Hamarivani.com

Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن

हज के नाम पर मुसलमानों से लिया जाता दोगुना पैसा सैयद शहरोज़ क़मर की क़लम सेगैर-इस्लामिक बताते हुए हज सब्सिडी को समाप्त करने का निर्देश सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को 8 मई 2012 को दिया था। लेकिन तीन साल के बाद भी ऐसा नहीं हो सका। अब यह मांग झारखंड में बुलंद हो रही है। रांची ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :भास्कर
  September 16, 2015, 10:33 pm
अभावों में गुजरा बचपन, मैट्रिक से आगे न पढ़ सकीं पर दूसरों को शिक्षा व हुनर का पढ़ा रहीं पाठ सैयद शहरोज़ क़मर की क़लम सेसंघर्ष के बल शिखर तक पहुंचने की आपने कई कहानी पढ़ी होगी। लेकिन अभावों से लड़कर दूसरों को आत्मनिर्भर बनाने की मिसाल निसंदेह कम मिलती है। बात आनंदपुर, रां...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :आरोही
  September 6, 2015, 12:58 pm
घूम-घूम दुख-दर्दबटोर उसका कर रहीं समाधान सैयद शहरोज़ क़मरकी क़लम सेअकबर इलाहाबादी ने कहा था, खीचो न तीर कमानों से, न तलवार निकालो / दुश्मन हो मुकाबिल तो अखबार निकालो। लेकिन निर्मला, प्रियशीला, अमिता, शांति, हलीमा, ज्योति, शिखा और बसंती जैसी लड़कियों के पास इतने संसाधन न थे क...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :इंडिया अनहर्ड
  September 5, 2015, 7:45 pm
अमृता प्रीतम की जयंती 31 अगस्त पर ख़ास संस्मरणवर्षा गोरछिया 'सत्या'की क़लम सेउन्होंनेहमेंकलचारबजेबुलायाहै, मैंनेउससेकहा. मैंइतनीखुशऔरउत्साहितथीकिआगेकुछभीबोलनामुझसेनहींहोपारहाथा. फिरमैंनेअपनेसाँसोंपरनियंत्रणरखकरकहा- इमरोज़जीने. इससेपहलेहुआयेथाकिअमृताप्री...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :इमरोज़
  August 31, 2015, 10:35 pm
इधर की टोपी उधर गईउमाशंकर सिंहकी क़लम से दिल्ली में हजारों सड़कें हैं। सैकड़ों फ्लाईओवर हैं। रोज नई सड़कों-फ्लाईओवरों का निर्माण होता ही रहता है। ऐसे में ऐसी क्या मजबूरी थी कि औरंगज़ेब रोड का नाम बदलकर आपको माननीय भूतपूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम रोड करना पड़ा?? आप इस...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :आरएसएस
  August 31, 2015, 8:12 pm
रक्त रंजित गोधरा, रस रूप मंथन करे शव की उड़ती धूल, शिव का महिमा मंडन करे गुंजेशकी क़लम से ठीक है, मेरी गणित कमज़ोर है। लेकिन फिर भी मैं समझना चाहता हूँ कि जब किसी हिन्दू घर में कोई मुसलमान बच्चा पैदा नहीं हो सकता तो फिर, मुसलमानों की आबादी बढ़ी कैसे, और कैसे हिंदुओं की घटी। 2001 मे...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :गुंजेश
  August 29, 2015, 8:15 pm
कौन कितना जानना आसान नहीं इतना फ़राह शकेब की क़लम सेसंघ परिवार अपने निर्धारित विध्वंसक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए झूठ, फरेब, धोखा, मक्कारी, हिंसा, द्वेष और गोयबल्स के फ़र्ज़ी प्रचार तन्त्र पर आधारित हथकण्डे किस शातिराना ढंग से अम्ल में लाता है। इस पर संघ के नब्बे साला अती...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :जनगणना 2011
  August 27, 2015, 8:49 pm
 फोटो: माणिक बोसआजादी की 68 वीं वर्षगांठ तीन शहीदों के गांव बदहालसैयद शहरोज़ क़मर की क़लम सेरांची के ओरमांझी प्रखंड से हुंड्रु फॉल जाने वाली सड़क भले चमचम हो, लेकिन कुटे बाजार से जब दायीं ओर सर्पीला रास्ता मुड़ता है, तो आदर्श गांव की कलई खुल जाती है। इसका भी पता चलता है कि ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :शहरोज़
  August 16, 2015, 10:22 pm
सैयद शहरोज़ क़मर की क़लम सेफोटो: रमीज़शोक के समुंदर में डूबे मरईटोला की एकांत कथामांडर थाना से चंद क़दम पर वो कच्ची सड़क उस गांव का पता देती है, जिसकी दर्द भरी कहानी बहुत पुख्ता है। कंजिया के फैले हरे-भरे खेतों में काम करती महिलाएं रविवार को बिना गीता गाए रोपनी कर रही थीं। शोक...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :डायन बिसाहू
  August 10, 2015, 5:27 pm
फोटो: रमीज़पहले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर राजधानी में जुटे छह हजार लोगसैयद शहरोज़ क़मरकी क़लम सेआसमान में बादलों की अठखेलियां। इधर, मोरहाबादी मैदान पहुंचती स्कूली बच्चों की टोलियां चुहल करते हुए। लेकिन जब बच्चे योग स्थल पहुंचे, तो वातावरण ने उनके चित्त को स्थिरता दी। व...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :झारखंड
  June 28, 2015, 10:38 pm
फोटो : माणिक बोसजनता दरबार में झारखंड सीएम आवास पहुंचे करीब पांच सौ लोगउन्हें आश्वासन कम, डांट मिली अधिक   सैयद शहरोज कमरकी क़लम से सीएम रघुवर हैं, दर्द को समझेंगे, इस आस में शनिवार को करीब पांच सौ लोग मुख्यमंत्री के जनता दरबार में पहुंचे थे। दरअसल सूबे में मुख्यमंत्री ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :जलते सवाल
  June 28, 2015, 10:18 pm
होते, तो 82 साल के होते सुनील यादव की क़लम से ‘शानी’ भाईजानआज आप होते, तो 82 साल के होते। 16 मई, 1933 को जगदलपुर में आपका जन्म हुआ था। देश के सबसे बड़े जिले बस्तर, जो तब एक रियासत हुआ करता था। और जगदलपुर उसकी राजधानी। अत्यंत पिछड़ा हुआ, रायपुर से लगभग तीन सौ किलोमीटर दूर। यातायात के...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :जलते सवाल
  May 17, 2015, 7:09 pm
फ़राह शकेब की क़लम सेविकरालरूपधारणकरसमस्तविश्वकेलिएआतंकवादनिश्चितही चुनौतीबनचुकाहै। देश,समुदाय,जाति,धर्मइत्यादिसेहटकरइसकीनिंदाकीजानीचाहिए।यह इस्लाम के नाम पर हो या हिंदुत्व के नाम पर। जिहाद हो या क्रूसेड। इसका समूल नष्ट होना जरूरी है। लेकिनआतंकवादकेनामपरए...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :आतंकवाद
  May 14, 2015, 7:48 pm
दो अदालती फ़ैसले और कुछ शंकाएं भवप्रीतानंदकी क़लम सेजेल में बैठे संजय दत्त सोच रहे होंगे कि वह चूक गए। जयललिता और सलमान खान के मामले में हाईकोर्ट ने दशकों पुराने मामले में जैसी जल्दबाजी दिखाई, वैसी परिस्थितयों को पैदा करने में शायद संजय दत्त के वकीलों से चूक हो गई। वह ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :जयललिता
  May 13, 2015, 11:14 pm
चित भी उनका, पट भी उनकीपंकज सावकी क़लम से आगरा में हुई कथित 'घर वापसी'की खबर मीडिया के लिए भले बासी हो चुकी है। लेकिन उसके अर्थ व भाव भारतीय लोक चेतना को रह-रहकर उद्वेलित करते रहेंगे। क्योंकि इस घटना को स्वाभाविक मान लेना बौद्धिक भोलेपन के सिवा कुछ नहीं है। कुछ घटनाओं की क...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :जलते सवाल
  May 12, 2015, 11:12 pm
नई पौध के तहत 9 रचनाएंआदित्यभूषणमिश्र की क़लम सेकविताआदततेरेप्रोफाइलपरमैंरोज़जाताहूँकईदफ़ेयेआदतहैऔरयेसोचताहूँकुछतोहोगाजोबताएगामुझेकिहाँमुझेसोचागयाहैजैसेवोसखियाँबतातीथींतुम्हारीजबनहींथाफोन, इन्टरनेटयाकोईप्यारकामैसेजमेरेइनबॉक्समेंहोगाकिजैसेख़तकबू...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :कविता
  May 12, 2015, 10:13 pm
लंबी कहानी का पहला भागधीरेन्द्र सिंह की क़लम से  एक रुकी हुई, लम्बी, चट्टानी, पतली पहाड़ी पर जिसकी टांगों के पंजों के नाखून, दूर तक फैली तवारीख़ की एक लाफ़ानी नदी में डूबे रहते.नदी- जिसने बेशुमार बदबुओं को धोते वक़्त अपने नथुने सिकोड़े होंगे, जिसने बेशुमार नंगे बदनों क...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :उपन्यास
  May 11, 2015, 7:07 pm
त्रिपुरारीशरण श्रीवास्तव व्यंग्यश्रीकिरण तिवारी विद्याभारती वामा सम्मान से सम्मानितआजादी के बाद के समय को जानने के लिए हरिशंकर परसाई से लेकर मौजूदा व्यंग्य लेखकों को पढ़ना चाहिए। तब जिस महान भारत की कल्पना महात्मा गांधी ने की थी, आज देश पतन की ओर है। बाजारवाद का ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :डॉ. कृष्णकुमार प्रजापति
  May 10, 2015, 6:04 pm
वसीम अकरम त्यागीकी क़लम से रिश्तों पर भारी पड़ते बाजार ने हमें एक और झुनझुना थमा दिया है, मां दिवस। पैदा होने से लेकर मरने तक के हर एक रिश्ते को हम लोग बाजार में बदलते जा रहे हैं। फेसबुक पर अधिकतर दीवारें मां की ममता पर इन दिनों समर्पित हैं। मगर क्या मां के लिए कोई दिन मुक...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :नारी-विमर्श
  May 10, 2015, 12:45 am
असमय कैसे मर गया केस का प्रमुख गवाह रवींद्र पाटिल संजीव खुदशाह की क़लम सेपिछले दिनों सलमान खान के हिट एड रन केस का निर्णय आने के बाद, सलमान की चर्चा चारों ओर होने लगी। लेकिन इन चर्चाओं में उनकी आवाज़ कहीं खो गई, जो इस केस में जुड़े थे और बर्बाद हो गये। अक्‍सर ऐसा होता है कि...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :दलित
  May 9, 2015, 9:06 pm
सीने में जलन आँखों में तूफान सा क्यों है ऋषभ श्रीवास्तवकी क़लम से  कुछ दिनों पहले से ही जिस्म शल (ठंडा) हो रहा था।  सिर दर्द कर रहा था. कुछ सोच नहीं पा रहा. क्या बोलूंगा उस दिन? 3-4 दिन ही तो बचे हैं! विगत 8-9 महिनों में सब तो बोल ही दिया है. बोल ही तो रहा हूँ यार. उस बन्दे की मैं ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :ऋषभ श्रीवास्तव
  November 27, 2014, 8:24 pm
 वसुधैव कुटुंबकम के सच्चे पैरोकार सैयद एस.तौहीदकी क़लम से ख्वाजा अहमद अब्बास इस सदी के मकबूल पत्रकार,कथाकार एवं फिल्मकार थे। आपको वाकिफ होगा कि अब्बास अलीगढ मुस्लिम विश्वविद्यालय से ताल्लुक रखते हैं। अलीगढ से पढकर निकलने वाले महान विद्यार्थियों में आपका एक मुका...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :ऐसे भी लोग
  November 26, 2014, 6:45 pm
दो चुनावी व्यंग्य  सैयद शहरोज़ क़मर  की क़लम से शरमा जाए गिरगिट भीहम सियासत के कभी कायल न थेतुमको देखा तो मक्कारी याद आई।चचा दुखन यूं तो शायरी करते नहीं, पर जब मेरी खटारा बाइक की मरम्मत करने के दौरान दुआ-सलाम हुई, तो उनके लब पर कमर सादीपुरी का यह शेर बेसाख्ता आ गया। हम भ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :गिरगिट
  November 14, 2014, 6:06 pm
आओ ! इस शादमाँ पल मेंचित्र: गूगल साभार क़मर सादीपुरीकी क़लम से मैं तेरे ख़्याल  के क़ाबिल न थाहमने आँखों को न चुराया थातू दिल से जुदा हरगिज़ न हुआपर मै तेरे प्यार के हामिल न था!उन तारों से बात की थी मैंनेजो तेरे आस्मां से आते थेचाँदनी को छूता था अक्सरजिसका अक्स तेरा चेहरा थाउ...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :कविता-ग़ज़ल
  November 8, 2014, 6:00 pm
आओ फिर से चिट्ठियाँ लिखें ....विजेंद्र शर्मा की क़लम से घर में कुछ मेहमान आये हुए थे उनके साथ चाय की चुस्कियों का लुत्फ़ लिया जा रहा था ! दसवीं जमात में पढ़ने वाली मेरी बेटी आयी और कहने लगी कि पापा कोई बेटियों पे शे'र लिखवा दो कल स्कूल में एक छोटा सा कार्यक्रम है मैं  सुनाऊंग...
Hamzabaan हमज़बान ھمز با ن...
Tag :दिल्ली
  November 5, 2014, 7:33 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163560)