Deprecated: mysql_connect(): The mysql extension is deprecated and will be removed in the future: use mysqli or PDO instead in /home/hamariva/public_html/config/conn.php on line 13
मन पाए विश्राम जहाँ : View Blog Posts
Hamarivani.com

मन पाए विश्राम जहाँ

 अभी समय है नजर मिलाएं नया वर्ष आने से पहले नूतन मन का निर्माण करें, नया जोश, नव बोध भरे उर नये युग का आह्वान करें ! अभी समय है नजर मिलाएं स्वयं, स्वयं को जाँचें परखे, झाड़ सिलवटों को आंचल से नयी दृष्टि से जग को निरखे ! रंजिश नहीं हो जिस दृष्टि में नहीं भेद कुछ भले-बुर...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :दृष्टि
  November 15, 2017, 10:45 am
एक निपट आकाश सरीखा नयन खुले हों या मुँद जाएँ जीवन अमि अंतर भरता है, मन सीमा में जिसे बांधता वह उन्मुक्त सदा बहता है ! चाह उठे उठ कर खो जाये दर्पण बना अछूता रहता, एक निपट आकाश सरीखा टिका स्वयं में कुछ ना कहता ! अकथ कहानी जिसने बाँची चकित ठगा सा चुप हो जाता, जाने कितन...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :दर्पण
  November 9, 2017, 2:02 pm
एक दीप बन राह दिखाए अंतर दीप जलेगा जिस पल तोड़ तमस की कारा काली, पर्व ज्योति का सफल तभी है उर छाए अनन्त उजियाली ! एक दीप बन राह दिखाए मन जुड़ जाए परम् ज्योति से, अंधकार की रहे न  रेखा जगमग पथ पर बढ़े खुशी से ! माटी का तन करे उजाला आत्मज्योति शक्ति बन चमके, नयन दीप्त हों स्म...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :ज्योति
  October 22, 2017, 6:12 pm
जिन्दगी हर पल बुलाती किस कदर भटके हुए से राह भूले चल रहे हम, होश खोया बेखुदी में लुगदियों से गल रहे हम ! रौशनी थी, था उजाला पर अंधेरों में भटकते, जिन्दगी हर पल बुलाती अनसुनी हर बार करते ! चाहतों के जाल में ही घिरा सा मन बुने सपना, पा लिये जो पल सुकूं के नहीं जाना मोल ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :उजाला
  October 13, 2017, 2:31 pm
लीला एक अनोखी चलती  सारा कच्चा माल पड़ा है वहाँ अस्तित्त्व के गर्भ में.... जो जैसा चाहे निर्माण करे निज जीवन का ! महाभारत का युद्ध पहले ही लड़ा जा चुका है अब हमारी बारी है... वहाँ सब कुछ है ! थमा दिये जाते हैं जैसे खिलाडियों को उपकरण खेल से पूर्व अब अच्छा या बुरा खेल...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :कामना
  October 9, 2017, 2:46 pm
एक पुहुप सा खिला है कौन  एक निहार बूँद सी पल भर किसने देह धरी, एक लहर सागर में लेकर किसका नाम चढ़ी ! बिखरी बूँद लहर डूब गयी  पल भर दर्श दिखा,   जैसे घने बादलों में इक चपला दीप जला ! एक पुहुप सा खिला है कौन  जो चुपचाप झरे,   एक कूक कोकिल की गूँजे इक निश्वास भरे ! एक राज ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :निहार
  September 25, 2017, 3:24 pm
अब नया-नया सा हर पल है अब तू भी याद नहीं आता अब मस्ती को ही ओढ़ा है, अब सहज उड़ान भरेगा मन जब से हमने भय छोड़ा है ! वह भीति बनी थी चाहों से कुछ दर्दों से, कुछ आहों से, अब नया-नया सा हर पल है अब रस्तों को ही मोड़ा है ! हर क्षण मरना ही जीवन है गिन ली दिल की हर धड़कन है, पल में ही पाया ह...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :अलस
  September 22, 2017, 10:23 am
एक कलश मस्ती का जैसे बरस रहा सावन मधु बन कर या मदिर चाँदनी मृगांक की, एक कलश मस्ती का जैसे भर सुवास किसी मृदु छंद की ! जीवन बँटता ही जाता है अमृत का एक स्रोत बह रहा, लहराता सागर ज्यों नाचे अंतर में नव राग उमगता ! टूट गयी जब नींद हृदय की गाठें खुल-खुल कर बिखरी हैं, एक अजा...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :जीवन
  September 18, 2017, 3:05 pm
हिंदी दिवस पर उन अनगिनत साहित्यकारों को विनम्र नमन के साथ समर्पित जिनके साहित्य को पढ़कर ही भीतर सृजन की अल्प क्षमता को प्रश्रय मिला है. जिनके शब्दों का रोपन वर्षों पहले मन की जमीन पर हुआ और आज अंकुरित होकर वाक्यों और पदों के रूप में प्रकटा है. स्मृतियों का एक घना अर...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :भाषा
  September 14, 2017, 5:25 pm
जाने कब वह घड़ी मिलेगी    तुमको ही तुमसे मिलना है  खुला हुआ अविरल मन उपवन,  जब जी चाहे चरण धरो तुम सदा गूंजती मृदु धुन अर्चन !  न अधैर्य से कंपतीं श्वासें  शुभ्र गगन से छाओ भीतर,  दिनकर स्वर्ण रश्मि बन छूओ कुसुमों की या खुशबू बनकर !  कभी न तुमको बिसराया है  जगते-सोते या...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :गगन
  September 13, 2017, 3:12 pm
एक अजब सा खेल चल रहा इक ही धुन बजती धड़कन में इक ही राग बसा कण-कण में, एक ही मंजिल,  रस्ता एक इक ही प्यास शेष जीवन में ! मधुरम धुन वह निज हस्ती की एक रागिनी है मस्ती की, एक पुकार सुनाई देती दूर पर्वतों की बस्ती की ! मस्त हुआ जाये ज्यों नदिया पंछी जैसे उड़ते गाते, डोलें ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :धुन
  September 8, 2017, 11:31 am
गीत अंतर में छिपा है शब्द कुछ सोये हुए से भाव कुछ-कुछ हैं अजाने, गीत अंतर में छिपा है सृजन की कुछ बात कर लें ! बीज भीतर चेतना का फूल बनने को तरसता, बूंद कोई कैद भीतर मेघ बन चाहे बरसना ! आज दिल से कुछ रचें हम मन नहीं यूँ व्यर्थ भटके, तृषा आतुर तृप्त होगी ललक जब अंतर से प्...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :दिल
  August 30, 2017, 10:35 am
किसका रस्ता अब जोहे मन तू गाता है स्वर भी तेरे लिखवाता नित गान अनूठे, तू ही गति है जड़ काया में सहज प्रेरणा, उर में पैठे ! किसका रस्ता अब जोहे मन पाहुन घर में ही रहता है, हर अभाव को पूर गया जो निर्झर उर में वह बहता है ! तू पूर्ण हमें पूर्ण कर रहा नहीं अज्ञता तुझको भाती, हर...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :ज्योतिर्मय
  August 27, 2017, 10:28 am
अमृत बन कर वह ढलता है उससे परिचय होना भर है कदम-कदम पर वह मिलता है, उर का मंथन कर जो पाले परम प्रेम से मन खिलता है ! भीतर के उजियाले में ही सत्य सनातन झलक दिखाता, कण-कण में फिर वही छिपा सा  साँस-साँस  में भीतर आता ! पहले आँसू जगत हेतु थे अब उस पर अर्पित होते हैं अंतर भ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :ज्योति
  August 23, 2017, 3:03 pm
स्वप्न देखे जगत सारा  झिलमिलाते से सितारे झील के जल में निहारें, रात की निस्तब्धता में उर उसी पी को पुकारे ! अचल जल में कीट कोई कोलाहल मचा गया है, झूमती सी डाल ऊपर खग कोई हिला गया है ! दूर कोई दीप जलता राह देखे जो पथिक की, कूक जाती पक्षिणी फिर नींद खुलती बस क्षणिक सी ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :दीप
  August 18, 2017, 4:09 pm
फूल ढूँढने निकला खुशबू पानी मथे जाता संसार बाहर ढूँढ रहा है प्यार, फूल ढूँढने निकला खुशबू मानव ढूँढे जग में सार ! लगे यहाँ  राजा भी भिक्षुक नेता मत के पीछे चलता, सबने गाड़े अपने खेमे बंदर बाँट खेल है चलता ! सही गलत का भेद खो रहा लक्ष्मण रेखा मिटी कभी की. मूल्यों की फ़िक...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :प्यार
  August 16, 2017, 5:55 pm
कान्हा तेरे नाम हजारों जब नभ पर बादल छाये हों वन से लौट रही गाएँ हों, दूर कहीं वंशी बजती हो  पग में पायलिया सजती हो ! मोर नाचते कुंजों में हों खिले कदम्ब निकुंजों में हों, वह चितचोर हमारे उर को, कहीं चुराए ले जाता है ! कान्हा याद बहुत आता है ! भादों की जब झड़ी लगी थी अं...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :कृष्णा
  August 14, 2017, 3:01 pm
तिर जाओ पात से सुनो ! तारे गाते हैं फूलों के झुरमुट.. प्रीत गीत गुनगुनाते हैं पल भर को निकट जाओ वृक्षों के कानों में कैसी, धुन भर जाते हैं ! देखो ! गगन तकता है बदलियों का झुंड झूम-झूम कर बरसता है ठिठको जरा सा.. बैठो, हरी घास पर पा परस दिल.. कैसे धड़कता है ! बहो ! कलकल बहती है न...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :उषा
  August 11, 2017, 3:15 pm
श्रावण की पूनम गगन पर छाए मेघ लगे हरियाली के अंबार बेला और मोगरे की सुगंध से सुवासित हुई हवा आया राखी का त्योहार गाने लगी फिजां ! भाई-बहन के अजस्र निर्मल नेह का अजर स्रोत सावन की जल धाराओं में ही तो नहीं छुपा है ! श्रावण की पूनम के आते ही याद आते हैं रंग-बिरंगे धागे क...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :गंगा
  August 5, 2017, 10:31 am
हर पगडंडी वहीं जा रही कोई उत्तर दिशा चल रहे दक्षिण दिशा किन्हीं को प्यारी, मंजिल पर मिलना ही होगा हर पगडंडी वहीं जा रही ! भर नयनों में प्रेमिल आँसू जब वे गीत विरह के गाते, बाना ओढ़े समाधान का तत्क्षण दूजे भी जुड़ जाते ! ‘तेरे’ सिवा न कोई दूजा कह कुछ मस्तक नहीं उठाते, ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :दक्षिण
  August 3, 2017, 2:02 pm
थम जाता सुन मधुर रागिनी कोमल उर की कोंपल भीतर खिलने को आतुर है प्रतिपल, जब तक खुद को नहीं लुटाया दूर नजर आती है मंजिल ! मनवा पल-पल इत-उत डोले ठहरा आहट पाकर जिसकी, जैसे हिरण कुलाँचे भरता थम जाता सुन मधुर रागिनी ! जिसके आते ही उर प्रांगण देव वाटिका सा खिल जाता, हौले-हौले...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :प्रेमिल
  July 28, 2017, 3:33 pm
कविता हुंकारना चाहती है छिपी है अंतर के गह्वर में या उड़ रही है नील अंतरिक्ष की ऊँचाईयों में घूमती बियाबान मरुथलों में या डुबकी लगाती है सागर की गहराइयों में तिरती गंगा की शांत धारा संग कभी डोलती बन कावेरी की ऊंची तरंग खोज रही है अपना ठिकाना झांकती नेत्रों में... न...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :अमन
  July 24, 2017, 3:59 pm
उन अँधेरों से डरें क्यों खो गया है घर में कोई चलो उसे ढूँढ़ते हैं बह रही जो मन की सरिता बांध कोई बाँधते हैं आँधियों की ऊर्जा को पाल में कैसे समेटें  उन हवाओं से ही जाकर राज इसका पूछते हैं इक दिया, कुछ तेल, बाती जब तलक ये पास अपने उन अँधेरों से डरें क्यों खुद जो रस्ता ख...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :तेल
  July 15, 2017, 10:54 am
गाना होगा अनगाया गीत गंध भी प्रतीक्षा करती है उन नासापुटों की, जो उसे सराहें प्रसाद भी प्रतीक्षा करता है उन हाथों की, जो उसे स्वीकार लें जो मिला उसे बांटना होगा होने को आये जो हो जाना होगा गाना होगा अनगाया गीत लुटाना होगा वह कोष भीतर छुपा    पलकों में बंद ख्वाबों ...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :ख्वाब
  July 12, 2017, 3:45 pm
मानव और परमात्मा मुक्ति की तलाश करे अथवा ऐश्वर्यों की परमात्मा होना चाहता है मानव या कहें ‘व्यष्टि’ बनना चाहता है ‘समष्टि’ प्रभुता की आकांक्षा छिपी है भीतर पर कृपण है उसका स्नेह जो प्रेम में नहीं बदलता बदल भी गया तो धुंधला-धुंधला है   पावन है यदि प्रेम तो धुआं न...
मन पाए विश्राम जहाँ...
Tag :प्रेम
  July 10, 2017, 3:57 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3710) कुल पोस्ट (171497)