POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: कोइलख एक्सप्रेस

Blogger: अंकुर कुमार झा
 सरदार की खोज में गुजरात ने इस बार सारे रंग देख लिए । विकास भी पागल हुआ। पाकिस्तान की भी एंट्री हुई। किसी ने हाफिज का जिक्र किया तो किसी ने ISI का। एक बार जब जुबान खुली और मर्यादा गिरी तो गिरती चली गई। खिलजी और तुग़लक से होते हुए बात बाबर, अकबर और औरंगजेब तक पहुंची। नीची हो... Read more
clicks 56 View   Vote 0 Like   8:18am 15 Dec 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
इवांका का जन्म न्यूयॉर्क के मेनहेट्टन में 30 अक्टूबर, 1981 को हुआ था। इवांका की मां इवाना और पापा डोनल्ड ट्रंप के बीच साल 1991 में ही तलाक हो गया था। तब इवांका सिर्फ 9 साल की थीं।  इवांका के कुल 4 भाई-बहन हैं। दो भाई और एक बहन और एक भाई। इवांका अंग्रेजी के साथ-साथ फ्रेंच भी बोलती ... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   4:03pm 27 Nov 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
गब्बर सिंह टैक्स, ग्रेट सेल्फिश टैक्स, गुड एंस सिम्पल टैक्स, गौ सेवा टैक्स । पता नहीं कितने नाम हैं GST के। नेताओं के बीच तो मानो जंग छिड़ी हुई है नामकरण को लेकर । इतनी मेहनत तो कोलंबस ने भी नहीं की होगी किसी देश को खोजने में, जितनी शिद्दत से हमारे माननीय GST का नया-नया नाम ढूं... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   3:55pm 8 Nov 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
दुनिया के सबसे कम उम्र का एक तानाशाह, जो अपनी बदमिजाजी के लिए कुख्यात है। जिसकी क्रूरता की अनंत कहानी है। छोटे से मुल्क का सिरफिरा सेना प्रमुख, जो अपनी जिद के आगे किसी को कुछ भी नहीं समझता । वो बददिमाग क्रूर शासक, जिसकी जुबान ही उस देश का कानून है । जो खुद को खुदा से कम नही... Read more
clicks 115 View   Vote 0 Like   8:10am 7 Nov 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
1. नॉर्थ कोरिया का क्रूर तानाशाह किम जोंग क्रूरता की पाराकाष्ठा पार चुका है। किम जोंग की खूनी दास्तां की एक से बढ़कर एक कहानी जगजाहिर है। सिरफिरे किम जोंग के जुल्म के एक से बढ़कर एक किस्से हैं। दिल और दिमाग से बेहद सख्त ये शख्स एक नंबर का इश्क मिजाज भी है। यूं तो किम जोंग ... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   8:17am 3 Nov 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
एक झोपड़ी से निकलकर राजनीति के आसमान में झिलमिल सितारों की तरह चमकने वाले लालू यादव हों...या एक गांव के स्कूल में पढ़ाते-पढ़ाते समाजवादी सियासत के शिरोमणि बने मुलायम सिंह या फिर दिल्ली की एक गली से निकलकर लखनऊ के महल में विराजने वाली मायावती हो ...चौटाला...जयललिता...डीके श... Read more
clicks 83 View   Vote 0 Like   7:16am 8 Sep 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
इलजारयल...एक ऐसा देश जो चारों तरफ से दुश्मन देशों से घिरा हुआ है...इसके बाजवूद किसी की हिम्मत नहीं होती है कि उसकी तरफ आंख उठाकर देख सके....ऐसा यूं ही मुमकिन नहीं हुआ है....इसके पीछे है इजरायल के लोगों की स्वाभिमानी और देशभक्त सोच.। अब हम आपको बताते हैं कि क्या है इजरायल की वो... Read more
clicks 88 View   Vote 0 Like   11:02am 22 Jul 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
एक विशाल हिमपर्वत...ज़मीन ऐसी बंजर और दर्रे इतने ऊंचे कि जहां तक, पक्के दोस्त या फिर कट्टर दुश्मन ही पहुंच सकते हैं...चारों तरफ सफेद बर्फ की मोटी चादर...हाड़ गला देने वाली ठंड...जहां 15 सेकेंड में ही शरीर कोई खाली हिस्सा सुन्न पड़ सकता है...कहीं हज़ारों फ़ुट ऊंचे पहाड़ तो कहीं ... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   10:59am 22 Jul 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
कैलाश मानसरोवर....नाम सुनते ही आपके जेहन में जो तस्वीरें घूमती हैं...वो बेहद आनंद देती है...आस्था और विश्वास से ओतप्रोत हो जाता है मन,...आप किसी भी धर्म के हों...हिंदू हों, बौद्ध या फिर जैन या सिख....आप आस्था के अट्टालिका पर पहुंच जाते हैं सोचते-सोचते...हर साल एक बड़ा जत्था जाता है ... Read more
clicks 92 View   Vote 0 Like   10:55am 22 Jul 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
राजनीति में परिवारवाद का वटबृक्ष वक्त के साथ विशाल होता जा रहा है। कम्यूनिस्ट पार्टियों को छोड़कर कमोबेश हर दल में एक जैसी स्थिति है। सियासी दलों में हर डाल से एक बृक्ष बनता चला जा रहा है। ताज्जुब की बात ये है कि हर कोई राजनीति में परिवारवाद के खिलाफ बोलता है, लेकिन इसे... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   4:44am 27 Jan 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
एक बार फिर से वक्त का पहिया घूम रहा है। समझिए तकरीबन 25 बरस पहले... जब समाजवादी शिरोमणि मुलायम सिंह यादव ने रोटी , दाल ,कच्चा प्याज़ और नींबू खाकर सियासत की नई पारी शुरू की थी। लोकतंत्र के पाठ्यक्रम की सियासी किताब में एक नया अध्याय जोड़ा था समाजवादी पार्टी के नाम से। आज फिर ... Read more
clicks 122 View   Vote 0 Like   10:10am 3 Jan 2017 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
रेल मंत्री सुरेश प्रभु जी।  कहां से शुरू करूं। समझ में नहीं आता। बातें बहुत सारी है। दिक्कतों का खजाना है...शिकायतों का पुलिंदा है। ज़ख्मों को कुरेदना नहीं चाहता। लेकिन बयां करना जरूरी है। एक बार फिर अथाह दर्द है। पटना से लेकर इंदौर तक शोक है। आंखों में आंसू है। आपने फ... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   11:30am 20 Nov 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
मैं न तो बीजेपी समर्थक हूं। न कांग्रेस के साथ हूं। न ही दूसरी किसी पार्टी से  जायज या नजायज ताल्लुकात है मेरा। मैं कोई अर्थशास्त्री भी नहीं हूं। आम आदमी हूं। नफा-नुकसान का सीधा मतलब समझता हूं। लॉन्ग टर्म और शॉर्ट टर्म समझ में नहीं आता। यूं कहिए कि समझना नहीं चाहता। क्... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   10:55am 19 Nov 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
दिल्ली में पिछले 2-3 दिनों से चारों तरफ धुआं-धुआं है। दोपहर में अंधेरा सा है। कोहरा नहीं है। हवा में घुल चुके जहर का असर है। प्रदूषण की चादर से आसमान लिपटी हुई है। दिल्ली की सांसें फूल रही है। यकीन मानिए...दिल्ली की एक बड़ी आबादी ने ऐसी भयानक तस्वीर कभी नहीं देखी होगी। वाकई... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   10:54am 6 Nov 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
नेताजी, मेरी राजनीतिक समझ के हिसाब से आपकी ज़िंदगी में 23 अक्टूबर की तारीख बहुत ही दर्दनाक होगी। तकलीफ देनेवाली होगी। झकझोरनेवाली होगी। तिनका-तिनका जोड़कर जिस पार्टी को आपने बनाया। जिस परिवार को आपने दशकों तक जोड़ कर रखा। उसके दो फाड़ साफ-साफ दिख रहे थे। आपकी भावुकत... Read more
clicks 116 View   Vote 0 Like   12:34pm 24 Oct 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
बाबा के एक बयान के बाद टीवी पर गहमागहमी शुरू हो चुकी थी। ब्रेकिंग न्यूज़ चलने लगी थी। एंकर सब गला फाड़कर चिल्लाने लगा था। तभी मैडम के फोन की घंटी बजी। पार्टी के किसी वरिष्ठ नेता ने फोन किया था। मैडम, बाबा ने क्या कहा दिया है सुना आपने?  हां, सुना है।मैडम, वो मीडिया वाले... Read more
clicks 133 View   Vote 0 Like   1:18pm 9 Oct 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
2 दिनों के अंदर प्रधानमंत्री मोदी ने जिस लाचारगी भरे अंदाज़ में अपने गुस्से का इजहार किया, वो कई सवाल खड़े करते हैं। सवाल उठता है कि जो शख्स देश की सबसे ताक़तवर कुर्सी पर बैठा हो, वो ऐसे कैसे बोल सकता है? भक्त जिसकी तुलना शेर से करे वो इतना लाचार कैसे हो सकता है? या फिर संसद... Read more
clicks 132 View   Vote 0 Like   10:16am 8 Aug 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
नीतीश जीसर, गज़ब का शराब वाला कानून बनाया है आपने।  क्या धांसू आइडिया मिला है आपको। किसने दिया ये आइडिया । उस अफसर पर बलिहारी जाने को जी करता है। इस जबरदस्त आइडिया देनेवाले सलाहकार को कोई बड़ा सम्मान जरूर दिलाइएगा सर। मैं तो कहूंगा कि अबकी बार पद्म पुरस्कार के लिए को... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   11:00am 4 Aug 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
जाति उद्धारक को सुखस्वप्न आया। स्वप्नदेव ने बताया कि तुमलोगों के अच्छे दिन आरक्षण के रूप में सड़क पर घूम रहा है। सरकार की निगरानी में है। जागो, उठो और अपना हक़ छीन लाओ। फिर देखना, अगली इक्कीस पीढियों तक तुम्हारे आंगन में अच्छे दिन अठखेलियां करेंगे। पुश्त-पुश्त तक का क... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   1:55pm 22 Feb 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
आप जितना चाहें गरिया लीजिए रवीश कुमार को। फेसबुक, ट्विटर पर कोई भले ही आपको टोकने वाला नहीं हो। या फिर आपको टोकनेवाले से ज्याद आपके हां में हां मिलानेवालों की तादाद हो। लेकिन जब एकांत में बैठिएगा या फिर सुतते समय एक बार जरूर सोचिएगा कि कौन-कौन सी सच्ची बातें वो कह गया आ... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   7:25am 20 Feb 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
डियर बस्सी सर,आपकी विदाई का वक्त तय हो चुका है। आप जल्द ही अपने पद से रुखसत हो जाएंगे। जैसा कि ख़बरों में आ रहा है कि रिटायरमेंट के बाद आप किसी दूसरे दफ्तर की शोभा बढ़ानेवाले हैं। अच्छी बात है। भगवान आप की जैसी किस्मत हर किसी को दे। नौकरी के साथ भी, नौकरी के बाद भी। वैसे अच... Read more
clicks 207 View   Vote 0 Like   2:17pm 18 Feb 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
रोहित वेमुला ने खुदकुशी कर ली। एक नौजवान मर गया। जिम्मेदार कौन है। पता नहीं। साथी कह रहे हैं कि हत्या हुई है। जिम्मेदारी तय करो। लेकिन सरकार के मंत्री उसकी जाति तय करने में अपनी पूरी एनर्जी खर्च कर रहे हैं। मोदी जी मौन हैं।रोहित के साथी हैदराबाद यूनिवर्सिटी में अनशन प... Read more
clicks 247 View   Vote 0 Like   4:18pm 1 Feb 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
महिलाओं के मंदिर में या फिर मजार पर प्रवेश और पूजा को लेकर शुरू हुई बहस अंतिम निष्कर्ष तक पहुंचना चाहिए। इसे टीवी डिबेट में खपाकर अधूरा छोड़ना ठीक नहीं होगा। हिंदू या मुस्लिम किसी भी धर्म के तमाम अगुवा को अपनी पुरानी परंपरा में परिवर्तन करने की हिम्मत दिखानी चाहिए। इ... Read more
clicks 203 View   Vote 0 Like   5:52am 31 Jan 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
पश्चिम बंगाल के मालदा में जो हुआ वो डरावना है। देश के लिए बेहद खतरनाक है। लेकिन उससे ज्यादा खतरनाक है उस घटना पर लोगों की चुप्पी। किसी को फिक्र नहीं है। न सरकार को। न मीडिया को और नहीं देश के बुद्धिजीवियों को। हर किसी ने चुप्पी साध ली है। जैसे कुछ हुआ ही नहीं। हुआ भी तो म... Read more
clicks 164 View   Vote 0 Like   9:12am 6 Jan 2016 #
Blogger: अंकुर कुमार झा
जल ही जीवन है। लेकिन तब तक जब तक वो आंखों में रहे। तालाबों में रहे। कुएं में रहे। पाताल में रहे। समुद्र में रहे। जब पानी हद से बाहर निकल जाता है। जब पानी सड़क पर सैलाब बनकर दौड़ने लगता है। जब पानी नाली से निकलर गली में बहने लगता है। जब पानी बाथरूम से इतर बेडरूम तक पहुंच जा... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   10:18am 4 Dec 2015 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3916) कुल पोस्ट (192560)