POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: समय से संवाद

Blogger: pranav priyadarshi
 हस्तशिल्प उद्योग में बढ़ रही संभावनाएं, सरकार भी कर रही प्रोत्साहितझारखंड का हस्तशिल्प देश और दुनिया में रखता है विशिष्ट स्थानप्रणव प्रियदर्शीरांची. भारतीय परंपरा में हस्तशिल्प का प्रमुख स्थान है. इससे निर्मित वस्तुएं सिर्फ वस्तुएं नहीं होतीं, बल्कि इसका धार्म... Read more
clicks 65 View   Vote 0 Like   6:34am 4 Jan 2018 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीआज शहर और गांव के बीच एक लंबी खाई बन चुकी है. गांव व शहर के बीच एक संतुलन जरूरी है, जो कहीं दिख नहीं रहा है. सारा विकास अगर शहर में सिमट आयेगा, तो गांव कहां जायेगा. क्या गांव सिर्फ बेरोजगार व वृद्धों की कब्रगाह बनेगा. जी हां, हम जिस विकास की आबोहवा में दौड़ लग... Read more
clicks 54 View   Vote 0 Like   6:13am 4 Jan 2018 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीमनुष्य की प्यास क्या है? वस्तुतः वह क्या चाहता है? क्या सचमुच में वह जो चाहता है, वही उसकी प्यास होती है? ये कुछ ऐसे प्रश्न हैं, जिनके जवाब ढूंढ़ने में पूरी उम्र खफ जाती है, फिर भी उत्तर नहीं मिल पाते। सदियाँ गुजर जाती हैं, सभ्यताएँ रीतती जाती हैं और मनुष्... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   11:46am 18 Jul 2015 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव कुमारआज का युवा न सिर्फ देश की उत्पादन प्रक्रिया का महत्पूर्ण स्तंभ है बल्कि उत्पादों का सबसे बड़ा कंज्यूमर भी है। देश के विकस में युवाओं का योगदान बढ़ रहा है। राजनीति मेंभी युवा सांसद और विधायकों की साझेदारी बढ़ी है। युवा वर्ग के लिए अलग से साहित्य लिखा जा रहा ... Read more
clicks 159 View   Vote 0 Like   7:53am 20 Feb 2015 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रयदर्शीस्वामी विवेकानंद ने युवाओं का आह्वान करते हुए कहा था कि सफल जीवन शब्द का सही आशय जानने का प्रयास करो। जब तुम जीवन के संबंध में सफल होने की बात करते हो तो इसका मतलब मात्र उन कार्यों में सफल होना नहीं है, जिसे पूरा करने का बीड़ा तुमने उठाया है। इसका अर्थ सभ... Read more
clicks 114 View   Vote 0 Like   7:30pm 19 Feb 2015 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीआज का परिवेश इतने तरह की विकृतियों के साथ घुल-मिल गया है कि बुराई और अच्छाई का फर्क भी धीरे-धीरे मिटता चला जा रहा है। बुद्धिजीवी कहते हैं कि जितने तरह की बुराइयां अनगिनत रूपों में व्याप्त हैं, उन सबके निराकरण के लिए संविधान सम्मत नियम-कानून बने हुए हैं... Read more
clicks 121 View   Vote 0 Like   12:29pm 18 Feb 2015 #
Blogger: pranav priyadarshi
नयी पीढ़ी का भाषाई भविष्यप्रणव प्रियदर्शीसमय की रफ्तार आज बहुत तेज हो गयी है. सभी जल्दी में हैं. आगे...और आगे...कदम बढ़ते जा रहे हैं लगातार. मंजिल चाहे जहां मिले, रास्ते पर ठहरना किसी को गवारा नहीं. इसकी गति के साथ कदमताल करने के लिए हर जगह शॉर्टकट अपनाया जा रहा है. कपड़े से लेक... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   6:06pm 12 Nov 2014 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीरांची. वेलेंटाइन वीक अर्थात प्रेम को समर्पित एक पूरा सप्ताह. एक-एक को अलग-अलग अंदाज में मनाने की चुहल. और फिर अंतिम छोड़ पर वेलेंटाइन डे, यानी एहसास के किसी कोने में बची-खुची सारी कसक को संवार लेने का एक अवसर. महानगरों की संस्कृति की ओर तेजी से बढ़नेवाले ... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   11:44am 16 Feb 2014 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीरांची :टिक...टिक...टिक...टिक करती घड़ी की सूई. सभी की आंखें टंगी हुर्इं. जैसे-जैसे घड़ी की सूइयां आगे बढ़तीं, लोगों की धड़कनें तेज होती जातीं. नव वर्ष को नव उत्साह के साथ नये भावावेश में जीने की उम्मीदें हिलोरें मारतीं. जैसे धैर्य का एक युग, जैसे एक जंगल फड़फड... Read more
clicks 213 View   Vote 0 Like   6:43pm 2 Jan 2014 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शी,रांची : झारखंड सरकार में कांग्रेस के मंत्री बयान बहादुर हैं. ये बात पूरी यकीन के साथ कहा जा सकता है. फिर भी किसकी मजाल कि इन्हें कोई किसी और काम की नसीहत दे. जब कांग्रेस अलाकमान की मर्जी को भी यहां शिकस्त दे दिया जाता है तो किसी और के क्या कहने! प्रदेश अध्य... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   6:44pm 18 Dec 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शी विरल संस्कृति, सहजीवन पद्धति और सांप्रदायिक सौहार्द की मिसाल पेश करनेवाला मिथिलांचल अब परेशान हो उठा है। आखिर हो भी क्यों नहीं; सहज जीवन का स्वर साधक मिथिला को आतंकियों की नजर डसती जा रही है। अमन-चैन की यह धरती आतंकी फसल को लहलहाते देख सतर्कता और सक... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   2:21pm 19 Oct 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीअपन सांस्कृतिक छटा, सांप्रदायिक सौहार्द आ सहज जीवनक स्वर साधक मिथिला कें आब आतंकक गेहुमन डसि रहल अछि। अमन-चैनक ई धरती आतंकी फसल कें लहलहाइत देखि संशय मे परि गेल अछि। मिथिलाक बैशिष्टे एकर कमजोरी बनि रहल अछि। आइ मिथिलाक भूमि आतंकी कें 'सेफ जोन'मानल जा र... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   4:14pm 18 Oct 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
विषाक्त पीढ़ीक कुकृत्य भोगक लेल विवश अछि नेनपनप्रणव प्रियदर्शी नेना सड़क पर नहि उतैर सकैत अछि। नेना स्वाद नहि पहिचान सकैत अछि। नेना सभ सं लडि़ नहि सकैत अछि। नेना प्रपंच नहि बुझि सकैत अछि। कि इएह कारण थिक 19 जुलाई कें सारण जिलाक दुर्घटना कें। जाहि मे 23 गोट नेना सभक मृत... Read more
clicks 154 View   Vote 0 Like   4:01pm 18 Oct 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीघुप्प अंधेरा, स्तब्ध रात, डग भर की दूरी भी नहीं सूझती थी। कहीं दूर से आती कीर्तन की मद्धिम आवाज कोनों में उतरती थी। मन को यह भरोसा होता था कि कोई है...है कोई ... आसपास उत्साह की आंच सुलगाने के लिए। गांवों की वह सांस्कृतिक परिदृश्य ही उसकी पहचान थी। लेकिन अब ... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   2:00pm 9 Oct 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
राहुल के बयान ने पलटा सारा खेल, लालू को मिला कारागृह, अब क्या होगा सियासी समीकरणप्रणव प्रियदर्शीसीबीआइ की विशेष अदालत ने सोमवार को राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव और जगन्नाथ मिश्र समेत सभी 45 आरोपियों को दोषी करार दिया। यह चारा घोटाला से जुड़े सबसे बड़ा मामला था। अपने ... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   7:48pm 1 Oct 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
                                                                                    प्रणव प्रियदर्शीकुछ दिनों पहले चीन के फैशन डिजाइनर ने कहा है कि मेरे लिए अच्छा दिखना ही सबसे बड़ा आराम है। कुछ देर के लिए मुझे यह अटपटा-सा बयान लगा। लेकिन ... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   7:31pm 18 Sep 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीझारखंड के लिए विशेष दर्जे की मांग एक सामूहिक आवाज बनकर उभरी है। यह खुशी की बात है। किसी एक मुद्दे पर तो सभी राजनीतिक दल साथ दिख रहे हैं। किसी एक मुद्दे पर तो सभी ने साझा संस्कृति के संवाहक बन कर उपस्थिति दर्ज की है। खुशी परवान पर इसलिए है कि इस मामले में ... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   3:20pm 13 Sep 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
(शिकागो भाषण की वर्षगांठ पर विशेष) नई दिल्ली, 10 सितंबर (आईएएनएस)। भारतीय गौरव को जिन महापुरुषों ने देश की सीमा के बाहर ले जाकर स्थापित किया उनमें स्वामी विवेकानंद अग्रणी माने जाते हैं। पश्चिम बंगाल में 12 जनवरी, 1863 को जन्मे नरेंद्रनाथ दत्त (स्वामी विवेकानंद) ने अमेरिका ... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   2:23pm 11 Sep 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
(दैनिक जागरण के राष्ट्रीय संस्करण में प्रकाशित मेरा बलॉग लेख)... Read more
clicks 105 View   Vote 0 Like   2:46pm 3 Sep 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शी1.छोटे-छोटे कस्बों, गाँवोंशहर से लेकर दिल्ली तकहर आयु वर्ग की महिलाएँहाथों में नारों की तख्ती लियेहवा में आक्रोश घोलतींकर रही हैं कदम तालस्वगत करो इनकाये महिलाएँ नहीं शलाका हैंदुष्कर्म के खिलाफ कड़े कानूनऔर दुष्कर्मियों को फाँसी देने के पक्ष मेंघ... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   2:49pm 28 Aug 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
कार्य करने में अंतर जरूर है, लेकिन मकसद एक ही है, लोगों को जागरूक करनावन देवी की आड़ में लोगों की बलि के पीछे के यथार्थ का पर्दाफाश प्रणव प्रियदर्शीरांची। अंधविश्वास के खिलाफ लड़नेवाले नरेंद्र दाभोलकर की पुणे में हत्या के बाद पूरा देश आंदोलित है। लेकिन यह बहुत कम को ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   7:46pm 24 Aug 2013 #
Blogger: pranav priyadarshi
प्रणव प्रियदर्शीस्वतंत्रता दिवस का नाम जेहन में गूंजते ही एक अलग ही रोमांच और खुशी से मन इठला उठता है। ऐसा किस कारण से होता है? कभी सोचा है हमने? स्वतंत्रता शब्द के स्वाद से या फिर दिवस के अनुराग से? स्वतंत्र फिजां में सांस लेने से या फिर किसी त्योहार के आगाज से? रविवार क... Read more
clicks 232 View   Vote 0 Like   3:58pm 14 Aug 2013 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Publish Post