POPULAR ENGLISH+ SIGNUP LOGIN

Blog: Kusum's Haiku

Blogger: Kusum Thakur
"अछि दुर्दशा"कवि महान पर्व त मनेलहुं सौंसे ढिंढोरा फोटो त छल कोना में हेरायल अछि दुर्दशा पाग दुपटा नहि जानथि मोल मंच आसीन  चंदा भेटल व्यवस्थापक हम त बूझत के ढर्रा बनल किया बदलि हम  अछि बहाना लाखक खर्च नहि अछि उद्देश्य होय कल्याण नेता &... Read more
clicks 179 View   Vote 0 Like   6:37pm 1 Apr 2012 #
Blogger: Kusum Thakur
अंधी जनता तो है?देश की चिंता भ्रष्टाचार है नाराअपना स्वार्थ  हम सन्यासी आसन होगा ऊँचा जनता मूर्ख होड़ लगी है मैं बनूँ लोकप्रिय  मिडिया खुश हम फक्कड़अंधी जनता तो है  करोड़ों खर्चो लोकप्रियताअपना हथियार है अनशन  -कुसुम ठाकुर-... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   10:00am 3 Jun 2011 #
Blogger: Kusum Thakur
  ममता माँ की निःस्वार्थ सतत ही है अनमोल गोद समेटे धरा और जननी यही शाश्वतदिव्य नर्मदा अचल हिमालय भारत भूमि अतिथि सेवा है संस्कार युगों से मानो सौभाग्य शून्य दिया है आयुर्वेद औ योग रहो विनम्र -कुसुम ठाकुर-... Read more
clicks 178 View   Vote 0 Like   2:04am 30 May 2011 #
Blogger: Kusum Thakur
"अंतर्मन में झांको" अन्ना की सोच बना है राजनीति मनन करो परिणाम क्या है सबको मालूम हैं आशावादी मिला है मंच क्यों न करें ऐलानधरा सपूत  है आम कौन उसका न अस्तित्व धैर्य तो धरो जनता मूर्खमिला सबको मुद्दाबहस करो गाँधी का नाम नेहरु बदनाम यों भिड़... Read more
clicks 173 View   Vote 0 Like   10:12am 13 Apr 2011 #
Blogger: Kusum Thakur
"अछि सन्देश"समृद्ध भाषा मैथिली मिथिलाकजायत हेरालाज होइछबाजब कोना भाषापढ़ल हमदोषारोपणनेता अभिभावकनहि कर्त्तव्यदेशक नेता  नहि जनता केरस्वार्थे डूबल  करू ज्यों स्नेहमाँ आ मात्रि भाषा सँसंकल्प लियआबो तs जागू मिथिला केर लालप्रयास करूअबेर भेलतैयो विचार करू ... Read more
clicks 161 View   Vote 0 Like   11:50am 3 Mar 2011 #
Blogger: Kusum Thakur
"कर्म ही छोटा"घोटाले बनेपर्याय नेताओं केक्षुब्ध जनतान छोड़े कोई ज्यों मौक़ा कभी मिले वर्ना सन्यासी  है लूट मची जनता भी है अंधी न खोले आँख देखा किसने फल भी क्या मिलता न देखा जन्मआह लिया है ख़ुशी की परिभाषा न जाने वह है दोषी कौन जब शीर्ष ही खोटा ... Read more
clicks 170 View   Vote 0 Like   12:03pm 28 Feb 2011 #
Blogger: Kusum Thakur
"रक्त ही मनुज  का"मनुष्य रूप कर्म से तो भेड़ियेमनन करो धर्मांध कहेस्वार्थ ही सर्वोपरि सुझावे कौन अल्ला ईश्वर बस है शक्ति एक क्यों बांटो तुम बूझो मनुष्यतो पाओ सुख चैनहो धर्म यही लगता सस्तारक्त ही मनुज काकिसे फिकर- कुसुम ठाकुर - ... Read more
clicks 137 View   Vote 0 Like   7:34am 8 Dec 2010 #
Blogger: Kusum Thakur
"हो अनमोल "हो तुम मीत कहूँ मैं बारम्बार न भाये तुम्हेतुम गंभीर न कभी कुछ कहो यह स्वभाव मुझे विश्वास आहत क्यों मैं करूँ मेरा स्वभाव मुझे तो लगे दिलाऊं जो विश्वास समझो तुम हो अनमोल न बूझो अतिश्योक्ति ह्रदय कहे लाये ये दिन खुशियाँ हर वर्ष&... Read more
clicks 149 View   Vote 0 Like   2:41am 30 Nov 2010 #
Blogger: Kusum Thakur
"शिष्य देखल "विद्वान छथि  ओ शिष्य कहाबथि  छथि विनम्र गुरु हुनक सौभाग्य हमर ई ओ भेंटलथिइच्छा हुनक बनल छी माध्यमतरि जायब भरोस छैन्ह छी हमर प्रयासपरिणाम की ?भाषा प्रेमक नहि उदाहरण छथि व्यक्तित्व छैन्ह उद्गारदेखल उपासक  नहि उपमा कहथि नहिवि... Read more
clicks 157 View   Vote 0 Like   2:23pm 14 Sep 2010 #
Blogger: Kusum Thakur
" सुख औ दुःख " सुख औ दुःख जीवन के दो पाट तो गम कैसा चलते रहो हौसला ना हो कम दूरियाँ क्या है लक्ष्य जो करो ज्यों ध्यान तुम धरो मिलता फल हार ना मानो ज्यों सतत प्रयास मंजिल पाओ कर्म ही पूजा उस सम ना दूजा कहो उल्लास ध्यान धरो बस मौन ही रहो प... Read more
clicks 168 View   Vote 0 Like   12:57pm 13 Sep 2010 #
Blogger: Kusum Thakur
"एक प्रयास"हाइकु छैक   विधा सरल तैयोरचि ज्यों पाबि  हमरा लेल गर्वक गप्प बस हमहू  जानि नहि बुझल इ विधाक लिखबकोन आखर सलिल जीक इ मार्ग प्रदर्शन भेटल जानी मोन प्रसन्न भेटल नव विधा छी तैयो शिष्याडेग बढ़ल सोचि नहि छोरब  ज्यों दी आशीष -... Read more
clicks 135 View   Vote 0 Like   10:29pm 12 Sep 2010 #
Blogger: Kusum Thakur
हमर पहिल हाइकु संस्कृत साहित्य में सहस्त्रों वर्षों पूर्व त्रिपदिक छंद रचे गए जिनमें गायत्री तथा ककुप प्रसिद्ध हैं. हाइकु मूलतः त्रिपदिक (तीन पदों अर्थात पंक्तियों का ) जापानी छंद है. जापान में इस छंद में प्राकृतिक छटा का वर्णन करने की परंपरा है किन्तु हिन्दी में ह... Read more
clicks 166 View   Vote 0 Like   5:48pm 12 Sep 2010 #
[ Prev Page ] [ Next Page ]

Share:

Members Login

    Forget Password? Click here!
  • Latest
  • Week
  • Month
  • Year
  हमारीवाणी.कॉम पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि बहुत सरल हैं। इसके लिए सबसे पहले प्रष्ट के सबसे ऊपर दाईं ओर लिखे ...
  हमारीवाणी पर ब्लॉग-पोस्ट के प्रकाशन के लिए 'क्लिक कोड' ब्लॉग पर लगाना आवश्यक है। इसके लिए पहले लोगिन करें, लोगिन के उपरांत खुलने वाले प...
और सन्देश...
कुल ब्लॉग्स (3982) कुल पोस्ट (191421)