Hamarivani.com

झरोखा-jharoka

रामजस कॉलेजकश्मीर की आज़ादी चाहने वाले दिल्ली के रामजस कॉलेज की बजाए पाकिस्तान के गुलाम कश्मीर में जाकर नारा लगाएं तो कम से कम अपने देश की सरजमीं के कर्जे से तो मुक्त होंगे! आजाद देश की राजधानी में ही देश तोड़ने के नाम पर आज़ादी के नारे बुलंद हो सकते हैं, गुलाम देश में तो हम...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 23, 2017, 8:15 am
21022017, सांध्य टाइम्सआज यह बात पढ़कर किसी को भी हैरानी होगी कि भला मध्यकाल के चित्तौड़ के राणा रत्नसिंह की रानी पद्मिनी का दिल्ली से क्या नाता? हाल में ही हिंदी फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली की अलाउद्दीन खिलजी-पद्मिनी विषय पर केंद्रित फिल्म जयपुर में शूटिंग के दौरान हुई ...
झरोखा-jharoka...
Tag :Mewar
  February 21, 2017, 5:03 pm
सत्ता का सच, सच से किसी को सत्ता नहीं मिली!हाँ, सच बोलकर सत्ता चली जरूर गयी। विश्वनाथ प्रताप सिंह का उदाहरण सामयिक है। "मंडल के सच" ने उन्हें सत्ता से बेदखल कर दिया और जातिवाद के नाम पर परिवार को बढ़ाते झूठे-चोर नेता पिछड़ा विरासत के पुरोधा बनकर सत्ता पर काबिज है। आखिर क...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 19, 2017, 8:44 pm
Delhi University VC Officeबीबीसी हिंदी की वेबसाइट पर "विश्वविद्यालयों में सोचने समझने की जगह नहीं बचेगी" शीर्षक से मेरे आइआइएमसी के बैच की एक सहपाठी ने लेख साझा किया तो लगे हाथ मैंने भी लिख दिया. कबीर ने कहा है न कि अब जात न पूछो साधु की. सो यहाँ भी "बस रंग बदलता है हर बार नहीं तो रवायत तो ...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 19, 2017, 8:34 pm
आज सैयद अहमद खाँ की पहचान अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और मुस्लिम समाज में जागृति लाने वाले व्यक्ति के रूप में ही सीमित हो गई है। यह बात कम-जानी है कि सैयद ने दिल्ली में सदर अमीन के पद पर कार्य करते हुए दिल्ली के ऐतिहासिक भवनों पर अपनी पहली पुस्तक लिखी। 1847 में उर्दू में प...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 18, 2017, 9:02 am
गीता में कृष्ण ने कहा है, "अधर्मी के साथ कैसा धर्मयुद्ध?सो, दूसरों को जाहिल-और अपने को सही समझने वाली एकेश्वरवादी मतान्धता वाली सोच के हृदय परिवर्तन की बात सोचना ही मूर्खता है....
झरोखा-jharoka...
Tag :Krishna
  February 16, 2017, 9:37 pm
मशहूर शायर मुनव्वर राना का कहना है कि कोई जाहिल मुसलमान भी नहीं कहता कि उसे "मुसलमान प्रधानमंत्री" चाहिए. सही है, इतिहास यही बताता है कि यूनाइटेड प्रोविंस, आज का उत्तर प्रदेश, के पढ़े-लिखे मुसलमानों ने ही पाकिस्तान की गठन और देश के विभाजन की बात कही थी. "आधा गाँव" उपन्या...
झरोखा-jharoka...
Tag :Pakistan
  February 16, 2017, 8:37 pm
कितना कुछ रह जाता है,कहे के बीच में अनकहा!...
झरोखा-jharoka...
Tag :words
  February 15, 2017, 12:00 am
Back cover of the Report CardReport Card “DO SAAL BEMISAAL” of Government of NCT of Delhi released by Deputy Chief Minister Shri Manish Sisodia in a function today at Delhi Secretariat. I also contributed a bit as my name is in the byline of Editorial Board of the publication....
झरोखा-jharoka...
Tag :Delhi Secretariat
  February 14, 2017, 11:38 pm
वैलेंटाइन डे "इफ़ेक्ट"आज के अधिकांश युवाओं को घूमने के लिए मिनी पहनकर बाइक की पीछे क्रॉस-लेग बैठने वाली मॉडर्न लड़की चाहिए तो विवाह के फेरे करके घर लाने के लिए घूंघट वाली एक कन्या.बस यही पेंच है, किसी लड़की को मिनी से छोड़ोगे तो फिर घूँघट के लिए बचेगी....
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 14, 2017, 10:39 pm
बणी-ठणी संसार में अशरीरी प्रेम होता नहीं और शरीर के आकर्षण को प्रेम का दर्जा दिया नहीं जाता!एक आग का दरिया है और डूबकर जाना है......
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 14, 2017, 12:49 am
स्कूल, बच्चे और मीडियामैं भी बस अभी अभी बच्चों को स्कूल छोड़ कर आ रहा हूँ. बस निकल गई सो स्कूल तक की दौड़ हो गई.सुबह गाड़ी चलाना भी बाजीगिरी है. महानगर में सुबह बच्चों को स्कूल छोड़ने से शुरू होने वाली अग्नि परीक्षा, दोपहर में दफ्तर की मूर्खता और शाम को फिर ट्रैफिक की मार क...
झरोखा-jharoka...
Tag :बच्चे और मीडिया
  February 13, 2017, 8:23 am
दिल्ली विवि का इतिहास1911 में अंग्रेजों के कलकत्ता से अपनी राजधानी को दिल्ली लाने के राजनीतिक फैसले का दिल्लीवालों को एक शैक्षिक फायदा मिला। यह था, राजधानी में दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) की स्थापना। दिल्ली को अंग्रेजों की राजधानी के मिले नए दर्जे ने यहां पर पहले से चल ...
झरोखा-jharoka...
Tag :Hari Singh Gaur
  February 11, 2017, 9:31 am
छोटी-सी बात पर वह ऐसा रूठाफासले जिंदगी में बड़े आ गए...
झरोखा-jharoka...
Tag :जिंदगी
  February 7, 2017, 9:55 pm
एक ओर मुगलों की हर्ष-ध्वनि हो रही थी, दूसरी ओर राजपूत वीरांगनाओं का जौहर!चित्तौड़ गढ़ के टूटने पर बड़ा कोलाहल करते हुए मुगल सम्राट उस नगर के भीतर घुसे। उन्हें आशा थी कि तुर्की से आये हुए सिपाहियों के घर विधवा राजपूत-रमणियों से आबाद होंगे।अकबर चित्तौड़ के अन्दर गये, तब उनकी ...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 5, 2017, 8:36 am
राजस्थानी की कहावत है, छन्नी तो छन्नी छाजलो भी बोले.बात का असर सीमा नहीं देखती!राजस्थान हो, उत्तर प्रदेश हो, बिहार हो, दिल्ली हो या पंजाब उसका मर्म सब स्थान, एक समान होता है.बाकि बूझे तो ज्ञानी नहीं तो बुझे तो फिर बत्ती जलाकर भी क्या होगा?...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 5, 2017, 7:49 am
रईस फिल्म का पोस्टर "चक दे इंडिया" से लेकर "रईस" तक. इन फिल्मों में पोलिटिकल मुस्लिम "ओवर टोन" साफ दिखता है. रईस एक गुंडा, मवाली था न कि कोई रोल मॉडल. बाकि आमिर खान ने अखाड़ों से हनुमानजी की प्रतिमा यूहीं गायब नहीं की, और न ही फोगट परिवार को मांसाहारी दिखाया है, पर्दे पर. जबकि ...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 5, 2017, 7:30 am
दैनिक जागरण, 04022017सन् 1296 में अलाउद्दीन खिलजी ने अपने चाचा सुलतान जलालुद्दीन खिलजी की हत्या करके दिल्ली की गद्दी को हड़प लिया। दिल्ली की मुस्लिम सल्तनत के लिए मेवाड़ के रूप में एक हिंदू शक्ति का होना एक चुनौती था। इसी हिंदू चुनौती को समाप्त करने के इरादे से खिलजी ने अगस्त 1303 ...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  February 4, 2017, 8:37 am
पापी के साथ कैसा धर्मयुद्ध?बाज़ार में मॉल कुछ बताएँगे और बेचेंगे कुछ तो फिर दोगले ही कहे जायेंगे. ऐसे में सौदा धोखा देना ही कहा जायेगा.सो, कलाकार तो झूठा-दोगला होता नहीं. अब अगर यह कलाकार भी नहीं और जो कह रहे हैं उससे सरोकार भी नहीं! तो फिर तो जूते ही खायेगें.अब सब कोई आप की द...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  January 29, 2017, 11:47 pm
"शादी का भेदभाव तो यहाँ भी रहा और वहाँ भी।"सही है, महजब बदला पर शेख, सैय्यद, मुग़ल, पठान. इन चारों की धोबी, जुलाहा, भिश्ती, ठठेरा जाति से मुसलमान बने वर्ग में आज भी निकाह नहीं होता. यानि जो दलित हिन्दू नहीं रहे, वे आज मुसलमान बनकर भी पराए समाज में भी ऐसे ही अलगाव का शिकार है.इस...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  January 29, 2017, 11:42 pm
28012017, दैनिक जागरणतीस हजारी का नाम आने पर आज अधिकतर दिल्लीवासियों की आंखों के सामने उत्तरी दिल्ली में एक भीड़भाड़, धूल भरी जिला अदालतों के परिसर का दृश्य उभर आता है। शायद कोई बिरला ही होगा, जिसे तीस हजारी के जहाँआरा से जुड़े होने का पता होगा।तीस हजारी के इतिहास का एक सिरा मुग...
झरोखा-jharoka...
Tag :जहाँआरा
  January 28, 2017, 3:19 pm
जब भारत में अंग्रेजी राज आया तब अंग्रेजों ने देखा कि दरबारी भाषा फारसी और बोलचाल की भाषा उर्दू है, जिसे उन्होंने हिन्दुस्तान की भाषा हिन्दुस्तानी मान लिया। तीसरी भाषा फूहड़ हिन्दुवी थी, जो गंवार बोलते थे। शासन के निमित्त से भारतीय जीवन को पहचानते हुए धीरे-धीरे अंग्रे...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  January 28, 2017, 11:43 am
अमृतलाल नागर"उर्दू के समर्थक कहते हैं कि वह विशुद्ध भारतीय भाषा है और भारत के हिन्दू-मुसलमानों ने मिलकर उसे बनाया है. जवाहर लाल नेहरू ने इसी निष्ठा से उर्दू का पक्ष समर्थन करते हुए ही हिंदी को हिन्दू साम्प्रदायिकता की उपज और बनावटी भाषा मानते हैं. मैं सच कहूंगा, मुझे लग...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  January 28, 2017, 2:36 am
यहां शराब पीने वाले अनगिनत लोग है। कांग्रेस में भी ऐसे कई हैं पर मैं उन्हें कुछ भी नहीं कह सकता हूँ।-महात्मा गांधी, धीरूभाई. बी. देसाई को लिखे एक नोट में (फरवरी 1947)...
झरोखा-jharoka...
Tag :
  January 22, 2017, 11:03 pm
There are innumerable people who drink. There are many such in the Congress, too, and I could say nothing to them.-Mahatma Gandhi, Note To Dhirubhai B. Desai, February 1947...
झरोखा-jharoka...
Tag :Dhirubhai B. Desai
  January 22, 2017, 1:12 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163705)