Hamarivani.com

अनुगूँज

अशोक बाबू बड़े उत्साह से आये मेहमानों को अपना नया घर  दिखा रहे थे । इस घर में तीन बेड रूम है ।  यह मेरा  बेडरूम है, ये  बेटे किसू  का स्टडी रूम और बगल में उसके लिए  एक सेप्रेट बेड रूम । बेटी के लिए भी यही अरेंजमेंट है । यह बड़ा सा हाल इसलिए बनवाया है कि घरे...
अनुगूँज...
Tag :
  April 5, 2014, 9:11 am
पार्क के कोने में अपने प्रेमी संग बैठी हनी ने उसके डिमांड को मानने से इंकार कर दिया था | लड़का उसे समझाने की कोशिश कर रहा था, "तुम भी न बेहद दकियानूसी हो , केवल दिखती मॉडर्न हो | पुरानी सदियों में यह एक गुनाह समझा जाता था | अब तो सब चलता है |"अभी वह उसे कन्विंस करने की कोशिश कर ही ...
अनुगूँज...
Tag :
  February 8, 2014, 11:38 am
सिग्नल ने रंग बदला और लाल हो गया | उसके सामने भागती- दौड़ती गाड़ियाँ एक-एक कर रूकती चली गयी |गाड़ियों के रूकते ही फेरीवालों का झुंड सलामती, दुआ के आफर के साथ किस्म -किस्म के सामान बेचने की जुगत में गाड़ियों के पास भिनभिनाने लगे | इसी रेलपेल में एक तेरह-चौदह साल की लड़की एक कार वाल...
अनुगूँज...
Tag :
  February 1, 2014, 8:51 am
 लोकतंत्र की असली शक्ति 'जनादेश'है | एक लोक प्रसिद्ध जुमला है कि 'जनता है सब जानती है' | जनता सब समझती है और माकूल समय आने पर सत्ता को अपनी हैसियत भी समझा देती है | दिल्ली विधानसभा के चुनाव परिणाम में यह चरितार्थ होता दिखा है | दिल्ली विधानसभा का चुनाव परिणाम सबसे दिलचस्प औ...
अनुगूँज...
Tag :
  December 9, 2013, 1:06 am
उसे पुराने सिक्के जमा करने का शौक था | आज वह पुराने सिक्कों को निकाल कर देख रहा था | एक दस पैसे का सिक्का पिछलकर नीचे कहीं गिर गया | काफी मशक्कत के बाद उसे वह सिक्का टेबल के नीचे मुस्कराता मिला | सिक्के को हाथ में लेते ही विस्मृत स्मृति ने उसे घेर लिया |"माँ , दस पैसे दो ना, लट्ठ...
अनुगूँज...
Tag :
  December 5, 2013, 4:44 pm
आज हाट में खड़ा हुआ हूँ मैं,मेरे परिजन मोलजोल कर रहे हैं मेरा, आये ग्राहक के संग |'रेट तो पता ही है सबको आएइअस 1 करोड़ , पीओ की है 20 लाख '|हम आपसे ज्यादा कहाँ मांग रहे हैं |और हाँ "सौदा"हो मनभावन,गोरी, लंबी, छरहरी औरसंस्कारी सीता की तरह |उपजाऊ भी हो ताकि जन सके 'कुलदीपक' |जवाब मे...
अनुगूँज...
Tag :
  November 28, 2013, 7:48 pm
पांच वर्षीया गुड़िया के साथ हुए दरिंदगी से समूचा देश-समाज स्तब्ध है | चहुँओंर जुगुप्सा कहकहे लगा रही है | मानवता शर्मशार है | इस जघन्य अपराध के प्रतिकार में जन हुजूम सड़कों पर उमड़ पड़ा है , ठीक वैसे ही जैसे दिसम्बर में दामिनी के साथ हुए हादसे के बाद एकजुट खड़ा हुआ था | विश...
अनुगूँज...
Tag :
  April 27, 2013, 6:27 pm

                                                       उत्सव को धर्म से खतरा है उत्सव हमारे तंग-परेशान जिन्दगी में हंसी-ख़ुशी के कुछ पल लाते हैं और सांस्कृतिक विरासत का भान कराते हैं | राम-कृष्ण से जुड़े किस्से और उनके आदर्श का जनमानस पर गहरा प्रभा...
अनुगूँज...
Tag :
  April 19, 2013, 11:07 am
हिन्दू  और हिन्दुस्तानी कौन हैं ? इसका फैसला कौन करेगा ? हिंदी, हिन्दू और हिन्दुस्तानी कल्चर पर हो-हल्ला करने और स्वयंभू निर्णायक  होने की जिम्मेवारी एक  समूह विशेष ने ले रखी  है । जो लोग मनुवादी सिस्टम  का समर्थन करे, अप्रासंगिक पुरानी मिथकों को परम्परा के ना...
अनुगूँज...
Tag :
  April 21, 2012, 2:35 pm
आज कुछ लिखने का मन हो रहा है | किस विषय पर लिखूं ! एक व्यक्ति में छुपी असीम संभावनाओं पर या उसकी क्षुद्रता पर....| कृत्रिमता के आत्केंद्रित रवैये पर या फिर प्रकृति की विराट सृजनात्मकता पर....| कोलाहल के बीच कोने पर टंगी ख़ामोशी और 'आत्म-पहचान' की तलाश में भटकती जिन्दगी के साथ-स...
अनुगूँज...
Tag :
  April 17, 2012, 3:34 pm
समालोचन: मति का धीर : निर्मल वर्मा...
अनुगूँज...
Tag :
  April 3, 2012, 9:53 pm
राजनामा.कॉम। मैं सोच सकता हूँ , इसलिए मेरा अस्तित्व है”, रिनी देकार्ते के इस कथन को स्वीकार लेने मात्र से आदमी के चेतना और उसके अस्तित्व की सार्थकता की शुरुआत होती है | प्रकृति ने चिंतन -मनन की क्षमता केवल आदमी को दी है | उसकी अपनी संवेदनशीलता और चेतनशीलता ने प्रकृति की&...
अनुगूँज...
Tag :
  October 12, 2011, 7:23 pm
 मनुष्य एक  जिज्ञासु व विवेकशील प्राणी है | अनुभवों से सीखना और किसी भी घटना पर अपनी राय बनाना उसकी सहज प्रवृति रही है | इसी रेसिनिलिती  ने उसे सामुदायिक जीवन की और प्रेरित किया |उसके तार्किक क्षमता व चुनौतियों से लड़ने के अनाहत जज्बा ने विकाश के कई अप्रतिम प्रतिमा...
अनुगूँज...
Tag :
  June 19, 2011, 12:29 pm
शांत, स्नेहिल, निर्द्वंद , क्षण में,जब मेरी भावनाएं शुन्य से टकराकर ,वापस लौटती है,तो सहज कमी महसूस होती है ,एक मनमीत की ,जो समझ सके ,मर्म को ,मेरे जीवन संधर्भ  को .        आज मन मेरा सुधा रस पीकर ,        प्रेम की धारा से जुड़कर ,        तुम्हारा अनुराग चाहता ह...
अनुगूँज...
Tag :
  January 2, 2011, 6:14 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3666) कुल पोस्ट (165935)