POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: बिखरे आखर .

Blogger: ajay kumar jha
सोच रहा हूँ कि कल को फेसबुक जब मेमोरीज़ में ये आज कल हमारे द्वारा लिखी कही गयी बातों को दिखाएगा उस वक्त तक हम निश्चित रूप से इन झंझावातों से गुज़र चुके होंगे और ये अच्छे बुरे दिन ही यादों के पन्नों पर अंकित होकर रह जाएंगे। इन हालातों से ,इन हादसों से हम क्या कितना सबक ले पाए ... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   1:18pm 20 Apr 2020 #टिप्पणी
Blogger: ajay kumar jha
जैसे जैसे कंप्यूटर और मोबाइल का चलन घर से लेकर दफ्तरों तक बढ़ गया है उससे किताबों को पढ़ने की रवायत तो कम हो ही गई है इसके साथ साथ जो एक आदत बिलकुल ख़त्म होती जा रही है वो है हाथों से कागज़ पर लिखना | कचहरी जैसे दफ्तर में जहाँ कंप्यूटर तकनीक बहुत पहले आ जाने के बावजूद भी अब तक ह... Read more
clicks 43 View   Vote 0 Like   4:40am 14 Mar 2020 #कुछ ख्याल
Blogger: ajay kumar jha
मैं शुरू से ही ये मान रहा था और जहां भी मुझे लगा यही कह रहा था की नागरिकता संशोधन कानून का विरोध करने वालों के सामने हर हाल में सिर्फ और सिर्फ वर्दी वाले ही होने चाहिए ,सत्ता और प्रशासन ही रहने चाहिए | चाहे कुछ  भी हो ,इस कानून का और सरकार के इस रुख का समर्थन करने वाले हर व... Read more
clicks 51 View   Vote 0 Like   2:07pm 1 Mar 2020 #दिल्ली
Blogger: ajay kumar jha
दो पंक्तियों में लिखे हुए कुछ शब्द जो मुहब्बत और ज़िंदगी के फलसफों को समझने के लिए लिखे गए | देखिये आप भी , इन्हें मैं अनाम आदमी के नाम से अलग अलग मंचों पर साझा करता रहा हूँ | यदि प्रयास पसंद आए तो चैनल के साथी बनें |... Read more
clicks 48 View   Vote 0 Like   1:42pm 3 Jan 2020 #कुछ पंक्तियाँ
Blogger: ajay kumar jha
एक ही निगाह में ,वो सब बता गया दर्द का पूछा तो ,मज़हब बता गया अंदाज़ा मुझे भी इंकार का ही था यक़ीन हुआ नाम गलत जब बता गया हाथ मिलाया तो नज़रें जेब पर थीं यार मिलने का यूं सबब बता गया लूटता रहा गरीबों को ताउम्र जो पूछने पर ख़ुद को साहब बता गया वादे कमाल के किये उसने ,... Read more
Blogger: ajay kumar jha
चंद पंक्तियाँ ,बेतरतीब ,बिखरी ,सिमटी हुई , आप खुद देखें... Read more
Blogger: ajay kumar jha
         ... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   3:00pm 22 Jul 2019 #बिखरे आखर
Blogger: ajay kumar jha
                                      चंद अल्फाज़ हैं ये                                     मेरा कल आज हैं ये... Read more
clicks 250 View   Vote 0 Like   6:59am 6 Sep 2018 #बिखरे आखर
Blogger: ajay kumar jha
 चंद बिखरे सिमटे से आखर , कुछ बेतरतीब उनींदी उंघती सी पंक्तियाँ ... Read more
clicks 322 View   Vote 0 Like   2:37am 30 Jul 2017 #बिखरे आखर
Blogger: ajay kumar jha
चंद बिखरे सिमटे आखर , बेतरतीब ,बेलौस से , बात बेबात कहे लिखे गए , उन्हें यूं ही सहेज दिया है ........दो दरखत एक शाख के , एक राजा की कुर्सी बनी दूसरी बुढापे की लाठी ... Read more
clicks 357 View   Vote 0 Like   12:18am 23 Jul 2017 #शब्द चित्र
Blogger: ajay kumar jha
अब नर्म धूप,मेरे आँगन भी,उतरने लगी है।टिमटिमाते तारों की रौशनी,और चाँद की ठंडक,छत पर,छिटकने लगी है।पुरबिया पवनें,खींच लाई हैं,जो बदली , वो,घुमड़ने लगी है।दर्पर्ण मांज रहा है,ख़ुद को,आलमारी भी,सँवरने लगी है ।फूलों के खिलने में,समय है,कलियों पर ही,तितलियाँ,थिरकने लगी हैं।... Read more
clicks 301 View   Vote 0 Like   3:46am 2 Jul 2017 #कुछ पंक्तियां
Blogger: ajay kumar jha
बारूद की स्याही से , नया इंकलाब लिखने बैठा हूं मैं , सियासतदानों , तुम्हारा ही तो हिसाब लिखने बैठा हूं मैं बहुत लिख लिया , शब्दों को सुंदर बना बना के , कसम से तुम्हारे लिए तो बहुत , खराब लिखने बैठा हूं मैं टलता ही रहा है अब तक , आमना सामना हमारा ,लेके सवालों की तुम्हारी सूची, जव... Read more
clicks 241 View   Vote 0 Like   5:31am 13 Oct 2016 #चंद पंक्तियां
Blogger: ajay kumar jha
                                        औरत : एक अंतहीन संघर्ष यात्रा एक प्रकाशित आलेख आलेख को पढने के लिए उस पर क्लिक करें , आलेख अलग खिड़की में खुल जाएगा ... Read more
clicks 247 View   Vote 0 Like   11:03am 11 Oct 2016 #प्रकाशित आलेख
Blogger: ajay kumar jha
सुनो !आरुषी,प्रियदर्शनी ,निर्भया ,करुणा ,सुनो लड़कियोंतुम यूं न मरा करो ,हत्या कर दो ,या अंग भंग ,फुफकार उठो ,डसो ज़हर से,बन करैत,बेझिझक , बेधड़क ,प्रतिवाद , प्रतिकार ,प्रतिघात , करा करोसुनो !आरुषी,प्रियदर्शनी ,निर्भया ,करुणा ,सुनो लड़कियोंतुम यूं न मरा करो ,तुम मर जाती हो ,फिर मर ज... Read more
clicks 260 View   Vote 0 Like   5:42am 24 Sep 2016 #करुणा
Blogger: ajay kumar jha
एक संत थे | उनके कई शिष्य थे | जब उन्हें महसूस हुआ कि उनका अंतिम समय आ गया है तो उन्होंने अपने सभी शिष्यों को बुलाया | जब सभी शिष्य आ गए तो उन्होंने कहा ,"ज़रा मेरे मुंह के अन्दर ध्यान से देखकर बताओ कि अब कितने दांत शेष बचे रहे गए हैं |"बारी बारी से सभी शिष्यों ने संत का मुंह देखा... Read more
clicks 321 View   Vote 0 Like   1:07am 3 Oct 2015 #दांत
Blogger: ajay kumar jha
आज गाने दे मुझको , गीत मातृवंदना के ,मुहब्बत के नगमे, फिर कभी तुझको सुना देंगे ||उठ बढ़ा कदम अपनी हिम्मत और विशवास से  "वो"रुदाली हैं जो , रो रो के तुझको डरा देंगे ||उन्हें भरोसा है अपनी काबलियत पर इतना कि ,मरने देंगे पहले , जी उठने की फिर वो दवा देंगे ||आग लगाने की उनको आदत नहीं ह... Read more
clicks 266 View   Vote 0 Like   11:34am 28 Sep 2015 #दो पंक्तियाँ
Blogger: ajay kumar jha
आजकल दिल्ली का मौसम अफ़लातून हुआ जा रहा है , यूं तो "दिल्ली मेरी जान".की तर्ज़ पे यहीं उत्ता मसाला तो तकरीबन रोज़ ही फ़ैला या फ़ैलाया जाता रहता है कि शाम को टेलिविजन पर बकर काटने के लिए बैठे तमाम तबेलेनुमा टीवी महाबहस में सबको कुछ न कुछ जुगाली के लिए तो मिल ही जाना चाहिए , और मिल ... Read more
clicks 269 View   Vote 0 Like   12:16pm 7 Feb 2015 #कुछ यूं ही
Blogger: ajay kumar jha
....... फ़ोटो खींचने और सहेज़ने की स्वाभाविक सी आदत कब शौक बन गई पता ही नहीं चला , अब उन सहेज़ी गई फ़ोटो को "शब्द-चित्रों"के रूप में प्रस्तुत करने का एक प्रयास किया है ................ Read more
clicks 293 View   Vote 0 Like   4:04am 27 Dec 2014 #शब्द चित्र
Blogger: ajay kumar jha
तेरे ही रहे चर्चे पिछले दिनों , सुना बडा नाम हुआ है ,हथकंडे चलते रहे थे जहां ,अबकि फ़ैसला-ए-अवाम हुआ है ॥हर रोज़ लिखे जाते हों कानून के नए मसौदे जहां ,काट दे थानेदार चालान बीवी का , लोगों ने कहा बडा काम हुआ है ॥ सुनो व्हाट्सअप को ही दुनिया मानने समझने वालों ,आउटडेटेड होकर इन सब... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   10:58am 17 Sep 2014 #बिखरे आखर
Blogger: ajay kumar jha
हम जानते हैं तुम जिस देस के वासी हो ,उस देश को अर्से से इस खेल का चाव है ,दिल थाम के बैठना सामने चुनाव है ॥बडे भोले हो ओ बाउजी , फ़न्ने बने फ़िरते हो ,वो पपलू बनाए जा रहे हैं ,पप्पू सा स्वभाव है ,दिल थाम के बैठना सामने चुनाव है साला मुर्गा टंगा है उलटा अस्सी रुपए में,एक किलो टमाटर&... Read more
clicks 335 View   Vote 0 Like   11:17am 23 Apr 2014 #दिल
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4001) कुल पोस्ट (191766)