Hamarivani.com

चित्रकथा

 इस ब्लॉग की यह १०० वीं पोस्ट है।  सुन्दर चित्रों से सुसज्जित इस ब्लॉग को बहुत पसंद किया गया।  लेकिन अब ब्लॉगिंग में लोगों की दिलचस्पी लगभग ख़त्म सी हो गई है।  इसलिए शतक पूरा होते ही इस ब्लॉग की इतिश्री करने का विचार है। फ़िलहाल पिछली शिमला यात्रा से प्रस्तुत हैं कु...
चित्रकथा...
Tag :
  October 23, 2015, 5:04 pm
चैल पैलेस चैल पैलेस ग्राउंड चैल से घाटी का दृश्य फागु घाटी शिमला के बाहर हरियाली शिमला शहर चौक विश्व का सबसे ऊंचा क्रिकेट ग्राउंड नदी में पिकनिक सूर्यास्त ...
चित्रकथा...
Tag :दर्शन --
  October 2, 2015, 7:30 am
दिल्ली के पुराना किला में आजकल पुरातत्व विभाग की ओर से खुदाई चल रही है जिसे जनता के लिए दो दिन के लिए खोला गया था।  किले के प्रांगण में एक पुरानी बावली जो कभी पेय जल का श्रोत होती थी। ऐ इस आई की खुदाई खुदाई एक टीले पर की जा रही है। चावल और दाल के दाने।टैराकोटा बर्तन , साथ...
चित्रकथा...
Tag :
  April 20, 2014, 11:20 am
लाल बाग़ बैंगलोर ---...
चित्रकथा...
Tag :
  March 25, 2014, 11:45 am
मनुष्यों की तरह पेड़ों के भी अनेक रंग रूप होते हैं। ये बेचारा तो जल बिच मीन प्यासी की तरह लग रहा है। इसके सूखेपन पर मत जाइये।  यह स्टील  का बना है !यह तो लगता है रामसे फिल्म्स की किसी फ़िल्म का किरदार रहा होगा !यह छंगा छाप पेड़ है पर इसमें भी छेद है ! लगता है किसी म...
चित्रकथा...
Tag :
  March 2, 2014, 10:22 am
कुछ पेड़  ऐसे  हैं जो बहार  आने में पिछड़ जाते हैं । लेकिन फिर भी उनसे हरियाली में चार चाँद लग जाते हैं।ऐसे ही हैं ये कुछ सूखे पेड़ जो नेहरू पार्क की शोभा बढ़ा रहे हैं।    इस सूखे पेड़ ने अपना रास्ता निकाल लिया है, किसी को सहारा देकर। ...
चित्रकथा...
Tag :
  February 20, 2014, 4:34 pm
कुछ पेड़  ऐसे  हैं जो बहार  आने में पिछड़ जाते हैं । लेकिन फिर भी उनसे हरियाली में चार चाँद लग जाते हैं।ऐसे ही हैं ये कुछ सूखे पेड़ जो नेहरू पार्क की शोभा बढ़ा रहे हैं।   इस सूखे पेड़ ने अपना रास्ता निकाल लिया है, किसी को सहारा देकर। ...
चित्रकथा...
Tag :
  February 20, 2014, 4:34 pm
हुए बहुत ही महंगे गुलाब के -- डेहलिया से ही काम चलाओ !फूलों की तरह जोड़ियाँ बनी रहें ! ...
चित्रकथा...
Tag :
  February 14, 2014, 6:30 pm
रविवार का दिन , फुर्सत के कुछ पल , नर्म  सुहानी धुप और श्रीमती की फरमाईश पर नेहरू पार्क की सैर हो गई।  आप भी चलिए हमारे साथ :सुन्दर पगडंडी।पाम ट्री से मैचिंग !धूप छाँव का मेल। एक झील भी है। जड़ों से बना ऑक्टोपस। पेड़ों के बीच दूर अशोक होटल।गुलाब वाटिका। धूप में खिला गु...
चित्रकथा...
Tag :
  February 11, 2014, 9:00 am
क्या आपने कभी फूलों को ध्यान से देखा ? एक नज़र देखते ही देखिये कैसे सारी थकान उतर जाती है ,  सारे तनाव  मिट जाते हैं।           फूलों के रंग , आकृति और नाज़ुकपन बरबस मन मोह लेता है।इसे देखिये , कैसे चिलमन के पीछे से झांकती दुल्हन के चेहरे सा लग रहा है। यह त...
चित्रकथा...
Tag :
  January 25, 2014, 1:00 pm
...
चित्रकथा...
Tag :
  January 23, 2014, 7:30 pm
दीवाली पर जगमगाहट देख कर स्वत: ही फोटो लेने का दिल कर आता है। पूजा के बाद ।  अब रंगोली भी बनी बनाई मिल जाती हैं। कैमरा भी अपनी मर्ज़ी चलाता  है -- एक ही रंग को अलग अलग दिखा रहा है ! टी शर्ट का रंग भी धो डाला। लेकिन श्रीमती जी के साथ यह अन्याय नहीं किया। ये पानी वाली मोमबत...
चित्रकथा...
Tag :
  November 9, 2013, 12:18 pm
घर की बालकनी से पेड़ों के झुरमुट !अशोक वृक्षों की कतार !लेकिन सबसे लम्बा पाम ट्री ! कैमरे ने पोज़ मारा ! पेड़ ने भी पोज़ मारा !तो अचानक बादलों ने आ घेरा !तेज हवाएं बहने लगी ! फिर सूरज और बादलों मे हुई लड़ाई ! आखिर सूरज ने बाज़ी मार ली ! ...
चित्रकथा...
Tag :
  October 16, 2013, 11:46 am
एक गेस्ट हॉउस ऐसा ! ...
चित्रकथा...
Tag :
  October 1, 2013, 5:48 pm
अवध की एक शाम और घिर आये काले काले बदरा !...
चित्रकथा...
Tag :
  September 24, 2013, 7:00 pm
सामूहिक पिकनिक -- बरसात में. ...
चित्रकथा...
Tag :
  September 5, 2013, 1:38 pm
इन्हें भी सहेज लें -- मुंबई से !...
चित्रकथा...
Tag :
  August 29, 2013, 6:38 pm
मुंबई की कुछ तस्वीरें --शाहरुख़ के घर के सामने !ग्रे वेदर में रंगों की छटा !काले मौसम की खूबसूरती !वीरता के प्रतीक के पीछे साहस का प्रतीक -- होटल ताजमहल !बारिश में धुंध का धुंधलका !बिना बारिश की धुंध में सूखा पेड़ !बारिश की बूँदें जो बन गई शीशे पर मोती !इतनी बारिश कि भर ग...
चित्रकथा...
Tag :
  August 24, 2013, 10:00 am
यदि हम पहाड़ों की कद्र करें तो पहाड़ हमें बहुत खुशियाँ प्रदान कर सकते हैं। इस ऊंचे पहाड़ के सामने जाती यह पहाड़ी सड़क बहुत मनमोहक नज़ारा प्रस्तुत करती है। पेड़ पौधों से ढके ये पहाड़ मनुष्य के जीवन की लाइफ़ लाइन हैं।इस तरह के स्लेटी पहाड़ कहीं कहीं ही दिखते हैं। पर्वत ...
चित्रकथा...
Tag :पर्यावरण
  June 24, 2013, 1:00 pm
फूलों भरी हरियाली --...
चित्रकथा...
Tag :
  May 16, 2013, 8:51 pm
कहीं दूर जब दिन ढल जाये ---साँझ की दुल्हन बदन चुराए -- चुपके से आये --खोया खोया चाँद , खुला आसमान ---तुमको भी कैसे नींद आएगी ---सूरज हुआ मध्यम --- चाँद जलने लगा --चाँद छुपा और तारे डूबे ---रात ग़ज़ब की आई ---ये पर्बतों के दायरे -- ये शाम का धुआं --फिर सुबह हुई ---दूर से देखा ---पास से देखा ---दिन ल...
चित्रकथा...
Tag :
  May 2, 2013, 4:00 pm
प्रस्तुत हैं, कुछ और तस्वीरें।  कोसी नदी। बारिस के बाद क्या हाल होता होगा ! रामगंगा नदी , दूर से। रिजॉर्ट किनारे नदी। सूर्यास्त के समय। एक ओर नदी , दूसरी ओर रिजॉर्ट। जंगल की सड़क। बादलों के संग। लाल रंग की खूबसूरती। ...
चित्रकथा...
Tag :
  April 20, 2013, 12:00 pm
रामनगर के पास ढिकुली गाँव सिर्फ नाम के लिए ही गाँव है। यहाँ बने हैं अनेकों रिजॉर्ट्स जो प्रकृति की गोद में आराम की सभी सुविधाएँ मुहैया कराते हुए आपको दो दिन में ही तरो ताज़ा होने का अहसास दिला देते हैं।  ऐसा ही एक मनोरम स्थान था -- रिवरव्यू रिट्रीट। एक तरफ सड़क और दूसरी ...
चित्रकथा...
Tag :कोसी नदी
  April 17, 2013, 1:52 pm
दिल्ली का मिलेनियम पार्क -- कुछ मनभावन तस्वीरें ! पत्थरों के शहर में इन्सान ढूंढ रहे हैं। नाज़ुक फूल -- बस इंसानों की हैवानियत से बच जाएँ !बड़े की छाँव में पलता छोटा। प्रकृति की छटा -- पूरे जोबन पर। प्रकृति और भौतिकी -- साथ साथ। दिल बाग बाग़ करती हरियाली। छोटा पर सुन्दर। दू...
चित्रकथा...
Tag :
  March 30, 2013, 8:12 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163607)