POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मन का मंथन [man ka manthan]

Blogger: kuldeep thakur
दुनिया भर की  दृष्टिबाधित आबादी का  बहुत बड़ा हिस्सा हमारे देश भारत में निवास करता है | दृष्टिबाधित आबादी की आँखे है उनके हाथो से सटी रहने वाली वह सफ़ेद छड़ीजो उन्हे पथ दिखाती है।   हर साल  15 अक्टूबर का दिन इस दृष्टिबाधित आबादी के लिए सबसे अहम दिन होता  है सफेद छड़... Read more
clicks 1 View   Vote 0 Like   7:43am 15 Oct 2019 #
Blogger: kuldeep thakur
जब टूटता  हैं,  पती पत्नी का पावन रिशता,तब रोती है मेंहदी,क्योंकि उसने ही,इनके जीवन में प्रेम के रंग भरे थे......मेंहदी  चाहती है, सब में प्यार बढ़े,केवल   प्रेम हो,कोई आपस में न लड़े,किसी के घर न टूटे,किसी से बच्चे न छूटें.....   मेंहदी  कहती है,  अब विवाह केवल पा... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   11:10am 3 Aug 2019 #
Blogger: kuldeep thakur
केवल 2018 की जगह अब,2019 हुआ  है,बताओ, क्या कुछ और बदलेगा?इस नव-वर्ष में.....जहां सुरक्षित नहीं,  4 वर्ष की बेटी भी सुनाई देती हैं अभी भी, चीखें निरभया, गुडिया की,क्या बेटियां भय मुक्त निकल पाएगी बाहर?इस नव-वर्ष में.....क्या नव-विवाहिताएं घरों में सुरक्षित रह पाएंगी?क्या दहेज के लो... Read more
clicks 72 View   Vote 0 Like   9:59am 31 Dec 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
मेरे पासनहीं थी आंखे,पर उन दोनों के पास ही आंखे थी......एक की आंखों नेमेरी बुझी हुई आंखे देखी...छोड़ दिया मझधार में मुझे.....एक की आंखों नेबुझी हुई आंखों में भी अपने लिये प्यार देखा,.... कहा, मेरी आंखे हैं तुम्हारे लिये.....मेरी बुझी हुई  आंखों ने भीइनकी आंखों मेंउनकी आंखों की ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   10:41am 26 Aug 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
हे जन-नायक अटल जी,तुम्हारी शकसियत अनुपम थी।तुम   स्तंभ बनकर खड़े रहे,सत्य-पथ पर अड़े रहे,भारत को विश्व-शक्ति बनाया,पाक कोमुंह के बल गिराया।निज संस्कृति पर  अभिमान था,धर्म-सभ्यता पर मान था।तुम तो  जन-जन के प्यारे थे,मां भारती के आंख के तारे थे।तुम नेताओं  में शास्... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   7:38am 17 Aug 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
[मेरी इस कविता में एक शहीद की बेटी के भावों को प्रकट करने का प्रयास किया गया है....}जब तुम  पापा!आये थे घरतिरंगे में लिपटकरतब मैं बहुत रोई थी....शायद तब मैंबहुत छोटी थी,बताया गया था मुझे,तुम मर चुके हो....मुझे याद है पापा!कहा था जाते हुए तुमनेमैं दिवाली पर आऊंगा,तुम्हारे लिये ... Read more
clicks 55 View   Vote 0 Like   11:04am 10 Aug 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
ये भीख मांग रहे बच्चे,किस धर्म के हैं?इनकी जात क्या है?न हिंदू को इस से मतलब,न मुस्लमान को.......कारखानों या ढाबों  पर,काम कर रहे बच्चों सेनहीं पूछते उनका मजहब। कोई नहीं पहचानता,ये उनकी जात, मजहब के  हैं....जब एक बेटी काजबरन बाल-विवाह होता है,साथ देते हैं सब,जात-मजहब के लोग,नह... Read more
clicks 82 View   Vote 0 Like   9:36am 16 Apr 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
दो दिन पहले  यानी 9 अप्रैल 2018  शाम 3:15 बजे हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के नूरपुर में मलकवाल के निकट चुवाड़ी मार्ग पर भयानक हादसा हुआ बजीर राम सिंह पठानिया मेमोरियल स्कूल की   बस करीब 200 फीट गहरी खाई में जा गिरी। हादसे में27 बच्चों समेत 30 लोगों की मौत हो गई है जबकि क... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   1:44am 11 Apr 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
एक प्रश्नवो बेटीईश्वर से पूछती है,क्यों भेजा गयामुझे उस गर्भ में,जहां मेरी नहींबेटे की चाह थी....एक प्रश्नवो बेटी उस  मां से पूछती है,"तुम तो मां  होक्या तुम भीआज न बचाओगी मुझेइन  जालिमों  से?.....""एक प्रश्नवो बेटीउस पिता से पूछती है,"क्यों बोझ मान लिया मुझे?मेरे जन्म... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   7:14am 23 Feb 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
मेरे बचपन के दिनों में,जब होता था हिमपात,जलाकर आती-रात तक  आलाव,बैठते थे सब एक साथ....याद आती हैं सबसे अधिकपूस-माघ की वो लंबी  रातें,दादा-दाती की कहानियां,बजुरगों की कही  सच्ची बातें....अब तो  बर्फ के दिनों में भी, आलाव नहीं, आग जलती है,जो कर गये स्थान रिक्त,उनकी कमी  खल... Read more
clicks 95 View   Vote 0 Like   5:31am 13 Jan 2018 #
Blogger: kuldeep thakur
 13 पौष तदानुसार    26 दिसंबर 1705 को    जब देश में मुगलों का शासन था और सरहिंद में सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोविंद सिंह के दो मासूम बेटों सात वर्ष के जोरावर सिंघ तथा पाँच वर्ष के फतेह सिंघ   को दीवार में जिंदा चुनवाया गया था....कहते हैं कि  साहिबज़ादों को कचहरी में... Read more
clicks 76 View   Vote 0 Like   5:40am 25 Dec 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
ओ जाते हुए वर्ष,जब तु आया था,जोष था, उमीदे थी,सब ओर हर्ष छाया था....मुझे भी प्रतीक्षा थी तेरी,कई दिनों पहले से ही,अभिनंदन मैंने भी किया था तुम्हारा,उमीद में कुछ नये की....पर तब मैं नहीं जानता था,तु मेरे लिये  नया कुछ भी  नहीं लाया है,जो तब मेरे पास था,तु उसे मुझसे छीनने  आया ह... Read more
clicks 89 View   Vote 0 Like   10:12am 23 Dec 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
नहीं करते कल्पना जिसकी,जीवन में वो भी घट जाता है,ये कैसे हुआ, क्यों हुआ,आदमी सोचता रह जाता है....नहीं जानता ये मनुज,कल क्या होने वाला है,वो तो अपने हिसाब से,शुभ-शुभ सोचता जाता है.....हमने अलिशान महल को,खंडर होते देखा है,हरे-भरे उपवन  को भी,बंजर होते देखा है....होनी तो होकर रहती ह... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   7:43am 7 Dec 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
<iframe>ओ श्री राम,तुम्हे त्रेता में भी वनवास मिलाइस कलियुग में भी।वो वनवास चौदह वर्ष के लिये थाये वनवास न जाने कितना लंबा होगा....</iframe><iframe>अगर तुम्हे वनवास न मिलता,अहिलया का उधार कैसे होता,मां शबरी की इच्छा अधूरी रह जाती,न सुगरीव को न्याय मिल पाता,असुरों का विनाश कौन करत... Read more
clicks 90 View   Vote 0 Like   6:07am 4 Dec 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
मेरे भारत में सब के लिये रोटी हैं?न जाने इन बच्चों को भोजन क्यों नहीं मिलता।आंगनबाड़ी स्कूल में,दोपहर का भोजन मिलता है,डिपुओं में निशुल्क   भाव में,ससता राषण दिया जाता है,हर गाड़ी के आते ही,क्यों ये हाथ फैलाते हैं,ये गाड़ी से फैंके झूठन से,अपनी भूख मिटाते हैं....ये किस ... Read more
clicks 101 View   Vote 0 Like   10:51am 13 Nov 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
हम भारत के मत दाता है....हमारे पास मत देने का अधिकारआज से नहीं त्रेता युग से है,हमने तब भीअपना मत दिया था श्रीराम को राजा बनाने के लिये"श्री राम हमारे राजा होंगे"पर श्री राम को वनों में भेजा गयाहमने नहीं पूछातब भी राजा सेहमारे मत के अधिकार का क्या हुआ? हम भारत के मत दाता ह... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   7:46am 23 Oct 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
तुम बिन पिताजीअब हम कैसे मनाएंगे दिवालीअपने हाठों से लाई मिठाईखाने में वो आनंद नहीं आएगा....पर इस दिवाली पर भी,हम  जलाएंगे  दीपककरेंगे  प्रकाश,तुम्हारे लिये....हम  जानते हैं तुम्हे अपने  घर मेंफैला हुआ अंधकारअच्छा नहीं लगेगा...हम  ये भी जानते हैं तुम आओगेकिसी न क... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   12:30pm 16 Oct 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
आज़ादी की 71वीं वर्षगाँठ परपूछता हूं मैं,भ्रष्ट नेताओं सेबिके हुए अधिकारियों से,  स्वतंत्रता दिवस परया गणतंत्रता दिवस परतुम तिरंगा क्यों लहराते हो?...तुम  क्या जानो  तिरंगे का मोल...एक वो थे,जो आजादी के लिये मर-मिटेएक ये हैं,जो आजादी को मिटा रहेनेताओं को  चंदा मिल रह... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   7:30am 18 Aug 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
ओ गुड़िया!तुम ने भी तोहवस के उन दरिंदों से अपनी रक्षा के लिये.द्रौपदी   की तरहईश्वर को हीपुकारा  होगापर तुम्हे बचाने  ....ईश्वर भी नहीं आए....ओ गुड़िया!तुम भी तोउसी देश की बेटी थीजहां बेटियों को देवी समझकर पूजा जाता हैजहां की संस्कृति  मेंकन्या ही दुर्गा का रूप है... Read more
clicks 107 View   Vote 0 Like   9:40am 20 Jul 2017 #चिंगारी
Blogger: kuldeep thakur
[दिनांक 28 जून 2017 को पूजनीय पिता श्री की समृति में जन सेवा के उदेश्य से एक पीने के पानी का नल स्थापित किया गया साथ ही पूजा उपरांत पिता जी की फोटो दिवार पर स्थापित की गयी] ओ पिता जीअब तो तुम भीईश्वर बन गये हो,तभी तोईश्वर की तसवीर के साथतुम्हारी तसवीर भीहार पहनाकरदिवार पर टा... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   9:43am 11 Jul 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
किसान आज से नहीं,सदियों से आत्महत्या कर रहे हैं,उगाते तो हम  अनाज हैं,पर खुद भूखे मर रहे हैं।मैंने एक और किसान कि आत्महत्या के बादआंदोलन कर रही भीड़ केएक बूढ़े किसान से पूछावो किसान क्यों मरा?"बेटा वो मरा नहींआज तो वो   जिवित हुआ,मरा तो वो पहले कई बार,  एक बार नहीं ... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   6:46am 24 Jun 2017 #क्रांति
Blogger: kuldeep thakur
[दिनांक 30 अप्रैल 2017 को मेरे पूजनीय पिता जी श्री ठाकुर  ईश्वर सिंह इस भू लोक को त्याग कर चले गये...जीवन में उनकी कठिन तपस्या से ही आज हम   सुखद जीवन जी पा रहे हैं....]"हे ईश्वर मेरे पूजनीय पिता जी को....अपने पावन चरणों में स्थान देना...."ओ मेरे  पूज्य    पिता जी,कल तक मैंखुद ... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   10:34am 22 May 2017 #
Blogger: kuldeep thakur
शूल की चुभन,बहुत पीड़ा देती है,पर शायदउतनी पीडा नहीं,जितनी फूल की चुभन,....देती है....वो बेटेभूल चुके हैं  सब कुछअपने  मां-बाप को भी,उन के सप नों को भी,जिन्हे  याद है अब ...केवल नशा ...जो माएं मांगती रही दुआलंबी आयु कीअपने बेटों  के लिये आज वो भी अपनी दुआ में,....अपनी खुशियांं&nb... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   7:13am 11 Apr 2017 #नशा
Blogger: kuldeep thakur
तुम बैठे हो आसन  परआज हम शोर मचाएंगे,तुम्हारे अच्छे कामों को भी,मिट्टी में ही  मिलाएंगे...तुमने भी यही किया,अब हम भी यही करेंगे,पहले तुमने हमे गिराया,अब फिर   तुम्हे गिराएंगे...जंता तो है घरों में बैठी,वो क्या जाने सत्य क्या है,किसी पर झूठे आरोप लगे हैं,कोई दोषी  भी ... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   10:50am 1 Feb 2017 #लीडर
Blogger: kuldeep thakur
इंडिया-इंडिया कहते-कहते,हम हिंदूस्तान को भूल गये,आजाद हो गये लेकिन फिर भी,अपनी पहचान ही भूल गये।...जलाते हैं दिवाली में पटाखे,खेलते हैं रंगों से होली,याद रहा रावण को जलाना,राम-कृष्ण को भूल गये...नहीं पता अब बच्चों को,बुद्ध,  महावीर, गोविंद  कौन हैं?मुगलों का इतिहास याद ह... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   10:01am 28 Jan 2017 #कुलदीप की कविता।
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post