Hamarivani.com

Sansmaran

(आजु हमर पोता दर्श के जन्मदिन छैन्ह .......हुनका चन्दा मामा वाला गीत सब बड़ पसिंद पडैत छैन्ह ................कतबो कानैत  रहैत छथि गाना सुनतहि चुप्प भs जायत छथि .ई चन्दा मामा केर गीत हुनके लेल हुनकर पहिल जन्मदिन पर।)हे चन्दा आय बिसरल किया बेर"हे चन्दा आय बिसरल ...
Sansmaran...
Tag :
  August 9, 2013, 7:13 pm
( अमेरिका प्रवास के दौरान हम एक बेर बैंक किछु काज सँ गेल रही, ओहि समय एकटा वृद्ध सज्जन हमर बगल वाला काउंटर परअपन फिक्स डिपाजिट तोराबैत छलाह । हुनका कहैत सुनलियैन्ह ई फिक्स डिपाजिट तोरा हमरा अपन कब्र के जमीन के लेल पाई जमा करबाक अछि। इ सुनि किछु काल हम क्षुब्ध&...
Sansmaran...
Tag :
  July 19, 2013, 12:23 am
ओना तs हमर स्वभाव अछि हम नहि लोक के उपदेश दैत छियैक आ नहि अपन मोनक भावना लोकक सोझां में प्रकट होमय दैत छियैक । हम सुनय सबकेर छियैक मुदा हमरा मोन में जे ठीक बुझाइत अछि ओतबा धरि करैत छियैक। एकर परिणाम इ होइत अछि जे हमरा सलाह देबय वाला केर कमी नहि छैक। सब के होइत छैन्ह जे ओ जे ...
Sansmaran...
Tag :
  July 15, 2012, 4:31 pm
"अछि दुर्दशा"कवि महान पर्व त मनेलहुं सौंसे ढिंढोरा फोटो त छल कोना में हेरायल अछि दुर्दशा पाग दुपटा नहि जानथि मोल मंच आसीन चंदा भेटल व्यवस्थापक हम त बूझत के ढर्रा बनल किया बदलि हम  अछि बहाना लाखक खर्च नहि अछि उद्देश्य होय कल्याण नेता &n...
Sansmaran...
Tag :
  April 11, 2012, 12:51 am
"अछि सन्देश"समृद्ध भाषा मैथिली मिथिलाकजायत हेरालाज होइछबाजब कोना भाषापढ़ल हमदोषारोपणनेता अभिभावकनहि कर्त्तव्यदेशक नेता  नहि जनता केरस्वार्थे डूबल करू ज्यों स्नेहमाँ आ मात्रि भाषा सँसंकल्प लियआबो तs जागूमिथिला केर लालप्रयास करूअबेर भेलतैयो विचार करू    ...
Sansmaran...
Tag :
  March 1, 2011, 7:38 pm
"अभिलाषा"अभिलाषा छलs हमर एक ,करितौंह हम धिया सँ स्नेह ।हुनक नखरा पूरा करय मे ,रहितौंह हम तत्पर सदिखन ।सोचैत छलहुँ हम दिन राति ,की परिछ्ब जमाय लगायब सचार ।धीया तs होइत छथि नैहरक श्रृंगार ,हँसैत धीया रोएत देखब हम कोना ।कोना निहारब हम सून घर ,बाट ताकब हम कोना पाबनि दिन ।सोचैत ...
Sansmaran...
Tag :
  February 21, 2011, 3:17 pm
लल्लन जी केर बीमारिक किछुए दिन बाद पता चललैक जे प्रभाकर जी (हिनक मित्र श्री पशुपति जी केर सबस छोट भाई ) जे पहिनहिं सँ बीमार छलाह केर किडनी के बीमारी छैन्ह आ हुनका डॉक्टर वेल्लोर लs जेबाक लेल कहि देने रहथिन्ह । ओ सभ जखैन्ह वेल्लोर सs अयलाह तs पता चललैक जे प्रभाकर जी केर दोसर...
Sansmaran...
Tag :
  September 15, 2010, 2:30 am
"शिष्य देखल "विद्वान छथि  ओ शिष्य कहाबथि  छथि विनम्र गुरु हुनक सौभाग्य हमर ई ओ भेंटलथिइच्छा हुनक बनल छी माध्यमतरि जायब भरोस छैन्ह छी हमर प्रयासपरिणाम की ?भाषा प्रेमक नहि उदाहरण छथि व्यक्तित्व छैन्ह उद्गारदेखल उपासक  नहि उपमा कहथि नहिवि...
Sansmaran...
Tag :
  September 6, 2010, 5:33 am
बिहारक चुनाव जँ जँ लग आयल जा रहल अछि सरगर्मी बढी रहल अछि ......कथिक सरगर्मी से तs हम आ समूचा देशक लोक बूझि रहल छथि. नेतागण आरोप प्रत्यारोप एक दोसर पर तेना लगा रहल छथि जेना आशीर्वाद  हो . लेखा जोखा भs रहल अछि मुदा अपन कार्यक नहि....दोसर नेता की नहि केलाह ताहि केर . जनता केर...
Sansmaran...
Tag :
  July 31, 2010, 10:45 am
"मैथिली हाइकु : एक प्रयास "हाइकु छैक  विधा सरल तैयोरचि ज्यों पाबि  हमरा लेल गर्वक गप्प बस हमहू  जानि नहि बुझल इ विधाक लिखबकोन आखर सलिल जीक इ मार्ग प्रदर्शन भेटल जानी मोन प्रसन्न भेटल नव विधा छी तैयो शिष्याडेग बढ़ल सोचि नहि छोरब  ज्य...
Sansmaran...
Tag :
  June 25, 2010, 1:04 am
  संस्कृत साहित्य में सहस्त्रों वर्षों पूर्व त्रिपदिक छंद रचे गए जिनमें गायत्री तथा ककुप प्रसिद्ध हैं. हाइकु मूलतः त्रिपदिक (तीन पदों अर्थात पंक्तियों का ) जापानी छंद है. जापान में इस छंद में प्राकृतिक छटा का वर्णन करने की परंपरा है किन्तु हिन्दी में हाइकु किसी वि...
Sansmaran...
Tag :
  May 23, 2010, 7:17 am
ओना तs हमर स्वभाव अछि हम नहि लोक के उपदेश दैत छियैक आ नहि अपन मोनक भावना लोकक सोझां में प्रकट होमय दैत छियैक । हम सुनय सबकेर छियैक मुदा हमरा मोन में जे ठीक बुझाइत अछि ओतबा धरि करैत छियैक। एकर परिणाम इ होइत अछि जे हमरा सलाह देबय वाला केर कमी नहि छैक। सब के होइत छैन्ह जे ओ ज...
Sansmaran...
Tag :
  May 9, 2010, 7:38 pm
"चुल बुली कन्या बनि गेलहुँ "बिसरल छलहुँ हम कतेक बरिस सँ ,अपन सभ अरमान आ सपना ।कोना लोक हँसय कोना हँसाबय ,आ कि हँसी में सामिल होमय ।आइ अकस्मात अपन बदलल ,स्वभाव देखि हम स्वयं अचंभित ।दिन भरि हम सोचिते रहि गेलहुँ ,मुदा जवाब हमरा नहि भेंटल ।एक दिन हम छलहुँ हेरायल ,ध्यान कतय छल ...
Sansmaran...
Tag :
  November 19, 2009, 5:59 pm
लल्लन जी हमरा सs किछु नहि नुकाबय छलाह आ नहि हम हुनका कोनो काज में बाधा दियैन्ह आ कि मना करियैन्ह। हुनका मोन में अपन माँ पिता जी भाई बहिन के प्रति अपार स्नेह छलैन्ह । माँ केर तs ओ परम भक्त छलाह , माँ किछु कहि देथिन्ह तs हुनकर प्रयास रहैत छलैन्ह जे ओ ओकरा अवश्य पूरा करैथ मुदा ए...
Sansmaran...
Tag :
  November 10, 2009, 12:14 pm
ओना त एकटा कहबी छैक "जाबैत साँस ताबैत धरि आस "मुदा हमरा तs पूर्ण विश्वास छल जे लल्लन जी के किछु नहि होयतैन्ह मात्र किछु दिनक ग्रहक चक्कर छैक, तथापि चिन्ता तs होइते छल । हम इ कोना कही जे चिन्ता नहि होइत छल । हमारा सब केर वेल्लोर सs अयालक किछु मास बाद दादा जी (हमर ससुर) अयलाह। एक...
Sansmaran...
Tag :
  October 22, 2009, 8:38 pm
डॉक्टर प्रसाद जाँच कयलाक बाद कहलाह एहि बेर तs WBC केर काज नहीं छैक मुदा दोसर बेर परि सकैत छैक। एक बरखक दवाई आ डॉक्टर बी. एन. झा केर नाम सs सबटा रिपोर्ट बना कs देलाह आ फेर एक साल बाद आबय लेल कहलाह । वेल्लोर आबय समय एकर एको रत्ती भान नहि छल जे एतेक गंभीर बीमारी भs सकैत छैन्ह। जाहि ...
Sansmaran...
Tag :
  September 10, 2009, 2:52 pm
हम डॉक्टर कुरियन सs भेंट करि केबिन दिस जाइत छलहुँ रास्ता में हमरा चक्कर आबि गेल आ हम एक ठाम कुर्सी पर बैसि गेलहुँ। पॉँच दस मिनट केर बाद हम केबिन पहुँचलहुँ, बाबुजी आ इ हमरा लेल चिंतित छलैथ जे हम कतs चलि गेल छलहुँ, देखैत देरी पुछलाह "कतs गेल छलहुँ "। हम कहलियैन्ह "खून देबय लेल, ...
Sansmaran...
Tag :
  August 25, 2009, 11:33 am
हमर एकटा स्वभाव अछि, जे आई धरि हम नहि बदलि सकलियैक अछि, आ आब शायद बदलि नहि सकैत छियैक। हमरा मोन में खराप बात बहुत जल्दी आबि जायत अछि। पचास तरहक आशंका तुंरत आबि जायत अछि। हम कतबो कोशिस करैत छियैक जे मोन सs निकालि दियैक मुदा कियैक ओ निकलत। चाहे कियो घर सs बाहर गेल होयथ आ समय ...
Sansmaran...
Tag :
  August 24, 2009, 10:35 am
ओना तs जमशेदपुर में १९८१ सs श्री लल्लन प्रसाद ठाकुर केर नाटक आ सांस्कृतिक गतिविधि शुरू भs गेल छलैन्ह मुदा मैथिली केर सेवा आ हुनका अपना संतुष्टि भेंटलैन्ह१९८३में, जहिया ओ अपन लिखल पहिल मैथिली नाटक केर मंचन केलाह, मुदा ओहियो में किछु त्रुटि हुनका अपना बुझेलैन्ह।मिथिला...
Sansmaran...
Tag :
  August 5, 2009, 3:11 pm
१३ जून १९८५ के भारतीय नृत्य कला मन्दिर मे "मिस्टर नीलो काका"कs सफल मंचन के पश्चात् प्रति वर्ष अंतर्राष्ट्रीय नाट्य प्रतियोगिता मे मिथिलाक्षर आ "श्री लल्लन प्रसाद ठाकुर"जी कs नाटक सब बेर पुरस्कार लैत रहलैन्ह आ मैथिली दर्शक आ नाट्य प्रेमी के सब बेर एक टा नव सामाजिक विषय ...
Sansmaran...
Tag :
  July 10, 2009, 3:55 pm
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3652) कुल पोस्ट (163809)