POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: मेरी दुनिया

Blogger: monika bhatt
क्या तुम आज स्कूल आओगे?अब ये नही होगा.......... कल मुझसे मेरे छोटे भाई ने कहा की दीदी अब तुझसे ये कोई नही कभी कहेगा की आज स्कूल क्यो नही आई या क्या तुम आज स्कूल आओगी? बात बिल्कुल साधारण सी थी पर मे सारा दिन सोचती रही की ये बात कितनी सच हे . बचपन के साथ साथ ये सारे पल भी तो बीत गये जब स... Read more
clicks 167 View   Vote 0 Like   9:53pm 9 Sep 2013 #
Blogger: monika bhatt
चंपा को आज काम पर जल्दी निकलना था नवरात्रि का अंतिम दिन था और मालकिन ने नौ कन्याओ को भोजन के लिए आमंत्रित किया था. चंपा घर से निकलने लगी तो ६ वर्षीय मीठी भी साथ आने की ज़िद करने लगी चंपा ने उसे भी साथ लिया और काम पर चल दी. मालकिन के घर पहुँच कर चंपा जल्दी जल्दी मालकिन का हाथ ... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   1:11pm 17 Aug 2013 #
Blogger: monika bhatt
भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाने के लिए अन्ना हज़ारे आगे आए सरकार का रुख़ हम सबने देखा. अब वो समय आ गया हे की देश मे क्रांति हो और देश नया रूप नया रंग ले एक नई सुबह हो. पूरा देश अन्ना के साथ हे. अन्ना आज एक नाम नही एक क्रांति हे एक आंदोलन हे और हम सभी चाहते हे की ये देश रिश्वत खोरो स... Read more
clicks 127 View   Vote 0 Like   8:08pm 16 Aug 2011 #
Blogger: monika bhatt
हर साल की तरह इस बार भी जब भाई ने मुझसे पूछा की दीदी तुम्हे राखी पर क्या चाहिए तो आँखे ये सोच कर नम हो आई की मे कितनी खुशकिसमत हू जो मुझे एक समझदार और ज़िम्मेदार भाई मिला हे जो मुझसे उम्र मे बहुत छोटा हे लेकिन अपनी दीदी की हर छोटी बड़ी बातो का ख़याल रखता हे और मान भी देता हे. ... Read more
clicks 155 View   Vote 0 Like   1:42pm 20 Jul 2011 #
Blogger: monika bhatt
अब ये नही होगा.......... कल मुझसे मेरे छोटे भाई ने कहा की दीदी अब तुझसे ये कोई नही कभी कहेगा की आज स्कूल क्यो नही आई या क्या तुम आज स्कूल आओगी? बात बिल्कुल साधारण सी थी पर मे सारा दिन सोचती रही की ये बात कितनी सच हे . बचपन के साथ साथ ये सारे पल भी तो बीत गये जब सारी सहेलिया साथ स्कूल ... Read more
clicks 153 View   Vote 0 Like   8:52pm 2 Jul 2011 #
Blogger: monika bhatt
हाल ही मे जब मे अपने मायके से कोलकाता वापिस आ रही थी तब ट्रेन मे मेरे साथ एक सभ्रान्त परिवार की बुजुर्ग महिला भी सफ़र कर रही थी. अपने पूरे सफ़र के दौरान मेने देखा की वो जब भी कोई नदी या तालाब आता तो सिक्के निकाल कर उसमे डालती थी और एक बार तो उन्होने पूरा १०० रु. का नोट बाहर ड... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   4:54am 18 Jun 2010 #
Blogger: monika bhatt
शुक्रिया मेरी नई जिंदगी मेरे जीवन मे नए रंग भरने का शुक्रिया. तुम्हारी मासूम किल्कारिया नटखट हँसी चंचल आँखे देख कर मुझे महसूस होता हे की मे अभी तक कितने बड़े सुख से वंचित थी. तुमने आकर वो कमी पूरी की. मेरे अधूरेपन को पूरा किया. और मुझे हर दिन नई सीख भी देते हो.आज महसूस होता... Read more
clicks 148 View   Vote 0 Like   9:24am 6 Jun 2010 #
Blogger: monika bhatt
काली ऐ काली चिल्लाते बच्चे पीछे दौड रहे थे और काली इतराती, बलखाती, उछलती कभी दोनों पैर से खडे होकर बच्चो को डराती इधर से उधर दौङ रही थी. हा कलकत्ता की एक तंग बस्ती मे रहने वाले उस्मान भाई की बकरी का नाम काली ही था . दस दिन पहले ही उस्मान भाई बाजार से इसे खरीद कर लाये थे. बकरी ... Read more
clicks 120 View   Vote 0 Like   3:51am 25 Jun 2009 #
Blogger: monika bhatt
प्यार का इजहार करने के लिये क्या कोई दिन निश्चित होता हैं यह तो कभी भी किया जा सकता हैं हाँ एक बहाना जरूर मिल जाता हैं रिश्तों को फिर से नवीन करने के लिए. प्यार शब्द में सारी दुनिया समाई हुई हैं.एक मीठा एहसास जो जीवन में ताजगी भर देता हैं. प्यार आदमी को बहुत कुछ सिखाता हैं. ... Read more
clicks 129 View   Vote 0 Like   6:33pm 13 Feb 2009 #
Blogger: monika bhatt
जब मैं छोटी थी तब तुम मुझे खोज लिया करती थी छुप जाने पर और अपनी गोद में बिठाकर ढेर सारे किस्से कहानियाँ सुनाती थी. बाबूजी जब गुस्सा होते तो तुम झट बच्चों की तरफदारी करती चाहें बाबूजी लाख नाराज हों. पास पड़ोस की तुम अकेली ही वैद्य थी तुम्हारे पास हर बीमारी के लिए एक राम बा... Read more
clicks 141 View   Vote 0 Like   5:45am 20 Jan 2009 #
Blogger: monika bhatt
असंतुष्ट हूँ, चिंतित हूँ, परेशान हूँ, कश्मकश में हूँ. बहुत दिनों से लिखने का प्रयास कर रही हूँ मगर जब भी कलम हाथ में लेती हूँ विचार आता है कि क्या मेरी कलम अपना उद्देश्य निभा रही हैं? क्या मेरी आवाज वहा पहुँच रही है जहाँ में पहुँचाना चाहती हूँ. बम ब्लास्ट हों रहे हैं.देश मे... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   7:36pm 9 Jan 2009 #
Blogger: monika bhatt
मुंबई पर हुए आतंकी हमले पर बहुत लिखा जा चुका बहुत सुन लिया और बहुत कह भी लिया मगर जिनकी जान गई जो शहीद हुए उनके लिए कितनों ने बात की हैं..? मीडिया हर पल का सीधा प्रसारण दिखा कर अपने चैनल को तेज सबसे तेज घोषित करने की होड़ में लगा हुआ हैं. राजनीतिक दल हमारे तथाकथित नेता इस सम... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   7:32pm 28 Nov 2008 #
Blogger: monika bhatt
आज फिर कोई वैदेही को देखने आ रहा था. पूरे घर में साज सजावट और मेहमानों के स्वागत की तैयारियाँ हों रही थी. माँ वैदेही को हर बार की तरह शिक्षा दे रहीं थी __ देख बेटी ये रिश्ता बहुत अच्छे घर से आया हैं इस बार तू कोई नया ड्रामा या हंगामा खड़ा मत करना और वैदेही आशंका और डर से मन ही ... Read more
clicks 156 View   Vote 0 Like   10:46pm 23 Nov 2008 #
Blogger: monika bhatt
जब भी आकाश में पंछी को देखती हूँ बहुत आनंद मिलता हैं उसकी उड़ान देख कर.खुले मैदान में गाय, बकरी बछड़े जब स्वतंत्रता से विचरते हैं तो खुशी होतीं हैं लगता हैं कि ये जीव हम इंसानो से तो बेहतर हैं प्रकृति के नियमों का पालन करते हैं किसी को बिना वजह तकलीफ नहीं देते. और हम जानवर... Read more
clicks 182 View   Vote 0 Like   8:02am 12 Nov 2008 #
Blogger: monika bhatt
हर वर्ष दीपावली आती हैं और लाखों करोड़ों रुपए पटाखे बन धुएँ में बदल जाते हैं. हर वर्ष यहीं प्रश्न मन में उठता हैं कि क्या यहीं सही तरीका हैं त्योहार मनाने का..?देश में जहाँ आर्थिक रूप से संपन्न लोग हैं वहीं एक वो तबका भी हैं जिसे दो वक्त की रोटी नसीब नही होतीं. कई बच्चे आज भ... Read more
clicks 150 View   Vote 0 Like   12:25pm 30 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
बचपन से बेटी अपने पापा के बहुत नजदीक होती है. पापा के दिल का टुकड़ा. जरा सी खरोंच भी आ जाएँ तो पापा अपनी बिटिया की तकलीफ दूर करने को तत्पर रहते है. मै भी वैसे ही अपने पापा के बहुत नजदीक हूँ. मेरे पापा मेरे आदर्श है. बचपन से ही मेरी दुनिया अपने पापा से शुरु होती है.मेरे हर हुनर ... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   11:05am 25 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
मै बहुत खुश थी कि इक नन्हा फरिश्ता मेरी दुनिया मे आने वाला है.उसकी कल्पनाओं से मेरे कई ख्वाब सजने लगे थे. नन्हा सा फरिश्ता जब मुझे माँ कहेगा तो मेरा रोम रोम पुलकित हो जाएगा.जब वो चलेगा तो पुरा घर खुशियों से भर जाएगा.मुझे नही पता कि तुम कैसे दिखाई देते हों.मेरे लिए तुम मेरी ... Read more
clicks 111 View   Vote 0 Like   6:47am 24 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
सामने की हवेली मे हलचल थी किसी के रोने की आवाज आ रही थी.आठ दस लोग जमा थे. मैने जिज्ञासा वश पता किया तो मालूम हुआ कि सेठ हीरालाल की बहु नही रही. घरवालों ने बताया कि उसने आत्महत्या कर ली. मुझे यकीन नही हुआ सेठ की बहू मानसी इसी शहर के शिक्षक ज्ञान प्रकाश की छोटी लड़की थी .हम उसे ब... Read more
clicks 119 View   Vote 0 Like   5:15pm 13 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
अब उनकी आँखों की रोशनी कम हो गई है. चेहरे पर झुर्रियों हो गई हैं बालों मे सफेदी ने घर कर लिया है.कमर झुक गई हैं. शरीर कमजोर हो गया है. मगर आज भी काँपते हाथों से अपने पोते- पोती की फरमाइश पर वो हर काम करती है. उन पर जान छिड़कती है. अपने पोपले मुँह से जब हँसती है तो लगता है कि सारी ... Read more
clicks 143 View   Vote 0 Like   5:13pm 13 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
अनेक प्रश्न ऐसे है जो कभी दोहराए नही जातेबहुत उत्तर भी ऐसे हैं जो कभी बतलाए नही जातेइसी कारण अभावो का सदा स्वागत किया मैंनेकि घर आए मेहमान कभी लौटाए नही जातेहुआ क्या आँख से आँसू अगर बाहर नही निकलेबहुत से गीत भी ऐसे है जो कभी गाए नही जातेबनाना चाहती हूँ स्वर्ग तक सोपान स... Read more
clicks 140 View   Vote 0 Like   5:08pm 13 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
महफिल पर छा जाने की खूबी मंच को जीत लेने की खूबी क्या आपमें है? इसके लिए आपमें मंच पर बोलने की क्षमता होना चाहिए. ज्यादातर लोग स्टेज पर बोलने से घबराते हैं. ये खूबी हर किसी मे नही होती. लेकिन यदि ये खूबी आपमें हैं तो आप पूरी महफिल मे अपना रंग जमा सकते हैं. अच्छा वक्ता बनने के... Read more
clicks 134 View   Vote 0 Like   5:02pm 13 Oct 2008 #
Blogger: monika bhatt
बुजुर्गों को चाहिए अपनापन और प्यार। उनके साथ बात करने से कतराए बल्कि उनका अकेलापन बाँटने का प्रयत्न करे। बुजुर्गो के साथ बातचीत कराने के लिए धैर्य व समय की जरूरत होती है. यहीं वे लोग है जो हमारा आधार हमारी नीव होते है. आज का युवा वर्ग बुजुर्गों का उतना सम्मान नहीं करा प... Read more
clicks 130 View   Vote 0 Like   11:34am 24 Sep 2008 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3984) कुल पोस्ट (191506)