POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: बगीची

Blogger: अविनाश वाचस्पति
वह आता दो टूक फेसबुक के करतालाइक करता, टिप्‍पणी धरतापोस्‍ट कभी न लगाताजहां फंसाता, वहीं खुद फंस जाताकहीं चेहरा सजाता सलमान काकहीं चेहरा छिपाता अपने मेहमान कावह आता दो टूक फेसबुक के करतालुक अपना लड़के से लड़की में बदलताखूब पसंद पातावाह वाह से मन भर जाताटिप्‍पणी अपने ... Read more
clicks 342 View   Vote 0 Like   2:35pm 10 May 2012 #फेकबुक
Blogger: अविनाश वाचस्पति
ओ राम मेरे कैसा गजब ये हो गया,आजकल का रंग-ढंग कैसा अजब हो गयाजो वस्त्र होता था नीचा वो ऊँचा ,और जो होना था ऊँचा वो नीचा हो गया,जब तक ''जोकी'' लिखा न दिखे,इनको आता चैन नहीं ,अगर करे कोई टोका-टोकी ये हो जाते बेचैनपूरी कविता को पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें ... Read more
clicks 300 View   Vote 0 Like   5:23am 26 Apr 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
    हमारे समाज में अपराधों की फेहरिस्त लगातार लंबी हो रही है.अगर हम इस का कारण जानने की कोशिश  करेंगे तो आम तौर पर  बेरोजगारी,अशिक्षा , गरीबी,पिछड़ापन इस के मुख्य कारण नज़र आते हैं.परन्तु आज के समय में इन कारणों से हटकर भी कुछ अन्य कारण है जिसने हमारे समाज कि नीव को हिला द... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   8:14am 22 Apr 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
 पवन कुमार जी ऑडिटोरियम के मुख्य दरवाजे पर पहुंचे ही थे कि दरवाजा बंद कर दिया गया. काफी देर दरवाजा खटखटाया तो चौकीदार बाहर निकला व बोला, "साब ऑडिटोरियम में घुसने का समय समाप्त हो गया है और वैसे भी अंदर बहुत भीड़ है. आप वापस ही लौट जायें." पवन कुमार जी चौकीदार को सुनते हु... Read more
clicks 245 View   Vote 0 Like   7:39am 21 Apr 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्यारे गूगल बाबा            सादर खोजस्ते!आपके खोजूपन को नमन करते हुए पत्र प्रारंभ करता हूँ. वैसे आपके मन में यह उधेड़बुन चल रही होगी कि मैं तो आपसे रोज ही तो मिलता हूँ फिर भला यह पत्र लिखने की जरूरत कैसे पड़ गई. तो आपको साफ-साफ बताना चाहता हूँ, कि जब भी आपसे मुलाकात होती है तो ... Read more
clicks 269 View   Vote 0 Like   6:03am 17 Apr 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्यारी होली सादर रंगस्ते!     उस दिन ड्यूटी समाप्त कर घर वापस लौट रहा था कि अचानक पीठ पर पानी का गुब्बारा किसी ने दे मारा. पीछे मुड़कर देखा तो एक छोटा बच्चा मनमोहक मुस्कान के साथ तोतली आवाज में बोला, “ओली है”. तब जाना कि आपका आगमन होने वाला है. नौकरी की व्यस्तता इतनी अधिक ह... Read more
clicks 244 View   Vote 0 Like   12:12pm 8 Mar 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
     शोभना वेलफेयर सोसाइटी रजि. ने 4 मार्च 2012 शोभना वेलफेयर सोसाइटी रजि. ने 4 मार्च 2012 को होली के आगमन के उपलक्ष में ईस्ट ऑफ कैलाश (निकट इस्कॉन मंदिर) में एक काव्य गोष्ठी का आयोजन किया.श्री नंद कुमार सब्बरबाल, श्री विनोद पाराशर, श्री राजेन्द्र कलकल, श्री बी.के.सिंह व श्री ... Read more
clicks 272 View   Vote 0 Like   5:20am 6 Mar 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     साथियों अपना जीवन छोटा सा है तो इस छोटे से जीवन को हँसते-मुस्कुराते गुजारा जाए तो कितना अच्छा रहे। अपनी पंक्तियों द्वारा कहूँ तो-जीवन में दुःख है बहुतक्यों न ऐसा करेंहँस-हँस जिएँमुस्कुरा के मरें...सुख-दुःख तो जीवन में आते और जाते रहते है... Read more
clicks 297 View   Vote 0 Like   6:09am 5 Mar 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     जब कभी एकांत में फुरसत में बैठता हूँ तो बचपन के सुहाने पल याद आ जाते है. वो मस्ती वो अपने नन्हे-मुन्हें दोस्तो के साथ की गई धमा-चौकड़ी भूले नहीं भूलती. आज के स्वार्थी संसार को देखकर मन करता है कि काश फिर से उसी बाल संसार में वापस गुलाटी मारक... Read more
clicks 327 View   Vote 0 Like   5:25am 3 Mar 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
          मित्रो आपके सुमित प्रताप सिंह को लाल कला, सांस्कृतिक चेतना मंच (रजिस्टर्ड), दिल्ली  ने 26 फरवरी, 2012 को आयोजित रंग अबीर उत्सव-2012 में “व्यंग्य सम्राट” नामक सम्मान से सम्मानित किया गया. इस कार्यक्रम का आयोजन अल्फा शैक्षणिक संस्थान के प्रांगण में वरिष्ठ समाजसेवी श्र... Read more
clicks 246 View   Vote 0 Like   7:31am 2 Mar 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
     प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     कल रात भारतेन्दु हरिशचंद जी सपने में आये. बहुत खुश लग रहे थे. मैंने उनसे उनकी खुशी का कारण पूछा  तो उन्होंने बताया कि हिन्दी माँ के बढते गौरव व प्रचार-प्रसार को देखकर उनका मन मयूर बनकर झूम रहा है. उन्होंने हम सभी हिन्दी चिट्ठाकारों को ... Read more
clicks 268 View   Vote 0 Like   5:26am 25 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
     लंच की घंटी बजी,   रमा ने सुरभि  से पूछा आज टिफिन में क्या लाई है? सुरभि ने मुँह बनाकर कहा,"क्या होगा टिफिन में,वही रोज की तरह मम्मी ने घास-फूस रखा होगा. यार ऐसा खाना खाते-खाते मेरी तो भूख ही मर गई है, पता नहीं लोग इसे खा कैसे लेते हैं? चल हम दोनों कैंटीन में जाकर कुछ खात... Read more
clicks 267 View   Vote 0 Like   4:03pm 23 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     दोस्तो लंदन शहर कितना खूबसूरत  है. यहाँ की हर इमारत,हर गली,हर दुकान अद्भुत छटा लिए हुए है. टावर ब्रिज, वेस्टमिंस्टर महल, ब्रिटिश संग्रहालय व रोयल अलबर्ट हॉल इत्यादि देखने में कितने अद्भुत लगते हैं. हो भी क्यों न अंग्रेजी साम्राज्य ने पूर... Read more
clicks 270 View   Vote 0 Like   5:13am 22 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     दोस्तो आज आपको ले चलता हूँ हिमाचल प्रदेश के मनमोहक स्थान मंडी शहर में| मंडी को प्राचीन काल में मांडव नगर तथा सहोर के नाम से जाना जाता था| मंडी हिमाचल प्रदेश का एक मुख्य शहर है| यह  हिमाचल  प्रदेश की राजधानी शिमला से 143 किलोमीटर उत्तर की ओर ... Read more
clicks 258 View   Vote 0 Like   4:33am 17 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     दोस्तो कभी आपने सोचा है कि पहले चिट्टी किसने लिखी होगी? अगर पता चल जाए तो मुझे भी बताना |  अभी हाल के कुछ सालों तक चिट्ठी एक-दूसरे के विचारों के आदान-प्रदान का प्रमुख स्रोत थी | प्रेमी-प्रेमिकाओं के जीवन का तो यह एक अभिन्न भाग थी और उन्होंन... Read more
clicks 251 View   Vote 0 Like   5:58am 13 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     दोस्तो सिकंदर के आक्रमण के बाद भारत का यूनान से संपर्क बढ़ा. भारतीयों ने यूनानियों को बहुत कुछ सिखाया, तो उनसे भी बहुत कुछ सीखा. ज्योतिष विद्या यूनानियों ने ही भारतीय को सिखाई. मजे की बात है कि यूनानी ज्योतिषी बिना नहाये ही सबका भाग्य बता... Read more
clicks 250 View   Vote 0 Like   5:45am 10 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     दोस्तों आप भी कभी न कभी गप्प तो मारते ही होंगे. गप्प मारने का भी एक अलग ही आनंद है. हालाँकि पुरुष जगत इस मामले में महिला जगत से पीछे है, किन्तु इस विधा में कुछ ज्ञानी पुरुषों के प्रवेश से हम शीघ्र ही महिला जगत को पछाड़ देंगे. आइए आज आपसे मिलव... Read more
clicks 287 View   Vote 0 Like   5:47am 7 Feb 2012 #
Blogger: अविनाश वाचस्पति
चुनाव का मौसम इस बार बासंती है। बसंत के पीले फूलों की छटा में करेंसी नोटों की नीली, लाल आभा अपने संपूर्ण यौवन पर है।  वोटर दिखाई दे जाए, नहीं भी दिखलाई दे, तब भी वोटोच्‍छुक वोटर को अंधेरे में भी तलाश लेते हैं। वोटर भी हरे, लाल, नीले करेंसी नोटों की कालिमा से खिंचे चले आते है... Read more
clicks 347 View   Vote 0 Like   12:02am 31 Jan 2012 #बासंती मौसम
Blogger: अविनाश वाचस्पति
प्रिय मित्रोसादर ब्लॉगस्ते!     15 अगस्त, 1947 में भारत स्वतंत्र हुआ. हाँ यदि  नेहरु जी को अपने सुप्रसिद्ध भाषण ''ट्राइस्ट विद डेस्टिनी'' देने की लालसा न होती तो भारत 14 अगस्त, 1947 को ही स्वतंत्र हो जाता। अन्य देशों की भांति भारत ने भी लोकतंत्र की परम्परा को अपनाया। 2 वर्ष... Read more
clicks 259 View   Vote 0 Like   5:38am 26 Jan 2012 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3982) कुल पोस्ट (191439)