POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: उन्मेष …

Blogger: Aryaman Chetas Pandey
सभी को जन्माष्टमी की मङ्गलकामनाओं सहित जगन्नाथस्तुति का एक विनीत प्रयास ... ଜୟ ଜଗନ୍ନାଥ 🙂🙏🏻॥श्रीजगन्नाथाष्टकम्॥संस्कृतम् | शिखरिणीछन्दःअनुक्तो वोक्तो वा सकलसुखकारी सुरपतिःनिराकारो मूलो विमलजलवृत्ताय त्रिगुणः।कलिङ्गे नीलाद्रौ जलधितटपुर्याम्बुजवरोजगन्नाथ... Read more
clicks 36 View   Vote 0 Like   5:12am 11 Aug 2020 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
श्रीरामाष्टकम्संस्कृतम् | मालिनीछन्दःकरधृतशरचापं मानवानामतुल्यंहरणसकलपापं नीलकान्तिं सुवेशम्।जनकसुतनयायाः हृत्तले शोभमानंसुरनरभजनीयं रामचन्द्रं नमामि॥१॥अमलकमलनेत्रं दण्डकारण्यपुण्यंदशरथगृहसौख्यं वानराधीशमित्रम्।सगुणमवनिपालं वेदविज्ञानमूलंजनमण... Read more
clicks 57 View   Vote 0 Like   1:38pm 3 Aug 2020 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
काश्मीरी पण्डितों के पलायन की तीसवीं बरसी पर ...बीतेजो बरस तीस वो लाने को चलो तुमआईन के असबाब बचाने को चलो तुमतस्कीन-भरी म&#... Read more
clicks 63 View   Vote 0 Like   6:08pm 19 Jan 2020 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
वो पैरहन बदलकर पैकर बदल रहे हैंरातें बदल रही हैं, बिस्तर बदल रहे हैंअरसे के'बाद घर पे मेहमान आ रहे हैंतकिये बदल रहे हम चाद&#... Read more
clicks 66 View   Vote 0 Like   2:12pm 5 Nov 2019 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
आज मैं भोर से बैठा हूँ। आँख खुलने के साथ ही आज एक अजीब सी बेचैनी थी। सामने के नीम पर बैठी गौरैया की अठखेलियाँ भी आज रिझा न सक... Read more
clicks 52 View   Vote 0 Like   6:01am 5 Nov 2019 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
*॥ अथ श्रीमेडेश्वरीचालीसास्तुतिः ॥*दोहा:नेति नेति कहि बेद भी जिसे न पावैं खोज।हौं उसकी महिमा कहौं जीवनभर हर रोज॥१॥पदप&... Read more
clicks 62 View   Vote 0 Like   6:08am 31 Oct 2019 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
यह गीत पाँच साल पहले तब की राजनीति से व्यथित हो लिखा था। आज अपनी ही पीढ़ी को स्वभाषाओं से दूर होते देखने के सन्दर्भ में याद &... Read more
clicks 266 View   Vote 0 Like   5:43pm 7 Jan 2018 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
एक विपर्यय सा जीवन-क्रम! क्या होगा - जड़ या चेतन?जैसा इसको मान चलें हम वैसा इसको गढ़ता मनअपनी-अपनी धुन को गुनते धुन में रमना भू... Read more
clicks 172 View   Vote 0 Like   5:28pm 6 May 2017 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
ज़हन-ज़हन में चमकने वाली ज़हीनतर कहकशाँ मुबारक अपनी-अपनी तरह से सबको अपना-अपना नशा मुबारककहा इशारों में पत्थरों ने हुए मुख़... Read more
clicks 158 View   Vote 0 Like   3:34am 30 Apr 2017 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
शबनमी पात सा, सुरमई रात सातेरा आना हुआ अनकही बात सासंदलों में महकती हुई ख़ुशबुएँ तेरे आने से मुझको भी महका गयींजो हवाएँ फ़... Read more
clicks 160 View   Vote 0 Like   3:32am 30 Apr 2017 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
वो बहाने पुराने पुराने हुएआपके साथ बैठे ज़माने हुएआपका भी बड़प्पन उधर कुछ बढ़ाऔर हम भी इधर कुछ सयाने हुएएक वो रात थी, एक ये र&#... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   3:22am 30 Apr 2017 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
मरहले क्या मंजिलें क्या राहगीरी जानिये! आइये, संग बैठिये, मिलकर फ़कीरी छानिये इश्क़ बिकता है सरे बाज़ार बोली लग रही कौन है फ़रहाद किसको आज शीरीं जानिये! इन हवा-ओ-आब में ही तैरते हैं दो जहाँ इक ग़रीबी देखिये, दूजा अमीरी जानियेरंग है, बू है यहाँ, लेकिन बड़ी है बेहिसी अक्स अपना देख... Read more
clicks 146 View   Vote 0 Like   6:53am 14 Feb 2016 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
तेरी दुनिया का हर दस्तूर हो जाऊँमैं तेरी माँग का सिन्दूर हो जाऊँमेरी आँखें रही हैं मुन्तज़िर कब सेतेरी आँखों का कब मैं नí... Read more
clicks 206 View   Vote 0 Like   2:42am 30 May 2015 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
बहता सरल समीर तुम्हारी आँखों मेंबनती एक नज़ीर तुम्हारी आँखों मेंधीरे-धीरे ज्यों-ज्यों खुलती जाती हैंसुबह की किरणों सी &... Read more
clicks 236 View   Vote 0 Like   7:10am 27 May 2015 #प्रेम
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
बिहार के जनता परिवार महाठगबन्धन के ताज़ा राजनैतिक हालात पर कुछ लिखा गया...क्या पुराना क्या नवेला देखियेनीम पर चढ़ता करेला... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   2:40pm 22 May 2015 #जनता
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
कई दिनों बाद आज बैठे-बैठे ग़ज़ल हो गयी...अरसे बाद वियोग शृंगार लिखा गया..देखें ... :)"कच्ची दुपहरियों में जामुन के नीचे वह बाट जोहत&... Read more
clicks 252 View   Vote 0 Like   10:39am 18 May 2015 #वियोग
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
लो यह आया मधुमास प्रिये!कुछ मैं बोलूँ, कुछ तुम बोलोवनचारिणि हरिणी के जैसेसुन्दर नयनों के पट खोलोबस, आज ज़रा जी भर करकेकुछ मैं देखूँ, कुछ तुम देखोप्रिये! गुलाबी पंखुडियोंजैसे होठों से कुछ बोलोअब तलक तुम्हारी कोकिल-सीबोली को मैं न सुन पायाशब्दों के प्यासे कानों मेंथोड... Read more
clicks 249 View   Vote 0 Like   5:27pm 17 Feb 2015 #प्रणय
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
ग़रीबों की जो बस्ती है, उसी में, हाँ, उसी में हीज़माना पोंछता है आस्तीनें, हाँ, उसी में हीसितमगर को सितम ढाने में कुछ ऐसा मज़ा आयाकि आकर फिर खड़ा मेरी गली में, हाँ, उसी में हीहै कुदरत की अजब नेमत, लुटाने से ही बढ़ती हैकि सब दौलत छिपी है इक हँसी में, हाँ, उसी में हीवो है अच्छी मगर डर ह... Read more
clicks 226 View   Vote 0 Like   12:36am 22 Aug 2014 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
ये जो  भी चंद  शेर लिखे गए हैं, इनमें शायद साहित्य जैसा कुछ नहीं हो...मगर सच्चाई पूरी है..कथ्य को पूरी शिद्दत से जिया है, जाना है, महसूस किया है... मेरे ज़हन में उतर कर पढ़ियेगा तो शायद आप ख़ुद भी कुछ पुरानी यादों में गोते लगा आइयेगा... :)  रिश्तों में सुबह की हवा सी ताज़गी रहीये ... Read more
clicks 193 View   Vote 0 Like   11:18am 3 Aug 2014 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
सबको ही मुहब्बत ने तो मजबूर किया हैतुझको न किया हो, मुझे ज़रूर किया हैउस शाम को दिखी तेरी पहली ही झलक नेआँखों को मेरी तब से पुरसुरूर किया हैअपलक निहारता हूँ मैं लेटा हुआ छत कोइस काम ने मुझको बड़ा मसरूफ़ किया हैसब यार मेरे रश्क भी करने लगे हैं अबअपनी पसंद ने मुझे मगरूर किया ह... Read more
clicks 218 View   Vote 0 Like   2:29am 2 Aug 2014 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
दिन भर मन-ही-मन क्या-कुछ गुनती रहती हैमाँ बैठे-बैठे रिश्ते बुनती रहती हैनज़रों को दौड़ा लेती है हर कोने मेंमाँ घर की सब दीवारें रँगती रहती हैजो भी हो थाह समन्दर की, उससे ज़्यादामाँ गहरी, गहरी, गहरी, गहरी रहती हैधीरे-धीरे जैसे-जैसे मैं बढ़ता हूँमाँ वैसे-वैसे ऊँची उठती रहती हैघ... Read more
clicks 210 View   Vote 0 Like   10:53pm 30 Jul 2014 #बचपन
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
सुनने के, सुनाने के लिए कुछ भी न रहाअब तुमको मनाने के लिए कुछ भी न रहायादों को तेरी, आँख से मैंने सुखा दियापलकों को भिगाने क... Read more
clicks 261 View   Vote 0 Like   7:29am 12 Jul 2014 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
अच्छी अंग्रेज़ी में लिखने पर लोग आपकी भाषा की तारीफ़ करते हैं, अच्छी हिन्दी में लिखने पर वही लोग कहते हैं कि लिखा तो अच्छा है लेकिन भाषा क्लिष्ट है। अपने अज्ञान का ठीकरा भाषा की शब्द-सम्पदा पर फोड़ने वालों को मुँह लगाने में कोई सार नहीं है। ऐसों से प्रभावित होकर अपना स्वाध... Read more
clicks 242 View   Vote 0 Like   3:52pm 1 Jul 2014 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
मैं लिखता हूँया लिख देता हूँया कि कागज़ पर स्याही से यूँ ही कुछ बना देता हूँपता नहीं..लेकिन ज़रूरी नहीं कि जो कुछ लिखा गयावो मेरे साथ घटा भी होदेखता-सुनता हूँ मैंअपने आस-पासचीज़ों को, लोगों कोकभी नहीं भी देखता,नहीं भी सुनता केवल सोच भर लेता हूँलेकिन हाँ,इतना पक्का हैकि काग... Read more
clicks 233 View   Vote 0 Like   4:23pm 14 May 2014 #
Blogger: Aryaman Chetas Pandey
कलम लिखती हैसब कुछजो उससे लिखवाया जायेजैसे उसे घुमाया जायेकभी सच,तो कभी बस कल्पनाकभी कुछ कम,कभी कुछ ज़्यादा भीहाँ,सुख-दुःख भी..सुख सुन्दर होते हैंअज़ीज़ होते हैंअपने भी हो सकते हैंकिसी और के भीपढ़े जाते हैंकिसी और के हों तो जल्दी भुला दिए जाते हैंअपने हों तो ख़ुशी एक और बार ... Read more
clicks 246 View   Vote 0 Like   1:01pm 13 May 2014 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (4019) कुल पोस्ट (193753)