Hamarivani.com

शब्दपुरम

             डूबतो जोयो सूरज में सांज ना दरिया किनारे             नीकऴेलो चाँद जोयो रात ना दरिया किनारे                                                      दिलीप श्रीमाली          ये गालगागा के चार आवर्तन में लिखा गया शेर है। दरिया यानी समंदर, समंदर किनारा शुरुआत और अंत का संगम है। किना...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:37 pm
                           यादों का सहारा न होता                           हमारा गुजारा न होता                           विरह रण में, विचरण के सिवा                           क्यों दूजा? किनारा न होता!                           'शिखर' मिलता है, एक ही बार                           वो मिलन, दुबारा न होता         ...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:34 pm
दिल मेरा हो जाता है तन्हापैमाने खाली करने के बादचंद मोती टपकते हैं प्याले मेंसनम की याद आने के बादप्याले में मदिरा नहीं है फिरछलका क्यों नजर आ रहा हैशायद सपनों का खंडहर मुझेईस प्याले में नजर आ रहा हैजीवन के आखरी पल तकसांसों में उस की याद रहेगीकिस्मत ने क्यों बेवफाई की...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:32 pm
                                સમ્રાટમાં નથી અને દરવેશમાં નથી                                 મારી મનુષ્યતા કોઈ ગણવેશમાં નથી                                                       ભગવતીકુમાર શર્મા            ગણવેશ એટલે નક્કી કરેલો પહેરવેશ. તમને ખબર હશે કે સમાજના લગભગ દરેક વર્ગ માટે ખાસ પ્રકારના...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:31 pm
बन गया हूँ व्योम विशालघटाएँ बन के अब बरसोपगली बन के आँचल सीमन मंदिर से तुम लिपटोमादक तुम हो या किये मुरली है जान न पायेये जहाँ मधुर सुरों में यूँ बहको...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:30 pm
        आग से यूँ न खेलो सनम हाथ अपना जला लोगे।      ईश्क का ईम्तहाँ लेने में प्यार अपना गंवा दोगे॥      हमसफर साथ हो तो कटेगा सफर कामयाबी से।      लक्ष्य पाने से पहले सफर काटने का मजा लोगे॥      स्वप्न प्रासाद जब टूट जाये तो मत रोना, क्या! क्यों कि।      रोने से होगा क्या! रो के प्...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:29 pm
                                 तमाम उम्र जली शम्अ रोशनी के लिये                            अंधेरा फिर भी हकीकत रहा सभी के लिये                                                               अक्स लखनवी           मात्रिक छन्द (लगाल गाललगा गालगाल गागागा) में लिखे गये शेर में शायर ने कठोर वास्तविकता पेश क...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:28 pm
धागे ही चीर बनते हैंतुक्के भी तीर बनते हैं कोशिशें करते जो सदा लोग वो वीर बनते हैंकुमार एहमदाबादी...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:26 pm
હું દસમા માળે રહુ છું અમારી બિલ્ડીંગમાં લોખંડની જાળીવાળી લિફ્ટ છે. જેમાં જાળીવાળા બે દરવાજા હોય છે. રાજસ્થાનનાં એકદમ અંતરિયાળ ગામમાંથી એક કઝીન મળવા આવેલા. તેઓ ડ્રોઈંગરૂમમાંથી વારે ઘડીયે લિફ્ટને જોતા'તાં. મેં પૂછ્યું 'શું થયું. કંઈ મૂંઝવણ છે?' તો તેઓ અચકાતા અચકાતા બો...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:20 pm
मैं दस मंजिला  टावर की दसवीं मंजिल पर रहता हूँ। टावर में पुराने फेशन की लोहे के जालीदार दरवाजोंवाली लिफ्ट है। उस में जालीवाले दो दरवाजे होते हैं। एकबार राजस्थान के एकदम छोटे से गाँव से मेरे एक रिश्तेदार मिलने आये थे। वे ड्रोइंग-रूम में बैठे बैठे बात करते हुए बार बार ल...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:19 pm
                             हमारे दर्द का कीजे भले न हल बाबू                       जता के प्यार मगर कीजीए न छल बाबू                                                            भगवानदास जैन        जैन साहब की ग़ज़लें बहुत मार्मिक व प्रासंगिक होती है। उन की ग़ज़लों में वर्तमान व्यवस्था की कमजोरीयों प्...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:15 pm
               स्वयं को न पहचान पाया जो; वो भाग हूँ मैं।               पड़ा महँगा ये  भूल जाना मुझे नाग हूँ मैं।                                                   कुमार एहमदाबादी         इन्सान  कुदरत द्वारा दिए गुण अवगुण जब भूल जाता है उसे भुगतना ही पड़ता है। नाग चाहे अहिंसावादी बन जाये को...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:11 pm
    मैं सरकारी परिवहन विभाग की बस हूँ। आज सुबह मैं अहमदाबाद शहर के इनकम टेक्स चौराहे पर खड़ी थी। उस वक्त मेरे पास एक नई नवेली दुल्हन से बस आकर रुकी। उसने मुज पर आगे से पीछे तक नजर घुमाई और व्यंगात्मक ढंग से हँस पड़ी। मैं आज ऐसी हूँ की मुज पर कोई न हँसे तो अचरज होता है। पिछले ...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 19, 2012, 9:08 pm
ये जख्मी दिल से निकली आह है।कोई न हो उस का मन में चाह है।गर एक भी खुशी मिली बेवफा को,तो,ईश्वर से भी टकराने की राह है। कुमार एहमदाबादी...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 5, 2012, 8:42 pm
कविता में शब्द श्रृँगार नारी का सा हैफूलों से लहलहाती फूलवारी का सा हैयहां आँसु भी है आहें भीफूलों सी कोमल बांहे भीबच्चों जैसी मुस्कान संगशब्दों से उठती कराहें भीकुमार एहमदाबादी नीलगगन को मंच बनाएँशब्दों को पायल पहनाएँमन के सपने पूरे कर लेंसपनों को हम मोर बनाएँकुम...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 5, 2012, 8:32 pm
ખીણમાં જન્મો કે ટોચ પરજિન્દગી ચાલે છે સોચ પર અભણ અમદાવાદી...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 5, 2012, 8:26 pm
आँख से टपकनेवाले मोतीयों, पर बेवफा का नाम लिखा हैमैने सारी तन्हाईयां अपनीकुएँ सी आँखोँ के नाम लिखी हैकुमार अमदावादी...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 5, 2012, 8:25 pm
कत्ल कर नजरों के तीर से, हम; यही चाहते हैं।सुन ले पर, मर के जीने का अंदाज; हम जानते हैं।कुमार अमदावादी...
शब्दपुरम...
Tag :
  February 5, 2012, 8:23 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163575)