Hamarivani.com

RAS RANG BHRAMAR KA

खिली खिली खिलखिला उठूँ मैंजब से उसने मुझको देखा ...================कोमल गात हमारे सिहरनछुई मुई सा होता तन मनउन नयनों की भाषा उलझनउचटी नींदें निशि दिन चिंतनमूँदूँ नैना चित उस चितवन ....खुद बतियाती गाती हूँ मैं ....खिल...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar5
  June 4, 2016, 1:11 pm
गाल गुलाब छिटकती लाली -----------------------------जुल्फ झटक मौका कुछ देती अँखियाँ भरे निहार सकूँ कारी बदरी फिर ढंक लेती छुप-छुप जी भर प्यार करूँ=================इन्द्रधनुष सतरंगी सज-धज त्रिभुवन मोहे अजब मोहिनी कनक समान सजे हर रज कण किरण गात तव अजब फूटती ========================गहरी झील नैन भव-सागर उतराये डूबे ...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar ki madhuri
  June 8, 2015, 6:12 pm
हंसमुखनैनतिहारेप्रियतम  क्याक्यारंगदिखातेहैंनाचमयूरीसावनरिमझिमघायलदिलकरजातेहैं--------------------------हर इक आहट नजर थी रहती प्यासे नैन थे पर फैलाये पलक पांवड़े स्वागत खातिर कब निकले तू नैन समाये ----------------------------कभी ओढ़नी होंठ दबाये पग ठुमकाये कटि तक तू बल खाए तिरछे नैन से बाण च...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar5
  May 9, 2015, 5:56 pm
जिया जरे दिन रात हे पीऊतड़प के रात बिताऊं                                                   (photo with thanks from google/net)----------------------------------भोर उठूँ जब सेजिया खाली  गहरी सांस ले मन समझाऊँदुल्हन जब कमरे से झाँकूपल-पल नैन मिलातीअब हर आहट बाहर धाती'शून्य'ताक बस नैन भिगो...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :mohabbat
  June 6, 2014, 10:44 am
(photo with thanks from google/net)जुल्फ हैं लहराते तेरे बदली जैसेऔर तुम …..मुस्कुराती दामिनी सी छल रही हो...-------------------------केशुओं से झांकते तेरे नैन दोनोंप्याले मदिरा के उफनते लग रहेकाया-कंचन ज्यों कमलदल फिसलन भरेनैन-अमृत-मद ये तेरा छक पियेंबदहवाशी मूक दर्शक मै खड़ातुम इशारों से ठिठोली कर रही ह...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :madhuri
  May 30, 2014, 1:42 pm
होंठ रसीले मधु टपके ज्योंचन्दन सी खुशबू है तेरीतभी साँप दिल लोट रहेजुल्फ का स्याह अँधेरा देखेनिशा-निशाचर आते हैंनैन कंटीले मदिरा प्यालामदमस्त जाम भर जाते हैंगाल गुलाबी सूर्य किरण सेव्याकुल जीवन कुछ पाते हैं होंठ ...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :madhuri
  May 13, 2014, 1:55 pm
खुश्बू फ़िज़ा मे बिखरी =================                                     (photo with thanks from google/net)चेहरा तुम्हारा पढ़ लूँपल भर तो ठहर जाना नैनों की भाषा क्या है कुछ गुनगुना सुना-ना -------------------------आईना जरा मै  देखूँ क्या मेरी छवि बसी है इतना कठोर बोलने को कसमसा रही ह...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar5
  October 11, 2013, 11:27 am
उँगलियों के इशारे नचाने लगीउम्र की सीढ़ियों कुछ कदम ही बढेअंग -प्रत्यंग शीशे झलकने लगेवो खुमारी चढ़ी मद भरे जाम सेनैन प्याले तो छल-छल छलकने लगेलालिमा जो चढ़ी गाल टेसू हुएभाव भौंहों से पल-पल थिरकने  लगेजुल्फ नागिन से फुंफकारती सी दिखेहोश-मदहोशी में थे बदलने लगेनींद ...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :naari
  September 30, 2012, 11:02 pm
जन्माष्टमी की हार्दिक शुभ कामनाये आप सपरिवार और सारी प्यारी मित्र मण्डली को भी आप के भ्रमर की तरफ से जय श्री कृष्णा ….भ्रमर ५कान्हा कृष्णा मुरली मनोहर आओ प्यारे आओव्रत ले शुभ सब -नैना तरसें और नहीं तरसाओजाल –जंजाल- काल सब काटे बन्दी गृह में आओमातु देवकी पिता श्री को प्...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :murli manohar
  August 10, 2012, 10:50 pm
मृगनयनी कैसी तू नारी ??------------------------------मृगनयनी कजरारे नैना मोरनी जैसी चालपुन्केशर   से जुल्फ तुम्हारे तू पराग की खानतितली सी इतराती फिरती सब को नाच नचातीतू पतंग सी उड़े आसमाँ लहर लहर बल खातीकभी पास में कभी दूर हो मन को है तरसातीइसे जिताती उसे हराती जिन्हें 'काट' ना आतीकभी उ...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :nari
  July 5, 2012, 1:35 pm
मेह सावन की ‘बदली’ नहाने लगीरूप पल -पल बदलती रही रात भरचांदनी जिसमे से छल-छ्लाने लगीवो छन-छन छनक आ मिली नैन सेमुझको चातक चकोरा बनाने लगीरूपसी -प्रेयसी झिलमिलाती दिखीजुल्फ झर- झर वहीं झहराने लगीलाल सूरज की बिंदिया को छोड़े कभीपूर्णिमा चाँद माथे सजाने लगीजाने कितने सि...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :prakriti
  May 23, 2012, 2:09 pm
जैसे गोरी घूँघट में हो—————————–रंग बिरंगी बदरी डोलींघेर गयीं “दिनकर” कोशरमाया सा छुपा जा रहाआंचल – बदली के वोतभी प्रिया ने करवट बदलाछन- छन लाली आयीसप्त रंग के इंद्र धनुष बनशरमाना दिखलाईजैसे गोरी घूँघट में होपलक किये कुछ नीचेचपला सी मुस्कान लहर कोवो अधरों में भींच...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :prakriti
  May 10, 2012, 11:17 pm
होंठ रसीले लरज रहे हैं शायद रस-मधु घोलेचाँद सा मुखड़ा सूर्यमयी   है घूँघट कब ये खोले ?नैन जादुई झील  से गहरे जीव जगत सब तरते ढाई आखर प्रेम ग्रन्थ में गहराई सब डूबे -------------------------Bhramar5५.१२-५.२२ पूर्वाह्न ६.४.२०१२ कुल्लू यच पी Dadi Maa sapne naa mujhko sach ki tu taveej bandha de..hansti rah tu Dadi Amma aanchal sir par mere daale...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :
  April 10, 2012, 11:59 pm
वचपनकाप्रेम ------------------औरउसदिनजबतुम अपने "उनके" साथ अपनीमाँसेमिलनेआईथी दरवाजेकीदेहरीपर दीवारसेचिपकी -चुपचापमेरीओरताकरहीथी मैकिताबोंमेंखोया -व्यस्त -मस्त अचानकउसतुम्हारेदरवाजेपर नजरकाजाना -औरफिर बिजलीकौंधजाना जोरदाररौशनी ढेरसारीयादें तेरालजाना -लालचेहर...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar geet
  January 6, 2012, 8:00 pm
वचपनकाप्रेम ------------------औरउसदिनजबतुम अपने "उनके" साथ अपनीमाँसेमिलनेआईथी दरवाजेकीदेहरीपर दीवारसेचिपकी -चुपचापमेरीओरताकरहीथी मैकिताबोंमेंखोया -व्यस्त -मस्त अचानकउसतुम्हारेदरवाजेपर नजरकाजाना -औरफिर बिजलीकौंधजाना जोरदाररौशनी ढेरसारीयादें तेरालजाना -लालचेहर...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :prem
  December 11, 2011, 7:21 pm
प्रिय मित्रों सजने संवरने के दिन आ गये दिवाली गयी तो रोशन कर गयी मन को तन को -अब सब वक्त को निहार लें किस मुकाम पर कौन खड़ा है क्या कौन झाँक रहा दस्तक दे रहा , वक्त के हिसाब से आओ चलें अपनी अपनी कुछ जिम्मेदारियां भी समझें और निभाएं ….आज कुछ अलग सा …..खड़ी आईने के संग जाकरआँखो...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :samaj
  November 3, 2011, 9:48 am
आइये कुल्लू दशहरा हिमाचल में प्रभु श्री राम के  दर्शन करें और मेले का आनंद लें ...बच्चे मन के सच्चे हैं फूलों जैसे अच्छे हैं मेरी मम्मा कहती हैं तुझसे जितने बच्चे हैं सब अम्मा के प्यारे हैं --Dadi Maa sapne naa mujhko sach ki tu taveej bandha de..hansti rah tu Dadi Amma aanchal sir par mere daale ..join hands to improve quality n gd workगुणवत्ता बनाये रखने में ...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :kullu dashhara
  October 6, 2011, 8:17 pm
मेरी एक अलग जाति हैछुआ छूत है मुझसेअधिकतर लोग किनारा किये रहते हैं३६ का आंकड़ा है मेरा उनकानाम के लिए मैएक पदाधिकारी हूँ एक कार्यालय कालेकिन चपरासी बाबू सब प्यारे हैदिल के करीब हैंकंधे से कन्धा मिलायेठठाते हैं हँसते बतियाते हैंपुडिया से दारु ..कबाबअँधेरी गली के सब रा...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :samaj
  October 2, 2011, 4:49 pm
कहीं विकिलीक्स का खुलासा तो कहीं आतंकियों की दहशत त्रस्त है आज जनता , कब कौन बाजार से या कचहरी से लौट के आये या न आये भगवन ही जानता है …ऐसे में महबूब की याद उनसे दो पल मिल लेना मन को सुकून देता है आगे न जाने क्या हो जब तक जिओ जी भर जियोथोडा हट के लीक से आज प्रस्तुति …..इतनी सुन...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar geet
  September 7, 2011, 1:27 pm
आप सभी को श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं आइये आवाहन करें की कृष्ण हम सब में आयें और अनाचार मिटायें हमारे सभी आन्दोलन सफल हों और दुराचारी भ्रष्टाचारी मुह की खाएं-इस कलयुग में द्वापर की बातें याद आ जाती हैं -आज तो कितनी द्रौपदी बेचारी कोई कान्हा न...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :kaanha
  August 22, 2011, 7:12 am
हीरा हैं हम सोना हैं हम चांदी सा हम चमकेंगे !सोने की चिड़िया, दूध की नदिया ,"हरित-क्रांति" दिखलायेंगे !!-----------------------------गाओ बच्चों मेरे संग में !मिल जाओ सब मेरे दल में !!घर-घर से आवाज उठी है बन्दे मातरम -बन्दे मातरम !लिए तिरंगा मै निकला हूँ कदम ताल कर -छम्मक छम !----------------------------------गाँव ...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar geet
  August 15, 2011, 7:56 am
मेरे   सपनो की तस्वीर खाली पड़ीरंग भर दोगे मुझको ये अनुमान दो मंदिरों में भटकता नहीं मूर्ति बोली प्राण बन जाओगे कोई आभास दो मेरे सपनो की तस्वीर.......जंगलों में भटकता रहा रात दिन ये भी वीरान से -तुम कहाँ -ख्वाब दो पर्वतों पे चढ़ा पाँव घायल किया रक्त रिश्ता है उर स...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bhramar geet
  August 14, 2011, 12:04 pm
बहना मेरी दूर पड़ा मैदिल के तू है पासअभी बोल देगी तू “भैया”सदा लगी है आस——————-मुन्नी -गुडिया प्यारी मेरीतू है मेरा खिलौनामै मुन्ना-पप्पू-बबलू हूँबिन तेरे मेरा क्या होना !—————————तू ही मेरी सखी सहेलीकितना खेल खिलायाकभी -कभी मेरी नाक पकड़ केतूने बहुत चिढाया !——————–...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bahna
  August 13, 2011, 1:32 pm
आई बरखा बहार –घर आ जा बलमूआई बरखा बहाररिमझिम पड़े ला फुहारजियरा उमडि–उमडि तरसाएघर आ जा बलमू !!—————————–नीम के डारी झूला पड़ गएतन मन सब गदरायाधानी चुनरिया – पेंग लड़ाकरउडि मन- ज्वालामुखी बनायाहरियाली -संग फूल खिले- परपीला पड़ता गात हमारामूक नैन हों इत- उत भटकेंरिमझि...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :savan
  August 4, 2011, 3:32 pm
आँख से छलके हुए आंसू से भीगा-मै था उस झील की गहराई में कुछ दूर तक उतरा ही था जल परी -ख्वाब के महलों में रसातल जाऊं जम गए बूँद -बिंदु-झील बस डूबा जाऊं पानी पत्थर भी जम के हो जाते चाहता रह गया -दुनिया को कैसे बतलाऊँ !!शुक्ल भ्रमर ५ जल पी बी १८.७.११ - ८.१०  -मध्याह्न  Dadi Maa sapne naa mujhko sach k...
RAS RANG BHRAMAR KA...
Tag :bevafayi
  July 24, 2011, 5:06 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163611)