Hamarivani.com

मन का मंथन [man ka manthan]

तुम बैठे हो आसन  परआज हम शोर मचाएंगे,तुम्हारे अच्छे कामों को भी,मिट्टी में ही  मिलाएंगे...तुमने भी यही किया,अब हम भी यही करेंगे,पहले तुमने हमे गिराया,अब फिर   तुम्हे गिराएंगे...जंता तो है घरों में बैठी,वो क्या जाने सत्य क्या है,किसी पर झूठे आरोप लगे हैं,कोई दोषी  भी ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :लीडर
  February 1, 2017, 4:20 pm
इंडिया-इंडिया कहते-कहते,हम हिंदूस्तान को भूल गये,आजाद हो गये लेकिन फिर भी,अपनी पहचान ही भूल गये।...जलाते हैं दिवाली में पटाखे,खेलते हैं रंगों से होली,याद रहा रावण को जलाना,राम-कृष्ण को भूल गये...नहीं पता अब बच्चों को,बुद्ध,  महावीर, गोविंद  कौन हैं?मुगलों का इतिहास याद ह...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  January 28, 2017, 3:31 pm
जो समझते रहे हमें वोट,हार उन्हे पहनाते रहे,गणतंत्र-दिवस मनाते-मनाते, गणतंत्र का अर्थ, अब जान गये।दिया किसी ने आरक्षण,किसी ने सस्ती दालें दी,खाकर सभाओं में लड्डू,बस तालियां बजाते रहे,गिराकर मंदिर-मस्जिद,बस करा दिये दंगे,उनको तो मिल गया राज,हम व्यर्थ ही खून बहाते रहे।ह...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  January 27, 2017, 4:00 pm
इस कड़ाके की सर्दी में,वो इकठ्ठा परिवार ढूंढता   हूं। दादा दादी की कहानियां,चाचा-चाची का प्यार ढूंढता   हूं...खेलते थे अनेकों खेल,लगता था झमघट बच्चों का,मोबाइल, टीवी के शोर में,बच्चों का संसार ढूंढता  हूं...लगी रहती थी घर में,अतिथियों  से रौनक,पल-पल सुनाई देती आह...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  January 18, 2017, 3:40 pm
हम आए अकेले, इस दुनियां में,न लाए साथ कुछ दुनियां में,शक्स ही रहे तो मर जाएंगे,बनो शक्सियत इस दुनियां में।जो भी मन में प्रश्न हैं,उनका उत्तर गीता में पाओ,जब ज्ञान दिया खुद ईश्वर ने,क्यों भटक रहे हो दुनियां में।जो ज्ञान न मिला भिष्म  को,न द्रौण को, न विदुर को,वो ही  ज्ञान ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कर्म
  January 13, 2017, 3:33 pm
नानक के इस धरा पर,हैं गुरु आज, कई हजार,पर  नानक सा   नहीं  है कोई,इसी लिये है अंधकार...जब भूल गये थे गीता को,श्री कृष्ण की अमर कविता को,   अन्याय, अधर्म  का राज्य था,हो रहा था शोषण जंता का।तब नानक ने गीता समझाई,गुरु ग्रंथ में लिखा सार...कहा था ये  दशम गुरु ने,गुरु ग्रं...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :
  November 19, 2016, 3:56 pm
जो  बच्चे, मां के साथ हैं,पापा को ढूंढ़ते हैं,जिन के पास, केवल  पापा हैं,वो तरसते हैं,मां की ममता को...बच्चों कोआवश्यक्ता होती है,दोनों के प्रेम की,दोनों में से,एक का न होना,बच्चे का सबसे बड़ा दुर्भाग्य होता है...जो माता-पिता,तलाक के लिये,कतार में खड़ें है,वे अपने बच्चों ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :तलाक
  October 19, 2016, 3:37 pm
हम जलाते हैं हर बार,पुतला केवल रावण का,जिसने अपनी बहन के अपमान काबदला लेने की खातिरसीता जी का हरण किया।न स्पर्श किया,न अपमान किया,अशोक-वाटिका में,अतिथि सा मान दिया।हम दशहरे के दिन, भूल जाते हैं,आज के उन रावणों को,जिन्हें न तीन वर्ष की बेटी की,मासूमियत दिखती है,न कौलिज ज...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  October 11, 2016, 5:29 pm
इन 32 वर्षों में,सब कुछ बदला है।पर्व, मेले,  त्योहार भी,रिति-रिवाज, संस्कार भी।पीपल नीम अब काट  दिये,नल, उपवन भी बांट दिये,अब चरखा भी कोई नहीं बुनता,दादा की कहानियां भी नहीं सुनता।मेरा गांव,  शहर बन गया,भाईचारा  अपनापन गया।पहले घर थे चार,पर नहीं थी बीच में दिवार।अब घर ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :मां
  September 4, 2016, 12:21 pm
आज हर बहन खुद कोअसुर्क्षित महसूस कर रही है।राखी बांधते हुएअपने भाइयों  से कह रही है।केवल मेरी ही नहीं,हर लड़की की    करना रक्षा,भयभीत है आज सभी, सभी को चाहिये सुर्क्षा।जानते हो तुम भया, दुशासन खुले   घूम रहे  हैं,अकेली असहाय लड़कियों को,तबाह करने के लिये ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :भारतीय त्योहार
  August 18, 2016, 11:07 am
हे भारतआज तुम बिलकुल अकेले हो,इस महाभारत के रण में,न कृष्ण हैन अर्जुन,न धर्मराज,आज विदुर भी,तुम्हारा हित नहीं चाहता।भिष्म द्रौणऔर कृपाचार्य की निष्ठा,आज मात्रभूमि के प्रति नहीं,कुर्सी के प्रति है...आज भी जंग भी,सिंहासन के लिये ही है,पर आज के राजा,तुम्हारी खुशहाली नहीं,अ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :आम आदमी
  August 16, 2016, 11:59 am
आप सभी को भारत के पावन पर्व स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं...जो नहीं कहते  वंदे मातरम,पाकिस्तानी झंडा लहराते हैं,जो दे रहे हैं देश को गालीवो कौन है? वो कौन हैं?जो पनाह देते हैं, आतंकवादियों को,भारत को खंडित करना चाहते हैं,अफजल की फांसी का विरोध करने वाले,वो कौन है,? वो कौन ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  August 15, 2016, 5:02 pm
न बच्चों के हाथ में,कागज की कश्तियाँ न इंतजार है,परदेस से   पिया का।नहीं दिखते अब    झूलें बागों में,   न मेलों मे रौनक,न तीज त्योहारों में।अब तो सावनडराता है,विक्राल रूपदिखाता है।कहीं बाड़ आती है,कहीं फटते हैं बादल,होती है प्रलय,करहाते हैं मानव।सूखे नाले भीकोहर...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :आपदा
  August 1, 2016, 8:08 pm
मैं एकलव्य हूं,मेरी रुह आहत नहीं हुई,जब गुरु द्रोणाचार्य नेअर्जुन को विश्व का सर्वश्रेष्ठ धर्नुधारी बनाने के लिये  मुझ  से गुरु-दक्षिणा में,मेरे दाहिने हांथ का अँगूठा मांगा था...मेरे गुरु ने तो केवलमेरे दाहिने हांथ का अँगूठा ही  मांगा थाजो सहहर्ष मैंने दे दिया था,...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  July 19, 2016, 4:33 pm
आतंकवाद का जन्मभूख से हुआ,जेहाद के कारण,पला-बढ़ा,जैसे त्रेता युग में,राक्षसों ने था आतंक मचाया,वैसे ही   सारी दुनिया में,भय है आतंकवाद का...आतंकवादी तो  बेचारा,क्या करे हालात  का मारा,खिलौने नहीं, शस्त्र  मिले,प्रेम नहीं, डंडे खाए, ज्ञान  नहीं, जनून बढ़ाया,मन से म...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :आतंकवाद
  July 8, 2016, 9:03 am
आज सुबह फिरमेरे पड़ोस से,हंसमुख दादा   कीवोही आवज सुनाई दी,"अब हाथ में लाठी,आंख पे ऐनक,थके पांव,तन पे झुर्रियाँ न मुंह में दांत,झड़ गये बालबोलो बेटा अब कहां जाऊं"...याद आया मुझे,एक दिन खलियान में,हंस मुख दादा,अपने मित्र से रोते हुए बोले थे,"एक ख्वाइश थी,अपना घर हो,ख्वाइश प...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  June 28, 2016, 3:36 pm
शौक आदत बन गयीअब क्या करें?नशा है जहरअब क्या करें?आशाएं मां-बाप कीदर दर भटक रही,उनके बिखरे  अर्मानों का,अब क्या करें?समझाया था बहुतन सुनी तब  किसी की,ओ समझाने वालों बताओ,अब क्या करें?न होष है खुद कीन पास है कोई हितेशी,   जीवन है अनुमोल,अब क्या करें?वो दोस्त  भी तबाह ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  June 17, 2016, 3:16 pm
हम बंद कमरों में बैठे हैं,पंछी तो गीत गाते हैं,मां  के पास वक्त नहीं है, बच्चे लोरी सुनना चाहते हैं।न कल कल झरनों नदियों की,न किलकारियां मासूम बच्चों की,संगीत नहीं है जीवन में,निरसता में पल बिताते हैं।वर्षों बाद  गया    चमन में,लगा जैसे स्वर्ग यहीं है,क्रितरिम ह...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :जिंदगी
  May 17, 2016, 12:25 pm
[धन्यवाद... कुलदीप ठाकुर... ईमेल: kuldeepsingpinku@gmail.com संपर्क नंबर 9418485128, 9459385128]...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :क्रांतिकारी
  May 7, 2016, 4:25 pm
एक धर्म थावैदिक धर्मएक जाती थीमानव जाती,एक भाषा थीजिस में वेद रचे,एक शिक्षा थी,वैदिक शिक्षा,एक लोक थाभूलोक....नाम के लिये,आज धर्म कई हैं,जातियों की तोगिनती नहीं हैं,हर भाग की अपनी भाषाएं हैं,शिक्षा का कोईअब आधार नहीं है,धरा बंट चुकी हैकई भागों में...जब से बंटा हैये सब कुछ,ब...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :कुलदीप की कविता।
  May 2, 2016, 4:12 pm
मैं करण हूंमुझे याद हैअपनी भूलों परमिले हर श्राप पर मैं मुक्त हो चुका थाहर श्राप  से।मैंने तो बससब कुछ लुटाया ही थाकिसी से कुछ नहीं मांगा,अपनी मां से भी नहीं।हे कृष्णतुम साक्षी हो....मैं नहीं जानताये वंश  भेद काश्राप  मुझे किसने दियान मैं ये जानता हूं,ये श्राप  मु...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :आरक्षण
  April 26, 2016, 12:59 pm
हुआ नव वर्ष का  आगमन,कह रहा प्रकृति का कण कण  न जरूरत किसी  केलेंडर कीन हो पास पंचांग  भी,प्रकृति और आकाश  को देखो,ये सब  खुद बताते हैं,हम पूरे अभी आजाद कहांईस्वी केलेंडर   से काम चलाते हैं।  दिवाली,  दशहरा,  होली, विवाह  शुभ मुहूर्त, यज्ञ,  कथा,  सभी  ...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :नव वर्ष
  April 8, 2016, 4:26 pm
बीते कल नेअनुभव दिये,उन अनुभवों सेआज कर्म किये,अब कल के लियेकई ख्वाब सजाए,मन में हैंकई आशाएं।आशाएं हैंजब तक मन मेंतब तक मानव सुखी है।जब निर्ाशाबस गयी मन में,समझो   मानवअब  दुखी है।खुशी और गमअवस्था है मन की,खुशी और गमआवशयक्ता है जीवन की।[धन्यवाद... कुलदीप ठाकुर... ई...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :जिंदगी
  April 6, 2016, 2:34 pm
भारत को आज फिर सेश्री राम की जरूरत है,अर्जुन धर्म संकट में है,श्री गीता की जरूरत है।उठ रही है फिर आवाजेंभारत को खंडित करने की,अखंड भारत कह रहा है,सरदार पटेल की जरूरत है,  देश की रक्षक  सैना आज भीनिर्भय खड़ी है सरहदों पर,मां भारती से कह रहे हैं,नेता सुभाष    की  जरू...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :क्रांति
  March 11, 2016, 3:09 pm
kकभी राष्ट्र गीत का विरोध,कभी गायत्रि मंत्र काकभी पाकिस्तानी झंडा लहराना कभी राष्ट्र विरोधी नारे।तब कहते सुना है सब को,ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता है।  वंदे मातरम,   भारत माता की जय। नारे लगाने वालों कोराष्ट्रप्रेम की बात करने वालों कोसामप्रदाइक कहा जाता है...
मन का मंथन [man ka manthan]...
Tag :भारत
  March 4, 2016, 3:30 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163856)