Hamarivani.com

The World I See Every Day and What I think About it............

प्राकृत यह एक रेशम केंद्र ही नहीं वरन डेढ़ सौ महिलाओं के लिए जीवन रेखा है जो रोज- रोज उनके घरों में जीवन में और साँसों में सैकड़ों बार धडकती है और यही कारण है कि वे हफ्ते में बमुश्किल एकाध छुट्टी लेती हो और साल भर में बहुत ही किसी महत्वपूर्ण त्यौहार पर. रोज सुबह नौ बजे से इ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 17, 2012, 12:39 pm
आम तौर पर सरकारी विभागों में पांच हजार रूपये से ज्यादा की राशि के स्वीकृती जिला कलेक्टर करते है और हर प्रकार के चेक पर हस्ताक्षर, चाहे वो पांच हजार के हो या उससे कम के हो, सम्बंधित विभाग के प्रमुख और जिला कलेक्टर ही करते है. परन्तु ग्राम पंचायतों में लाखों के चेक सरपंच ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 12, 2012, 1:01 pm
बैतुल से लौट ही रहा था कि स्टेशन पर एक युवा लडकी को ढेर सारा सामान ढोते हुए देखा तों हैरत में पड़ गया मैंने उसे पास बुलाया और पूछा कि क्या मै दो मिनिट बात कर सकता हूँ और तस्वीर ले सकता हूँ तों बहुत जोश और खुशी से बोली ...जी, जरुर, मेरा नाम दुर्गा है, पिताजी के किसी घटना में पाँव ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 10, 2012, 7:28 pm
आज ना जाने क्यों एक बहुत करीबी मित्र से अभी हुई बातचीत में "हर्ष' का जिक्र निकल आया...........हर्ष ने बहुत गंभीरता से प्यार किया था और अपना जीवन पूरा दे दिया, उसकी हर जिद के आगे हर उस मांग को पूरा किया जो उसने की थी - चाहे वो जायज थी या नाजायज, बौद्धिकता के स्तर पर हर्ष ने उसे सहा...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 9, 2012, 8:16 pm
कोठियों से मुल्क की मैयार को मत आंकियेअसली हिन्दुस्तान तों फूटपाथ पर आबाद है....
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 8, 2012, 3:23 pm
भारत हमको जान से प्यारा है, सबसे प्यारा गुलिस्ता हमारा है.......अरविंद ने बिजली के बिल फाड़े, पचास हजार लोग दिल्ली के ओर कूच कर रहे है दो गज जमीन के लिए, राबर्ट वाड्रा घपले में शामिल, अन्ना का आंदोलन फेल, गैस के भाव बढे, एफ डी आई का प्रवेश, सारे नेता और सरकार भी सरकार से नाखुश, को...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 7, 2012, 10:11 am
किसी साथी ने बताया कि मप्र के मुख्य सचिव भोपाल में पैंतीस आय ए एस और आय पी एस अधिकारियों को श्रीलंका के राष्ट्रपति के सफल दौरा आयोजन की खुशी में अरेरा क्लब भोपाल में पार्टी दे रहे है, इसी दोस्त ने यह भी बताया कि यह खबर आज के जागरण में छपी है मुझे मिली नहीं, कोई लिंक बताकर ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 4, 2012, 12:26 pm
Iदेवास में दो एस डी एम ने अभी अनूठे काम किये है सोनकच्छ के एस डी एम कालूसिंह सोलंकी ने एक महिला पटवारी से दुष्कृत्य करने की कोशिश की और कल देवास के एस डी एम प्रभात काबरा ने एक किसान जुगल प्रजापति को मंडी में सरे आम चांटा मार दिया जब वो अपनी सोयाबीन की फसल को उचित भाव पर ब...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  October 2, 2012, 11:00 am
निकले तों वो भी जैसे मै निकला था जल्दी और बेहद हडबडी में बस फर्क ये था कि मै एक बड़ी बस में था और वो एक छोटी सी कार में, मेरे साथ यात्रियों का एक बड़ा जत्था था और वो दोनों बिलकुल अकेले, जाहिर है कभी साथ रहने की कसमें खाई होंगी- सो साथ ही थे, मै निपट अकेला और साथ में ढेरों अनजान या...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  September 29, 2012, 12:01 pm
यह एक पतली गली का आख़िरी कोना है और गली यहाँ  से मुडकर खत्म भी हो जाती है और नहीं भी.......पता नहीं ये आगे कहाँ जाती है पर यहाँ आकर एक एहसास होता है सब कुछ खत्म हो गया है दुनिया का लगभग आख़िरी कोना आ गया है और ठीक इसी मुहाने पर एक खम्बे पर एक टिमटिमाती सी ट्यूब लाईट जल रही है इस भया...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  September 29, 2012, 11:25 am
यह एक लंबी उलझी सी और ना जाने कहाँ कहाँ गुंथी हुई सी श्रापित बेल है पीली सी जर्द और लगातार बेताबी से पेड़ के तने से लिपटती हुई और ना जाने किस आसमान को छूने को उत्सुक और तत्पर, सदियों से ज़माना कहता आया कि ये मुई परजीवी है और ना अपनी पहचान, ना अस्मिता- बस दूसरों के आश्रय पर युगो...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  September 26, 2012, 1:06 pm
जिले से दूर करीब डेढ़ सौ किलोमीटर एक ब्लाक  था जहां सारे जिले के अधिकारी अपने अपने वाहनों से इकट्ठा हुए थे, क्योकि इसी ससुरे पिछड़े ब्लाक में जिले का एक मेला होना था जिससे समाज के अंतिम आदमी का उत्थान हो सकता था. साले, गरीबों, नंगों, भूखों  को सरकारी योजनाओं का लाभ दिया जाना ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  September 19, 2012, 8:38 pm
आज अभी मनोज लिमये और प्रीति निगम ने एक दुखद सूचना दी कि राज्य संसाधन केंद्र इंदौर की पूर्व निदेशिका सुश्री कुंदा सुपेकर का आज दिल का दौरा पडने से सुबह दुखद निधन हो गया. ताई के नाम से मशहूर कुंदा जी ने अपने कैरियर की शुरुआत इंदौर के भारतीय ग्रामीण महिला संघ से की थी. स्व क...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  August 12, 2012, 5:14 pm
प्रिय मोहित पिछले लगभग बारह बरसों में हम कितने करीब आ गये पता ही नहीं चला तुम्हारी पढाई- आर्मी स्कूल महू,  आई आई टी रूडकी, नौकरी और इस दौरान मेरा लगातार तुमसे संपर्क हरिद्वार, शिरडी, इंदौर, महू, देवास, सीहोर, होशंगाबाद, मेरी माँ के आख़िरी दिनों में सुयश अस्पताल में तुम्हार...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  August 2, 2012, 9:08 pm
अन्ना साहब को निश्चित रूप से एक राजनीतिक दल बनाना चाहिए. व्यवस्था परिवर्तन वह चाहते नहीं और व्यवस्था के भीतर रहकर कुछ करने के लिए संसद में होना ज़रूरी है. ऐसा करने पर एक फायदा यह होगा कि हम जैसेलोग लोकपाल के अलावा भी दुसरे मुद्दों (जैसे आर्थिक नीति, आरक्षण, रोजगार,सेज, ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  August 2, 2012, 8:15 pm
मेरी इबादतों को ऐसे कर क़ुबूल ऐ मेरे ख़ुदा, . . कि सज़दे में मैं झुकूं, तो मुझसे जुडे हर रिश्तें की ज़िन्दगी सँवर जाए ..!!...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  August 2, 2012, 2:45 pm
कोयला हो चुकी हैं हम बहनों ने कहा रेत में धंसते हुएढक दो अब हमें चाहे हम रुकती हैं यहां तुम जाओबहनें दिन को हुलिए बदलकर आती रहींबुख़ार था हमें शामों मेंहमारी जलती आंखों को और तपिश देती हुई बहनेंशाप की तरह आती थीं हमारी बर्राती हुईज़िन्‍दगियों में बहनें ट्रैफि़क से भर...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  August 2, 2012, 2:34 pm
 होरी पड़ा अचेत खेत मेंधनिया खाए पछाड़ रेत मेंगोबर भूखा फ़िरे शहर मेंऐसी हालत है घर-घर मेंप्रेमचंद के बाद दूसराकौन लिखे गोदान......हिन्दी के विलक्षण विवादास्पद लेखक, जिन पर अभी तक लाखों शोध हो चुके है, भारत और दुनिया में एम ए करके अपने गाईड की जी हुजूरी और चापलूसी से प्रेमचं...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  July 31, 2012, 11:13 am
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।जीवन अस्थिर अनजाने ही, हो जाता पथ पर मेल कहीं,सीमित पग डग, लम्बी मंज़िल, तय कर लेना कुछ खेल नहीं।दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते, सम्मुख चलता पथ का प्रसाद –जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला, उस-उस राही को धन्यवाद।साँसों पर अवलम्बित काया, ज...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  July 28, 2012, 8:48 am
तुम नहीं जानतीकहां -कहां किया मैंने तुम्हारा इंतज़ारमस्तिष्क में उठते संशयों तथा द्वंद्वों के मकड़जाल के अंदरधैर्य के एक बेहद संकरे दर्रे मेंदहशत की तोप के मुहाने परकीचड़ और काई से भरी प्रायश्चित की रपटीली ढलान परबनाते हुए बमुश्किल संतुलनमैंने किया तुम्हारा इंतज...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  July 27, 2012, 11:49 pm
ये एक लगभग खाली बस थी जो नर्मदा के किनारे बसे शहर से राजधानी जा रही थी. वो लगभग पचपन साल का आदमी होगा, शरीर पर एक खादी की बंडी, नीचे पीले रंग का धोतीनुमा कपड़ा लपेटे, पाँव में दो अलग अलग स्लीपर और बाल बेतरतीब से बढे हुए, ललाट पर लंबा सा चन्दन और आँखों में कही खालीपन था. जैसे ही ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  July 27, 2012, 9:58 pm
अन्ना आंदोलन से मेरे वैचारिक मतभेद रहे है पर आज जब अरविंद को भूख हडताल पर बैठे देख रहा हूँ तो दुःख इसलिए हो रहा है कि वो शक्कर की बीमारी के मरीज है वो भी घातक स्तर की शक्कर, यह मै खुद जान सकता हूँ कि यह कितना आत्मघाती कदम है क्योकि मै खुद भी इसी लाईलाज बीमारी का शिकार हूँ औ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  July 25, 2012, 1:37 pm
जहां भी गये अहम छोड़ आयेसलोने सलोने गम छोड़ आयेहोशंगाबाद में आज अभी अमृतलाल वेगड से मिला और जब अपना परिचय दिया तो उन्होंने देवास को रुंधे हुए गले से याद किया, कुमार जी और नईम जी की स्मृति को नमन करते हुए बड़ी देर तक बातें करते रहे और कहा कि "नईम जी और सुल्ताना जी दोनों मेरे ...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  July 24, 2012, 9:44 pm
कुछ मुहब्बत का नशा था पहले हम को फराज़,दिल जो टूटा तो नशे से मुहब्बत हो गयी...!!...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  June 29, 2012, 11:46 am
कल का स्टेटस था.......... "आज से पेट्रोल सिर्फ २० रूपये प्रति लीटर, डीज़ल १० रूपये लीटर, इनकम टेक्स माफ, वेट खत्म, गेस की टंकी मात्र १०० रूपये, रेल किराए में ६० % की कमी, सरकार ने एक मुश्त सातवे वेतन आयोग का गठन कर नवीन वेतनमान १ जुलाई से देने की घोषणा, सभी राज्यों में तनख्वाहों में...
The World I See Every Day and What I think About it...............
Tag :
  June 29, 2012, 11:27 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163808)