Hamarivani.com

यायावर

इस कविता की प्रारम्भिक पंक्तियाँ इस प्रकार हैं-हर जोर-जुल्म की टक्कर में हड़ताल हमारा नारा है !मत करो बहाने संकट है, मुद्रा प्रसार इन्फ्लेशन हैइन बनियों और लुटेरों को क्या सरकारी कन्सेशन है ?बंगले मत झाँको, दो जवाब, क्या यही स्वराज तुम्हारा हैमत समझो हमको याद नहीं, हैं ज...
यायावर...
Tag :
  May 7, 2012, 8:55 pm
हिन्दी सिनेमा को जिन कुछ गीतकारों ने गरिमा और गहराई प्रदान की, उनमें शैलेन्द्र प्रथम स्थानीय हैं. उनका योगदान अविस्मरणीय है. उनके गीत आज भी ताजा और बेमिसाल हैं. समय की धूल भी उन्हें धूमिल नहीं कर पायी. जनकवि नागार्जुन ने शैलेन्द्र की स्मृति में दो कविताएँ लिखी हैं. उनक...
यायावर...
Tag :
  May 6, 2012, 9:31 pm
 विनोद तिवारी२ मई १९४१ को तत्कालीन नैनीताल (अब ऊधमसिंह नगर) उत्तरांचल के महुआ डाबरा नगर में जन्म। हिंदी साहित्य में स्नातकोत्तर उपाधि। १९६२ से लेखन में रत। तीन ग़ज़ल संग्रह, एक किशोर उपन्यास, एक बाल उपन्यास, दो बालगीत संग्रह, नवसाक्षरों के लिए तीन पुस्तकें प्रकाशित।...
यायावर...
Tag :
  May 3, 2012, 9:57 pm
-अजय ब्रह्मात्‍मजतारीख निश्चित हो चुकी है। दो सालों से चल रहा कयास समाप्त हो गया है। आमिर खान प्रोडक्शन के टीवी शो सत्यमेव जयते का प्रसारण 6 मई से स्टार प्लस पर आरंभ होगा। स्टार प्लस के साथ ही दूरदर्शन पर आने से इसे देश के दूर-दराज इलाकों में बसे दर्शक भी देख सकेंगे। आम...
यायावर...
Tag :
  May 2, 2012, 11:04 pm
चार खंडोँ वाली क्‍लासिकल सिंफ़नी की तरह संगीतबद्ध यह दृश्‍य एक ओर निर्देशक राज कपूर की दृश्‍य-नाट्यपरिकल्‍पना शक्ति का परिचायक है, तो दूसरी ओर संगीतकार शंकर जयकिशन की रचनाशीलता का सबूत और गीतकार शैलेँद्र की काव्‍य क्षमता का. नायक राजू अपने जीवित नरक से निकलने को छट...
यायावर...
Tag :
  May 1, 2012, 9:28 pm
‘सिनेमा महिलाओं के बस की बात नहीं है..’ साल 1913 में भारत में मोशन पिक्चर्स की शुरुआत के साथ इस धारणा ने भी पैठ बना ली थी। भारतीय सिनेमा पर यह पूर्वाग्रह लंबे समय तक हावी रहा। आलम यह था कि महिला पात्रों की भूमिका भी पुरुष निभाते। हालांकि भारतीय सिनेमा के शैशवकाल में ही फि...
यायावर...
Tag :
  April 20, 2012, 7:43 pm
गिरीश कर्नाड निर्देशित उत्सव और गुलजार निर्देशित इजाजत में अपनी महत्वपूर्ण भूमिकाओं से याद रह जाने वाली अभिनेत्री अनुराधा पटेल एक अरसे बाद सक्रियता के साथ लौटी हैं। हाल ही में सलमान खान अभिनीत फिल्म रेडी और पिछले हफ्ते प्रदर्शित एक उल्लेखनीय फिल्म खाप में वे नजर ...
यायावर...
Tag :
  April 19, 2012, 3:18 pm
उस आदमी का घर जल रहा था। वह अपने परिवार सहित आग बुझाने का प्रयास कर रहा था लेकिन आग प्रचंड थी। बुझने का नाम न लेती थी। ऐसा लगता है जैसे शताब्दियों से लगी आग है, या किसी तेल के कुएं में माचिस लगा दी गई है या कोई ज्वालामुखी फट पड़ा है। आदमी ने अपनी पत्नी से कहा, "इस तरह की आग त...
यायावर...
Tag :
  April 16, 2012, 9:34 pm
क्या आपको "मिले सुर मेरा तुम्हारा" का वीडियो याद है? कैसे भूल सकते हैं हम वो गीत। ऐसा गीत जिसने पूरे भारत को एक सुर में बाँध दिया था। ऐसा गीत जिसमें कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी और गुजरात से लेकर उत्तर-पूर्व की अनुपम सुंदरता, सभी का समागम था। जिसमें न कोई मजहब था, न ही कोई जा...
यायावर...
Tag :
  April 14, 2012, 5:16 pm
इस बार के ओशियंस में प्रस्तुत गुलज़ार साहब का पर्चा “हिन्दी सिनेमा में गीत लेखन (1930-1960)” बहुत ही डीटेल्ड था और उसमें तीस और चालीस के दशक में सिनेमा के गीतों से जुड़े एक-एक व्यक्ति का उल्लेख था. वे बार-बार गीतों की पंक्तियाँ उदाहरण के रूप में पेश करते थे और जैसे उस दौर का चमत्...
यायावर...
Tag :
  April 11, 2012, 10:20 am
सबकेचेहरेउड़ेहुएथे।घरमेंखानातकनपकाथा।आजछठादिनथा।बच्चेस्कूलछोड़े, घरमेंबैठे, अपनीऔरसारेपरिवारकीजिंदगीबवालकियेदेरहेथे. वहीमारपिताई, धौलधप्पावहीउधम, जैसेकिआयाहीनहो. कमबख्तोंकोयहभीध्याननहींकिअँग्रेजचलेगयेऔरजातेजातेऐसागहराघावमारगयेजोवर्ष...
यायावर...
Tag :
  April 10, 2012, 3:12 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163607)