Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/hamariva/public_html/config/conn.php on line 13
जनपक्ष : View Blog Posts
Hamarivani.com

जनपक्ष

तीन लेखकों द्वारा जारी प्रपत्र भोपाल, 05 जुलाई 2012सार्वजनिक साहित्यिक संस्थाओं का राजनैतिक रूपान्तरण और लेखकों की प्रतिरोधी भूमिकापिछले एक दशक में मध्य प्रदेश के भारत भवन, साहित्य परिषद, उर्दू अकादमी और कला परिषद सहित कुछ संस्थानों से समय-समय पर, पृथक-पृथक कारणों से व...
Tag :साहित्य
  July 5, 2012, 10:26 pm
दोस्त रिजवानउस लड़की का क्याजो कर आई थी मुंह कालासुबह के उजास में ?भाई, वह है अबतीन बच्चों की अम्मातीन कोठरी का मकां उसकासोती है चौके में .और वह मुआ बुड्ढा कैसामिट्टी पड़ी के उसके जिसमकोढ़ निकले थे ?अरे कुछो मालुम न कि ?इ होवे उसकी दूसरी पत्नीपहली के दडबे से निकाले रहौना...
Tag :फेसबुक विशेष
  July 1, 2012, 8:57 pm
भारतीय दर्शन परम्परा –एक           युवा संवाद मंगाने के लिए ysamvad@gmail.com पर संपर्क करें (भारतीय दर्शन पर कुछ बात करने से पहले मैं पिछले आलेख पर मिली प्रतिक्रियाओं के बारे में कुछ बात करना चाहूँगा. यह पूरी आलेखमाला युवा मित्रों से संवाद के लिए लिखी जा रही है. ज़ाहिर है यह बहुत ग...
Tag :मार्क्सवाद
  June 28, 2012, 5:44 am
अनिल पुष्कर कवीन्द्र जब अर्थव्यवस्था का दर्शन, देश के विकास का दर्शन, समाज में फैले भ्रष्ट-तन्त्र का दर्शन, लोकतांत्रिक अधिकारों को खारिज कर पूँजी का दर्शन, सरकारी अनियमितताओं का दर्शन भारतीय लोकतंत्र में बेखौफ फल फूल रहा हो, ऐसे हालात में सीमा आज़ाद की गिरफ्तारी पर ...
Tag :सीमा आजाद
  June 22, 2012, 8:22 pm
(मंगलेश डबराल के एक संस्था में जाने और उसके बाद हम जैसों के विरोध के बाद उस पर खेद व्यक्त करने के प्रकरण को बहाना बनाकर जनसत्ता के यशस्वी संपादक आदरणीय श्री ओम थानवी जी ने जो 'बहस' चलाई, उससे आप लोग परिचित हैं. वह इस कदर 'लोकतांत्रिक' थी कि एक साहब ने यह लिखा कि 'योगी आ...
Tag :साहित्य
  June 13, 2012, 5:49 pm
विजय गौड़ ब्रिटिश शासन से कभी भी प्रत्यक्ष तौर पर शासित न होने वाला टिहरी, उस उत्तराखण्ड राज्य का एक जनपद है जो प्रत्यक्ष ब्रिटिश शासन के अधीन रहे (ब्रिटिश गढ़वाल और कुमाऊ कमिश्नरी) इतिहास का सच है। 1947 की आजादी के वक्त हैदराबाद और कश्मीर की तरह टिहरी भी गणतांत्रिक भारत ...
Tag :विद्यासागर नौटियाल
  June 10, 2012, 11:39 am
यह एक अजीब विडम्बना है कि ठीक जिस वक़्त मैं यह लेख लिख रहा हूँ एक कारपोरेट निजी चैनल का समाचारवाचक चीख-चीख कर पेट्रोल की कीमतों में अभूतपूर्व वृद्धि की है और उस पर प्रतिक्रिया देते हुए सत्तापक्ष के नेता कह रहे हैं कि जनता की क्रयशक्ति बढ़ गयी है और वह इसे आराम से झेल सकत...
Tag :आर्थिक
  May 27, 2012, 6:28 am
(वरिष्ठ कथाकार रमेश उपाध्याय से मेरी यह बातचीत अगस्त, २०११ में परिकथा के नवलेखन विशेषांक के लिए हुई थी, बाद में यह कथन में भी प्रकाशित हुआ. ज़ाहिर है, कि इस बातचीत के केन्द्र में युवा लेखन ही था. यह वही दौर था जब कहा जा रहा था कि युवा पीढ़ी वही है जिसे रवीन्द्र कालिया जी ने स...
Tag :साक्षात्कार
  May 24, 2012, 7:37 pm
गौरव सोलंकीने ज्ञानपीठपर जो सवाल उठाये थे और उसके बाद हिन्दी के साहित्यिक जगत में जिस तरह बहस तेज हुई है, उसके बाद इस बाबत "निरपेक्ष" रहना कम से कम हमारे लिए संभव नहीं था. यह मामला अपने आरम्भ में भले एक युवा लेखक (जो कभी ज्ञानपीठ के स्वेच्छाचारी निदेशक की गुड बुक में रहा) औ...
Tag :गौरव सोलंकी
  May 17, 2012, 8:56 pm
 वरिष्ठ रचनाकार अनवर सुहैलका नागार्जुन की एक कविता के बहाने लिखा यह आलेख प्रकाशक-लेखक के रिश्ते पर एक गंभीर टिप्पणी है. हाल में चल रहे विवाद के दौर में मुझे इसकी याद आई और इसे यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ. बाकी बात बोलेगी....बाबा नागार्जुन के सृजन के केन्द्र में था आम-आदमी, खे...
Tag :नागार्जुन
  May 16, 2012, 8:09 pm
आज कैफी आजमीकी पुण्य तिथि है. उन्हें याद करता हूँ तो कभी राष्ट्रीय सहारा साप्ताहिक संस्करण में पढ़े उनके साक्षात्कार का शीर्षक याद आता है - "मैं गुलाम हिन्दुस्तान में पैदा हुआ, आजाद हिन्दुस्तान में जिया और समाजवादी हिन्दुस्तान में मरना चाहता हूँ"..उनकी यह इच्छा तो पूरी ...
Tag :साम्प्रदायिकता
  May 10, 2012, 11:00 am
अनिल म्हमाने महाराष्ट्र की फुले-आम्बेडकरवादी-मार्क्सवादी परम्परा केपोएट-एक्टिविस्ट (एक्टिविस्ट-पोएट नहीं) हैं. वे जनवादी और प्रगतिशीलसाहित्य छापने वाला एक प्रकाशन ‘निर्मिति संवाद’ भी चलाते हैं.27 अक्टूबर 2007 को नागपुर में बाबासाहब आम्बेडकर के स्मारक दीक्षा-भूमि पर...
Tag :अनिल म्हमाने
  May 7, 2012, 1:45 pm
आज मई दिवस है यानि कि दुनिया भर के कामगारों के संघर्ष और बलिदान को याद करने का दिन। लेकिन विमर्शों के उत्तर आधुनिक दौर में कुछ ऐसा प्रपंच रचा गया है कि लोगों की एक्सक्लूसिव पहचानों पर तो बहुत ज़ोर है पर सामूहिक पहचाने धुंधली हो गयी हैं। या तो आप दलित हैं, या ग़ैर दलित, न...
Tag :रुपाली सिन्हा
  May 1, 2012, 9:52 am
जाने-माने वामपंथी विचारक अरुण माहेश्वरी का यह आलेख अज्ञेय पर चल रही बहसों की कड़ी में है. जिस तरह उन्हें "बूढा गिद्ध" कहने वालों से लेकर वामपंथी कहाए जाने वाले शीर्ष आलोचकों तक ने इस साल शीर्षासन किया है वह साहित्यिक वाम के वैचारिक खोखलेपन और अवसरवादी पतन का अद्भुत न...
Tag :अरुण माहेश्वरी
  April 4, 2012, 9:26 am
3 जुलाई 1997जेन अलेक्ज़ान्डरदि नैशनल एन्डाउमेंट फ़ॉर दि आर्ट्स1100 पेंसिल्वेनिया एवेन्यूवाशिंगटन डीसी,20506प्रिय जेन अलेक्ज़ान्डर,आपके ऑफिस के एक नौजवान से अभी मेरी बात हुई जिसने मुझे बताया कि शरद ऋतु में व्हाइट हाउस में होने वाले एक समारोह में नैशनल मेडल फ़ॉर दि आर्ट्स प...
Tag :एड्रियन रिच
  April 1, 2012, 5:00 pm
अरुण माहेश्वरी‘टाईम’ पत्रिका के ताजा अंक (12 मार्च 2012) में ऐसी दस बातों का ब्यौरा दिया गया है जो  “आपकी जिंदगी को बदल रही है”।इनमें पहली बात है - अकेले जीना। परिवार परंपरा के बाहर ऐसा एकाकी जीवन जिसमें किसी संतति का स्थान नहीं होता।  अमेरिका समेत विभिन्न विकसित देशों के आ...
Tag :अरुण माहेश्वरी
  March 30, 2012, 8:01 pm
आज शहीद ए आज़म भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव के साथ पाश के भी शहादत का दिन है राम जी तिवारी  आज अवतार सिंह संधू उर्फ ‘पाश’ की 24 वीं पुण्य तिथि है | 23 मार्च 1988 को आज ही के दिन इस क्रांतिकारी जन-कवि की आतंकवादियों ने उनके अपने ही गांव में गोली मारकर हत्या कर दी थी | पंजाब के जालंधर जि...
Tag :रामजी तिवारी
  March 23, 2012, 8:30 am
रामजी तिवारीआस्कर पुरस्कारों की राजनीति और पक्षधरता पर केंद्रित यह महत्वपूर्ण आलेख समयांतर के ताज़ा अंक में प्रकाशित हुआ है. हम इसे यहाँ साभार प्रकाशित कर रहे हैं. जिस तरह आस्कर को लेकर एक दीवानगी हमारे यहाँ देखी जाती है, यह आलेख कई ज़रूरी मुद्दों को उठाता है और उस पूरी ...
Tag :रामजी तिवारी
  March 13, 2012, 10:58 am
पिछले दिनों मैंने मार्क्सवाद के मूलभूत सिद्धांतों पर एक लेखमाला लिखने का प्रस्ताव किया था जिसका आप सबने व्यापक स्वागत किया था. ज़ाहिर है काम प्रस्ताव करने जितना आसान नहीं. फिर भी शुरुआत कर दी है. अभीप्रस्तावना  मार्क्सवाद बीसवींसदी में दुनिया केएक बड़े हिस्से को प्रभ...
Tag :मार्क्सवाद
  March 9, 2012, 9:42 am
वंदना शुक्ला स्त्री स्वातंत्र्य क्या है?क्यूँ इसकी आवश्यकता है? निस्संदेहआज़ादी की चाहत या मांग उसी की होती है जो परतंत्र होता है ,इसकासीधा अर्थ है कि नारी परतंत्र है इसलिए उसके स्वातंत्र्य की चेष्टाएं,उसकी कामना की जाती है दिवस मनाया जाता है (पुरुष स्वतंत्र है इसलिए ...
Tag :
  March 8, 2012, 3:58 pm
शमशाद इलाही 'शम्स'इरानी परमाणु कार्यक्रमके चलते उसके पश्चिम के साथ बढ़तेअन्तर्विरोधों के मद्देनज़र तीसरी दुनिया के देशों में इरान के प्रति बढ़ती हमदर्दीएक गंभीर वैचारिक समस्या है. खासकर भारत की प्रगतिवादी-जनतांत्रिक ताकतें, अमेरिकाकी साम्राज्यवादी नीतियों के व...
Tag :फासीवाद
  March 6, 2012, 1:38 pm
बचपन में पहली बार मृत्यु शब्द तब सुना था जब स्कूल में शोक सभा हुई थी. कोई ऑफिस कर्मचारी 'नहीं रहा' था. 'नहीं रहा' का अर्थ बहुत देर तक प्रश्न बनकर घेरे रहा. चूंकि मेरा बचपन काफी एकाकी रहा इसलिए...ऐसे तमाम सवाल जेहन में एकत्र होते रहे. इन दिनों लम्बे समय से जीवन और मृत्यु आपस में...
Tag :स्मृति
  February 27, 2012, 10:13 pm
मित्रों इस पोस्ट के साथ ही जनपक्ष एक नई शुरुआत कर रहा है. हम यहाँ नियमित रूप से मार्क्सवाद का  सैद्धांतिक परिचय देने का प्रयत्न करेंगे. हमारा ज़ोर मार्क्स की शिक्षाओं को आसान तरीके से लोगों तक पहुंचाना है. अक्सर ऐसा होता है कि युवा और कई बार वरिष्ठ लोग भी मार्क्स की मूल ...
Tag :मार्क्सवाद
  February 22, 2012, 3:20 pm
हिमांशु कुमारकी यह कविता किसी इंट्रो की मुहताज नहीं...सच कहूँ तो कुछ लिखने की हिम्मत भी नहीं कर रही...चूंकि देश में लोकतंत्र है इसलिए, लोगों को विश्वास नहीं है मुझ परमैं यह कविता इसलिए नहीं लिख रहा हूँक्योंकि मैं सिद्ध करना चाहता हूँ कि मैं आपसे अधिक बुद्धिमान और प्रतिभ...
Tag :हिमाँशु कुमार
  February 19, 2012, 9:17 pm
कुल्लू के ढालपुर कॉलेज मे आज समकालीन हिन्दी कहानी पर दो दिवसीय परिसम्वाद गोष्ठी सम्पन्न हुई. चर्चा के केन्द्र थे चर्चित कथाकार उदय प्रकाश , काशी नाथ सिंह , और विजय दान देथा .युवा आलोचक संजीव कुमार ने उदय प्रकाश की तीन कहानियों टेपचू ,मोहनदास और मेंगोसिल के बहाने उन की अ...
Tag :अजेय
  February 19, 2012, 8:53 am
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3710) कुल पोस्ट (171456)