POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: बतकही

Blogger: swapnil jain
Scalable Vector Portraits, Digital Portraits now affordable. Ultra Shine HD Print, Ready to Hang ...... Now only in Rs. 8000 , contact - anukratigraphics@gmail.com, whatsapp-7000399434for more art work - https://anukratigraphics.com/... Read more
clicks 20 View   Vote 0 Like   9:53am 11 Feb 2019 #
Blogger: swapnil jain
ए दिल है मुश्किल फिल्म से यह भजन / गीत / कविता / इबादत ------------------------------------------------------------ कहते हैं , कविताओं को समझना आसान नहीं , लेकिन कोशिश तो की जा सकती है । आखिर कोई कारण तो रहे होंगे जो यह कविता भारत मे नाज़िल हुई । मेरी रूह का परींदा फड़फडाये लेकिन सुकून का जज़ीरा मिल न पाए वे की करां.. ... Read more
clicks 80 View   Vote 0 Like   3:30pm 15 Nov 2016 #
clicks 93 View   Vote 0 Like   3:29pm 15 Nov 2016 #
Blogger: swapnil jain
कहते हैं , हर शेर आसमान से नाज़िल होता है , बिना अल्लाह के मर्ज़ी के मुकम्मल नहीं होता । मुनव्वर राणा जी ने अगर यह लिखा है तो काबिले तारीफ है , यह बच्चों के सिलेबस मे पढ़ाया जाना चाहिये । हर कोई गहराई तक जाके समझ नहीं सकता , शायर क्या कहना चाहता है , लेकिन फिर भी अमन और मोहब्बत का ... Read more
clicks 93 View   Vote 0 Like   3:29pm 15 Nov 2016 #
Blogger: swapnil jain
ग़ज़ल समझना आसान नहीं / फिर भी कोशिश तो की जा सकती है --------------------------------------------------------------------- . सरकती जाये है रुख से नक़ाब आहिस्ता आहिस्ता --------------------------------- नकाब सरक रही है , नाजनीन बेपर्दा हो रही है धीरे धीरे निकलता आ रहा है आफ़ताब आहिस्ता आहिस्ता --------------------------------- काले नकाब के गिरने के बाद ऐसा लग... Read more
clicks 74 View   Vote 0 Like   3:27pm 15 Nov 2016 #
Blogger: swapnil jain
मैं बहुत से संग्रहालय मे गया हूँ , वहाँ रही तलवार, बंदूक देखकर अपने निरीह होने पर शर्मिंदा होता हूँ ---- बख्तरबंद , हेलमेट (और भी श्रंगार ) सब लोहे का , फिर भारी तलवार ---- इतने सब होने के बाद घोड़े की सवारी --- और युद्ध , मेरी कल्पना के परे है ---- मुझे महाराणा प्रताप के चेतक की कहानी या... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   10:40am 6 Dec 2012 #
Blogger: swapnil jain
बहुत सारे चिंतकों और विचारकों के संदेश पिछले कुछ दिनो पढ़ने मिले कि - शादी - व्याह अब धर्म-जातियों के दायरे से बाहर होना चाहिए - इसके अच्छे परिणाम सामने आ सकते हैं या आने की उम्मीद है ---- सही बात है - कुछ विवाह मैंने - भारतीय युवक और विदेशी कन्या के देखे और कुछ विदेशी युवक के सा... Read more
clicks 132 View   Vote 0 Like   10:38am 6 Dec 2012 #
Blogger: swapnil jain
देश कोई रिक्शा तो है नहींजो फेफड़ों की ताक़त की दम पे चलेवह चलता है पैसों सेसरकार के बस का नहींदेना सस्ती और उच्च शिक्षामुफ़्त इलाज भीसरकार का काम नहींकल को तो आप कहेंगेगिलहरी के बच्चे का भीरखे ख़याल सरकारवे विलुप्त होने की कगार पे हैंपरिन्दों से ही पूछ लोक्या उन्हे... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   8:43am 1 Dec 2011 #
Blogger: swapnil jain
अरे बचा लो देश"...................!!!!!!!देश लिया सब चूँस..........तुम्हारी ..............!बचा खुचा लो ठूँस, तुम्हारी..............!जबसे दर्शन किये तुम्हारेजनता भूकों मर गईऐसे हो मनहूस, तुम्हारी.................!किस पर जनता करे भरोसाकिसको गले लगाये"सबके सब" फडतूस,तुम्हारी.......!अन्व्याही फ़ाइल कातब तक शीलभंग हो कैसेमिले ... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   7:02am 27 Sep 2011 #
Blogger: swapnil jain
यह जो छापा तिलक लगाये यह जो जनेऊ धारी हैं यह जो जात पात पूजक हैं यह जो भ्रष्टाचारी हैं यह जो भूपति कहलाता है जिसकी साहूकारी है उसे मिटाने और बदलने की करनी तैयारी है ज़ारी है ज़ारी है अभी लड़ाई ज़ारी है, ज़ारी है ज़ारी है अभी लड़ाई ज़ारी है, ज़ारी है ज़ारी है अभी लड़ाई ज़ारी है यह जो त... Read more
clicks 122 View   Vote 0 Like   3:18am 17 Sep 2011 #
Blogger: swapnil jain
हम मेहनत कश जगवालों से जब अपना हिस्सा मांगेगेएक खेत नहीं, एक देश नहींहम सारी दुनिया मांगेगेहम सारी दुनिया मांगेगेयहाँ पर्वत पर्वत हीरे हैं यहाँ सागर सागर मोती हैंये सारा माल हमारा हैये सारा माल हमारा हैये सारा माल हमारा हैहम सारा खज़ाना मांगेगेहम मेहनत कश जगवालों से ... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   7:00am 16 Sep 2011 #
Blogger: swapnil jain
तोड़ो ये दीवारें भर दो अब ये गहरी खाई तोड़ो ये दीवारें भर दो अब ये गहरी खाई जागो दुखियारे इंसानों तस्वीर बदल दो दुनिया की चलती मशीनें ये तेरे ही हाथों से उगते हैं फसलें ये तेरे ही हाथों से क्यों फिर ले जाते हैं ? जुल्मी जोग तुम्हारी कमाईउठो मजदूरों और किसानो तस्वीर बदल द... Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   6:59am 16 Sep 2011 #
Blogger: swapnil jain
पुराने समय की बात है  - महाविध्यालीन पढाई के दौरान कुछ आमदनी हेतु काम करने का विचार किया ....ऐसा कोई काम जिस से आमदनी हो.... भयानक ख्याल था... मुझे कुछ आता भी ना था...एक बार मेले में किसी को चावल पर कुछ लिखते देखा बात जाम गई ....हां ..... कोशिश करूँ तो मैं भी कर सकता हूँ...  तो श्रीमान मैं... Read more
clicks 104 View   Vote 0 Like   9:49am 28 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
Follow this blog                        ... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   5:13am 27 Jul 2011 #
clicks 142 View   Vote 0 Like   12:43pm 22 Jul 2011 #
clicks 113 View   Vote 0 Like   12:04pm 22 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
http://blogname.blogspot.com/feeds/postId/comments/default?alt=rss... Read more
clicks 147 View   Vote 0 Like   11:58am 22 Jul 2011 #
clicks 158 View   Vote 0 Like   11:02am 22 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
हमारे शहर में सिनेमाघर कितने थे ?? ३२ सिनेमाघर का सुना था मैंने ---- आप सहायता करें नाम याद करने में १ .  नवीन ज्योति (पनागर)२.  वैभव (पायल)३.  अम्पायर ४.  डिलाइट५.  श्री कृष्णा६.  सुभाष ७.  पंचशील ८.  लक्ष्मी ९.  आनंद १०. प्रभु वंदना ११.  ज्योति १२. विनीत १३. जयंती १४. शीला १५. शारदा१६. ... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   7:00am 22 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
वो जिलहरी की शाम वो छोटी लाइन फाटक का जाम वो नर्मदा रोड की हवा वो विक्टोरिया की दवा वो धुआंधार की ठंडक वो सदर का मज़ा वो गोरखपुर की शॉपिंग वो मोबाइल की टाकिंग वो बडकुल की जलेबी वो अन्ना का डोसा वो कमानिया की रबड़ीवो फ्रीजो की आइसक्रीम वो सिविक सेंटर की चाट वो डिलाइट की चा... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   11:12am 21 Jul 2011 #yaaden
Blogger: swapnil jain
http://en.wikipedia.org/wiki/Jabalpur... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   6:05am 19 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
हमारे जबलपुर में एक समय १३ तलैया और ५२ तालाब थे .. तलैया - १. श्रीनाथ की तलैया २. तिलक भूमि की तलैया ३. जूडी तलैया ४. भानतलैया ५. छुट्टू मियाँ की तलैया,६.  बेनीसिंह की तलैया 7.  अलाफ्खान की  तलैया 8.  सेवाराम  की  तलैया 9.  साईं  तलैया 10. नौवा तलैया 11. सूरज  तलैया 12. फूलहारी  तलैया 13. जिं... Read more
clicks 151 View   Vote 0 Like   5:42am 19 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
अपनी छत पे कच्चू करते कई ना कहतो.....अपनी छत पे कच्चू करते कई ना कहतो.....ओकी छत पे फूल फेंक दओ ? जो का कल लओ ??और हाथ पाओं में कचछु नैयाँ - दंगल में नाम लिखा लओ जो का कल लओ ??... Read more
clicks 131 View   Vote 0 Like   5:21am 19 Jul 2011 #
Blogger: swapnil jain
इक कंपनी में किसी पद हेतु साक्षात्कार चल रहा था.... शर्त बस यही थी कि - कमरे में प्रवेश करने की अनुमति केवल दो शब्दों में मांगे ...सारे परेशान हो गए - किस भाषा में पूछें कि शर्त पूरी हो जाये... तभी इक जबलपुरिया आया और पूछा - काय आयें ??? और चयनित हो गया ........ Read more
clicks 138 View   Vote 0 Like   7:01am 16 Jul 2011 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]


Members Login

Email ID:
Password:
        New User? SIGN UP
  Forget Password? Click here!
Share:
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3941) कुल पोस्ट (195176)