POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: प्रतापगढ़ साहित्य प्रेमी मंच -BHRAMAR KA DARD AUR DARPAN

Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});... Read more
clicks 142 View   Vote 0 Like   7:16am 24 May 2016 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
तुम तो जिगरी यार हो ==================दोस्त बनकर आये हो तो मित्रवत तुम दिल रहो गर कभी मायूस हूँ मैंहाल तो पूछा करो ..?-------------------------------पथ भटक जाऊं अगर मैं हो अहम या कुछ गुरुर डांटकर तुम राह लाना (मित्र है क्या ........?)याद रखना तुम जरूर------------------------------ तुम हो प्रतिभा के धनी हे !  और ऊंचे तुम चढ़ो पर न स... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   6:02am 20 Apr 2016 #dost
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाःप्रथम अन्तराष्ट्रीय  योग दिवस पर व् पितृ दिवाद परहार्दिक शुभ कामनाएं |आशा ... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   3:33am 21 Jun 2015 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
आओ माँ मै पुनः चिढाऊं==========================मन कहता मै पुनः शिशु बनमाँ के आँचल खेलूँकल्पवृक्ष सम माँ ममता संगगोदी खेले प्रेम का सागर पी लूँ======================मुझे निहारे मुझे दुलारेतुतला गाये शिशु बन जाएहो आनंदित हर सुख पायेमाँ को मेरी ‘आँच ‘ न आये—————————-मुझमे माँ का प्राण बसा हैमाँ के ... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   1:54pm 11 May 2015 #janani
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
दीपावली के शुभ अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं \आशा |... Read more
clicks 192 View   Vote 0 Like   12:00pm 21 Oct 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
मान्यवर,दिनांक 18-19 अक्टूबर को खटीमा (उत्तराखण्ड) में बाल साहित्य संस्थान द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय बाल साहित्य सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है।जिसमें एक सत्र बाल साहित्य लिखने वाले ब्लॉगर्स का रखा गया है।हिन्दी में बाल साहित्य का सृजन करने वाले इसमें प्रतिभाग करने ... Read more
clicks 186 View   Vote 0 Like   4:46pm 1 Oct 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
उड़े पखेरू पंख फैला पक्षी सा मन उड़ता |खिलती धूप दमकता चेहरा प्यारा लगता |आशा सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः... Read more
clicks 169 View   Vote 0 Like   7:38am 24 Sep 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाःजल में घुली चीनी की तरह कभी एक रस ना हो पाए साथ साथ न चल पाए तब कैसे देदूं नाम कोई  ऐसे अनाम रिश्ते को |जल में मिठास आ जाती है चीनी के चंद कणों से होती है हकीकत दिखावा नहीं पर स्थिति विपरीत यहाँ रिश्ता बहुत सुदृढ़ दीखता पर खोखला अं... Read more
clicks 191 View   Vote 0 Like   1:36pm 30 Jul 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
 माँ की ममता पुत्र पर ,बेटी देख रिसाय |तेरा कैसा न्याय प्रभू,कुछ भी समझ न आय ||यहाँ वहाँ क्या देखते ,जीवन छूटा जाय |प्रभु सुमिरन करते रहो ,अंत भला हो जाय ||जीव न जादू की छड़ी,छूते ही कुम्हलाय |कठिन डगर पार करके ,फल तुरतही मिल जाय ||जल अथाह समुन्दर में .कभी कमीं ना होय |सूरज कितन... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   1:20am 24 Jul 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
( photo with thanks from google/net)प्रिय मित्रों नारियों के प्रति दिन प्रतिदिन बढ़ता अत्याचार मन को बहुत बोझिल करता है जरुरत है बहुत सख्त और सजग होने की , बच्चों में संस्कार भरना बहुत जरुरी हैं उन्हें अनुशासन से कदापि वंचित नहीं करना है बेटा हो या बेटी उन के आचार व्यवहार पर नजर रखना जरुरत से... Read more
clicks 224 View   Vote 0 Like   10:49am 26 Jun 2014 #bhramar5
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
मित्रों।फेस बुक पर मेरे मित्रों में एक श्री केवलराम भी हैं। उन्होंने मुझे चैटिंग में आग्रह किया कि उन्होंने एक ब्लॉगसेतु के नाम से एग्रीगेटर बनाया है। अतः आप उसमें अपने ब्लॉग जोड़ दीजिए। मैेने ब्लॉगसेतु का स्वागत किया और ब्लॉगसेतु में अपने ब्लॉग जोड़ने का प्रय... Read more
clicks 199 View   Vote 0 Like   5:32am 24 Jun 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
28 अगस्त, 2011यह पड़ाव कब पार हो जीवन की लंबी डगर पर देखे कई उतार चढ़ाव अनेकों पड़ाव पार किये फिर भी विश्वास अडिग रहा | कभी हार नहीं मानी जीवन लगा न बेमानी जटिल समस्याओं का भी सहज निदान खोज पाया | आशा निराशा के झूले में भटका भी इधर उधर कभी सफलता हाथ लगी घर असफलता ने घेरा कभी | अनेकों ... Read more
clicks 211 View   Vote 0 Like   10:53am 14 Jun 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
बात पिछले साल की पिछले वर्ष ना जाने क्या हुआ इन्द्र देव अचानक रूठ गए | जब गर्मी आई तो बिना पानी के बहुतसी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा |पहले नल रोज आते थे , फिर ४ दिनमें एक बार और बाद में यह स्थिती हो गई की नल में टपकती पानी की एक बूंद देखने को भी तरस गए | टेंकरों से दूर दूर से ... Read more
clicks 200 View   Vote 0 Like   6:41am 15 May 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
अतुलनीय है प्यार तुम्हारे नेह बंध का सार मुझ में साहस भर देता है नहीं मानती हार माँ तुझे मेरा शत-शत प्रणाम |आज जहाँ मै खड़ी हुई हूँ जैसी हूँ ,तुमसे ही हूँ मैं मुझे यही हुआ अहसास माँ तुझे मेरा प्रणाम |तुमने मुझ में कूट- कूट कर भरा आत्म विश्वास माँ मेरा तुझे शत-शत प्रणाम |न कोई... Read more
clicks 203 View   Vote 0 Like   2:57pm 10 May 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
'आम'आदमी बन जाऊं ----------------------मन खौले 'शक्ति'की खातिर 'आम'आदमी बन जाऊं भीड़ हमारे साथ चले तो रुतबा मै भी कुछ पाऊँ अगर 'सुरक्षा'चार लगे तो शायद 'थप्पड़'ना खाऊं अंकुर उभरा दबा -दबा मै टेढ़ा -मेढ़ा ऊपर आया ऊपर हवा स्वर्ग सी सुन्दरमान के सीढ़ी चढ़ आया 'सिर '  ऊपर तलवार है लटकी आज समझ मै ये पाय... Read more
clicks 163 View   Vote 0 Like   1:14pm 12 Apr 2014 #bhramar5
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
 मौसम ने ली अंगडाई सर्दी ने पीठ दिखाई धूप के तेवर बदले वे भी लगे बदले बदले पैर जलते धूप में पिधलता डम्बरपक्की सड़क पर चलना दूभर होता घर के बाहर फिर भी कोई   काम न रुकता जीवन यूं ही चलता रहता |आशा सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः... Read more
clicks 185 View   Vote 0 Like   1:08am 31 Mar 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
आज  उड़त अबीर गुलाल    छोरी  छोरवन क  अजब धमाल है कान्हा की कारगुजारी। …=================मिटटी लेप किये कोई कजरा लगायेबनरे लाल मुख धारी कोई लंगूर आये कुर्ता टोपी रंगे कोई कपड़ा भी फाड़े छोटी बड़ी पिचकारी रंग मारे बौछारें ढोल मजीरा कोई पीटे है ताली है कान्हा की कारगुजारी। … -----आ... Read more
clicks 174 View   Vote 0 Like   6:23am 17 Mar 2014 #holi
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
होली के अवसर पर हार्दिक शुभ कामनाएं |(१) फूल क्या जिसने ओस से प्यार न किया होभावों में बह कर उसे बाहों में न लिया हो |(२)टपकती  ओस ठिठुरन भरी सुबह की धुप देखे बिना चैन नहींआताओस में नहाया पुष्प अनुपम नजर आता |(३)फूलों की फूलों से बातें कितनी अच्छी लगती हैं प्यार भरी ये ... Read more
clicks 234 View   Vote 0 Like   10:30am 15 Mar 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना------------------------------- माँ बूढी पथरायी आँखेंजोह रही हैं बाटलाल हमारे कब आयेंगेधुंध पड़ी अब आँख                            —————————-जब उंगली पकड़ाये चलतीकही कभी थी बातमै आज सहारा दे सिखलातीजब बूढी तुम थामना हाथ———————... Read more
clicks 180 View   Vote 0 Like   7:32am 18 Feb 2014 #dard
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
01 फ़रवरी, 2011पैर पसारे भ्रष्टाचार नेअनाचार ने,नक्सलवादी उग्रवादीअक्सर दीखते यहाँ वहाँ |कोई नहीं बच पायामँहगाई की मार से ,इन सब के कहर सेभटका जाने कहाँ-कहाँ |जन सैलाब जब उमड़ाइनके विरोध मेंपर प्रयत्न  रहे नाकामहोता नहीं आसानइन सब से उबरना |है यह  ऐसा दलदलजो भी फँस जात... Read more
clicks 195 View   Vote 0 Like   11:38am 31 Jan 2014 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
हे सांता हो तुम कौनकहाँ से आएबच्चों से तुम्हारा कैसा नातावे पूरे वर्ष राह देखतेमिलने को उत्सुक रहते |क्या नया उपहार लायेझोली में झांकना चाहतेबहुत प्रेम उनसे करते होवर्ष में बस एक ही बारआने का सबब क्यूं न बताते |बहुत कुछ दिया तुमनेप्यार दुलार और उपहारसभी कुछ ला दिया त... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   1:24am 24 Dec 2013 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाःक्षणिकाएं (भाग २) (1)मन से मन की बात यदि ना हो पाए मन चाही मुराद यदि मिल न पाए मन दुखी तब क्यूं न हो बेमौसम का राग वह क्यूँ गाए |(२)सुनी गुनी कही बातें वजन तो रखती हैं पर हैं कितने लोग जो उन पर अमल करते हैं |(३)मैंने सजाई थी महफ... Read more
clicks 196 View   Vote 0 Like   1:50am 12 Dec 2013 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
है कैसा पाषाण साभावना शून्य ह्रदय लिएना कोइ उपमा ,अलंकारया आसक्ति सौंदर्यके लिए |जब भी सुनाई देतीटिकटिक घड़ी कीहोता नहीं अवधानना ही प्रतिक्रया कोई |है लोह ह्रदय या शोलाया बुझा हुआ अंगारसब किरच किरच हो जाताया भस्म हो जाता यहाँ |है पत्थर दिलखोया रहता अपने आप मेंसिमटा रह... Read more
clicks 171 View   Vote 0 Like   4:09am 12 Nov 2013 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
करवा चौथ पर हार्दिक शुभ कामनाएं चाँद ने मुह छिपायाबादलों की ओट में प्रिय तुम भीअब तक न आए जाने कहाँ विलमाएमैं हूँ परेशान कब तक राह निहारूंतुम्हारी और  चाँद की याद नहीं आई  क्या आज करवा चौथ की|आशा सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   11:02am 22 Oct 2013 #
Blogger: surendra kumar shukla Bhramar5
प्रतापगढ़ [जासं]। नन्हीं अंगुलियों से ढोलक बजाकर लोगों को आश्चर्यचकित करने वाले बाल कलाकार दयानंद ने सफलता की लंबी उड़ान भरी है। लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड में जगह पाने वाला यह प्रतापगढ़ का पहला कलाकार है।मंगरौरा विकास खंड के लाखीपुर गांव निवासी बाल कलाकार दयानंद ... Read more
clicks 255 View   Vote 0 Like   11:07am 12 Oct 2013 #bhramar5
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4017) कुल पोस्ट (192865)