Hamarivani.com

भूत-प्रेत की कहानियाँ

सच्चा प्रेम बहुत मुश्किल से मिलता है, क्योंकि आज के स्वार्थ से परिपूर्ण जीवन में, दुनिया में सच्चे प्रेम का महत्व रह ही नहीं जाता। कहीं खूबसूरती के दिवाने मिल जाते हैं तो कहीं वाकपटुता एक दूसरे को करीब ला देती है पर अधिकतर मामलों में हवस ही प्रधान होती है। चार दिनों का ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  March 21, 2015, 6:17 pm
इस फोटो को भेजा है - सुश्री बबिता शर्माजी नेकहानी शुरू करने से पहले यह जान लेना जरूरी है कि बुड़ुआ क्या होता है?दरअसल बुड़ुआ भी एक तरह का भूत ही है। ऐसा माना जाता है कि अगर कोई प्राणी पानी में डूबकर मरता है तो वह बुड़ुआ (एक प्रकार का भूत) बन जाता है।पहले के समय में लोगों का य...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  February 23, 2015, 11:50 am
भारत ही नहीं अगर विश्व की बात करें तो बहुत सारे ऐसे पढ़े-लिखे लोग मिल जाएंगे जो भूत-प्रेत, आत्मा में विश्वास करते हैं। आए दिन भूत की खबरें पढ़ने को या देखने को मिलती हैं। कभी-कभी कुछ लोगों के कैमरे में भी ऐसी आत्माएँ शूट हो जाती हैं।भूत है या नहीं यह अलग विषय है पर जो लोग अ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  November 25, 2014, 11:52 am
प्रभाकर पांडेय (चित्र- प्रभात पांडेय)बात बहुत ही पुरानी है। उस समय ग्रामीण लोग अधिकतर एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए बैलगाड़ी आदि का उपयोग करते थे। कोई भी शुभ त्योहार हो, या कोई प्रयोजन, बड़ा से बड़ा मेला जगह-जगह लगता था और मेला जाने के लिए लोग लगभग 10-15 दिन पहले से ही तैयार...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  September 28, 2014, 12:22 pm
अभी-अभी हाल ही में तो खमेसर आया था इस कस्बे में। ऐसा कस्बा जो धीरे-धीरे शहर का रूप ले रहा था। इधर-उधर, दूर-दूर तक निर्माणाधीन बिल्डिंगें बिखरी पड़ी थीं। कहीं-कहीं, आस-पास में कई सारी बिल्डिंगें बन रही थीं तो कहीं-कहीं एकदम से सन्नाटा पसरा था। दूर-दूर तक एक भी घर नहीं तो किस...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  August 24, 2014, 1:44 pm
फोटो का कहानी से कुछ भी लेना-देना नहींबार-बार सुनने को मिलता है कि 100 अपराधी छूट जाएँ पर किसी निर्दोष को सजा नहीं होनी चाहिए। पर क्या वास्तव में ऐसा होना चाहिए? क्या अपराधी का बच निकलना समाज हित में है?शायद नहीं। क्योंकि कमजोर कानून का फायदा उठाकर कितने अपराधी बच निकलते ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  July 23, 2014, 3:16 pm
।।जय बजरंग बली।।भोजपुरी में एक कहावत है कि भाग्यशाली का हल भूत हाँकता है (भगीमाने के हर भूत हाँकेला)। खैर यह तो एक कहावत है पर अगर कभी ऐसा हो जाए कि कोई प्रेत 24सों घंटा आपकी सेवा में हाजिर हो जाए तो आपको कैसा लगेगा?अगर आप किसी ऐसे बिगड़ैल, भयानक प्रेत को डाँटकर अपना काम कर...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  June 22, 2014, 12:08 pm
बँसखटिया के आनंदरमेसर काका के पास एक लेहड़ा गायें थीं। वे प्रतिदिन सुबह ही इन गायों को दुह-दाहकर चराने के लिए निकल पड़ते थे। सुबह से लेकर शाम तक रमेसर काका गायों को लेकर इस गाँव से उस गाँव, तो कभी नदी किनारे, तो कभी-कभी इस जंगल से उस जंगल घूमा करते थे और दिन ढलते ही गाँव की ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :चुड़ैल
  May 18, 2014, 1:44 am
फोटो, साभार- www.telegraph.co.ukरमेसर काका जब यह भूतही कहानी सुनाना शुरू किए तो हम मित्रों को पहले तो थोड़ा डर लगा पर बाद में भूतों से हमदर्दी होने लगी। हमने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि एक भूतनी भगवान बनकर सामने आ जाएगी और अपनी जान पर खेलकर किसी की जान बचा जाएगी। जी हाँ। यह कहानी ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :चुड़ैल
  April 15, 2014, 7:47 pm
इस चित्र का इस भूतही काल्पनिक कहानी से कुछ भी लेना-देना नहीं।रात के अंधेरे में मैकू अपनी कार को दौड़ाए जा रहा था। मैकू को खुद कार चलाना और दूर-दूर की यात्राएँ करना बहुत ही पसंद था। मैकू की बगल वाली सीट पर उसका दोस्त रमेश बैठा था। वे दोनों मुंबई से मैहर भगवती के दर्शन के ल...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :चुड़ैल
  March 25, 2014, 11:27 am
महुआनीगर्मी का महीना। खड़-खड़ दुपहरिया। रमेसर भाई किसी गाँव से गाय खरीद कर लौटे थे। गाय हाल की ही ब्याई थी और तेज धूप के कारण उसका तथा उसके बछड़े का बुरा हाल था। बेचारी गाय करे भी तो क्या, रह-रह कर अपने बछड़े को चाटकर अपना प्यार दर्शा देती थी। रमेसर भाई को भी लगता था कि गाय...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  February 25, 2014, 4:39 pm
मैदानी भागों में भी अगर किसी कल-कल बहती नदी के किनारे कोई छोटा सा गाँव हो, आस-पास में हरियाली ही हरियाली हो, शाम के समय गाय-बकरियों का झुंड इस नदी के किनारे के खाली भागों में छोटी-बड़ी झाड़ियों के बीच उग आई घासों को चर रहा हो, गायें रह-रहकर रंभा रही हों, बछड़े कुलाछें भर रहे ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  December 21, 2013, 11:33 am
बेटी है तो कल है (चित्र साभार-movies.ndtv.com )(पेश है, एक सुनी घटना पर आधारित भूतही कहानी!!!!!)कभी-कभी क्या,हमेशा ही ऐसा होता है मेरे साथ। जब भी इंसान के बारे में सोचता हूँ तो गुस्से से तिलमिला उठता हूँ। कभी हँसना तो कभी रोना आता है इस इंसान पर। बड़ी-बड़ी बातें करने वाला इंसान, नैतिकत...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  November 24, 2013, 1:43 pm
"जो करे बनारस गंगा स्नाना, उसके पास भूत-प्रेत कभी नहीं आना"भूत की कहानी भी सत्य हो सकती है क्या? कुछ लोग इसपर सत्यता की मुहर लगाते हैं तो कुछ लोग गढ़ी हुई मान कर रोब जमाते हैं। खैर मैं तो यह मानता हूँ कि अगर भगवान का अस्तित्व है तो भूत-प्रेतों का क्यों नहीं?पर यह भी सही है कि ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  October 22, 2013, 1:47 pm
रमेसर बाबू अपने कार्यालय में अपनी सीट पर बैठकर फाइलों को उलट-पलट रहे थे। उनका कार्यालय ग्रामीण क्षेत्र में था जहाँ जाने के लिए कच्ची सड़कों से होकर जाना पड़ता था। अरे इतना ही नहीं, कार्यालय के आस-पास में जंगली पौधों की अधिकता थी, कहीं कहीं तो ये जंगली पौधे इतने सघन थे कि ...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  September 22, 2013, 6:13 pm
 कभी-कभी पाठक वर्ग की यह माँग होती है कि अधूरी कहानी क्यों??? धारावाहिक क्यों??? क्योंकि कुछ लोगों को लगता है कि कड़ी में मनोरंजनपूर्ण या भूतही कहानी सुनाने पर उतना आनंद नहीं आता। इसी को ध्यान में रखकर अब जो भी कहानी प्रस्तुत की जाएगी, वह पूरी की पूरी।।डिहबाबा (डिहुआर बा...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  August 21, 2013, 8:41 pm
ग्राम-मंदिर, गोपालपुर, पथरदेवा, देवरियाआइए, आपलोगों को एक बार फिर भूतों के साम्राज्य में ले चलता हूँ। भूतों से मिलवाता हूँ और एक सुनी हुई काल्पनिक घटना सुनाता हूँ। यह घटना हमारे गाँव के एक बुजुर्ग पंडीजी बताते थे और पंडीजी जब यह आपबीती सुनाते थे तो सुनने वालों के रोंगट...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  July 14, 2013, 11:33 am
पिछली कहानी में आपने जाना था रमकलिया को। एक षोडशी, एक ऐसी किशोरी जो बिंदास स्वभाव की थी, निडरता की महारानी थी।यहाँ पिछली कहानी के अंतिम पैराग्राफ को देना उचित प्रतीत हो रहा है- {एक दिन सूर्य डूबने को थे। चरवाहे अपने गाय-भैंस, बकरियों को हांकते हुए गाँव की ओर चल दिए थे। अं...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  June 23, 2013, 2:02 pm
रमकलिया, जी हाँ, यही तो नाम था उस लड़की का। सोलह वर्ष की रमकलिया अपने माँ-पाप की एकलौती संतान थी। उसके माँ-बाप उसका बहुत ही ख्याल रखते थे और उसकी हर माँग पूरी करते थे। अरे यहाँ तक कि, हमारे गाँव-जवार के बड़े-बुजुर्ग बताते हैं कि गाँव क्या पूरे जवार में सबसे पहले साइकिल रमकल...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  April 18, 2013, 1:02 pm
रमकलिया, जी हाँ, यही तो नाम था उस लड़की का। सोलह वर्ष की रमकलिया अपने माँ-बाप की इकलौती संतान थी। उसके माँ-बाप उसका बहुत ही ख्याल रखते थे और उसकी हर माँग पूरी करते थे। अरे यहाँ तक कि, हमारे गाँव-जवार के बड़े-बुजुर्ग बताते हैं कि गाँव क्या पूरे जवार में सबसे पहले साइकिल रमकल...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :टोना
  April 18, 2013, 1:02 pm
पाठक गण,सादर नमस्कार।।आज एक ऐसी घटना का वर्णन सुनाने जा रहा हूँ जो भूत-प्रेत से संबंधित तो नहीं है पर है चमत्कारिक। यह घटना सुनाने के लिए मैंने कई बार लेखनी उठाई पर पता नहीं क्यों कुछ लिख नहीं पाता था..पर आज पता नहीं क्या चमत्कार हुआ कि अचानक मूड बना और मैंने इस घटना को ले...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :
  August 29, 2012, 8:36 pm
आधुनिक समय में भूत-प्रेत अंधविश्वास के प्रतीक के रूप में देखे जाते हैं पर कुछ लोग ऐसे भी हैं जो भूत-प्रेतों के अस्तित्व को नकार नहीं सकते। कुछ लोग (पढ़े-लिखे) जिन्हें भूत-प्रेत पर पूरा विश्वास होता है वे भी इन आत्माओं के अस्तित्व को नकार जाते हैं क्योंकि उनको पता है कि अग...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :डायन
  December 15, 2011, 10:28 am
पाठकगण,सादर नमस्कारआज मैं भूत-प्रेत से अलग एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ...आशा है यह भी आप लोगों को पसंद आएगी....कृपया इस घटना पर अपनी बेबाक टिप्पणी अवश्य दें। सादर धन्यवाद।ज्योतिष वेदांग है और यह कभी गलत हो ही नहीं सकता। हाँ अगर ज्योतिष के आधार पर कोई गणना की जाए और गणना...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :डायन
  December 13, 2011, 11:10 am
जी हाँ, यह बात मुझे भी पूरी तरह से बनावटी लग रही है पर बतानेवालों की सुने तो यह एकदम सत्य घटना है। खैर जो भी हो पर यह घटना जिस व्यक्ति के साथ घटी उससे तो मैं नहीं मिला हूँ और मिलता भी कैसे क्योंकि इस घटना को घटे 55-60 साल हो गए हैं। और इस घटना के घटने के 5-6 साल बाद वह व्यक्ति भी प्र...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :डायन
  December 11, 2011, 6:17 pm
कहते हैं कि 'देनेवाला जब भी देता, देता छप्पर फाड़ के' पर ये जो देनेवाला है वह ईश्वर की ओर इशारा कर रहा है पर आपको पता है क्या कि अगर कोई भूत भी अति प्रसन्न हो जाए तो वह भी मालदार बना देता है। जी हाँ, हम आज बात कर रहे हैं एक ऐसे भूत की जिसने एक घूम-घूमकर मूँगफली और गुड़धनिया (गुड...
भूत-प्रेत की कहानियाँ...
Tag :डायन
  December 9, 2011, 9:29 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165905)