POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: दुनियाँ मेरे आगे

Blogger: anupam dixit
कच्छ और भुज - भूगोल: भुज एक प्राचीन स्थान है। करीब 10-12 वर्ष पूर्व एक भीषण भूकंप ने इसे नष्ट कर दिया था। तब से यह प्राचीन शहर फिर से उठ खड़ा हुआ है और मानुषी जीजीविषा का उदाहरण है। देश का दूसरा सबसे बड़ा ज़िला कच्छ कई कारणों से विशिष्ट है। कच्छ से कुछ याद आता है आपको..... नहीं? सो... Read more
clicks 330 View   Vote 0 Like   1:19pm 15 Jan 2013 #पर्यटन
Blogger: anupam dixit
कच्छ नहीं देखा तो कुच्छ नहीं देखागाजियाबाद स्टेशन पर ट्रेन का इंतज़ार यात्रा की तैयारी और प्रस्थान: मेरे श्वसुर जब से रिटायर हुये हैं अपने अधूरे सपनों को पूरा करने के मिशन पर हैं। वर्षों तक राज्य कर विभाग की शुष्क नौकरी करने के बावजूद जिंदगी में रस वे खोज ही लेते हैं।... Read more
clicks 237 View   Vote 0 Like   1:10pm 9 Jan 2013 #पर्यटन
Blogger: anupam dixit
किसी रंजिश को हवा दो की मैं ज़िंदा हूँ अभी अमेरिका के राष्ट्रपति की आँखें फिर नम हैं। अभी बहुत दिन नहीं हुये हैं जब ऐसी ही घटना ने उन्हें आहत किया था। शब्द और माहौल भी वही हैं गमगीन, गंभीर और कुछ करने के वादे , कुछ नहीं बदला है और शायद कुछ बदलेगा भी नहीं। आखिर छोटे बच्चों क... Read more
clicks 240 View   Vote 0 Like   6:20pm 16 Dec 2012 #
Blogger: anupam dixit
प्रधान मंत्री जी कह रहे हैं की तेल का बिल , शिक्षा और स्वस्थ्य के बिल से ज्यादा है और इसे कम करके इन क्षेत्रों में लगाना जरूरी है । उत्तम विचार है। आखिर स्वस्थ्य और शिक्षा क्षेत्रों में पैसा है ही कहाँ जिसे खाया जा सके ! इन क्षेत्रों में जरा सा घोटाला करो नहीं की पकड़ में आ... Read more
clicks 273 View   Vote 0 Like   2:09pm 16 Dec 2012 #
Blogger: anupam dixit
एक ऑस्ट्रेलियन एफ एम चैनल के जोकी द्वारा एक भारतीय मूल की नर्स को झूठी कॉल की और ब्रितानी राज घराने की बहू केट मिडल्टन के गर्भवती होने की खबर हासिल कर ली। इसके बाद उठे तूफान ने नर्स को इतना परेशान किया की उसने ख़ुदकुशी कर ली। इस घटना से एक बार फिर उस पागलपन पर प्रश्न चिह्... Read more
clicks 245 View   Vote 0 Like   6:06pm 11 Dec 2012 #
Blogger: anupam dixit
पिछले दिनों मुंबई के एक स्थानीय नेता के निधन के बाद जैसा माहौल बिके हुये समाचार चैनलों ने बनाया उससे लगा जैसे इसके अलावा और कोई जरूरी मुद्दे नहीं हैं। बॉलीवुड के घाघरे में हर समय घुसे रहने वाले इन चैनलों को शाहरुख, सलमान बच्चन से अगर फुर्सत मिलती है तो कैमरा टिकता है ऐ... Read more
clicks 248 View   Vote 0 Like   8:15am 30 Nov 2012 #प्रतिक्रिया
Blogger: anupam dixit
एक भारतीय दांत चिकित्सक महिला की आयरलैंड में इसलिए मौत हो गयी क्यूंकी डॉक्टर ने उसकी जान बचाने के लिए आवश्यक होते हुये भी गर्भपात करवाने से इनकार कर दिया क्यूंकी उसका कानून इसकी इजाज़त नहीं देता। इससे पुनः आइरिश कानून पर बहस छिड़ गयी है और भारत ने तो बकायदा आयरलैंड को... Read more
clicks 232 View   Vote 0 Like   8:43pm 20 Nov 2012 #समाज
Blogger: anupam dixit
2G घोटाले के बाद अब तक घोटालों के प्रति हमारी संवेदनाओं को तृप्त करने वाले और भीषण, विभीषण प्रकार के घोटाले सामने आ चुके हैं। पर जैसा की हर घोटाले में होता है - दोनों ओर से जनता ही हलाल होती है। पहले तो जनता के कारों के पैसों से विकसित तकनीक को कौड़ियों के दामों पर निजी कंप... Read more
clicks 210 View   Vote 0 Like   8:12am 12 Nov 2012 #राजनीति
Blogger: anupam dixit
भगवान को देखा है? कैसा है वह? कहाँ रहता है ? हिन्दू है या मुसलमान? आदमी है या औरत? शक्ल कैसी है? ये और इन जैसे अनेक प्रश्न मनुष्य को आदि काल से मथते आए हैं। इसी मंथन से वेद, उपनिषद, वेदांग, गीता, बाइबल, अवेस्ता, क़ुरान जैसे ग्रंथ निकले हैं। इन्हें किसने रचा कोई नहीं जानता पर इनम... Read more
clicks 237 View   Vote 0 Like   7:00pm 11 Nov 2012 #समीक्षा
Blogger: anupam dixit
बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिलों में हर साल इस समय एक भीषण बीमारी फैलती है जिसमें हजारों (बढ़ा चढ़ा कर नहीं सच बता रहा हूँ ) बच्चे मर जाते हैं। यह बीमारी है तो एन्सिफेलाइटिस या दिमागी बुखार पर सरकारी स्वस्थ मशीनरी इसे स्वेईकार नहीं करती। जब बीमारी फैलती है तो सरकार... Read more
clicks 256 View   Vote 0 Like   7:07pm 4 Oct 2012 #
Blogger: anupam dixit
अखिलेश सरकार को 6 महीने हो गए हैं और यूपी अब भी वैसा ही है। आशाएँ टूट रहीं हैं। प्राइमटाइमों में बैठ कर बकैती करने वाले बातों के वीर अखिलेश के युवा होने को ले कर ऐसे उत्साहित थे जैसे उनसे पहले और कोई युवा नहीं हुआ। एक और युवा हैं हमारे देश में जिनको ले कर ऐसे ही जानकारों को... Read more
clicks 250 View   Vote 0 Like   5:04pm 4 Oct 2012 #राजनीति
Blogger: anupam dixit
क्यों मुझे गाँधी पसंद नहीं है ?इन्टरनेट पर गांधी जयंती के दिन ही फेसबुक पर एक पोस्ट टैग की गयी जिसका शीर्षक था - क्यों मुझे गाँधी पसंद नहीं है ? इसने मुझे आहात कर दिया। इसमें वही गलत तथ्य थे जिन्हें ले कर गांधी जी को बदनाम किया जाता है मसलन भगत सिंह, 55 करोड़ आदि। प्रस्तुत है... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   1:17am 3 Oct 2012 #इतिहास
Blogger: anupam dixit
(c) Anupam Dixitबाबू मोशाय ! हम सब इनके हाथों की कठपुतलियाँ हैं... Read more
clicks 265 View   Vote 0 Like   8:50am 19 Sep 2012 #कार्टून धुन
Blogger: anupam dixit
बचपन में दादा के साथ रोज़ शाम को भरथना रेलवे स्टेशन तक घूमने जाना ही शायद इसका कारण है की ट्रेनें मुझे आज भी पसंद हैं। रेलवे स्टेशन की सीढ़ियाँ, रेलिंग, दूर तक जातीं पटरियाँ, खोमचों की गंध और इसके साथ ही बीड़ी और पसीने की मिली जुली अजीब सी --- क्या कहूँ - खुशबू या बदबू की परि... Read more
clicks 238 View   Vote 0 Like   7:22pm 14 Aug 2012 #
Blogger: anupam dixit
YouTube offers face-blurring in video uploads... Read more
clicks 239 View   Vote 0 Like   7:21pm 18 Jul 2012 #
Blogger: anupam dixit
गुवाहाटी की शर्मसार करने वाली घटना कई सवाल खड़े करती है। यह केवल गुवाहाटी में ही नहीं हर कहीं मौजूद है। एक प्रतिष्ठित अङ्ग्रेज़ी समाचार चैनल की वाचिका की प्रतिकृया ट्विटर पर थी। उनके अनुसार हम खुद को सुपर पावर कहते हैं और ऐसी घटनाएँ होतीं हैं। प्रश्न यह है की क्या सुप... Read more
clicks 215 View   Vote 0 Like   7:11am 13 Jul 2012 #समाज
Blogger: anupam dixit
निर्मल बाबा की कृपा पर बवाल मचा है। एक न्यूज़ चैनल पर शाम का पूरा समय(7 बजे से 12 बजे तक) निर्मल बाबा को दे दिया गया। आरोप थे कि वे 36 से अधिक चैनलों पर प्रचार करते हैं (पता नहीं इस चैनल ने अपने प्राइम टाइम के मूल्य को इस आंकड़े शामिल किया या नहीं) , वे भक्तों से प्रति सत्संग 2000 रुपय... Read more
clicks 209 View   Vote 0 Like   6:53pm 13 Apr 2012 #
Blogger: anupam dixit
 कपिल देव पूछ रहे हैं सचिन क्यूँ खेल रहे वन डे। अरे भाई भूल गए आप। अरे भाई कई मसले हैं। एक तो खैर आप सही समझे । रिकॉर्ड बनाना है। भूल गए आप अपना ज़माना जब चयनकर्ताओं पर आरोप लगते थे की आपके रिकोर्डों की खातिर ही आप को टीम में बनाए रखा है वरना आपको तो बहुत पहले सन्यास ले लेना... Read more
clicks 263 View   Vote 0 Like   5:53pm 5 Mar 2012 #
Blogger: anupam dixit
ओप्रा विनफ्रे हाल ही में भारत प्रवास पर थीं। वे दिल्ली आगरा, जयपुर, मथुरा और मुंबई भी गईं और हर जगह लोगों ने उन्हें खुले दिल और उदार हृदय से स्वीकारा। जयपुर में जो सम्मान उन्हें मिला उससे अभिभूत होकर उन्होंने अपनी दादी की इच्छा का ज़िक्र किया की उनकी दादी चाहतीं थीं की ... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   8:50am 8 Feb 2012 #प्रतिक्रिया
Blogger: anupam dixit
कितना अभूतपूर्व था भारतीय लेखकों का अभिव्यक्ति की स्वतन्त्रता के लिए खड़े हो जाना। कितना सुंदर था यह प्रयास सरकार का की हम धर्मनिरपेक्ष देश में सबकी सुनेंगे उनकी भी जो धर्मनिरपेक्ष नहीं हैं। नहीं सुनेंगे तो बस उन धर्म निरपेक्ष आवाज़ों को जो आतीं हैं यूपी के बुनकरों के... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   9:23am 1 Feb 2012 #
Blogger: anupam dixit
साल 2011 न जाने क्यूँ जाते जाते कुछ ऐसे लोगों को ले जा रहा है कि लगता है बहुत अकेले हो जाएंगे आने वाले साल में। पहले बचपन के अंकल पै (टिंकल वाले - मेरी उम्र के नौजवान अभी भी शायद चकमक, डूब डूब और कालिया को नहीं भूले होंगे) फिर भोपेन हजारिका, जगजीत सिंह, देवानन्द और अब जमीनी शायर ... Read more
clicks 267 View   Vote 0 Like   8:25am 19 Dec 2011 #श्रद्धांजली
Blogger: anupam dixit
देव आनंद अब नहीं है लेकिन लगता है जैसे इस बात से खास फर्क नहीं पड़ता की वे सशरीर यहाँ हैं या नहीं। कुछ लोगों की शख्सियत उनसे भी बड़ी हो जाती है। देव आनंद बेशक अपने ज़िंदादिल अंदाज़ और ज़िंदगी की ललक के प्रतिमान बन कर हमारे बीच हमेशा रहेंगे और उनकी फिल्में, गाने तो हैं ही – सदाब... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   8:43pm 4 Dec 2011 #श्रद्धांजलि
Blogger: anupam dixit
क्या बात है !! हमारी सरकार बड़ी ही बेमुरव्वत है। वह तो सोनियाँ गाँधी जी ना होतीं तो मनमोहन सिंह तो सिंह की तरह हम सबको खा गए होते। बड़े  सख्त हैं जी हमारे प्रधानमंत्री।   सोनियाँ जी की दया है जो हमें मनरेगा मिला, उन्हीं की दया से सरकार रसोई गैस के दाम नहीं बढ़ा रही। पैट्रो... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   9:33pm 29 Nov 2011 #भारत दुर्दशा
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3991) कुल पोस्ट (194987)