POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Vinay Prajapati

Blogger: Vinay Prajapati
मोहब्बत ने सदा1 की तो दुनिया का डर निकल गया बदन में साँसों का बुझा हुआ इक चराग़ जल गया बे-दर्द के दिल में दर्द का असर यूँ देखा आज मेरे इक आँसू की गर्मी से उसका दिल पिघल गया तेरे रूप को बेसुध... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 266 View   Vote 0 Like   7:20am 13 Jun 2012 #प्यार
Blogger: Vinay Prajapati
जब तक तेरी तमन्ना करेंगे जीते जायेंगे वगरना दम तोड़ देंगे मर जायेंगे तुमने जो कहा तो मर भी जाना है हमको जन्नत में न लगा जी तो किधर जायेंगे इश्क़ में बहुत सीमाब है दिल मेरा कितना सहेंगे हम हद... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 242 View   Vote 0 Like   6:44am 13 Jun 2012 #चाह
Blogger: Vinay Prajapati
अगर आँख रोये और दिल सिसकियाँ भरे तो भला बोलो आशिक़ ऐसे में क्या करे इक वो दिन था इक ये आज का दिन है मर्ज़ी ख़ुदा की ज़ख़्म भर दे या हरा करे तुमको मतलब नहीं आशिक़ की नज़र से चाहे तुम्हें देख के वो... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 249 View   Vote 0 Like   6:08am 13 Jun 2012 #ख़ुश
Blogger: Vinay Prajapati
वो जिसे इश्क़ कहता था वाइज़1 हम उसमें फँस गये बहाये इतने आँसू कि जहाँ खड़े थे वहीं धँस गये न जिगर से लहू बहा न लब तक अपनी बात आयी गिरियाँ2 दिल ही में बादल बने वहीं बरस गये रह-रहके रूह छोड़ना... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 230 View   Vote 0 Like   7:03pm 12 Jun 2012 #आँसू
Blogger: Vinay Prajapati
तुमको नफ़रत है मुझसे, मुझको क़रार है तुमसे तन्हा मिलो मुझसे कभी' कहूँ प्यार है तुमसे तुम चलते हो मुझसे मुँह फेर के जाने किस बात पे हालत मेरी नीयत दिल की असरार1 है तुमसे ज़माने भर के काम आज... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 233 View   Vote 0 Like   6:29pm 12 Jun 2012 #सबा
Blogger: Vinay Prajapati
न लाओ ज़माने को तेरे-मेरे बीच दिल का रिश्ता है तेरे-मेरे बीच तंगिए-दिल1 से पहलू को छुटाओ गरज़ को न लाओ तेरे-मेरे बीच लख़्ते-दिल2 आँखों से रिसते हैं ये फ़ासला क्यों है तेरे-मेरे बीच किसी ग़ैर... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 243 View   Vote 0 Like   6:11pm 12 Jun 2012 #कलेजा
Blogger: Vinay Prajapati
हम जितना करते हैं, ग़लत करते हैं गर सही भी करते हैं तो ग़लत करते हैं तुमको बतायेगा कौन ख़ुदा भी पत्थर है जी को लगाते हैं तुमसे’ ग़लत करते हैं तुम अपने नाज़ से न फिरोगे हम ख़ुद से नाज़ उठाते हैं... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   6:09pm 12 Jun 2012 #नाज़
Blogger: Vinay Prajapati
जी मेरा सीने में कुछ सिमटता है एक नया सवाल-सा उठता है हमें ख़ुद रंज आप-से आता है क्यों सुकूँ दम-ब-दम घटता है रात नींद नहीं आती देर तक नब्ज़-नब्ज़ लम्हा कटता है किताबों में लिखते हैं तेरा... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 237 View   Vote 0 Like   5:40pm 12 Jun 2012 #सवाल
Blogger: Vinay Prajapati
बहते हुए दिन ठहरी हुई रातें बिताऊँ कैसे निहाँ जो दर्द सीने में, मैं तुम्हें बताऊँ कैसे आँख रोये न और न पलक झपके’ ये क्या है जो ख़ुद ही न समझूँ उसे मैं समझाऊँ कैसे इक पुरानी बात याद आयी ख़ामोश... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 231 View   Vote 0 Like   4:02pm 12 Jun 2012 #नाज़
Blogger: Vinay Prajapati
रहोगे उदास तुम भी इसी तरह गर प्यार हुआ तुम्हें मेरी तरह जुदाई के दिन मर-मरके काटूँ भली बात करता है वो बुरी तरह फ़िराक़1 में बेचैनी न विसाल2 में सुकूँ आराम नहीं इस दिल को किसी तरह ग़ालियाँ... Please read full poetry at my blog. Thanks... Read more
clicks 229 View   Vote 0 Like   3:51pm 12 Jun 2012 #प्यार
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post