017, 3:57 pm
हमेशा रोया बहुत इन नज़रों की बेबसी पर अपनेफिरभी अंधों के शहर में आईना बेचने लाया हूँपूरी शिद्दत से जानता अपने इस कारोबार के फायदेनाउम्मीदी में ही सही काफिरों को खुदा बाटने आया हूँतुम हँसते हो या रोते, मेरी अक्ल पर तुम्हारी रजा हैखुश हूँ की जो करने आया था वही करने आया हू...
आँसू...
Tag :
  May 30, 2017, 1:34 pm
तुम तो अगाज थे मेरे,  अंजाम भी थे मेरे किरदार केख्वाबो के टूटे हर आईनों मे उभरे अक्स थे मेरेवजुद को तुमने ही ऊकेरा था हाकीकत कि ज़मी परमेरी ख्वाइसो को दुआवों मे सम्हाले फनकार थे मेरेफिजाओं मे बिखरी हँसी ने कितना सफर तय कियाकि उन्ही की खुसबू मे साँस लेती हुई ज़िन्दगी थे म...
आँसू...
Tag :
  February 27, 2017, 2:40 pm
आँसू: काफियों मे काटी है: वो गजल आज तक मुकाम्मल न हुई  उम्र ज़िसके लिये काफियों मे काटी है वजूद के इतने चेहरे नजर आये मुझे  जाने कितने सवालों मे ये ज़िन्द......
आँसू...
Tag :
  December 24, 2016, 1:14 pm
वो गजल आज तक मुकाम्मल न हुई उम्र ज़िसके लिये काफियों मे काटी हैवजूद के इतने चेहरे नजर आये मुझे जाने कितने सवालों मे ये ज़िन्दगी बाटी हैहर मंझर पर ठहरता है दिल कि मंजिल है शक्ल जाने कितनी तस्वीरों मे ऊतारी हैज़रा समहल के रखो इस आईने को य़ारों बडी मुश्किल से उनकी तस्व...
आँसू...
Tag :
  December 24, 2016, 1:12 pm
ज़िन्दगी मे इसी मंझर का मुझे इंतजार अर्से से था शायद हजारो तुफान ज़िहन मे फिर भी ज़िक्र करने का जी नहींये शायद इसलिये भी हैं कि हर अक्स पर धुंध ही छाई हैं इस शोरगुल मे भी खुद के सन्नाटे से निकलने का जी नहीं कुछ काशिस तो हैं जो इस ज़िन्दगी से अब भी जोडे हैं मुझे वर्ना इस सफर मे ख...
आँसू...
Tag :
  August 22, 2016, 11:50 pm
मुझे मंजिलों की जुस्तजू न रही मेरी आरजुएं है वेवफासरे राह बनगया मेरा हमसफर ये ठोकरें ही फलसफाचाहो तो इसका इलज़ाम सफर की थकन को दे दोइस पल का सच यही, ये ही है मेरा है हमनवांचाहे जितना भी हो बदशक्ल मेरे वजूद का है चेहराइस सफर से ही इश्क मुझे, नही मुझे है वस्ले आहजुस्तजू ने द...
आँसू...
Tag :
  March 17, 2016, 4:44 pm
कभी सोचता उन तमाम खवाइसो को क्या नाम दू?जो जली तो जी भर के पर कभी दिखी ही नही दिल में ही सुलगती रही जी भरके भठ्ठी की तरहपर कभी भी किन्ही अल्फाजो में दर्ज नही हुईयक़ीनन ‘अल्फाजो से बेरुखी’ शहादत का चेहरा रहाकभी वक्त, कभी हालत के जंजीरों को तोड़ नही पाईदफन होगयी माझी का एक खु...
आँसू...
Tag :
  October 15, 2015, 2:58 pm
चंद लब्ज़ों में कैसे कह दूं मै तुमसे क्या चहता हूँ? चाहता हूँ कि तुम्हे कहीं बहुत दूर ले जाऊं ज़माने की निगाहों से तुमको छुपा के तुम्हारे ख्वाबो के अस्मा के तले तुम्हारी ख़्वाइसों के घनेरे बादलों की जमी पर जहाँ तुम जी भर के जी सको एक पल में सारी जिंदगीखुश हो सको जि...
आँसू...
Tag :
  October 10, 2015, 10:33 pm
मुझे जीने ही नही आता ये कह मुझे हर बार जगाती रही माँ .आज के बाद फिर कभी नही भूलूंगाये कह के खुद को सुलता रहा माँ आज की रात आँखों की आखिरी बरसात है, रातों के पंछी ये गीत गुनगुनाते गये सुबह की लालिमा कही आँखों को सुर्ख न कर ये कहते कहते पलक मेरे बुझते गये हर रात बुन...
आँसू...
Tag :
  September 11, 2015, 11:47 pm
तरन्नुम बिखरी है फ़िज़ाओं में फिर भीफिसल रहे है जाने क्यों अल्फ़ाज़ होठों सेनिगाहों को अश्कों से मोहब्बत सी होगईनही फिसल रहे जाने क्यों अश्क आँखों सेचेहरा आईना न हुआ फ़िज़ाओं की रौनक काकशिश जाने कैसी रोके है इसे बिखर जाने सेस्याह समुन्दर के किनारों पर उभरा अक्स कैसाकुछ त...
आँसू...
Tag :
  August 22, 2015, 1:21 am
मैंने अपने हाथों की लकीरों से बनाई है शबीह तेरी माझी में ऐसा खुबसूरत तस्स्ब्बुर नजर आये कहाँ से?मुस्कुराते देखा है हमने नागफनियों को तपती धुप में पर गुलाबों के चमन में हम ये चलन लाये कहाँ से ?माना की कोई बर्क सा अल्फाज़ नही है हिकायत में पर बिना तेरे अपनी तस्ब्बुर-ए...
आँसू...
Tag :
  August 14, 2015, 11:55 pm
बड़ा अजीब सा मंझर है ये मेरी जिन्दगी की उलझन का गहरी ख़ामोशी में डूबा हुआ है सजर ये मेरे अपनों का सिले होठों के भीतर तूफानों की सरसराहट से टूटते सब्र लगता है जहर बो दिया हो किसीने अपने अरमानों का आवाजों को निगलते मेरी बातों के अंजाम का खौफ खुली हवाओं में घुला हो ज...
आँसू...
Tag :
  July 10, 2015, 11:00 pm
प्रेम शब्द का सन्धि विग्रह यूँ होता हैप्रेम=परा +ई +म। अर्थात जो शक्ति हमे उर्ध्व की ओर ले जाये वो 'प्रेम'है। आजकल की प्रचलित भाषा में हम जिसे प्रेम कहते है वो वास्तव में आशक्ति का ही एक स्वरूप है. जिसके तीन भेद होते है. वासना - क्षणिक एवं तीव्र आवेगित होती हैकामना - सामान ...
आँसू...
Tag :
  June 21, 2015, 2:56 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3889) कुल पोस्ट (190010)