प्रियदर्शिनी........

क्या वजहें हो सकतीं है.आये दिन होनेवाली आत्महत्याओं की। खासतौर पर   तब,जब ये कदम स्कूलों में पढ़ने वाले छोटे-छोटे बच्चों के द्वारा उठाया जाता है। आखिर ऐसी कौन सी परिस्थितियां , किस तरह का मानसिक   दवाब या  तनाव इन बच्चों को होता है जो कुछ भी जाने समझे बगैर ऐसा भयानक ...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  December 14, 2014, 4:20 pm
यश (मेरा बेटा) आजकल एक डॉक्यूमेंट्री बना रहा है ..उसका लिंक यहां दे रही हूँ ..उम्मीद है एक बच्चे कोशिश को आप देखेंगे . https://www.youtube.com/watch?v=tS1gvXrE--c...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  August 25, 2014, 12:29 pm
आज विश्व संगीत दिवस पर आप सब को ढेर सारी बधाई। विशेषरूप से उन लोगों को जो किसी  न किसी रूप में  म्यूज़िक -इंडस्ट्री से  जुड़े हुए है।इनमे से  कुछ लोग शौकिया तो कुछ लोग रोजी-रोज़गार के लिए इस इंडस्ट्री में काम कर रहे है.पर कर तो रहे है न,सो बधाई तो बनती है।    ...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  June 21, 2014, 7:30 pm
आज अक्षय तृतीया है ,आज ग्यारह साल बाद ग्रहों का एक महासंयोग बनाने जा रहा है .,जो बेहद शुभ है ..मान्यता है की इस दिन सोना खरीदने से धन की वृद्धि होती है .(सीधी सी बात है .सोना एक टिकाऊ धन है )..सो आप भी इस मौके का फायदा उठाइये ..अपनी जमापूंजी बैंकों से निकाल कर किसी बड़े से ज्वैलर्स ...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  May 2, 2014, 9:27 am
लीजिये ,बच्चों को परीक्षाओं के बाद पढ़ाई से कुछ  दिन कि छुट्टी मिली नही कि कि वो बहुत कुछ करने लग जाते है -ऐसे ही यश ,दस-पंद्रह दिन कि छुट्टीमें   पता नही क्या-क्या करना चाहता है,फिलहाल उसका ड्रीम प्रोजेक्ट कि एक झलक ,इस लिंक को क्लिक करें -https://www.youtube.com/watch?v=MF5ja4YIndc&feature=youtu.beTut Ankh Amun...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  March 21, 2014, 5:52 pm
आज नेताजी कि १५१ वीं जयंती है ..आज का दिन नेशनल यूथ डे के रूप में भी मनाया जाता है ..ख़ुशी कि बात यह है कि दुनिया के सबसे ज्यादा युवा आबादी वाले देश भारत में आज बहुत से युवा ऐसे है जो सच में देश और समाज कि उन्नति के लिए बहुत कुछ करना चाहते है ..और अपने -अपने तरीकों से कर भी रहे है......
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  January 12, 2014, 4:59 pm
आज के बच्चे ,बच्चे नही रहे ,सयाने हो गये है ...इस बात का कोई उल्टा -सुल्टा मतलब न निकालिये ,सच ,आज के बच्चे हमारी जेनरेशन के लोगों से बहुत ज्यादा समझदार ,जानकर हो गये है ...दस -बारह वर्ष कि उम्र से ही वे भविष्य के लिए फिक्रमंद होते नज़र आने लगे है ..आज के बच्चे हम से कही ज्यादा मेह...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  November 14, 2013, 4:18 pm
लगभग दो घंटे पहले कि बात है ,मै.बालकनी में रखे पौधों में पानी डालने के लिए आयी थी ,बगल वाले घर से जोर -जोर से  चीखने कि आवाज़ें  आ रही थी ..जो शब्द सुनायी पड़ रहे थे ,सुनकर ऐसा लग रहा था .जैसे कोई जबरन ही किसी को घर से धकिया रहा हो .,जिन लोगों कि आवाज़े सुनाई दे रही थी वो लगभग ती...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  October 30, 2013, 12:24 pm
बहुत -बहुत बधाई, विशेषरूप से हम कानपुरवासियों को ,प्रदुषित शहरों कि लिस्ट में तो हम ऊंचे स्थान पर थे ही,अब एक गैर सरकारी संगठन "हेल्प एज इंडिया ’ कि ओर से कराये गये अध्ययन के आधार पर "बुजुर्गों पर अत्याचार " करने के मामले में भी हम भारत के शहरों में दूसरे नंबर पर है .हुंह,यह ...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  June 15, 2013, 3:54 pm
विजय कुमारी ..एक सामान्य सी .गरीब महिला..लगभग बीस साल पहले उसके घर के पास एक मृत बच्चा पाया गया .हत्या का दोष विजय कुमारी पर लगा ...वो गिरफ्तार हो गई ...अदालत में  मामला आने पर .और मुकदमे की कमजोर स्थिति को देखकर ..अदालत से उसे जमानत दे दी गई ... ...अदालत से भले ही उसे जमानत मिल गई थी ....
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  June 6, 2013, 8:16 am
मां ,कहां से शुरू करूं ..कुछ समझ में नहीं आ रहा ..तुम्हारे बारे में कुछ लिखना बहुत मुश्किल है ..तुम क्या हो ..सिर्फ़ वही लोग जान सकते है ..जो तुमसे किसी न किसी रूप मै जुडे हुए है ..तुम जैसा दूसरा कोई है ही नहीं .जब तुम्हारे बारे में सोचती हूं ,तो समझ ही नहीं पाती हूं .कैसे तुमने हम स...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  May 12, 2013, 8:15 am
धूप बहुत तेज होने लगी थी ,बाहार बालकनी मै फ़ैले हुए कपडों को मै समेट रही थी.,गर्मी इतनी ज्यादा थी कपडों की एक बडी सी पोटली बांधकर मै अन्दर भागने को थी .तभी सामने नज़र पडी ,तीन बच्चे मेरे घर के सामने की बाउन्ड्री वाल के बाहार चुपचाप बैठे थे .उन्होंने पैरों मै चप्पल भी नहीं प...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :Stories
  May 1, 2013, 2:18 pm
हमशहर कि एक पौश कोलोनी मै रहते है,खुली-खुली हवादार सडके,सुव्यवस्थित मकान,दो किमी के अन्दर ही सभी आवश्यक सुविधायें जैसे-फ़ेमस नर्सिंग होम,कोचिन्ग सेन्टर,स्कूल,मार्केट सभी उपलब्ध है ...ज्यादा झन्झट नही..बस,रिक्शा किया..२० रू० के अन्दर वह आपको आपकी मन्जिल तक पहुंचा देगा..मज़...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  August 7, 2012, 7:54 pm
लीजिये ,फ़िर होली का त्योहार आ  गया ...बच्चे बोले ..चलो हम बाज़ार हो आते है .पांच  दिन बाद ही तो होली है अभी तो खाने-पीने का सामान ,रंग,पिचकारी कुछ भी नही लिया..मैने भी खीझ कर कह दिया..अभी तो पांच दिन बाकी है न..सब हो जायेगा..दिमाग मत खाओ..कहने को तो मैने कह दिया .पर मै बच्चों के मन की ब...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  March 4, 2012, 6:57 pm
फ़ादर्स डे नज़दीक है...पिछले पन्द्रह-सोलह वर्षों में पहली बार मैं अपने मायके गर्मियों की छुट्टी बिताने नही गई..इन्हीं दिनो में मेरे पापा जी का जन्मदिन भी होता है..और फ़ादर्स डे भी..दोनों ही दिन मै मिस कर रही हूं..इन दोनों ही अवसरों पर हम सभी पापाजी की जरूरतों को ध्यान मै रख...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :संस्मरण
  June 16, 2011, 5:47 pm
बहुत देर से बालकनी मैं बैठी-बैठी बोर हो रही थी ..रात के ग्यारह बज चुके थे..लगभग सभी घरों की लाईटें बंद हो चुकीं थीं..सडकें भी सूनसान होने लगी थीं..मेरे घर के ठीक सामने वाले घर मैं दो माह पहले लगभग 45-46 वर्षिय महिला जिन्हें हम शीला भाभी के नाम से पुकारते थे .कि लम्बी बीमारी के चल...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  May 21, 2011, 3:43 pm
रोज कि तरह आज भी सुबह के ढेर सारे काम निबटा कर अखबार पढने बैठ गई .पता नही क्यूं पिछले 14-15 वर्षों से [जब से कानपुर ब्याह कर आई हूं ] मेरी आदत बन गई है अखबार को उल्टा पढने की ,उल्टे से यह मतलब कतई ना लगायें कि में अखबार का ऊपरी हिस्सा नीचे और नीचे वाला हिस्सा ऊपर कर देती हूं .नहीं ...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :
  March 17, 2011, 8:57 pm
दशहरा नज़दीक है,साल दर साल दशहरा हो या कोई अन्य त्योहार..हम सब में त्योहार को मनाने का जोश कम ही होता नज़र आ रहा है..कुछ त्यौहारों का आना तो अब बला समान लगता है..दशहरे से जुडी दो यादगार घटनायें मैं आपके साथ शेयर करना चाहूंगी..पहली घटना तब की है..जब मैं ग्यारहवीं क्लास मैं पढ्ती...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :संस्मरण
  October 16, 2010, 6:01 pm
आकलल पित्र पक्ष चल रहा है ,हिन्दु धर्म में आस्था रखने वालों के लिये यह पक्ष बहुत महत्वपूर्ण है .कहा जाता है कि इन दिनों "पित्रलोक" पूरे वर्ष भर में धर्ती के सबसे निकट होता है . लोग अपनी सामर्थ्य और श्रद्धा के अनुसार पितरों को जल चढाते ,पन्डितों-गरीबों को भोजन कराते,दान वगै...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :लेख
  October 3, 2010, 1:59 pm
3 जुलाई को प्रधान मंत्री श्री मनमोहन सिंह जी का कानपुर आगमन था.सभी शहरवासी उत्साहित थे.तैयारियां ज़ोरों पर थीं.पीएम की त्री आयामी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी पूरे शहर की सडकें जो लम्बे समय से खुदी पडीं थीं,उन में से वे सडकें, जिन पर से होकर पीएम की सवारी को गुजरना था.बहुत भा...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :संस्मण
  July 5, 2010, 4:04 pm
यह कहानी बुन्देलखंड के एक छोटे से गांव की है.. जहां लोग घर आये मेहमान का दिल खोलकर स्वागत करते है.दामाद तो उनके लिये भगवान का स्वरूप होता है..आज भी बेटी के मां-बाप.अपने दामाद के पैर छूते है..दामाद अपनी ससुराल से खुशी-खुशी विदा हो..इसका पूरा खयाल रखते है. इस कहानी का दामाद सिं...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :कहानी
  June 27, 2010, 6:58 pm
हमशहरकि एक पौश कोलोनी मै रहते है,खुली-खुली हवादार सडके,सुव्यवस्थित मकान,दो किमी के अन्दर ही सभी आवश्यक सुविधायें जैसे-फ़ेमस नर्सिंग होम,कोचिन्ग सेन्टर,स्कूल,मार्केट सभी उपलब्ध है ...ज्यादा झन्झट नही..बस,रिक्शा किया..२० रू० के अन्दर वह आपको आपकी मन्जिल तक पहुंचा देगा..मज़ा...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :व्यंग आलेख
  May 22, 2010, 9:50 pm
"बेटा ..तुम्हारेसरमैदर्दहै ...तुम्हारेघरफोनकरदूं? ..घरजाओगे?"..नहीं .मुझेघरनहींजाना ...मैयहीसिकरूममैलेटारहूगा ..घरजाऊंगातोसबनाराज़होजायेगेराहुलबोलाराहुलएकहोनहार .,बुद्धिमान ,औरभावुकबच्चाहै ..सबकोवहबहुतप्यारकरताहै ..उससेकिसीकादुःख-दर्दनहींदेखाजाता ..वहकिसीकोभीन...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :आलेख
  April 28, 2010, 6:18 pm
पिछलेकुछ वर्षो से हमें एक ऐसे काम की तलाश है जिसमे हमें काम कम दाम ज्यादा मिले ...अभी तक जितने लोगो से इस सिलसिले मई मुलाक़ात हुई ..वे दाम कम ,काम ज्यादा चाहते थे .....इसलिए आज तक हमे अपनी कमाई के दस रूपए भी नसीब न हुए ....कलशाम से बार-बार एक ही विचार दिमाग मै कौंध रहा है ..क्यों मै दस-...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :व्यंग
  April 12, 2010, 4:29 pm
पाब्लोनेरुदाको१९७१मैनोबेलपुरस्कारसेसम्मानितकियागयाथा ...नेरुदाकेवलएकक्रांतिदृष्टाहीनहीं थे बल्किसौंदर्यप्रेमीभीथे ....कवितासेअधिकउन्हेंकविताकेविषयसेसरोकारथा ...उन्होंनेअप्रचलितविषयों को छुआ ..उसकीबारीकियों ,खूबियोंकोदेखा...उनकीप्रचलितकविता ''टूटतीहुईची...
प्रियदर्शिनी...........
Tag :कविता
  April 9, 2010, 5:42 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]
Share:
  गूगल के द्वारा अपनी रीडर सेवा बंद करने के कारण हमारीवाणी की सभी कोडिंग दुबारा की गई है। हमारीवाणी "क्...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3263) कुल पोस्ट (123256)