POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: KAVITA RAWAT

Blogger: Kavita Rawat
पेट की आग बुझाने के लिए रोटी अनिवार्य है। जब तक पेट में रोटी नही जाती तब तक सारी बातें खोटी लगती है। पापी पेट सबकुछ करवा सकता है। कहते हैं कि भूख की मार तलवार की धार से भी तेज होती है। भूखा कुत्ता भी डंडे की मार से नहीं डरता है और भूखा आदमी जितनी चीजें ढूंढ़ निकालता है, उतनी ... Read more
clicks 6 View   Vote 0 Like   10:30pm 30 Apr 2020 #मजदूर की आत्मकथा
Blogger: Kavita Rawat
यही तो रास्ता है मेरे रोज गुजरने काएक बार, दो बार, रोज ......एक दिन अचानक नजरे मिली थी तुमसे वहाँतुम वहीं कहीं खड़ी थीसूरत तुम्हारी आज भी याद हैसूरज की रौशनी में ओंस की बूंदों की चमक लिएरोज यूँ ही देखा करता था तुम्हें गुजरते हुएउस घनी हरियाली के बीच,पत्थर पहाड़ों के पीछे तुम ख... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   10:30pm 19 Mar 2020 #झरोखे
Blogger: Kavita Rawat
मुझे नहीं करनी थीजो मैंने बात ही नहीं की।मना लो, हँसा लो, कर लो गुस्सा, हो जाओ नाराज।मुझे नहीं करनी थीजो मैंने बात ही नही की।उसने कर, चर, खप, चटरसारे सुर लगाएकंकड़ सा चुभ-चुभ करसारे जोर लगाएहुआ महीन-मुलायम भी, पर .....मुझे नहीं करनी थीजो मैंने बात ही नही की।फिर अब साजिश कर, वह ... Read more
clicks 16 View   Vote 0 Like   11:30pm 11 Mar 2020 #कविता
Blogger: Kavita Rawat
संसार में हरेक प्राणी बंधा होता हैकिसी न किसी खूंटे सेपरोक्ष या अपरोक्ष रूप सेस्वच्छंद जीने की कामना करनामेरी नजर में एक भ्रम मात्र हैबहुत से खूंटे से बंधे प्राणियों कोखूंटे से दूर होना बिल्कुल पंसद नहींक्योंकि वे आदी हो चुके होते हैंबिना परिश्रम हर मौसम मेंअलग-अल... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   10:30pm 2 Mar 2020 #कुत्ते की दुम
Blogger: Kavita Rawat
जिस धारा का पानी पिया उसे बहुत कम लोग याद रखते हैंजिसकी रोटी खायी उसके गीत गाने वाले विरले मिलते हैंजो पेड़ छाया प्रदान करता है उसकी जड़ नहीं काटनी चाहिएजिस कुएं से पानी लिया हो उसमें पत्थर नहीं फेंकना चाहिएउस पेड़ के कटने की दुआ मत करो जो सबको धूप से बचाती हैधिक्कार उस मु... Read more
clicks 11 View   Vote 0 Like   12:30am 26 Feb 2020 #लोक उक्ति में कविता
Blogger: Kavita Rawat
जाड़ों की गुनगुनी धुप मेंछत की मुंडेर परदिन-रात चुभती निष्ठुर सर्द हवाओं सेहोकर बेखबर सूरज की रश्मि सी बिखेर रही हो तुम कच्ची, सौंधी, लुभावनी प्यार भरी मुस्कान! क्या पता है तुझे?यह कीमती जेवर है तेरा इसे यूँ ही मत खो देना जरा सम्भालकर कर रखनाबहुत आयेंगे करीब तेरेअपना ... Read more
clicks 21 View   Vote 0 Like   1:30am 11 Jan 2020 #कविता
Blogger: Kavita Rawat
A B C Dआया नया वर्ष 2020 जीE F G Hसदा बोलना सच-सचI J K Lआगे-आगे बढ़ता चलM N O Pकभी न देखना मुड़कर जीQ R S Tघिसट-घिसट मत चलना जीU V W Xकभी न बनाना जेरॉक्सY Zचलता रहे सबका नेटHappy New Year 2020 ...अर्जित रावत... Read more
clicks 18 View   Vote 0 Like   1:30am 1 Jan 2020 #बाल कविता
Blogger: Kavita Rawat
 आपस में कोई बैर भाव न रहेन रहे कोई जात-पात का बंधनहर घर आँगन में बनी रहे खुशहालीकुछ ऐसा हो नूतनवर्षाभिनंदनतोड़कर नफरत भरी सब दीवारेंबस एक भाव रहे, वह हो प्रेमबंधनऊँच-नीच का भाव मिटे जहाँ सेकुछ ऐसा हो नूतनवर्षाभिनंदनश्रेष्ठता सवर्धन के हों प्रयासऔर निकृष्टता का हो उ... Read more
clicks 19 View   Vote 0 Like   1:30am 28 Dec 2019 #कविता
Blogger: Kavita Rawat
“अप्रैल की सुहानी सुबह फूलों की खुशबू और आकाश में चमकते सूरज के साथ सभी प्यारे पोकेमाॅन हो, तब बच्चों के अपने नए पोकेमाॅन को चुनने के लिए यह एक आनंददायक आदर्श दिन है।“ गोस्वामी जी ने आराम की थाह लेते हुए कहा। “आप सही कह रहे हैं, मिस्टर पीयूष! आखिरकार एक लम्बे इंतजार के ... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   1:30am 19 Dec 2019 #बाल कहानी
Blogger: Kavita Rawat
Pokemon Chakra Story Chapter-1 The remainder of the story......Pokemon Chakra Story Chapter-1 The remainder of the story......Pranali was walking through the Swamp area. There she met the girl, whom Sam referred as Naggin but literally, Prabhav gave the name. "Hey Preyasi!" shouted Pranali. "Oh hey Pranali, how are you?" Preyasi said. She replied, "I am fine. I hope you too. So, have you caught any Pokémon?""No not yet. Have you caught any?" Preyasi asked. "Well I found a Yanma in my garden and decided to make it my first Pokémon," said Pranali. As they were having their conversation, Preyasi heard a rustling sound from her back.As she turned around, she saw a Scatterbug cra... Read more
clicks 17 View   Vote 0 Like   8:30pm 24 Nov 2019 #pokemon story
Blogger: Kavita Rawat
प्लीजेंट वैली राजपुर, देहरादून से प्रकाशित मासिक पत्रिका 'हलन्त'के अंक नवम्बर, 2019 में प्रकाशित मेरी रचना 'वीरानियाँ नहीं होती"जिंदगी में हमारी अगर दुशवारियाँ नहीं होतीहमारे हौसलों पर लोगों को हैरानियाँ नहीं होतीचाहता तो वह मुझे दिल में भी रख सकता थामुनासिब हरेक को च... Read more
clicks 15 View   Vote 0 Like   2:35am 6 Nov 2019 #कहकहा
Blogger: Kavita Rawat
आज भले ही दीपावली में चारों ओर कृत्रिम रोशनी से पूरा शहर जगमगा उठता है, लेकिन मिट्टी के दीए बिना दिवाली अधूरी है। मिट्टी के दीए बनने की यात्रा बड़ी लम्बी होती है। इसकी निर्माण प्रक्रिया उसी मिट्टी से शुरू होती है, जिससे यह सारा संसार बना है। यह मिट्टी रूप में भूमि पर ... Read more
clicks 41 View   Vote 0 Like   2:00am 21 Oct 2019 #दीपावली विशेष
Blogger: Kavita Rawat
किसी राष्ट्र की संस्कृति उस राष्ट्र की आत्मा है। राष्ट्र की जनता उस राष्ट्र का शरीर है। उस जनता की वाणी राष्ट्र की भाषा है। डाॅ. जानसन की धारणा है, ’भाषा विचार की पोषक है।’ भाषा सभ्यता और संस्कृति की वाहक है और उसका अंग भी। माँ के दूध के साथ जो संस्कार मिलते हैं और जो मीठ... Read more
clicks 79 View   Vote 0 Like   1:30am 14 Sep 2019 #राष्ट्रभाषा पर चिंतन
Blogger: Kavita Rawat
बच्चे जब बहुत छोटे होते हैं, तो उनकी अपनी एक अलग ही दुनिया होती है। उनके अपने-अपने खेल-खिलौनें होते हैं, जिनमें वे दुनियादारी के तमाम झमेलों से कोसों दूर अपनी बनायी दुनिया में मस्त रहते हैं। इसीलिए तो उन्हें भगवान का रूप कहा जाता है। प्रायः सभी बच्चों को बचपन में खेल-खि... Read more
clicks 64 View   Vote 0 Like   2:00am 2 Sep 2019 #मिट्टी के गणेश
Blogger: Kavita Rawat
हर मुश्किल राह आसान हो जाएगी तेरी धीरज रख  आगे कदम बढ़ा के तो देख बहुत हुआ तेरा अब सुनहरे ख्वाब बुनना नींद त्याग और बाहर निकल के तो देख कैसे-कैसे   लोग वैतरणी तर  गए  सरपट याद कर फिर उचक-दुबक चल के तो देख कुछ भी हासिल न होगा बैठ किनारे तुझे हिम्मत कर  गहरे पानी उतर के तो देख ... Read more
clicks 70 View   Vote 0 Like   1:30am 24 Aug 2019 #कविता
Blogger: Kavita Rawat
जब-जब 15  अगस्त को लाल किले की प्राचीर से तिरंगा फहराया जाता है तब-तब स्वतंत्रता प्राप्ति हेतु न्यौछावर हर शहीद सबको याद आने लगता है प्रधानमंत्री जी पहले देश की कठिनाईयों, विपदाओं पर बहुत देर गंभीर रहते हैं फिर भावी योजना पर प्रकाश डाल वर्षभर की उपलब्धियों का बखान करते ... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   2:20am 14 Aug 2019 #कविता
Blogger: Kavita Rawat
प्रस्तुत है- प्लीजेंट वैली राजपुर, देहरादून से प्रकाशित मासिक पत्रिका 'हलन्त'के अंक अगस्त, 2019 में प्रकाशित मेरी रचना 'अबकी बार राखी में '... Read more
clicks 58 View   Vote 0 Like   2:00am 11 Aug 2019 #रक्षाबंधन
Blogger: Kavita Rawat
आज आपके लिए प्रस्तुत है - दैनिक भास्कर DB स्टार भोपाल, मंगलवार, 30-07-2019 travel में प्रकाशित यात्रा वृत्तांत "काठमांडू की वादियों में बिताए सुकून के पल"... Read more
clicks 84 View   Vote 0 Like   2:30am 31 Jul 2019 #यात्रा वृतांत
Blogger: Kavita Rawat
मेरा घर चार मंजिला इमारत के भूतल पर स्थित है। प्रायः भूतल पर स्थित सरकारी मकानों की स्थिति ऊपरी मंजिलों में रहने वालों के जब-तब घर भर का कूड़ा-करकट फेंकते रहने की आदत के चलते किसी कूड़ेदान से कम नहीं रहती है, फिर भी एक अच्छी बात यह रहती है कि यहां थोड़ी-बहुत मेहनत मशक्कत कर प... Read more
Blogger: Kavita Rawat
 गर्मियों में बच्चों की स्कूल की छुट्टियाँ  लगते ही सुबह-सुबह की खटरगी कम होती है, तो स्वास्थ्य लाभ के लिए सुबह की सैर करना आनंददायक बन जाता है। यूँ तो गर्मियों की सुबह-सुबह की हवा और उसके कारण आ रही प्यारी-प्यारी नींद के कारण बिस्तर छोड़ने में थोड़ा कष्ट जरूर होता है, लेकि... Read more
clicks 235 View   Vote 0 Like   2:30am 31 May 2019 #लेख
Blogger: Kavita Rawat
वह माँ जो ताउम्र हरपल, हरदिन अपने घर परिवार की बेहतरी के लिए अपना सर्वस्व निछावर कर अपनों को समाज में एक पहचान  देकर खुद अपनी पहचान घर की चार दीवारी में सिमट कर रख देती है और निरंतर संघर्ष कर उफ तक नहीं करती, ऐसी माँ का एक दिन कैसे हो सकता है! घर-दफ्तर के जिम्मेदारी के बीच द... Read more
clicks 261 View   Vote 0 Like   2:40am 11 May 2019 #मातृ दिवस विशेष
Blogger: Kavita Rawat
मजदूर! सबके करीब सबसे दूर कितने मजबूर! कभी बन कर कोल्हू के बैल घूमते रहे गोल-गोल ख्वाबों में रही हरी-भरी घास बंधी रही आस होते रहे चूर-चूर सबके करीब सबसे दूर मजदूर! कभी सूरज ने झुलसाया तन-मन जला डाला निवाला लू के थपेड़ों में चपेट भूख-प्यास ने मार डाला समझ न पाए क्यों ... Read more
clicks 222 View   Vote 0 Like   10:00am 1 May 2019 #मजदूर
Blogger: Kavita Rawat
चैत्रेमासि सिते मक्षे हरिदिन्यां मघाभिधे। नक्षत्रे स समुत्पन्नो हनुमान रिपुसूदनः।। महाचैत्री पूर्णिमायां समुत्पन्नोऽञ्जनीसुतः। वदन्ति कल्पभेदेन बुधा इत्यादि केचन।। अर्थात्-चैत्र शुक्ल एकादशी के दिन  मघा नक्षत्र में भक्त शिरोमणि, भगवान राम के अनन्य स्नेह... Read more
clicks 139 View   Vote 0 Like   2:30am 18 Apr 2019 #समसामयिक
Blogger: Kavita Rawat
होली पर्व से सम्बन्धित अनेक कहानियों में से हिरण्यकशिपु के पुत्र प्रहलाद की कहानी बहुत प्रसिद्ध है। इसके अलावा ढूंढा नामक राक्षसी की कहानी का वर्णन भी मिलता है, जो बड़ी रोचक है।  कहते हैं कि सतयुग में रघु नामक राजा का सम्पूर्ण पृथ्वी पर अधिकार था। वह विद्वान, मधुरभाषी ... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   2:30am 19 Mar 2019 #लेख
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3953) कुल पोस्ट (193487)