POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: बच्चों का आकाश

Blogger: kushwansh
सूरज दादा हैं नाराजफैलाई धरती पर आगबडों बडों को भी झुलसायाहम बच्चों को भी डरवायाआसमान से बरसे अंगारेताल तलैया सूखे सारेबंद हुए हम घर के अन्दरटीवी के बस हुए सिकन्दरवर्षा की बूदें अब आओकैद से अब आजाद कराओमन करता है भरें फर्राटेशैतानी में कोई न डांटेखायें आइसक्रीम, रस... Read more
clicks 117 View   Vote 0 Like   10:34am 21 May 2016 #
Blogger: kushwansh
आ गई गर्मी की छुट्टीपढ़ने से अब हो गई कुट्टी ,बस्ते मे बंद किताबे सारी अब सैर की करो तैयारी, पापा अब प्रोमिस निभाओशिमला की अब सैर कराओ, चले मनाली , कुफ़री कुल्लूनैनीताल गया है बिल्लू,मम्मी जल्दी टिकट कटाओ हवाई जहाज को बुक करवाओ, आसमान मे उड़ना है बादलों से जुड़ना है,ऐवरेस्ट ... Read more
clicks 112 View   Vote 0 Like   10:02am 13 May 2016 #
Blogger: kushwansh
हॅप्पी हॅप्पी मदर डेमुझे समझ नहीं आतामॉम का होता सारा दिनमुझको बस इतना भाताउठते ही बस मम्मी मम्मीकभी गाल मे , कभी भाल मेबस सारा दिन चुम्मी चुम्मीकभी मॉम के पीछे छिपकरदीदी को बहलाता हूकभी , किचिन मे फ्रिज के पीछेभैया से बच पाता हूँमम्मी बस , आँखों मे रहतींनहीं कभी होती ओ... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   4:54pm 10 May 2016 #
Blogger: kushwansh
आई है गर्मी की धूमसूरज को भी चढा जुनूनटप टप टप टप बहे पसीनाहम बच्चों का मुशकिल जीनाबंद हुये सारे स्कूलपढ़ना लिखना जाओ भूलघर के अंदर घुसे रहो बसचटक धूप से हुये विवसबादल दादा जल्दी आओआकार अपना रंग दिखाओठंडी ठंडी  बूंदे लाओझरने सा पानी बरसाओपेट दर्द है हुआ बुखारपिन्की ... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   11:08am 27 Apr 2016 #
Blogger: kushwansh
मम्मी नहीं जाना स्कूलमुझको मत कपड़े पहनाओबालों मे न बांधो फूलनासता भी तैयार करो मतहमको नहीं जाना स्कूलरिक्से के पीछेलटके लटकेडर लगता है झटके सेअंदर बैठूँ तो पिच जाऊखड़ी रहूँ तो लटके झटकेटीचर जी  बस डांट पिलातींसर जी छूते इधर उधरवाशरूम भी साफ नहीं हैजाऊ तो मैं जाऊ कि... Read more
clicks 110 View   Vote 0 Like   6:13am 1 Mar 2016 #
Blogger: kushwansh
अंग्रेजी में  पढ़े  बढे हमहिंदी हमें नहीं आती भाषा की कैसी परिभाषा फूटी आँख नहीं भाती मम्मी पापा, माम डैड  हैं दादा-दादी  ग्रांड भैया मेरे नंबर वन हैं लगते जेम्स बांड दीदी जब कालेज से  आती  ऐसे  करती एक्शन जैसे वो मस्ती चैनल में करती जै... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   4:03pm 14 Sep 2013 #
Blogger: kushwansh
मम्मी  मुझसे काम न कहना मेरा कठिन समय सालाना इक्जाम हो रहे सर पर सवार है भय अंग्रेजी और मैथ की होगई है सारी तैयारी हिन्दी से डर  लगता मुझको रूह कांपती सारी क्या ये है बेकार की भाषा अक्षर औ मात्राएँ संस्कृत के  सब श्लोक और शैली मुझको बहुत डराएँ सीधी सी , अन्ग्रेजी  भ... Read more
clicks 280 View   Vote 0 Like   11:50am 6 Mar 2013 #
Blogger: kushwansh
नहीं चाहिए खेल खिलौने और नहीं टाफी,  बैलून अब तो  मन लगाकर पढने दूर देश जाना  "रंगून"गुडिया- गुड्डे की शादी के खेल से मत भरमाओ कंप्यूटर लाकर दो मुझको उसमे नेट लगवाओ ट्वीटर पर मैं ट्वीट  करूंगी फेशबुक  पर चैटिंग इन्टरनेट पर मैं  समझूँगी कैसी होती नैटिंग स्मार्टफ... Read more
clicks 220 View   Vote 0 Like   7:37am 7 Sep 2012 #
Blogger: kushwansh
देखो कैसे रोते  बादलपानी कैसे ढोते बादल अगर कही बच्चे मिल जाते देखो खूब भिगोते बादल गली मोहल्ले  बिखरे बादल बदली  बनके निखरे बादल  हरियाली के चादर ताने देखो कैसे बिफरे बादल सांझ अँधेरा करते बादल रात में खूब बरसते बादल छप्पर  में बस टप .टप .टप .टप देखो खूब टपकते बादल ... Read more
clicks 248 View   Vote 0 Like   5:33pm 31 Aug 2012 #
Blogger: kushwansh
बड़े कड़ाके की सर्दी है ऊपर से रिमझिम पानी, नए वर्ष की सर्दी ने बस याद दिलाई नानी,सूरज दादा ठण्ड के मारे छिप गए बादल पार ,बिना टोप के जो भी निकला उसको चढ़ा बुखार,गरम चाय और गरम कचौड़ी मम्मी आज बनाओ ,खायेगे कम्बल में घुसकर बिस्तर में दे जाओ, दादा पहने बन्दर टोपी दादी ओढ़े शाल... Read more
clicks 234 View   Vote 0 Like   9:02am 2 Jan 2012 #नववर्ष
Blogger: kushwansh
हमको बड़े भले लगते है बैंड वाले  अंकल, प्यारी - प्यारी धुनें बनाते बैंड वाले  अंकल, चमक रही रगीली ड्रेसराजाओं सा सही भेष, नेपोलियन सा टोप लगाकर हमें सुनते जिंगल,  बैंड वाले  अंकल,इनके बिना नहीं  सज पातीकोई भी बरात,थिरक रहे सारे बारातीसात सुरों के साथ,तारों जैसे चमक ... Read more
clicks 222 View   Vote 0 Like   6:06pm 30 Dec 2011 #बैंड
Blogger: kushwansh
है मेरी गुडिया की शादी,  कैसे सजे धजे बाराती.  प्यारी धुनें बजता बैंड,नाच रहे गुड्डे के फ्रैंड.जगमग जगमग  जलती लाईट,हो गयी रंग बिरंगी नाईट. गुडिया ले आयी जैमाल, गुड्डे जी ने किया कमाल. पहले दे दो मोटर कार ,तभी गले में डालू हार. गुड्डे जी के देखे रंग,  घर वाले सब हो... Read more
clicks 214 View   Vote 0 Like   4:59pm 20 Dec 2011 #shadee
Blogger: kushwansh
यहाँ वहां तितली बन उडतीमै गुडिया अलबेली, परियों के संग आना जाना मैं अनजान पहेली, जिस घर में पाती हूँ प्यार मैं उसको अपनाऊ, वर्ना टाटा बाय बाय करकभी पास ना आऊँ, मै इतनी सुन्दर दिखती  हूँ चंदा  भी शर्माए, मेरे सामने विस्वसुन्दरीपानी भरने आये, जो भी देखो गाल नोचता अपना  प्य... Read more
clicks 255 View   Vote 0 Like   3:29pm 13 Dec 2011 #gudiya
Blogger: kushwansh
दूर देश से उडकर आयीमैं परियों की रानीआओ बच्चो तुम्हें सुनाऊंप्यारी एक कहानीइक नन्हीं सी परी उड गयीदूर देश के घर मेंउसको वो घर अच्छा लगताजो था दूर नगर मेंबडे उमंग से उसने घर मेंअपने पैर उतारेघर में आयी परी देखकरनिहाल हो गये सारेमगर ऐक ने कहाकाश ये बेटा होताबेटों से ही ... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   2:55pm 25 Nov 2011 #
Blogger: kushwansh
मैं हूं एक छोटी सी गुडियामेरे सपने भारी,अभी अभी आयी हूं जग मेंखुशियां चाहूं सारी.मैं सपनों को जगा रही हूंसोये हैं जो मन में बंद,पहले किसको पहचानूंसवाल कठिन,मन में है द्वन्द.मम्मी की आवाज़ सुनूं यापापा के मन मे झांकू,नाना को कोने से देखूं ,यानानी को सीधे ताकूं.दादा दादी ब... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   2:36pm 20 Nov 2011 #gudiya
Blogger: kushwansh
बन्दर बोला मम्मी मेरी कब होगी शादी,सारे बन्दर  बच्चे वाले मेरी उम्र बची आधी, पापा कान उमेठकर बोले अरे निखट्टू नामाकूल,कामधाम की बात कराकर शादी-वादी जा तू भूल,छीन  झपट कर रोटी खाता मेहनत से  तू जान चुराता,रोज शिकायत आती घर में  तू  है नालायक पाजी,  ऐसे में कौन सा बन्दर  ... Read more
clicks 227 View   Vote 0 Like   6:35pm 5 Nov 2011 #
Blogger: kushwansh
सर्दी आयी सर्दी आयी खाओ रबडी,दूध-मलाईमम्मी देना मफलर कोटपापा लाकर दो अखरोट पंखे,कूलर, ऐसी बाय सूरज की गर्मी अब भाय आइसक्रीम अब दूर रहो चाय-काफी की बात करो दादा के कट कट दांत करें    दादी पानी से डरेंअब दोपहर जाना स्कूल खेल कूद सब जाएँ भूल  छोटे दिन अब लम्बी  रातय... Read more
clicks 197 View   Vote 0 Like   5:56pm 4 Nov 2011 #sardee
Blogger: kushwansh
दीदी तुम घर मैं बैठी हो हमको भेज रहे स्कूल लड़का-लडकी में भेद भाव है पापा मम्मी की भूल तुमको पढ़ना लिखना होगा मास्टरनी जी बन्ना होगा बड़ी बड़ी  किताबे पढ़कर  मेंम  साब भी लगना होगादीदी तुम  क्यों चुप बैठी  हो अपनी बात नहीं कहती हो पापा को समझाओ तो अपना मन ब... Read more
clicks 208 View   Vote 0 Like   12:57pm 30 Oct 2011 #kavita
clicks 225 View   Vote 0 Like   12:00am 1 Jan 1970 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post