POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: moods

Blogger: prabhat bajpai
                                    रेत - रेतरेत -  रेत  हो  गई  इच्छाएं  मन कीबिखर  गई  पंखुरियांमेरे स्वपन की अर्थ  में  उलझ  गई  गति  जीवन कीबिखर  गए  मोती  अंजुरियों  केटूट  गई  डोर  प्रीत  कीतनहा   ही  रही  अंजुमन  मन  की अरमां  भी  है  कुछ  खोये  तनहा  सेऋतु  भी  है  कुछ  पतझर  कीले  गया  छ... Read more
clicks 188 View   Vote 0 Like   4:28pm 23 Mar 2012 #
Blogger: prabhat bajpai
                                                                धूप चुपके से दाखिल होती है धूप खिरकी के रास्ते आती है  धूप ,नींद की चादर   कुतर  जाती है धूप बाल खोले जब आती है धूप ,तितलियों पर सवार आती  है धूप दरख्तों के बीच धूप छुपी  खेलती है धूप ,पत्तियों से बाते करती है धूपयादों को सुखाती है धू... Read more
clicks 194 View   Vote 0 Like   5:43pm 25 Feb 2012 #
Blogger: prabhat bajpai
                                                   बंदिशआने दो मुझे जरा बंदिशों से बाहर बात करने को जी चाहता  है .कभी खयालो से नहीं हुआ जो बाहर आज पाने को जी चाहता  है .जो कभी न हो सका खयालो से दूर आज उसे गुनगुनाने को  जी चाहता  है .जो कभी न हो सका मुझसे बाहर उसे ही पाने को जी चाहता  है .आने दो मु... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   5:15pm 25 Feb 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post